भारत के प्रसिद्ध बौद्ध मठ – Famous Buddhist monasteries of India in Hindi

Famous Buddhist monasteries of India in Hindi : मठ एक इमारत या इमारतों का एक परिसर है जिसका उपयोग बौद्ध भिक्षुओं या ननों द्वारा योग, पूजा, ध्यान, साधना के लिए किया जाता है। मठ बौद्ध धर्म के सबसे पवित्र स्थानों में से एक है जिनकी स्थापना कई हजारों साल पहले से बौद्ध गुरुयों या बौद्ध सम्प्रदाय द्वारा किये जाते आ रहे है। बता दे इन बौद्ध मठो को बौद्ध धर्म के साथ साथ देश के सबसे पवित्र और पवित्र स्थानों में से एक माना जाता है जहाँ हर साल दुनिया के कोने-कोने से लाखों लोग अनंत शांति की तलाश जाते हैं। भारत के प्रसिद्ध बौद्ध मठ अधिकांशतः भारत के उत्तरी या पूर्वी भाग में स्थित है जो बौद्ध धर्म के लोगो के साथ साथ पर्यटकों के बीच भी बेहद लोकप्रिय है।

भारत के प्रमुख बौद्ध मठ में से एक कुछ बुद्ध के जीवन और शिक्षाओं को भी चित्रित करते हैं जिनके बारे में जानने के लिए भारत के साथ साथ विदेशो से भी पर्यटक आते है। इस लेख में आगे हम आपको भारत के कुछ ऐसे ही सबसे प्रसिद्ध बौद्ध मठो के बारे में बताने वाले है इसीलिए लेख को पूरा और आखिर तक जरूर पढ़े –

हेमिस मठ लद्दाख – Hemis Monastery, Ladakh in Hindi

हेमिस मठ लद्दाख - Hemis Monastery, Ladakh in Hindi

Famous Buddhist monasteries of India in Hindi : लेह के दक्षिण में 45 किमी की दूरी पर स्थित हेमिस मठ लद्दाख का एक प्रसिद्ध बौद्ध मठ है। हेमिस मठ का निर्माण लद्दाखी राजा सेंगगे नामग्याल द्वारा किया गया था, जिसे भारत के सात अजूबों में से एक माना जाता है और यह देश का एक विश्व धरोहर स्थल भी है। सिन्धु नदी के किनारे हरी-भरी  पहाड़ियों और शानदार पहाड़ों के बीच स्थित हेमिस मठ इस क्षेत्र का सबसे बड़ा और सबसे लोकप्रिय मठ है जो इसे एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण बनाता है। आपको बता दे हेमिस मठ भारत के सबसे धनी मठों में से एक है इसमें सोने और चांदी से बने स्तूपों के साथ भगवान बुद्ध की एक शानदार तांबे की प्रतिमा स्थापित है।

हेमिस मठ वास्तव में प्राचीन आध्यात्मिक संस्कृति और सुंदर प्राकृतिक परिवेश का एक उल्लेखनीय मिश्रण है, जो पर्यटकों और बौद्ध आध्यात्मिक अनुयायियों के घूमने के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है।

हेमिस मठ के आकर्षण  : पवित्र थंग्का, प्राचीन मूर्तियाँ, हेमिस आध्यात्मिक रिट्रीट, और हर साल यहाँ मनाया जाना वाला त्यौहार हेमिस त्यौहार

हेमिस मठ जाने का सबसे अच्छा समय : मई से सितंबर के बीच

हेमिस मठ तक कैसे पहुंचे : इस मठ का निकटतम हवाई अड्डा लेह हवाई अड्डा और कुशोक बकुला रिम्पोछे हवाई अड्डा है। यदि आप रेल से यात्रा कर रहे हैं, तो निकटतम रेलवे स्टेशन जम्मू तवी रेलवे स्टेशन है। जबकि हेमिस मठ जम्मू-कश्मीर के सभी प्रमुख शहरों से सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है और जम्मू-कश्मीर के लगभग सभी हिस्सों से हेमिस मठ लेह के लिए नियमित बस सेवाएं भी उपलब्ध हैं।

तवांग मठ अरुणाचल प्रदेश – Tawang Monastery in Hindi

तवांग मठ अरुणाचल प्रदेश - Tawang Monastery in Hindi

Bharat Ke Prmukh Boudh Math In Hindi : तवांग मठ अरुणाचल प्रदेश के स्वर्ण रत्नों में से एक है जिसे गोल्डन नामग्याल ल्हासे के रूप में भी जाना जाता है। समुद्र तल से 3,000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित तवांग मठ, भारत के प्रसिद्ध बौद्ध मठ और दुनिया के दूसरे सबसे बड़े मठ के रूप में प्रसिद्ध है, जो अपने आप में अद्वितीय है। तवांग मोनेस्ट्री की स्थापना 5 वीं दलाई लामा के अनुरोध पर 1680-81 में स्थानीय लोगों की मदद से मेरेक लामा लोद्रे गेम्स्टो ने की थी। यह मठ बौद्ध धर्म के अनुनायीयों के लिए सबसे भारत के सबसे पवित्र स्थलों में से एक है।

बौद्ध धर्म के गेलुग्पा संप्रदाय से संबंधित, तवांग मठ 300 से अधिक भिक्षुओं का घर है और इस क्षेत्र में 17 गोम्पा हैं। हिमालय घाटी के एक शांत दृश्य की पेशकश करते हुए, तवांग मठ अपनी 16 वीं शताब्दी की वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध है। इसके अलावा भी तवांग मठ में देखने के लिए एक पुस्तकालय और भी बहुत कुछ है जो बौद्ध तीर्थयात्रीयों के साथ साथ देश विदेश के आने वाले पर्यटकों के लिए भी आकर्षण का केंद्र बने हुए है।

तवांग मठ में मुख्य आकर्षण : लोसार त्योहार जो तिब्बती नव वर्ष के रूप में मनाया जाता है और 15 दिनों तक चलता है। जनवरी में टोरिंगा महोत्सव भी एक मजेदार सांस्कृतिक कार्यक्रम है, जहाँ प्रसिद्ध नकाबपोश नृत्य करते हैं।

तवांग मठ जाने का सबसे अच्छा समय : मार्च से सितंबर

कैसे पहुंचे तवांग मठ : तवांग मठ की यात्रा के लिए आप तेजपुर हवाई अड्डे के लिए फ्लाइट और ट्रेन ले सकते हैं क्योंकि तवांग मठ का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन और एयरपोर्ट तेजपुर है जो तवांग मठ से लगभग 144 किलोमीटर की दूरी पर है। अन्य विकल्प के रूप में आप बस से भी ट्रेवल कर सकते है जो तेजपुर (असम) और बोमडिला से सीधी मिल जाएगी जिनसे आप आसानी से तवांग मठ जा सकते है।

और पढ़े : महाबोधि मंदिर बोधगया की पूरी जानकारी 

फुकताल मठ ज़ांस्कर, जम्मू और कश्मीर- Phuktal Monastery Zanskar, Jammu and Kashmir in Hindi

फुकताल मठ ज़ांस्कर, जम्मू और कश्मीर- Phuktal Monastery Zanskar, Jammu and Kashmir in Hindi
Image Credit : Romuald Bokej

Famous Buddhist monasteries of India in Hindi : भारत के प्रमुख मठ में से एक फुकताल या फुग्ताल मठ एक अलग मठ है जो लद्दाख में जांस्कर क्षेत्र के दक्षिणी और पूर्वी भाग में स्थित है और दूर से एक छत्ते की तरह दिखता है। यह उन उपदेशकों और विद्वानों की जगह है जो प्राचीन काल में यहां रहते थे। बता दे यह मठ 2250 साल पुराना है जिसे भारत के सबसे प्राचीन बौद्ध मठ के रूप में भी जाना जाता है।

यह मठ प्राकृतिक गुफा के आसपास बना है जिसका उपयोग उस दौरान कई ऋषियों, विद्वानों, अनुवादकों और भिक्षुओं द्वारा ध्यान करने के लिए किया जाता था। माना जाता है की गुफा के सबसे शुरुआती निवासियों में से एक 16 अरहट या बुद्ध के प्रसिद्ध अनुयायी थी जिनकी छवियां भी इस मठ की दीवारों में दिखाई देती हैं। इस मठ में वर्तमान में लगभग 700 भिक्षुओं के लिए 4 प्रार्थना कक्ष, पुस्तकालय, रसोई, अतिथि कक्ष और रहने की जगह है।

फुकताल मठ के प्रमुख आकर्षण : पवित्र वसंत, बौद्ध कला और संस्कृति को दर्शाते भित्तिचित्र और यहाँ मनाये जाने स्मोनलैम चेनमो, चोंगा चोदपा, यार्न और गडम नागचोद जैसे त्यौहार

फुग्ताल मठ घूमने जाने का सबसे अच्छा समय : अप्रैल से जून और सितंबर से अक्टूबर के बीच

फुग्ताल मठ केसे पहुचें : फुगताल मठ सड़क मार्ग द्वारा लेह और जम्मू कश्मीर के अन्य शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। नियमित बस सेवाएं भी फुगताल मठ से लेह तक और इसके आसपास के शहरों से जोडती हैं। लेकिन फुगताल मठ के लिए कोई सीधी उड़ान या रेल संपर्क नहीं है।

माइंड्रोलिंग मठ देहरादून – Mindrolling Monastery, Dehradun in Hindi

माइंड्रोलिंग मठ देहरादून – Mindrolling Monastery, Dehradun in Hindi
Image Credit : Drona Khurana

Bharat Ke Prmukh Boudh Math In Hindi : 1965 में खोचन रिनपोछे द्वारा स्थापित माइंड्रोलिंग मठ भारत के महत्वपूर्ण बौद्ध मठ में से एक है। आपको बता दे हिमालय के निर्मल तलहटी के बीच में स्थित, माइंड्रोलिंग मठ सबसे बड़े बौद्ध केंद्रों में से एक है, जो पूरे देश के साथ-साथ विदेशों से भी हजारों पर्यटकों और बौद्ध अनुयायीयों को आकर्षित करता है। जहाँ सैंकड़ों व्यक्ति यहां आध्यात्मिकता प्राप्त करते हैं। कई वर्गों के साथ एक वास्तुशिल्प उत्कृष्ट कृति होने के नाते माइंड्रोलिंग मठ एक अद्भुद दृश्य प्रस्तुत करता है। इनके साथ साथ इस प्रसिद्ध मठ में कई धार्मिक कमरे, तिब्बती कला रूप और भित्ति चित्र भी देखे जा सकते हैं।

माइंड्रोलिंग मठ में मुख्य आकर्षण : ग्रेट स्तूप, बुद्ध मंदिर और राजाजी नेशनल पार्क

माइंड्रोलिंग मठ की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय : मार्च से जून

कैसे पहुंचें माइंड्रोलिंग मठ : जॉली ग्रांट हवाई अड्डा यहां का निकटतम हवाई अड्डा है और देहरादून रेलवे स्टेशन निकटतम रेलवे स्टेशन है। एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन से बसें और ऑटो नियमित रूप से चलते हैं जिनसे पर्यटक माइंड्रोलिंग मठ पहुंच सकते है। बस या सड़क मार्ग से भी माइंड्रोलिंग मठ की यात्रा करना काफी आसान है क्योंकि यह अपने आसपास के शहरों से सड़क मार्ग द्वारा काफी अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

और पढ़े : देहरादून के प्रमुख पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी 

 त्सुगलाक्खांग कॉम्प्लेक्स धर्मशाला – Tsuglagkhang Complex, Dharamshala in Hindi

 त्सुगलाक्खांग कॉम्प्लेक्स - Tsuglagkhang Complex, Dharamshala in Hindi
Image Credit : Munmun Shah

Famous Buddhist monasteries of India in Hindi : धर्मशाला देवदार के जंगलों के बीच स्थित, त्सुगलाक्खांग कॉम्प्लेक्स एक प्रसिद्ध बौद्ध मठ है जो दलाई लामा के आधिकारिक निवास के रूप में भी काम करता है। शांतिपूर्ण ध्यान और धार्मिक प्रार्थना के लिए मंदिर में पहियां या माला मौजूद हैं साथ ही मंदिर के अंदर शाक्यमुनि बुद्ध की तीन मीटर ऊँची सोने की मूर्ति भी स्थापित है जो बौद्धों के लिए श्रद्धेय तीर्थ स्थल बन गया है। इसके अलावा यहां का शांतिपूर्ण वातावरण दुनिया भर के पर्यटकों को बेहद आकर्षित करता है। जब भी आप यहाँ घूमने आएंगे तो देख सकेगें की किस तरह बुद्ध इस मठ में रहते है और परिसर के चारों ओर अनुष्ठान करते हैं।

त्सुगलाक्खांग कॉम्प्लेक्स के मुख्य आकर्षण : बौद्ध भित्ति चित्र, तिब्बत संग्रहालय, नामग्याल गोम्पा, कालचक्र मंदिर, पवित्र चित्र आदि

त्सुगलाक्खांग कॉम्प्लेक्स घूमने जाने का सबसे अच्छा समय : नवंबर से मार्च

त्सुगलाक्खांग कॉम्प्लेक्स कैसे पहुंचे : त्सुगलाखंग मठ जाने के लिए पहले आपको हवाई अड्डे, ट्रेन या बस के माध्यम से धर्मशाला पहुचना होगा। एक बार जब आप वहां पहुंच जाते हैं, तो आप मैकलोडगंज के लिए बस या टैक्सी ले सकते हैं और त्सुगलाखंग मठ की यात्रा कर सकते हैं।

रुमटेक मठ गंगटोक– Rumtek Monastery Gangtok in Hindi

रुमटेक मठ गंगटोक– Rumtek Monastery Gangtok in Hindi

Bharat Ke Prmukh Boudh Math In Hindi : रुमटेक मठ गंगटोक से 23 किमी दूर एक पहाड़ी की चोटी पर बसा स्थित भारत सबसे महत्वपूर्ण मठों में से एक है। यह मठ सिक्किम के प्रमुख तीर्थ स्थानों में से एक है जो हर साल हजारों पर्यटकों और तीर्थ यात्रियों को अपनी और आकर्षित करता है। बता दे यह मठ बौद्धों के कारगीय संप्रदाय से संबंधित है, जो 12 वीं शताब्दी में तिब्बत में उत्पन्न हुए थे। शानदार रूमटेक मठ में एक सुंदर तीर्थ मंदिर और भिक्षुओं के लिए एक मठ है जो दुनिया भर में बौद्ध शिक्षाओं के प्रसार के उद्देश्य से स्थापित किए गए थे।

जब भी आप रुमटेक मठ घूमने आयेंगे हैं, तो आप पहाड़ी के ठीक सामने स्थित पूरे गंगटोक शहर का लुभावनी दृश्य देख सकते हैं। इसके आलवा मठ की वास्तुकला भी आकर्षक है जो इसे सिक्किम में घूमने की सबसे अच्छी जगहें में से एक बनाती है।

रुमटेक मठ में मुख्य आकर्षण : रुमटेक गोम्पा और लिंग्डम गोम्पा

रुमटेक मठ घूमने जाने का सबसे अच्छा समय : आप साल के किसी भी समय रुमटेक मठ घूमने जा सकते है।

रुमटेक मठ तक कैसे पहुंचे : रुमटेक मठ जाने के लिए आप एनएच 31 ए पर हंग्री जैक होटल के पास स्थित गंगटोक टैक्सी जीप सर्विस स्टैंड से टेक्सी ले सकते हैं। इनके अलावा गंगटोक से मठ तक नियमित बसें और टैक्सियाँ भी हैं जिनसे आप ट्रेवल कर सकते है।

और पढ़े : सिक्किम के 20 प्रमुख पर्यटन स्थल

थिकी मठ लद्दाख – Thiksey Monastery, Ladakh in Hindi

थिकी मठ लद्दाख - Thiksey Monastery, Ladakh in Hindi
Image Credit : Hisashi Yuya

Famous Buddhist monasteries of India in Hindi : लेह के पूर्वी क्षेत्र में स्थित, थिकी मठ भारत में सबसे सुंदर तिब्बती बौद्ध शैली के मठों में से एक है। समुद्र तल से लगभग 3600 मीटर की ऊंचाई पर, यह लेह और लद्दाख के ठंडे रेगिस्तान के बीच स्थित है। बता दे 12 मंजिला थिकी मठ लद्दाख का सबसे बड़ा तिब्बती मठ माना जाता है, जिसमे कई स्तूप, प्रतिमाएं और अन्य बौद्ध कलाकृतियां के विभिन्न खंड हैं जिन्हें आप मठ में देख सकते हैं, जिनमें से प्रत्येक में वास्तुकला की एक अलग शैली है। मूर्तियों, चित्रों और अन्य प्रदर्शनियों के अलावा मठ की एक विशिष्ट विशेषतामहिला रेनबसेरों की एक अलग इमारत की उपस्थिति है।

मठ के आसपास बर्फ से ढके पहाड़ो का अद्भुद नजारा इसके आकर्षण में चार चाँद लगाने का कार्य करते है और अपनी इन्ही आकर्षणों के कारण हर साल कई हजारों पर्यटकों की मेजबानी करता है जिसमे विदेशी पर्यटकों की संख्या भी काफी अधिक होती है।

थिकी मठ के आकर्षण : मैत्रेय बुद्ध की 49 फीट ऊँची प्रतिमा,स्मारिका की दुकान, कैफे, बार्षिक उत्सव आदि

थिकी मठ में जाने का सबसे अच्छा समय : थिकी मठ घूमने जाने का सबसे अच्छा समय वार्षिक उत्सव और एक मेला के दौरान होता है।

थिकी मठ तक कैसे पहुंचे : थिकी मठ का निकटतम हवाई अड्डा लेह हवाई अड्डा है। जेट एयरवेज और एलायंस उड़ानें दिल्ली, चंडीगढ़, श्रीनगर और जम्मू जैसे गंतव्यों से लेह के लिए कनेक्टिंग उड़ानें संचालित करती हैं। यदि आप रेल से यात्रा कर रहे हैं, तो हम आपको बता दे निकटतम रेलमार्ग जम्मू तवी में स्थित है।

द डिस्कट मठ लेह – Diskit Monastery, Leh in Hindi

द डिस्कट मठ लेह – Diskit Monastery, Leh in Hindi
Image Credit : Ravi Kumar Kamboj

Bharat Ke Prmukh Boudh Math In Hindi : गेलुग्पा (येलो हैट) संप्रदाय से संबंधित, द डिस्कट मठ भारत के प्रसिद्ध बौद्ध मठ में से एक है जिसका उद्घाटन दलाई लामा द्वारा किया गया था। मठ से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि यह क्षेत्र के तिब्बती बच्चों को अंग्रेजी में विज्ञान विषय पढ़ाने के लिए एक गैर-सरकारी संगठन की मदद से एक स्कूल चलाता है। कहा जाता है की यह प्रसिद्ध मठ बुरे साधु की मंगोल पौराणिक कथाओं से प्रेरित है, जो कई बार मारा गया था, लेकिन मठ पर हमला करता रहा। सूत्रों की माने तो उस साधू का सिर और हाथ आज भी मठ के अंदर मंदिर में रखा गया है।

आप जब भी यहाँ आयेंगे तो तिब्बत के ताशीलुन्पो गोम्पा को चित्रित करने वाली छत और चित्रों को सकते और यहां के धार्मिक स्थलों पर धार्मिक उत्सव का आनंद लें सकते है। साथ ही इस मठ से नारुबा घाटी के सुंदर दृश्य आपको शांत और शांति का अनुभव कराएंगे।

डिस्कट के मुख्य आकर्षण: ‘बलात्कार का त्योहार’, नंगा नाच, जम्पा बुद्ध की प्रतिमा

डिस्किट मठ की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय : फरवरी से जून

कैसे पहुंचें डिस्कट मोनेस्ट्री : लेह से / तक बसें हैं जो डिस्किट को जोड़ती हैं लेकिन आप लेह से / के लिए साझा टैक्सी भी ले सकते हैं।

और पढ़े : लेह लद्दाख में घूमने लायक टॉप 15 पर्यटन स्थल की जानकारी

नामद्रोलिंग मठ मैसूर – Namdroling Monastery, Mysore in Hindi

नामद्रोलिंग मठ मैसूर - Namdroling Monastery, Mysore in Hindi
Image Credit : Harald Vogelgesang

Famous Buddhist monasteries of India in Hindi : भारत के प्रमुख बौद्ध मठ में शुमार नामद्रोलिंग मठ कूर्ग जिले से 34 किमी की दूरी पर स्थित है। यह स्थान मैसूर के सबसे बड़े शिक्षण केंद्रों में से एक है जहाँ आप तिब्बती बौद्ध धर्म के हर पहलू को सीखते हैं। इसके अलावा यहाँ गरीबों की स्वास्थ्य आवश्यकताओं का ध्यान रखने के लिए एक अस्पताल भी है जहाँ गरीबो का फ्री इलाज किया जाता है। स्थानीय लोगों के बीच, यह मठ स्वर्ण मंदिर के रूप में प्रसिद्ध है जिसमे बुद्ध की कई मूर्तियों के साथ-साथ परिसर के चारों ओर कई प्रतिमाएँ स्थापित हैं। नामद्रोलिंग मठ की यात्रा पर आने वाले पर्यटक बुद्ध की मूर्तियों के साथ साथ यहाँ कुछ बेहतरीन गुणवत्ता वाले वास्तुशिल्प, कलाकृति, शैलियों और सुंदर भित्ति चित्र को देख सकते हैं।

नामर्दोलिंग मठ में मुख्य आकर्षण : प्रार्थना हॉल, पास के मॉल में बुद्ध की स्वर्ण प्रतिमाएं, पास में स्थित हाथी शिविर आदि

नामर्दोलिंग मठ जाने का सबसे अच्छा समय : जुलाई से फरवरी

नामद्रोलिंग मठ तक कैसे पहुंचे : यदि आप रेल से यात्रा कर रहे हैं, तो निकटतम रेलवे स्टेशन मैसूर है। यह मठ कुशालनगर शहर से सिर्फ 6 किमी और मदिकेरी से 35 किमी दूर है। यहां से आप ऑटो-रिक्शा या कैब ले सकते हैं।

घूम मठ दार्जलिंग – Ghoom Monastery, Darjeeling in Hindi

घूम मठ दार्जलिंग - Ghoom Monastery, Darjeeling in Hindi
Image Credit : Sandeep Kumar

 Bharat Ke Prmukh Boudh Math In Hindi : घूम मठ भारत के सबसे खूबसूरत हिल्स स्टेशन में से एक दार्जिलिंग में स्थित है जिसे द योग चोइलिंग मठ, के रूप में जाना जाता है। भारत के सबसे प्रसिद्ध बौद्ध मठ में शामिल घूम मठ गेलुक्पा या येलो हैट संप्रदाय से संबंधित है जो मैत्रेय बुद्ध की 15 फीट ऊंची प्रतिमा के लिए प्रसिद्ध है

दीवारों, पारंपरिक घंटियों और ड्रमों पर थांगका के साथ भव्य आंतरिक सजावट के लिए प्रसिद्ध, यह मठ लामा शेरपा ग्यात्सो द्वारा वर्ष 1850 में बनाया गया था। आज यह पर्यटकों के लिए पश्चिम बंगाल में सबसे अधिक देखे जाने वाले मठों में से एक है जो हर साल हजारों बौद्ध अनुनायियों और पर्यटकों को आकर्षित करता है।

घूम मठ में मुख्य आकर्षण : मैत्रेय बुद्ध की प्रतिमा, मठ में भारत की सबसे पुरानी बौद्ध पांडुलिपियों में से कुछ यहाँ देखी जा सकती है।

घूम मठ में जाने का सबसे अच्छा समय : बर्ष के किसी भी समय

तवांग मठ कैसे पहुँचे : घूम मठ, घूम रेलवे स्टेशन से 2 से 3 मिनट की दूरी पर स्थित है। दार्जिलिंग से आप घूमने के लिए 6 किमी तक हिल कार्टर रोड से जा सकते हैं।

और पढ़े : भारत में प्रमुख चाय के बगान

काई मठ लाहौल स्पीति – Key Monastery, Lahaul-Spiti in Hindi

काई मठ लाहौल और स्पीति - Key Monastery, Lahaul-Spiti in Hindi
Image Credit : Raj Chanchal

Famous Buddhist monasteries of India in Hindi : समुद्र तल से 4,166 मीटर की ऊंचाई पर स्थित काई मठ हिमाचल प्रदेश के लाहौल और स्पीति जिले का एक प्रसिद्ध तिब्बती मठ है। यह एक बहुत ही खूबसूरत मठ है जो एक पहाड़ी पर स्थित है। इस मठ का निर्माण 11 वीं शताब्दी में स्थापित किया गया था और इसमें अभी भी प्राचीन बौद्ध स्क्रॉल और पेंटिंग हैं। इस मठ ने अपने लंबे इतिहास में कई बार हमलों का सामना किया है इसीलिए काफी क्षतिग्रस्त हो चुका है। इसके बाद भी इस मठ को देखकर आपको यह विश्वास करना मुश्किल होगा कि यह मठ एक हजार साल पुराना है।

इस धार्मिक मठ में बड़ी संख्या में बौद्ध भिक्षु, नन और लामा यहां अपनी धार्मिक शिक्षा प्राप्त करने के लिए रहते हैं जिनसे आप काई मठ की यात्रा के दौरान मिल सकते है।

मुख्य मठ में मुख्य आकर्षण : पसादा शैली की वास्तुकला, खूबसूरती से सजाए गए विधानसभा हॉल, टेंग्युर कक्ष, प्राचीन बौद्ध भित्ति चित्र।

मुख्य मठ की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय : मई से अक्टूबर

प्रमुख मठ तक कैसे पहुंचे : की मोनास्ट्री का निकटतम शहर काजा है। आप मनाली से रोहतांग दर्रे और शिमला के रास्ते काजा तक जा सकते हैं। जबकि इसका निकटतम हवाई अड्डा शिमला में जुब्बड़हट्टी हवाई अड्डा है।

सुझाव : ध्यान दे मठ में कोई आवास विकल्प या भोजनालय नहीं हैं, इसलिए काज़ा में एक होटल बुक करें और अपने साथ भोजन ले जाएँ।

ताबो मठ स्पीति घाटी – Tabo Monastery Spiti Valley in Hindi

ताबो मठ स्पीति घाटी - Tabo Monastery Spiti Valley in Hindi

Bharat Ke Prmukh Boudh Math In Hindi : हिमाचल प्रद्रेश में 10,000 फीट की ऊंचाई पर टेबो गाँव में स्थित ताबो मठ भारत के प्रसिद्ध मठ में से एक है। यह आकर्षक मठ ‘हिमालय के अजंता’ के रूप में प्रसिद्ध है। बौद्ध संस्कृति में सबसे ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण स्थलों में से एक होने के नाते, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने इसके रखरखाव और संरक्षण की जिम्मेदारी संभाली है। मंद रोशनी वाले कमरे, रहस्यमयी मंदिर, प्राचीन भित्ति चित्र और तिब्बती कला रूप इसे भारत के सबसे लोकप्रिय बौद्ध मठों में से एक बनाते हैं।

यह मठ 6300 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला है और बौद्ध समुदाय के लिए एक अनमोल खजाना है। ताबो घाटी के ठंडे रेगिस्तान में मिट्टी की ईंटों की ऊंची दीवारों से ढंका यह समृद्ध विरासत स्थल बौद्ध भिक्षुओं द्वारा अत्यधिक पूजनीय है और तिब्बत में थोलिंग गोम्पा के बाद दूसरे स्थान पर आता है।

ताबो मठ के मुख्य आकर्षण : ध्यान गुफाएं, स्वर्ण मंदिर, प्रबुद्ध देवताओं का मंदिर, द चैंबर ऑफ पिक्चर ट्रेजर्स

ताबो मठ घूमने का सबसे अच्छा समय : मई से अक्टूबर के बीच

ताबो मठ कैसे पहुंचे : यदि आप हवाई यात्रा करने वाले हैं, तो हम आपको बता दे निकटतम हवाई अड्डा शिमला में जुब्बड़हट्टी हवाई अड्डा है। जबकि निकटतम रेलवे स्टेशन कालका में है।

और पढ़े : स्पीति घाटी घूमने की जानकारी और आकर्षक स्थल

एनचेई मठ गंगटोक – Enchey Monastery, Gangtok in Hindi

एनचेई मठ गंगटोक – Enchey Monastery, Gangtok in Hindi
Image Credit : ZZ Sanjay Prasad

Famous Buddhist monasteries of India in Hindi : नार्थ इंडियन राज्य एनचेई मठ गंगटोक में कंचनजंगा पर्वत श्रृंखला की तह में स्थित है जो घने जंगलो से घिरा हुआ है। एनचेई मठ की स्थापना बौद्ध तांत्रिक गुरु लामा द्रुपोब ने की थी। वर्तमान में, यह पवित्र मठ 90 भिक्षुओं का घर है जो लोकी शरिया और गुरु पद्मसंभव को अपनी श्रद्धा अर्पित करता है। ऊंचे देवदार के पेड़, फूलों से सजी घास के मैदानों और कंचनजंगा पहाड़ियों के सुंदर दृश्य के साथ मठ का शांत वातावरण यहाँ आने वाले पर्यटकों और बौद्ध तीर्थयात्रीयों के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है जहाँ हर साल हजारों पर्यटक यहाँ घूमने और सुरम्य वातावरण में ध्यान करने के लिए यहाँ आते है।

एनचेई मठ में मुख्य आकर्षण : स्थान का सुंदर दृश्य, मठ की रंगीन वास्तुकला और यहाँ मनाये जाने वाले उत्सव

एनचेई मठ जाने का सबसे अच्छा समय : जून से अक्टूबर के बीच

एनचेई मठ कैसे पहुंचे : एनचेई मठ गंगटोक से नाथुला की ओर जाने वाली सड़क पर स्थित है, आप यहां तक ​​पहुंचने के लिए बस में सवार हो सकते हैं या टैक्सी किराए पर ले सकते हैं।

गंधोला मठ लाहौल – Gandhola Monastery, Lahaul, Himachal in Hindi

Bharat Ke Prmukh Boudh Math In Hindi : गंधोला मठ भारत के प्रमुख बौद्ध मठ में से एक और प्रसिद्ध मठ है जिसे जिसे गोंडला, गोंधला, कुंडला, या गुरु घंटाल गोम्पा भी कहा जाता है)। बता दे गंधोला मठ चंद्रा और भागा नदियों के पवित्र संगम पर तुपिलिंग गांव के ऊपर एक 3,160 मीटर ऊँची पहाड़ी पर स्थित है। इतिहासकारों ने कहा है कि गुरु रिनपोचे द्वारा 8 वीं शताब्दी सीई में मठ का निर्माण किया गया था।

मठ का सार बरकरार रखते हुए 1959 में मठ का नवीनीकरण किया गया था। गोम्पा के बारे में सबसे आश्चर्यजनक बात यह है कि इसके अंदर बुद्ध की लकड़ी की मूर्तियां हैं जो जाहिरा तौर पर भिक्षु रिनचेन झंगपो द्वारा स्थापित की गई हैं। इसके अलावा, श्रद्धेय बौद्ध लामाओं की मिट्टी की मूर्तियां हैं, काले पत्थर में देवी काली की एक छवि, अवलोकितेश्वर के सफेद संगमरमर के सिर, और कई पेंटिंग और भित्ति चित्र भी यहाँ मौजूद हैं।

गंधोला मठ के प्रमुख आकर्षण : गोम्पा के बाहरी इलाके में कुल्लू राज्य के तत्कालीन शासक राजा मान सिंह द्वारा निर्मित सात मंजिला किला है।

गंधोला मठ जाने का सबसे अच्छा समय : मार्च से जून के मध्य

गांधोला मठ तक कैसे पहुंचे : गांधोला मठ लाहौल और स्पीति जिले के कीलोंग से 18 किमी की दूरी पर स्थित है जहाँ टैक्सी के जरिए पहुंचा जा सकता है।

गोंजांग मठ गंगटोक – Gonjang Monastery Gangtok in Hindi

गोंजांग मठ गंगटोक - Gonjang Monastery Gangtok in Hindi
Image Credit : Sanat Das

Famous Buddhist monasteries of India in Hindi : गंगटोक शहर में 6066 फीट की ऊंचाई पर स्थित, गोंजांग मठ सिक्किम में सबसे लोकप्रिय पर्यटक आकर्षणों में से एक है। मठ का निर्माण वर्ष 1981 में एक श्रद्धेय बौद्ध संत, टिंकये गोंजांग रिनपोछे द्वारा किया गया था। आज यह बौद्ध धर्म के निंगमा आदेश से संबंधित कुछ दुर्लभ धार्मिक कलाकृतियों का घर है।

गोंजांग मठ में प्रमुख आकर्षण : तिब्बती बौद्ध धर्म के संस्थापक 8 वीं शताब्दी के खेन-लोप-चोई-सुम की मूर्तियां, जिन्हें पद्मसंभव के पच्चीस शिष्यों की मूर्तियां उत्कीर्ण हैं, जिन्हें सामूहिक रूप से जेबांग नेरनेगा के रूप में जाना जाता है।

गोंजांग मठ का दौरा करने के लिए सबसे अच्छा समय : साल के किसी भी समय

गोंजांग मठ केसे पहुचें : गोंजांग मठ गंगटोक शहर से सिर्फ 8 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है जहाँ पहुचने के लिए आप गंगटोक के किसी भी हिस्से टेक्सी ले सकते है।

और पढ़े : भारत के प्रसिद्ध बौद्ध मंदिर और बौद्ध स्थल

इस आर्टिकल में आपने भारत के प्रमुख बौद्ध मठ (Famous Buddhist monasteries of India in Hindi) के बारे में जाना है आपको हमारा ये आर्टिकल केसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

और पढ़े :

Leave a Comment