हाजी अली दरगाह की यात्रा और आसपास घूमने की जगहें – Information about Haji Ali Dargah in Hindi

Haji Ali Dargah Mumbai in Hindi : हाजी अली दरगाह मुंबई के वर्ली तट के निकट एक छोटे से टापू पर स्थित एक प्रसिद्ध मस्जिद है जिसे 1431 में एक संपन्न मुस्लिम व्यापारी, सैय्यद पीर हाजी अली शाह बुखारी की याद में बनाया गया था, जिन्होंने मक्का की यात्रा करने से पहले अपने सभी सांसारिक मोह माया को त्याग दिया था। मुस्लिम संत पीर हजरत हाजी अली शाह बुखारी को समर्पित हाजी अली दरगाह भारत में इस्लाम धर्म के प्रमुख तीर्थ स्थल में से एक है। दरगाह हाजी अली मुंबई का एक इस्लामी तीर्थ स्थल है, जहाँ हजारों तीर्थयात्रियों द्वारा उनके धर्मों की परवाह किए बिना द्वारा दौरा किया जाता है। एक रिकॉर्ड के अनुसार हर साल 40,000 से अधिक तीर्थयात्री इस मंदिर में चादर चढ़ाने और सच्चे मन से प्रार्थना करने आते हैं। इस्लामिक रीति-रिवाजों के अनुसार, हाजी अली दरगाह में महिलाओं और बच्चों के लिए अलग-अलग प्रार्थना कक्ष हैं।

यदि आप भी हाजी अली दरगाह घूमने जाने का प्लान बना रहे है या फिर इस दरगाह से जुड़ीं अन्य बातों के बारे में जानना चाहते है तो आप हमारे इस लेख को पूरा जरूर पढ़े –

Table of Contents

हाजी अली का इतिहास – History of Haji Ali Dargah in Hindi

हाजी अली का इतिहास – History of Haji Ali Dargah in Hindi
Image Credit : Eliyas Khan

सैय्यद पीर हाजी अली शाह बुखारी, 15 वीं शताब्दी के सूफी संत, उज्बेकिस्तान के एक अमीर व्यापारी थे, जिन्होंने मक्का की आध्यात्मिक यात्रा शुरू करने से पहले अपनी संपत्ति को त्याग दिया था। उनकी इच्छाओं के अनुसार, हाजी अली दरगाह का निर्माण वर्ष 1431 में हुआ था। 1916 में हाजी अली दरगाह ट्रस्ट ने प्रबंधन का कार्यभार संभालने के बाद, संरचना को पुनर्निर्मित करने और नए अतिरिक्त बनाने का काम किया। एक प्रवेश द्वार के साथ, 1980 में परिसर में एक तीन मंजिला इमारत का निर्माण किया गया था। 1964 में मस्जिद और दरगाह पर बहुत सारे पुनर्विकास और पुनर्स्थापन किए गए।

हाजी अली दरगाह की कहानी – Story Of Haji Ali Dargah in Hindi

हाजी अली दरगाह से एक रहस्यमयी कहानी जुड़ी हुई है। किंवदंतियों के अनुसार, सैय्यद पीर हाजी अली बुखारी एक बार एक गरीब महिला को सड़क पर खाली बर्तन पकड़े हुए पकड़कर रोते हुए देखते है। हाजी अली के इस मामले के बारे में पूछने पर, उसने बताया कि उससे वह तेल गिर गया है जिसे वह घर ले जाने वाली थी और अब उसे डर है कि उसका पति उसे सजा देगा। कहा जाता है जिसके बाद हाजी अली ने उस गिरे हुए तेल को धरती से निचोड़ दिया था। जिससे महिला खुश हो गई और खुशी-खुशी घर चली गई। पृथ्वी पर गिराया हुआ तेल वापस देने के बाद उन्हें एहसास हुआ की उन्होंने धरती का घायल कर दिया है। जिस वजह से उन्होंने भारत की यात्रा करने का फैसला किया और यहां रहने का फैसला किया ताकि अल्लाह और इस्लाम के बारे में प्रचार किया जा सके।

उस समय से लेकर अपने जीवन के अंत तक, हाजी अली ने अपना जीवन अल्लाह के ज्ञान को फैलाने के लिए समर्पित कर दिया और भक्त नियमित रूप से उनसे मिलने आते थे। मरने से पहले, उन्होंने अपने अनुयायियों को निर्देश दिया कि वे उन्हें तुरंत दफन न करें, बल्कि उनके कफन को समुद्र में छोड़ दें। ऐसी मान्यता है कि कि उनका शरीर एक ताबूत में था और वह समुद्र में बहते हुए वापस मुंबई आ गया था जिसके बाद हाजी अली की दरगाह का निर्माण किया गया था।

हाजी अली दरगाह की वास्तुकला – Architecture of Haji Ali Dargah in Hindi

हाजी अली दरगाह की वास्तुकला – Architecture of Haji Ali Dargah in Hindi

सफ़ेद रंग के गुंबद और मीनारों के साथ हाजी अली दरगाह की पूरी इमारत इंडो-मुस्लिम या मुगल वास्तुकला का चित्रण करती है। हाजी अली दरगाह की ऊंचाई 85 फीट है जो 4,500 वर्ग मीटर के क्षेत्र में फैली हुई है। चमकदार सफेद संगमरमर से निर्मित, इस मस्जिद में एक केंद्रीय गुंबद है, जो चार कोनों में चार छोटे स्पियर्स द्वारा प्रवाहित है। वर्तमान भवन में दो मंजिलें हैं जिनमें संत हाजी अली, एक कव्वाल खाना,और महिलाओं के विश्राम स्थल हैं। जबकि संत हाजी अली का मकबरा तीर्थ के केंद्र में स्थित है जो लाल और हरे रंग के कपड़े से ढंका है, जिसे ‘चदर’ भी कहा जाता है। मकबरे को घेरना, एक असंख्य रंगीन शीशे का काम है, जिसमें अल्लाह के नौ नामों की वर्तनी है।

हाजी अली में कव्वाली – Qawalli at Haji Ali in Hindi

दरगाह में अल्लाह को नमाज़ अदा करने का एक अनोखा तरीका माध्यम कव्वालीयां है, जो मुस्लिम अनुयियों द्वारा बेहद उत्साह पूर्वक गाई जाती हैं। हाजी अली दरगाह में कव्वालीयों के लिए हॉल है जहाँ एक साथ बड़ी संख्या में मुस्लिम लोग कव्वालीयों के लिए इकट्ठा होते है यदि आप हाजी अली दगाह पर जाने पर वाले हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप कव्वाली सत्र में भाग लें, क्योंकि यह आपके जीवन भर का शानदार अनुभव हो सकता है।

और पढ़े ; मक्का मस्जिद हैदराबाद

हाजी अली दरगाह घूमने जाने के लिए टिप्स – Tips for visiting Haji Ali Dargah in Hindi

  • यदि आप हाजी अली दरगाह घूमने जाने वाले है तो ध्यान दे चूँकि यह एक धार्मिक स्थल है इसीलिए उचित कपडे पहनकर ही हाजी अली दरगाह की यात्रा करें।
  • हाजी अली दरगाह के आस-पास के माहौल का सम्मान करें और कोई भी गड़बड़ी पैदा न करें।

हाजी अली दरगाह खुलने का समय – Timings of Haji Ali Dargah in Hindi

हाजी अली दरगाह खुलने का समय – Timings of Haji Ali Dargah in Hindi
Image Credit : Sumeet Goyal

बता दे हाजी अली दरगाह यहाँ आने वाले पर्यटकों और मुस्लिम श्र्धालुयों के लिए प्रतिदिन सुबह 6.00 बजे से शाम 10.00 बजे तक खुली रहती है।

हाजी अली दरगाह का प्रवेश शुल्क – Entry fees of Haji Ali Dargah in Hindi

हाजी अली दरगाह की यात्रा पर जाने वाले पर्यटकों को बता दे हाजी अली दरगाह में प्रवेश या घूमने के लिए कोई भी शुल्क नही है यहाँ आप बिना किसी शुल्क के दरगाह में घूम सकते है।

हाजी अली दरगाह के आसपास मुंबई में घूमने की जगहें – Places to visit in Mumbai in Hindi

क्या आप जानते है ? मुंबई में हाजी अली दरगाह के साथ साथ भी कई प्रसिद्ध मंदिर और पर्यटक स्थल मौजूद है। इसीलिए आप जब भी अपने परिवार या दोस्तों के साथ हाजी अली दरगाह घूमने जायें तो आप यहाँ नीचे दिए गये मुंबई के इन प्रसिद्ध पर्यटक स्थल की यात्रा भी करें –

हाजी अली दरगाह घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Haji Ali Dargah Mumbai In Hindi

हाजी अली दरगाह घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Haji Ali Dargah Mumbai In Hindi
Image Credit : Gaurav Choudhary

वैसे तो आप बर्ष के किसी भी समय हाजी अली दरगाह घूमने जा सकते है लेकिन यदि आप हाजी अली दरगाह के साथ साथ मुम्बई के अन्य पर्यटक स्थलों की यात्रा भी करने वाले है तो उसके लिए सबसे अच्छा समय अक्टूबर से फरवरी तक का समय होता है। सर्दियों के दौरान, मौसम सुखद होता है, यह न तो बहुत अधिक गर्म होता है और न ही शहर में लगातार वर्षा होती है इसलिए, यह मुंबई की यात्रा करने के लिए आदर्श समय है।

और पढ़े : मुंबई में घूमने के लिए जगहें और मुंबई की यात्रा में करने के लिए चीजें

हाजी अली दरगाह की यात्रा में रुकने के लिए होटल्स – Hotels in Mumbai in Hindi

हाजी अली दरगाह की यात्रा में रुकने के लिए होटल्स – Hotels in Mumbai in Hindi

यदि आप अपनी फैमली या फ्रेंड्स के साथ हाजी अली दरगाह और मुंबई के प्रसिद्ध पर्यटक स्थल को प्लान कर रहे है और अपनी यात्रा में रुकने के लिए होटल्स सर्च कर रहे है तो हम आपकी जानकारी के लिए मुंबई भारत का प्रमुख शहर है जहाँ लों-बजट से लेकर हाई-बजट के बड़ी संख्या में होटल उपलब्ध हैं। जिनमे से आप किसी को भी अपनी ट्रिप में रुकने के लिए सिक्लेट कर सकते है।

हाजी अली दरगाह कैसे जाये – How To Reach Haji Ali Dargah  In Hindi

हाजी अली दरगाह की यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालु और पर्यटक फ्लाइट, ट्रेन या सड़क मार्ग में से किसी से भी ट्रेवल करके मुंबई जा सकते है।

तो आइये नीचे डिटेल जानते है की फ्लाइट, ट्रेनऔर रोडवे से हाजी अली दरगाह मुंबई केसे जायें –

फ्लाइट से हाजी अली दरगाह कैसे पहुंचे – How To Reach Haji Ali Dargah By Flight In Hindi

फ्लाइट से हाजी अली दरगाह कैसे पहुंचे – How To Reach Haji Ali Dargah By Flight In Hindi

हाजी अली दरगाह की यात्रा के लिए यदि आपने फ्लाइट का सिलेक्शन किया हैं तो हम आपको बता दें मुंबई में स्थित छत्रपति शिवाजी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा देश का मुख्य अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है जिसके लिए भारत के लगभग सभी एयरपोर्ट्स से फ्लाइट उपलब्ध है। फ्लाइट से ट्रेवल करके एयरपोर्ट पर उतरने के बाद आप टेक्सी, ऑटो या स्थानीय वाहनों की मदद से हाजी अली दरगाह जा सकते है।

हाजी अली दरगाह ट्रेन से कैसे पहुंचे – How To Reach Haji Ali Dargah By Train In Hindi

हाजी अली दरगाह ट्रेन से कैसे पहुंचे – How To Reach Haji Ali Dargah By Train In Hindi

जो भी पर्यटक ट्रेन से ट्रेवल हाजी अली दरगाह जाना चाहते है हम उन्हें बता दे दरगाह का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन छत्रपति शिवाजी टर्मिनस रेलवे स्टेशन है। दरगाह से 6 किमी की दुरी पर स्थित स्थित यह रेलवे स्टेशन शेष भारत से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। भारत के किसी भी प्रमुख शहर से ट्रेन से यात्रा करके छत्रपति शिवाजी टर्मिनस पहुचने के बाद आप टेक्सी, ऑटो या अन्य स्थानीय साधनों की मदद से दरगाह पहुच सकते है।

हाजी अली दरगाह सड़क मार्ग से केसे जायें – How To Reach Haji Ali Dargah By Road in Hindi

हाजी अली दरगाह सड़क मार्ग से केसे जायें – How To Reach Haji Ali Dargah By Road in Hindi

मुंबई के पास देश के सभी हिस्सों से सड़क संपर्क काफी अच्छा हैं और मुंबई-पुणे एक्सप्रेसवे सबसे लोकप्रिय है। सड़क की स्थिति देश के बाकी हिस्सों से बेहतर है। एशियाड बस सेवा दादर रोड पर स्थित एक बस टर्मिनल है जहाँ से बसें नियमित रूप से संचालित की जाती हैं।

और पढ़े : भारत में इस्लाम धर्म के प्रमुख तीर्थ स्थल

इस लेख में आपने हाजी अली दरगाह की यात्रा से जुडी जानकारी को जाना है आपको हमारा ये लेख केसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

हाजी अली दरगाह का मेप – Map of Haji Ali Dargah

और पढ़े :

Leave a Comment