इलाहाबाद किला (प्रयागराज किला) के बारे में पूरी जानकारी – Allahabad Fort (Prayagraj Fort) in Hindi

Allahabad Fort in Hindi इलाहाबाद किला उत्तर-भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश में दो पवित्र नदियों (गंगा और यमुना) के संगम के तट पर स्थित एक प्रसिद्ध किला है जिसे “प्रयागराज किला” के नाम से भी जाना जाता है। इलाहाबाद किला अकबर द्वारा निर्मित अब तक का सबसे बड़ा किला है। यह प्रसिद्ध आकर्षण दुनिया भर के हजारों पर्यटकों को न केवल इसके ऐतिहासिक महत्व के लिए बल्कि इसकी वास्तुकला की भव्यता के लिए भी आकर्षित करता है। हालांकि किला आम जनता के लिए बंद है, इसे 12 साल में आयोजित होने वाले कुंभ मेले के दौरान ही पर्यटकों के लिए खोला जाता है। यह किला अपने अक्षयवट वृक्ष (बरगद के पेड़) के लिए भी जाना जाता है, जो एक किंवदंती के अनुसार, स्थानीय लोगों द्वारा मोक्ष प्राप्त करने के लिए आत्महत्या करने के लिए इस्तेमाल किया गया था।

इस लेख में आगे हम इलाहाबाद किला का इतिहास, रहस्य, वास्तुकला और इससे जुड़ी अन्य सभी महत्वपूर्ण बातों के बारे में बात करने वाले है इसीलिए यदि आप इलाहाबाद किले में बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो इस लेख को पूरा जरूर पढ़े –

Table of Contents

इलाहाबाद किले का इतिहास – History of Allahabad Fort in Hindi

इलाहाबाद किले का इतिहास – History of Allahabad Fort in Hindi
Image Credit : Jagadeesh Reddy Pabbathi

इतिहासकारों और शोधकर्ताओं के अनुसार इलाहाबाद किले का निर्माण 1583 में मुगल सम्राट अकबर द्वारा करवाया गया था। उस समय इस किले का नाम इलाहबास (“अल्लाह द्वारा आशीर्वाद”) रखा, जिसे बाद में “इलाहाबाद” के नाम से जाना गया। इलाहाबाद किला अकबर द्वारा निर्मित सबसे बड़ा किला है। स्थानीय प्रयागवाल ब्राह्मणों के अनुसार कहा जाता है की अकबर को इस किले के निर्माण में काफी परेशानीयों का सामना करना पड़ा था क्योंकि इसकी नींव हर बार रेत में डूब जाती थी। सम्राट को बताया गया था कि आगे बढ़ने के लिए एक मानव बलिदान की आवश्यकता थी। एक स्थानीय ब्राह्मण ने स्वेच्छा से अपना बलिदान दिया और बदले में अकबर ने अपने वंशजों – प्रयागवालों – को संगम पर तीर्थयात्रियों की सेवा करने का विशेष अधिकार प्रदान किया।

इलाहाबाद किले के निर्माण से जुड़ा पौराणिक संबंध – Mythological connection the construction of Allahabad Fort in Hindi

1583 में मुगल सम्राट अकबर द्वारा निर्मित इलाहाबाद किले के निर्माण के पीछे एक दिलचस्प कहानी भी जुड़ी हुई है जो अकबर के पिछले जन्म से संबंध रखती है। जी हाँ एक किंवदंती के अनुसार माना गया है की अकबर पिछले जन्म में एक हिंदू धर्मगुरु था। उन्होंने एक बार दूध पीते समय गलती से एक गाय के बाल खा लिए। उनके धर्म के अनुसार, यह कृत्य दंडनीय था और इसलिए, उन्होंने आत्महत्या कर ली। अपने अगले जन्म में, वह एक गैर-हिंदू पैदा हुआ था और भारत की दो पवित्र नदियों, गंगा और यमुना के पवित्र संगम की ओर आकर्षित हुआ था। जब वह सम्राट बन गया, तो अकबर को पता चला कि आत्महत्या करने के लिए इस बरगद के पेड़ का इस्तेमाल किया गया था। इस प्रथा को रोकने के लिए, उन्होंने किले के परिसर में इस पेड़ को शामिल किया था।

अक्षयवट‘ वृक्ष की पौराणिक कथा – The Legend of the ‘Akshayavat’ Tree in Hindi

अक्षयवट' वृक्ष की पौराणिक कथा - The Legend of the 'Akshayavat' Tree in Hindi
Image Credit : Shiv kumar

“अक्षयवट”, या “अविनाशी वृक्ष” हिंदू पौराणिक कथाओं में वर्णित एक पौराणिक वृक्ष है। पेड़ की कहानी यह है कि एक बार एक प्रसिद्ध ऋषि ने भगवान नारायण से उन्हें अपनी शक्ति दिखाने के लिए कहा – उसी के प्रदर्शन के रूप में, प्रभु ने एक पल के लिए पूरी दुनिया में बाढ़ ला दी। इस दौरान, अक्षयवट एकमात्र पेड़ था जो अभी भी जल या बाढ़ में पानी में डूबा नही था। इसी कारण से इसे अविनाशी माना जाता है।

किंवदंती समय के साथ और भी बड़ी हो गई, और वास्तव में काफी पुरानी है – कुछ लोगों का यह भी मानना ​​है कि राम, लखन और सीता रामायण के समय इस पेड़ के नीचे विश्राम करते थे।

एक अन्य लोकप्रिय स्थानीय कहानी यह भी कहती है कि अकबर ने किले के निर्माण के दौरान पेड़ को जलाने की कोशिश की, लेकिन असफल रहा – यही कारण है कि पेड़ किले के अंदर स्पष्ट रूप से खड़ा है। लंबे समय तक, लोग इस पेड़ से पानी में कूदकर आत्महत्या भी करते थे, यह विश्वास करते हुए कि वे ऐसा करने से मोक्ष प्राप्त करेंगे।

इलाहाबाद किला का रहस्यAllahabad kile ka rahshay in Hindi

गंगा और यमुना नदियों के संगम पर स्थित इलाहाबाद किला का रहस्य भी चर्चा का विषय बना हुआ है जिसने स्थानीय लोगो के साथ साथ पर्यटकों को भी सोचने पर मजबूर कर दिया है। माना जाता है किले के अंदर कई गुप्त दरवाजे और सुरंगे है जिनकी अभी तक खोज नही की जा सकी है। कहा गया है की किले के अंदर एक सुरंग भी है जो संगम के आसपास निकलती है।

और पढ़े : भारत के 8 सबसे रहस्यमयी और डरावने किले जिनके बारे में जानकार में रोंगटे खड़े हो जायेंगे

इलाहाबाद किले की वास्तुकला – Architecture Of Allahabad Fort in Hindi

इलाहाबाद किले की वास्तुकला - Architecture Of Allahabad Fort in Hindi
Image Credit : Sayan Biswas

इलाहाबाद किला मुग़ल सम्राट अकबर द्वारा निर्मित सबसे बड़ा किला है इस किले में विशाल दीवारें, मीनारें, एक मंदिर और एक बड़ा महल शामिल है। किले में प्रवेश करने और बाहर निकलने के लिए तीन द्वार हैं। पैलेस के आंतरिक भाग को हिंदू और मुस्लिम कलात्मकता से सजाया गया है। किले के परिसर के अंदर का मंदिर एक भूमिगत मंदिर है जिसे किले की पूर्वी दीवार में एक छोटे से प्रवेश द्वारा पहुँचा जा सकता है। पातालपुरी मंदिर के पास प्रसिद्ध अक्षयवट का पेड़ भी है।

इनके साथ साथ किले में 10 मीटर लंबा अशोक स्तंभ भी है जो 232 ईसा पूर्व में स्थापित किया गया था जिसमें सम्राट जहांगीर का शिलालेख है।

इलाहाबाद किले की टाइमिंग – Timings of Prayagraj Fort in Hindi

बता दे वैसे तो किला 24 घंटा खुला रहता है क्योंकि किले के अंदर पर्यटकों को जाने की अनुमति नही है आप बाहर से ही इस किले को देख सकते है।

इलाहाबाद किले की एंट्री फीस – Entry Fee of Allahabad Fort in Hindi

बता दे इलाहाबाद किले की कोई एंट्री फीस नही है क्योंकि यह किला में पर्यटकों के प्रवेश की अनुमति नही होती है। यह किला सिर्फ कुंभ के मेले के दौरान ही खुलता है।

इलाहाबाद किले के आसपास घूमने की जगहें – Places to visit around Prayagraj Fort  in Hindi

इलाहाबाद भारत के प्रमुख तीर्थ स्थल और पर्यटकों स्थलों में से एक है जिस वजह से यहाँ प्रयागराज किले के साथ साथ कई प्रसिद्ध मंदिर और पर्यटक स्थल मौजूद है जिन्हें आप अपनी प्रयागराज किले की यात्रा में टाइम निकालकर घूमने जा सकते है –

  • त्रिवेणी संगम
  • खुसरो बाग
  • आनंद भवन
  • शोक स्तंभ
  • बड़े हनुमान मंदिर
  • माघ मेला
  • अलोपी देवी मंदिर
  • ऑल सेंट कैथेड्रल इलाहाबाद
  • न्यू यमुना ब्रिज
  • अल्फ्रेड पार्क
  • मनकामेश्वर मंदिर
  • फन गाँव वाटर पार्क
  • नंदन कानन वाटर रिट्रीट

इलाहाबाद किला घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit Allahabad Fort in Hindi

इलाहाबाद किला घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit Allahabad Fort in Hindi
Image Credit : Ujjwalrishit Tiwari

यदि आप प्रयागराज किले के साथ इलाहाबाद के अन्य पर्यटक स्थलों की यात्रा भी करने वाले है तो उसके लिए अक्टूबर से मार्च का समय सबसे अच्छा समय होता है। गर्मियों में यहां आना थोड़ा कष्टदायी हो सकता है जबकि मानसून के दौरान, घाट सुलभ नहीं होते और नदी में स्नान करने वाले लोगों पर प्रतिबंध लगा दिया जाता है इसलिए यह समय भी आदर्श नहीं है।

और पढ़े : प्रयागराज (इलाहाबाद) घूमने के प्रमुख स्थान

इलाहाबाद(प्रयागराज) का प्रसिद्ध भोजन – Local Food Of Prayagraj (Allahabad) in Hindi

इलाहाबाद(प्रयागराज) का प्रसिद्ध भोजन – Local Food Of Prayagraj (Allahabad) in Hindi

लोकनाथ चौक क्षेत्र में एक बहुत ही संकीर्ण और भीड़ वाली गली है जो स्ट्रीट फूड प्रेमियों के बीच बहुत लोकप्रिय है यहां आपको चाट से लेकर कचौरी, लस्सी से लेकर हलवा तक सब कुछ मिल जाएगा। सबसे लोकप्रिय दुकानों में से एक हरि नमकीन की दुकान है जो अपने अनोखे समोसे के लिए प्रसिद्ध है। एक मुगल व्यंजनों के साथ-साथ यहां अवध फूड भी मिलता है। सबसे प्रसिद्ध भोजनालयों में से कुछ ईट ऑन मसाला रेस्तरां हैं, जो बिरयानी,कबाब, और देसी घी में तैयार कचौड़ी और जलेबी के लिए जाना जाता है। खाने के बाद मिठास के लिए हीरा हलवाई की दुकान गरी की बर्फ चखने के लिए अच्छी जगह है। ईट ऑन इलाहाबाद में सबसे लोकप्रिय फूड जॉइंट्स में से एक है। यह जगह कबाब और मुंह में पानी भरने वाली बिरयानी के लिए लोकप्रिय है।

प्रयागराज किला की यात्रा में रुकने के लिए होटल्स – Hotels in Allahabad in Hindi

प्रयागराज किला की यात्रा में रुकने के लिए होटल्स – Hotels in Allahabad in Hindi

इलाहाबाद एक धार्मिक नगरी और प्रमुख शहर है जिस वजह से यहाँ सभी बजट ही होटल्स, और धर्मशाला मौजूद है जिन्हें आप आप अपनी यात्रा में आराम करने और कुछ समय या दिन रुकने के लिए चुन सकते है।

  • कुंजपुर गेस्ट हाउस  (Kunjpur Guest House)
  • होटल श्री कान्हा रेजीडेंसी (Hotel Shree Kanha Residency)
  • लक्ष्मी होटल (Luxmi Hotel)
  • संगम विला (Sangam Villa)
  • होटल गेलेक्सी (Hotel Galaxy)

इलाहाबाद किला कैसे पहुंचे – How to reach Allahabad Fort in Hindi

जो भी पर्यटक इलाहाबाद किला घूमने जाने का प्लान बना रहे है और जानना चाहते है की हम इलाहाबाद किला केसे पहुचें तो हम आपकी जानकारी के लिए फ्लाइट, ट्रेन और सड़क मार्ग किसी से ट्रेवल करके आसानी से इलाहाबाद किला पहुचा जा सकता है।किले तक पहुंचने के लिए आप शहर में लगभग कहीं से भी कैब या रिक्शा आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

फ्लाइट से इलाहाबाद कैसे पहुंचे – How To Reach Allahabad By Flight in Hindi

फ्लाइट से इलाहाबाद कैसे पहुंचे – How To Reach Allahabad By Flight in Hindi

यदि आप इलाहाबाद किला जाने के लिए फ्लाइट से ट्रेवल करना चाहते है तो हम आपको बता दे इलाहाबाद का अपना हवाई अड्डा है, लेकिन यहाँ के लिए नियमित फ्लाइटस अवेलेवल है। एक अन्य विकल्प के रूप में आप वाराणसी (120 किमी) या लखनऊ (200 किमी) के लिए फ्लाइट ले सकते है और वहां से बस / कैब ले कर आनंद भवन इलाहाबाद पहुच सकते है।

सड़क मार्ग से इलाहाबाद कैसे पहुँचे – How To Reach Allahabad By Road in Hindi

सड़क मार्ग से इलाहाबाद कैसे पहुँचे – How To Reach Allahabad By Road in Hindi

इलाहाबाद NH-2 पर पड़ता है जो दिल्ली से कोलकाता तक चलता है और स्वर्णिम चतुर्भुज का हिस्सा है – इसलिए दिल्ली / आगरा / कानपुर / वाराणसी / पटना / कोलकाता से सड़क संपर्क बढ़िया है। राजमार्ग चिकना और बहुत अच्छी तरह से बनाए रखा गया है और बिल्कुल भी भीड़ नहीं है। लखनऊ से इलाहाबाद की सड़क भी बहुत अच्छी है। वाराणसी / लखनऊ से इलाहाबाद के लिए कुछ लगातार वोल्वो बस सेवाएं भी हैं, जिनमें बहुत आरामदायक सीटें हैं और पूरे दिन चलती हैं, इसलिए आप व्यावहारिक रूप से बस स्टेशन तक पहुंच सकते हैं और अगली बस पकड़ सकते हैं।

 ट्रेन से इलाहाबाद कैसे पहुंचे – How To Reach Allahabad By Train in Hindi

ट्रेन से इलाहाबाद कैसे पहुंचे – How To Reach Allahabad By Train in Hindi

इलाहाबाद भारतीय रेलवे के उत्तर-मध्य डिवीजन का मुख्यालय है और भारत के अधिकांश प्रमुख शहरों के लिए ट्रेन से बहुत अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। दिल्ली / कोलकाता से रात भर चलने वाली कई ट्रेनें हैं और आसपास के शहरों (वाराणसी / लखनऊ / कानपुर / आगरा) से जुड़ने वाली बहुत सारी ट्रेनें हैं इसलिए ट्रेन से यात्रा करके इलाहाबाद किला जाना सबसे अच्छे और  सुविधाजनक विकल्पों में से एक है।

और पढ़े : भारत के 10 ऐसे खूबसूरत किलों के बारे में जहां आपको एक बार जरुर जाना चाहिए 

इस लेख में आपने इलाहाबाद किला( प्रयागराज किला) के बारे में जाना है आपको हमारा यह लेख केसा लगा हमे कमेंट्स में बताना ना भूलें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

इलाहाबाद किला का मेप – Allahabad Fort Map

और पढ़े :

Leave a Comment