दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा तवांग मठ (तवांग मोनेस्ट्री) घूमने की जानकारी – Complete information about Tawang Monastery In Hindi

Tawang Monastery In Hindi : तवांग मठ अरुणाचल प्रदेश के स्वर्ण रत्नों में से एक है जिसे गोल्डन नामग्याल ल्हासे के रूप में भी जाना जाता है। समुद्र तल से 3,000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, तवांग मठ दुनिया के दूसरे सबसे बड़े मठ के रूप में प्रसिद्ध है, जो अपने आप में अद्वितीय है। यह मठ बौद्ध धर्म के अनुनायीयों के लिए सबसे भारत के सबसे पवित्र स्थलों में से एक है। बौद्ध धर्म के गेलुग्पा संप्रदाय से संबंधित, तवांग मठ 300 से अधिक भिक्षुओं का घर है और इस क्षेत्र में 17 गोम्पा हैं।

हिमालय घाटी के एक शांत दृश्य की पेशकश करते हुए, तवांग मठ अपनी 16 वीं शताब्दी की वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध है। इसके अलावा भी तवांग मठ में देखने के लिए एक पुस्तकालय और भी बहुत कुछ है जो बौद्ध तीर्थयात्रीयों के साथ साथ देश विदेश के आने वाले पर्यटकों के लिए भी आकर्षण का केंद्र बने हुए है। यदि आप भी दुनिया के दूसरे सबसे मठ घूमने जाने का प्लान बना रहे है या फिर प्रसिद्ध मठ के बारे अधिक अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो हमारे इस लेख को आखिर तक जरूर पढ़े –

Table of Contents

तवांग मठ का इतिहास – History of Tawang Monastery in Hindi

तवांग मठ का इतिहास - History of Tawang Monastery in Hindi
Image Credit : Charles Gomes

तवांग मोनेस्ट्री की स्थापना 5 वीं दलाई लामा के अनुरोध पर 1680-81 में स्थानीय लोगों की मदद से मेरेक लामा लोद्रे गेम्स्टो ने की थी। 1874-75 में मठ का दौरा करने वाले पंडित नैन सिंह के अनुसार, मठ में प्रशासन का एक संसदीय रूप था, जिसे काटो के रूप में जाना जाता था। 1913-14 के शिमला समझौते के तहत, पूरे तवांग और मठ जो पहले तिब्बत से संबंधित थे उसे ब्रिटिशों को दे दिया गया था। इसके बाद, चीन ने 20 अक्टूबर 1962 को भारत पर आक्रमण किया और छह महीने के लिए मठ सहित तवांग पर कब्जा कर लिया। 1959 में, दलाई लामा तिब्बत निकले और एक कठिन यात्रा के बाद, वह मठ पहुंचे। 8 नवंबर 2009 को, चीनियों के जोरदार विरोध के बावजूद, दलाई लामा के मठ की यात्रा की जो स्थानीय लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण और ऐतिहासिक क्षण था।

तवांग मठ से जुडी कहानी और किंवदंती Legend of Tawang Monastery in Hindi

तवांग मठ से जुडी कहानी और किंवदंती – Legend of Tawang Monastery in Hindi

आपको बता दे तवांग मठ के निर्माण के पीछे दो प्रसिद्ध दिलचस्प कहानी जुड़ी हुई है पहली किवदंती के अनुसार माना जाता है की तवांग मठ के निर्माण के लिए स्थान का चयन मरद लामा लोद्रे ग्यात्सो के घोड़े द्वारा किया गया था। वह एक मिशन पर था जो उसे 5 वें दलाई लामा द्वारा एक मठ की स्थापना के लिए दिया गया था। फिर भी, वह एक स्थान का चयन करने में असमर्थ था और थका हुआ वह सर्वशक्तिमान का आशीर्वाद लेने के लिए एक गुफा में चला गया । जब वह गुफा से बाहर आया, तो वह अपने घोड़े को नहीं पा सका और कठोर खोज के बाद, अंत में उसे टाना मंडेखांग पर्वत की चोटी पर चरते हुए पाया। उन्होंने इसे एक संकेत माना और 1681 में स्थानीय लोगों की मदद से उस विशेष स्थान पर इस मठ के निर्माण करने का निर्णय लिया।

एक अन्य किंवदंती के अनुसार, ल्हासा के राजकुमार का एक सफेद घोड़ा मोनपा क्षेत्र में भटक गया था। लोगों ने घोड़े की खोज की और मठ के वर्तमान स्थान पर उसे चरते हुए पाया। उन्होंने घोड़े और उस स्थान की पूजा करना शुरू कर दिया, जहां यह पाया गया था। आखिरकार, पवित्र स्थल को सम्मानित करने के लिए, तवांग मठ का निर्माण किया गया।

तवांग मठ के प्रमुख आकर्षण और इसकी संरचना – Structure of Tawang Monastery in Hindi

तवांग मठ के प्रमुख आकर्षण और इसकी संरचना – Structure of Tawang Monastery in Hindi
Image Credit : Deepak Singla

16 वीं शताब्दी में निर्मित तवांग मोनेस्ट्री की संरचना बेहद आकर्षक है जो देश विदेश के कला प्रमियों और पर्यटकों को आकर्षित करती है तो आइये नीचे इन चरणों के माध्यम से हम तवांग मठ के प्रमुख आकर्षण और इसकी वास्तुकला को अनुभव करने का प्रयास करते है –

प्रवेश और बाहरी दीवारें

झोपड़ी के आकार में बने तवांग मठ के रंगीन दीवारों को काकलिंग के नाम से जाना जाता है। काकलिंग की छत में मंडलियां हैं, जबकि आंतरिक दीवारों पर दिव्य और संतों के चित्र चित्रित किए गए हैं। दक्षिण की ओर, काकालिंग के मुख्य द्वार के आगे एक और प्रवेश द्वार है, जो एक खुला द्वार है। मुख्य द्वार, खुले द्वार के दक्षिण में, उत्तरी दीवार पर बड़े पैमाने पर दरवाजे लगे हुए हैं, जिनकी लंबाई 925 फीट है और इसकी ऊंचाई 10-20 फीट के बीच है। मुख्य द्वार के अलावा, मठ के दक्षिणी हिस्से में एक विशाल द्वार के साथ एक और प्रवेश द्वार है।

मुख्य भवन

तीन मंजिला तवांग मठ में एक बड़ा सभा भवन, दस अन्य कार्यात्मक संरचनाएं और छात्रों लामाओं और भिक्षुओं के लिए 65 आवासीय क्वार्टर हैं। इसमें एक स्कूल, इसकी जल आपूर्ति सुविधा और बौद्ध सांस्कृतिक अध्ययन का केंद्र भी है। मठ का भूतल है जहाँ अनुष्ठान नृत्य किया जाता है। यहां तक ​​कि पर्दे सुंदर बौद्ध प्रतीकों के साथ चित्रित किए गए हैं। आवासीय भवनों के अलावा, मठ के मठाधीश दक्षिण-पूर्वी कोने में गेट के पास स्थित एक घर में रहते हैं।

मुख्य मंदिर या दुखांग

प्रवेश द्वार के पश्चिम में मठ का मुख्य मंदिर है जिसे दूखांग (‘दू’ का अर्थ है “सभा” और ‘खांग’ का अर्थ है “भवन)। 1860-61 में निर्मित इस मंदिर में एक कमल की स्थिति में बुद्ध की 18 फीट की एक विशाल प्रतिमा स्थापित है। बुद्ध की छवि के बगल में एक चांदी का ताबूत है जो एक विशेष थोंगका रखता है। इस थंगका छवि, जिसे द्रविड़ देवी भी कहा जाता है, को 5 वें दलाई लामा द्वारा मठ में दान किया गया था। जीर्ण-शीर्ण होने के बाद, मुख्य मंदिर को पारंपरिक बौद्ध शैली में पुनर्निर्मित किया गया था।

पुस्तकालय

तवांग मोनेस्ट्री की दूसरी मंजिल पर एक विशाल पुस्तकालय है जिसमें अनुवादित बौद्ध धर्मग्रंथ और बौद्ध शिक्षाओं पर पुस्तकें हैं। पुस्तकों का उपयोग ज्यादातर साक्षर मोनपा लामाओं द्वारा किया जाता है जो धार्मिक अनुष्ठानों के संचालन के लिए इसका उल्लेख करते हैं। एक प्रिंटिंग प्रेस भी है जो धार्मिक पुस्तकों की छपाई के लिए स्थानीय रूप से बने कागज का उपयोग करता है।

और पढ़े : बोमडिला के फेमस टूरिस्ट प्लेसेस और ट्रिप से जुडी जानकारी

तवांग मठ में मनाये जाने वाले प्रसिद्ध त्योहार – Famous festivals celebrated in Tawang Monastery in Hindi

तवांग मठ में मनाये जाने वाले प्रसिद्ध त्योहार - Famous festivals celebrated in Tawang Monastery in Hindi

तवांग मठ में आयोजित होने वाले प्रमुख त्यौहार चोकसर, लोसार, अजिलमू और तोर्या हैं। चोकसर वह त्योहार है जिसमें लामा धार्मिक ग्रंथों का पाठ करते हैं। ग्रामीण लोग शास्त्रों को अपनी पीठ पर लादकर अपनी कृषि भूमि पर घूमते हैं और अच्छी पैदावार के लिए प्रार्थना करते हैं।

तिब्बती नव वर्ष की शुरुआत को चिह्नित करने के लिए लक्सर उत्सव मनाया जाता है। तोर्या, जिसे तवांग-तोर्या के नाम से भी जाना जाता है, मुख्य रूप से मठ में आयोजित एक वार्षिक त्यौहार है। त्योहार का उद्देश्य बुरी आत्माओं से सुरक्षा प्राप्त करना है और अगले वर्ष में लोगों की समृद्धि और खुशी के लिए प्रार्थना करना है। इस तीन दिवसीय उत्सव के दौरान, कलाकारों द्वारा रंगीन वेशभूषा और मुखौटे में नृत्य प्रदर्शन किया जाता है जो स्थानीय लोगो के साथ साथ पर्यटकों को भी काफी मनोरंजित और आकर्षित करता है।

और पढ़े : बौद्ध धर्म के प्रमुख तीर्थ स्थल 

तवांग मठ के खुलने और बंद होने का समय – Timings of Tawang Monastery in Hindi

तवांग मठ के खुलने और बंद होने का समय – Timings of Tawang Monastery in Hindi
Image Credit : Adil shivram

यदि आप आप तवांग मोनेस्ट्री की यात्रा करने की योजना बना रहे है और तवांग मठ की टाइमिंग के बारे में जानना चाहते है तो हम आपको बता दे तवांग मठ सुबह 7.00 बजे से शाम 7.00 बजे तक खुला रहता है इस दौरान आप किसी भी यहाँ घूमने आ सकते है। लेकिन इस चीज का विशेष ध्यान रखें मठ की आरामदायक और विस्तृत यात्रा के लिए 2 – 3 घंटे का समय जरूर निकालें।

तवांग मठ की एंट्री फीस – Entry Fee of Tawang Monastery in Hindi

बता दे तवांग मोनेस्ट्री में पर्यटकों या श्र्धालुयों के प्रवेश और घूमने के लिए कोई भी प्रवेश शुल्क नही है यहाँ आप बिना किसी शुल्क का भुगतान किये आराम से घूम सकते है।

तवांग मठ के आसपास घूमने की जगहें – Places to visit around Tawang Monastery in Hindi

तवांग अरुणाचल प्रदेश के प्रमुख पर्यटक स्थल में से एक है जो तवांग मठ के साथ साथ नीचे दिए गये इन प्रसिद्ध पर्यटक स्थलों से भरा हुआ है जिन्हें आप तवांग मोनेस्ट्री की यात्रा दौरान घूम सकते है।

  • नूरानांग जलप्रपात
  • तवांग वॉर मेमोरियल
  • जसवंत गढ़
  • सेला दर्रा
  • माधुरी लेक
  • गोरीचेन पीक
  • पी टी त्सो झील

तवांग मठ घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit Tawang Math in Hindi

तवांग मठ घूमने जाने का सबसे अच्छा समय - Best time to visit Tawang Math in Hindi

तवांग मठ घूमने जाने का आदर्श समय मार्च से सितंबर तक है। ग्रीष्मकाल में, धूप न होने से मौसम सुहावना हो जाता है और तापमान भी 10 से 21 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है जो बाहरी गतिविधियों के लिए एकदम सही है। जबकि सर्दियों के मौसम में तवांग का तापमान 1-3 डिग्री सेल्सियस तक पहुँच जाता हैं और काफी बर्फबारी भी होती हैं। यदि तवांग में बर्फ़बारी को एन्जॉय करना चाहते है तो सर्दियों में भी तवांग घूमने जा सकते है।

और पढ़े : तवांग में घूमने के लिए आकर्षण स्थल

तवांग मठ की यात्रा में कहां रुके – Where To Stay In Tawang in Hindi

तवांग मठ की यात्रा में कहां रुके – Where To Stay In Tawang in Hindi

तवांग मोनेस्ट्री और इसके आसपास के प्रमुख पर्यटन स्थलों की यात्रा करने के बाद यदि आप यहाँ किसी अच्छे निवास स्थान की तलाश कर रहे हैं। तो हम आपको बता दें कि तवांग में आपको लो-बजट से लेकर हाई-बजट तक होटल मिल जाएंगे। आप अपनी सुविधा और बजट के अनुसार होटल का चुनाव कर सकते हैं।

  • होटल द ओक (Hotel The Oak)
  • डोंडरब होमस्टे (Dondrub Homestay)
  • होटल अजंता (Hotel Ajanta)
  • होटल तवांग हॉलिडे (Hotel Tawang Holiday)
  • वामोसेत्रिल तावंग (Vamoosetrail Tawang)

तवांग का प्रसिद्ध स्थानीय भोजन – Famous Food Of Tawang in Hindi

तवांग का प्रसिद्ध स्थानीय भोजन – Famous Food Of Tawang in Hindi

तवांग अपने खूबसूरत पर्यटन स्थलों और आकर्षित वातावरण के साथ साथ अपने लजीज भोजन के लिए भी प्रसिद्ध है। तवांग के स्वादिष्ट भोजन का स्वाद आपको उंगलिया चाटने पर मजबूर कर देगा। तवांग के स्थानीय व्यंजनों में पराँठे-सब्ज़ी, बिरयानी, स्टेपल मोमोज और थुक्पा आदि यहाँ के प्रमुख व्यंजन हैं। इसके अलावा तवांग पर्यटन में आपको शाकाहारी और मांसाहारी दोनों प्रकार के व्यंजन मिल जाएंगे।

तवांग मठ केसे पहुचें – How To Reach Tawang Monastery in Hindi

तवांग मठ अरुणाचल प्रदेश के तवांग जिले के कोना में स्थित है जहाँ एक टेक्सी बस या निजी कार से यात्रा करने सबसे बेहतर तरीका है। लेकिन यदि आप अभी भी फ्लाइट या ट्रेन से यात्रा करके तवांग घूमने जाने चाहते है तो हम यह भी बता देते की आप फ्लाइट, ट्रेन और सड़क मार्ग से तवांग मठ केसे जा सकते है –

फ्लाइट से तवांग कैसे जाए – How To Reach Tawang By Flight in Hindi

फ्लाइट से तवांग कैसे जाए – How To Reach Tawang By Flight in Hindi

तवांग मठ और इसके पर्यटन स्थल की यात्रा के लिए यदि आपने हवाई मार्ग का चुनाव किया हैं। तो हम आपको बता दें कि तवांग का सबसे निकटतम हवाई अड्डा तेजपुर हैं जोकि तवांग से लगभग 143 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं और यह कोलकाता और गुवाहाटी हवाई अड्डे से जुड़ा हुआ हैं। अंतर्राष्ट्रीय यात्री लोकप्रिया गोपीनाथ बोरदोलोई अंतर्राष्ट्रीय गुवाहटी (Lokpriya Gopinath Bordoloi International Airport) हवाई अड्डे से यात्रा कर सकते हैं। हवाई अड्डे से आप बस या टैक्सी का चुनाव करके तवांग मठ जा सकते हैं।

ट्रेन से तवांग कैसे पहुंचे – How To Reach Tawang By Train in Hindi

ट्रेन से तवांग कैसे पहुंचे – How To Reach Tawang By Train in Hindi

जो भी पर्यटक ट्रेन से यात्रा तवांग मठ जाने वाले है हम उन्हें तवांग का अपना कोई रेलवे स्टेशन नही हैं और इसका सबसे नजदीकी रेल्वे स्टेशन तेजपुर हैं। यात्री स्टेशन से बस या कैब के माध्यम से तवांग पर्यटन स्थल तक आसानी से पहुँच सकते है।

सड़क मार्ग से तवांग कैसे जाए – How To Reach Tawang By Road in Hindi

सड़क मार्ग से तवांग कैसे जाए – How To Reach Tawang By Road in Hindi

तवांग मठ जाने के लिए अगर आपने बस या सड़क मार्ग का चुनाव किया हैं। तो हम आपको बता दें कि तवांग सड़क मार्ग के माध्यम से अपने आसपास के सभी शहरो से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ हैं और यात्रा के लिए बसे नियमित रूप से चलती हैं। तेजपुर (असम) और बोमडिला से पर्यटकों सीधी बसे मिल जाएगी जिनसे आप आसानी से तवांग मठ जा सकते है।

और पढ़े : अरुणाचल प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थल घूमने की जानकारी

इस आर्टिकल में आपने तवांग मठ का इतिहास और इसकी यात्रा से जुड़ी जानकारी को जाना है आपको यह आर्टिकल केसा लगा हमे कमेन्ट करके जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

तवांग मठ का मेप –Map of Tawang Monastery

और पढ़े :

Featured Image Credit : Sourav Ghosh

Leave a Comment