बेलूर मठ घूमने की पूरी जानकारी – Complete information about visiting Belur Math in Hindi

Belur Math in Hindi : बेलूर मठ कोलकाता का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है जो रामकृष्ण मठ और मिशन का मुख्यालय भी है। यह प्रसिद्ध मठ कोलकाता में हुगली नदी के पश्चिमी तट पर चालीस एकड़ भूमि पर फैला हुआ है जो अपने चारों और हरे भरे गार्डन से घिरा हुआ है जिसमे कई प्रकार के सुन्दर फूल और अन्य वनस्पतियां मौजूद है। मंदिर परिसर में एक संग्रहालय और कई अन्य संबद्ध शिक्षण संस्थान भी हैं। जहाँ पर्यटक अक्सर लगभग 3-4 घंटे बिताना पसंद करते हैं। बेलूर मठ हिंदू, इस्लामी, बौद्ध और वास्तुकला की ईसाई शैलियों के मिश्रण के साथ धर्मनिरपेक्षता के प्रतीक के रूप में गर्व से खड़ा है। बेलूर मठ कोलकाता के लोकप्रिय धार्मिक और पर्यटक स्थलों में से एक है जो हर साल हजारों तीर्थ यात्रियों और पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करता है।

अगर आप अपनी फैमली या फ्रेंड्स के साथ कोलकाता में घूमने की जगहें सर्च कर रहे है तो आप बेलूर मठ की यात्रा अवश्य करें जहाँ आप प्राकृतिक सुन्दरता और शांति का अद्भुद अनुभव महसूस कर सकते हैं। इस आर्टिकल में हम आपको बेलूर मठ के बारे में विस्तार से बताने वाले है जिसे जानने के बाद आप अंदाजा लगा सकते है यह जगह बाकई घूमने लायक है –

Table of Contents

बेलूर मठ का इतिहास – History of Belur Math in Hindi

बेलूर मठ का इतिहास – History of Belur Math in Hindi
Image Credit : Abhijit Pal

बेलूर मठ का इतिहास मुख्य रूप से वेदांत के विख्याता और प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु स्वामी विवेकानंद से जुड़ा हुआ है। जनवरी 1897 में अपने शिष्यों के साथ मिलकर स्वामी विवेकानंद जी ने दो मठों की स्थापना की थी, उनमें से एक बेलूर मठ था। जबकि दूसरा हिमालय पर मायावती, चंपावत जिले, में स्थित है जिसे अद्वैत आश्रम कहा जाता है। बेलूर मठ के निर्माण का उद्देश्य युवा पुरुषों को उनके काम में प्रशिक्षित करना था, जो बाद में, रामकृष्ण मिशन के ‘संन्यासी’ बन सके। वास्तव में, स्वामी विवेकानंद ने अपने जीवन के अंतिम कुछ वर्ष बेलूर मठ में भी व्यतीत किए थे। बता दे बेलूर मठ के निर्माण की मुख्य आधारशिला 13 मार्च 1929 को राखी गयी थी जिसके निर्माण का भार मार्टिन बर्न एंड कंपनी द्वारा संभाला गया था।

बेलूर मठ की वास्तुकला – Architecture of Belur Math in Hindi

बेलूर मठ की वास्तुकला और डिजाइन में भारतीय धर्मों की विविधता देखने को मिलती हैं। जब इसे विभिन्न कोणों से देखा जाता है, तो यह मठ एक मंदिर, एक चर्च और एक मस्जिद जैसा दिखता है। मंदिर का मुख्य द्वार सांची स्तूप की बौद्ध शैलियों और अजंता गुफाओं के प्रवेश से बहुत प्रभावित है। खिड़कियां और बालकनियाँ राजपूत वास्तुशिल्प डिजाइनों और मुगल शैलियों से सुसज्जित हैं, जबकि केंद्रीय गुंबद यूरोपीय वास्तुकला से लिया गया है। इसके अलावा, जमीन की सरंचना एक ईसाई क्रॉस के आकार में है। मुख्यतः चुनार के पत्थर से निर्मित,112.5 फीट ऊंचे मंदिर में भगवान गणेश और हनुमान के चित्र हैं, जो क्रमशः सफलता और शक्ति का प्रतिनिधित्व करते हैं, जो प्रवेश द्वार के खंभों के ऊपर बने हुए हैं।

 बेलूर मठ परिसर – Belur Math Campus in Hindi

बेलूर मठ परिसर – Belur Math Campus in Hindi
Image Credit : Arghya Dasgupta

बेलूर मठ 40 एकड़ के विशाल क्षेत्र में फैला हुआ है जिसमे बेलूर मठ के साथ साथ कई सरंचनाएं मौजूद है। जिनके बारे में हम नीचे जानने वाले है –

श्री रामकृष्ण मंदिर

श्री रामकृष्ण मंदिर बेलूर मठ की सबसे प्रमुख संरचना है जिसे भारतीय धर्मों की विविधता का जश्न मनाने” के लिए बनाया गया है। बता दे इस मंदिर का डिजाइन स्वामी विवेकानंद द्वारा तैयार किया गया था और वास्तुकार स्वामी विज्ञानानंद थे, जो रामकृष्ण के प्रत्यक्ष मठवासी शिष्य थे।

रामकृष्ण की प्रतिमा

श्री रामकृष्ण की एक आदमकद प्रतिमा भी इस परिसर में स्थित है, जो संगमरमर से बने ‘डमरू’ के आकार के पेडल के ऊपर सौ पंखुड़ियों वाले कमल पर विराजमान है। जिसमें श्री रामकृष्ण के पवित्र अवशेष संरक्षित हैं। श्री रामकृष्ण की इस प्रतिमा को कोलकाता के प्रसिद्ध मूर्तिकार स्वर्गीय गोपेश्वर पाल द्वारा बनाई गई थी जबकि मंदिर की सजावट की कल्पना कलाकार स्वर्गीय श्री नंदलाल बोस ने की थी।

स्वामी विवेकानंद मंदिर

हुगली नदी के तट पर स्थित बेलूर मठ में स्वामी विवेकानंद की समाधि, जहां स्वामी की राख रखी गई थी। स्वामी विवेकानंद मंदिर उस स्थान पर खड़ा है जहां 1902 में स्वामी विवेकानंद के नश्वर अवशेषों का अंतिम संस्कार किया गया था। स्वामी विवेकानंद मंदिर बेलूर मठ के प्रमुख आकर्षणों में से एक है जो स्वामी विवेकानंद के शिष्यों और अनुयाइयों के बीच बहुत ही पूज्यनीय है

पवित्र माता का मंदिर

बेलूर मठ के प्रवेश द्वार पर स्थित पवित्र माता का मंदिर रामकृष्ण की आध्यात्मिक पत्नी सरदा देवी को समर्पित है। बता दे यह मंदिर ठीक उसी स्थान पर स्थित है जहाँ उनके पार्थिव शरीर को जलाया गया था।

रामकृष्ण संग्रहालय

इस परिसर में रामकृष्ण मिशन का मुख्यालय और एक संग्रहालय भी स्थित है जिसमें रामकृष्ण मठ और मिशन के इतिहास के बहुमूल्य अवशेष हैं। इस संग्रहालय में रामकृष्ण, शारदा देवी, स्वामी विवेकानंद और उनके कुछ शिष्यों द्वारा उपयोग की गई कलाकृतियां का अद्भुद संग्रह हैं। इनमें पश्चिम में विवेकानंद द्वारा पहना गया लंबा कोट, सिस्टर निवेदिता की मेज, जैसी कई कलाकृतियाँ मौजूद है।

बेलूर मठ से सटे विशाल परिसर में रामकृष्ण मिशन से संबद्ध कई शैक्षणिक संस्थान, जैसे एक डिग्री कॉलेज और एक पॉलिटेक्निक भी स्थित हैं। इन सभी आकर्षणों ने बेलूर मठ को तीर्थयात्रा का एक महत्वपूर्ण स्थान बना दिया है जिसका शांत वातावरण और आध्यात्मिक माहौल दुनिया भर में जाना जाता है।

और पढ़े : दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा तवांग मठ (तवांग मोनेस्ट्री) घूमने की जानकारी

बेलूर मठ के समारोह और गतिविधियाँ – Celebrations and Activities at Belur Math in Hindi

दुर्गा पूजा, लक्ष्मी पूजा, काली पूजा और सरस्वती पूजा जैसे सभी पारंपरिक हिंदू त्योहारों के उत्सव के अलावा; बेलूर मठ श्री रामकृष्ण, पवित्र माता और स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन को भी मनाता है। श्रीकृष्ण, बुद्ध, ईसा मसीह और चैतन्य के जन्मदिन और क्रिसमस भी यहाँ बड़े धूमधाम के साथ मनाया जाता है। प्रसिद्ध त्योहारों के अलावा बेलूर मठ चिकित्सा सेवाओं, शिक्षा, ग्रामीण उत्थान और अन्य आध्यात्मिक और सांस्कृतिक गतिविधियों का भी संचालन करता है।

बेलूर मठ खुलने का समय – Timings of Belur Math in Hindi

बेलूर मठ खुलने का समय – Timings of Belur Math in Hindi
Image Credit : Noushad Abdul Samad
  • अप्रैल से सितंबर – सुबह 6:00 बजे से 11:30 बजे और शाम 4:00 बजे से शाम 7:00 बजे तक
  • अक्टूबर से मार्च – सुबह 6:30 बजे से 11:30 बजे और दोपहर 3:30 बजे से शाम 6:00 बजे तक

रामकृष्ण संग्रहालय की टाइमिंग

  • सुबह 8:30 बजे से 11:30 बजे और दोपहर 3:30 बजे से शाम 5:30 बजे तक

बेलूर मठ की एंट्री फीस – Entry Fee of Belur Math in Hindi

बेलूर मठ की यात्रा पर आने वाले पर्यटकों को बता दे बेलूर मठ में प्रवेश और यहाँ घूमने के लिए कोई प्रवेश शुल्क नही है। आप बिना किसी प्रवेश शुल्क का भुगतान किये आराम से घूम सकते है।

यदि आप पश्चिम बंगाल में “सिटी ऑफ़ जॉय” के नाम से मशहूर कोलकाता में बेलूर मठ घूमने जाने का प्लान बना रहे है तो हम आपकी जानकारी के लिए बता दे कोलकाता, बेलूर मठ के अलावा अन्य प्रसिद्ध, धार्मिक व आकर्षक पर्यटक स्थल से भरा हुआ है, जिन्हें आप अपनी बेलूर मठ कोलकाता की यात्रा के दौरान अवश्य घूम सकते हैं।

  • विक्टोरिया मेमोरियल
  • जोरासांको ठाकुर बाड़ी
  • मदर हाउस
  • बिरला मंदिर
  • कलकत्ता जैन मंदिर
  • कालीघाट मंदिर
  • इस्कॉन मंदिर
  • सेंट जॉन चर्च
  • बिरला मंदिर 
  • सेंट पॉल कैथेड्रल
  • भारतीय संग्रहालय 
  • नखोदा मस्जिद
  • साइंस सिटी 
  • पार्क स्ट्रीट
  • हावड़ा ब्रिज
  • बिड़ला तारामंडल
  • जलदापारा वन्यजीव अभयारण्य
  • मार्बल पैलेस
  • बॉटनिकल गार्डन
  • ईडन गार्डन
  • साइंस सिटी
  • ताजपुर
  • बिड़ला औद्योगिक और प्रौद्योगिकी संग्रहालय
  • रबींद्र सरोवर
  • इकोटूरिज्म पार्क
  • अलीपुर चिड़ियाघर
  • निक्को पार्क
  • प्रिंसेप घाट
  • एक्वाटिका
  • स्टेट आर्कियोलॉजिकल गैलरी

बेलूर मठ घूमने जाने का बेस्ट टाइम – Best time to visit the Belur Math in Hindi

बेलूर मठ घूमने जाने का बेस्ट टाइम – Best time to visit the Belur Math in Hindi
Image Credit : Ritwick Bhattacharyya

वैसे तो आप बेलूर मठ कोलकाता की यात्रा साल के किसी भी समय कर सकते है लेकिन यदि आप बेलूर मठ के साथ साथ कोलकाता के अन्य पर्यटक स्थल भी घूमना चाहते है इसके लिए अक्टूबर से फरवरी के बीच की शरद ऋतु और सर्दियों के महीने कोलकाता की यात्रा के लिए सबसे महीने होते है। मार्च से शुरू होने वाली ग्रीष्मकाल के दौरान कोलकाता की यात्रा से बचें क्योंकि इस समय कोलकाता का तापमान 45 डिग्री सेल्सियस तक पहुँच जाता है।

और पढ़े : भारत के 15 प्रमुख संग्रहालय

कोलकाता की यात्रा में कहा रुके – Where To Stay In Kolkata Tourism in Hindi

कोलकाता की यात्रा में कहा रुके – Where To Stay In Kolkata Tourism in Hindi

यदि आप बेलूर मठ और कोलकाता के अन्य पर्यटक स्थल घूमने जाने का प्लान बना रहे है और अपनी यात्रा में रुकने के लिए होटल्स सर्च कर रहे हैं तो हम आपको बता दें की कोलकाता में आपको लो-बजट से लेकर हाई-बजट तक होटल मिल जायेंगे जिन्हें आप अपनी चॉइस के अनुसार सिलेक्ट कर सकते हैं।

कोलकाता में खाने के लिए प्रसिद्ध भोजन – Local Food Of Kolkata In Hindi

कोलकाता में खाने के लिए प्रसिद्ध भोजन – Local Food Of Kolkata In Hindi

कोलकाता शहर स्थानीय बंगाली व्यंजनों के लिए सबसे अधिक जाना जाता है, जो कि यहाँ आने वाले सभी पर्यटकों के बीच लोकप्रिय बने हुए है। अधिकांश बंगाली व्यंजन भोजन चावल और मछली के चारों ओर घूमते हैं। और यहाँ बंगाली व्यंजनों के अलावा, शहर के विभिन्न रेस्टोरेंट में बढ़िया अंग्रेजी भोजन, कॉन्टिनेंटल, उत्तर भारतीय व्यंजन, दक्षिण भारतीय व्यंजन, मैक्सिकन और इतालवी भोजन का आनंद ले सकते हैं। आपको तिब्बती भोजन का एक उदाहरण भी मिलेगा, जिसमें मोमोस और थुप्पा काफी लोकप्रिय और व्यापक हैं। इसके अलावा कोलकाता शहर बंगाली मिठाइयाँ रसगुल्ला, चमचम, रसमलाई, शोंडेश, क्रीम चुप और अन्य बंगाली मिठाइयाँ के पेशकश भी करता है।

और पढ़े ; केरल का प्रसिद्ध खाना और व्यंजन जिनके बारे में जानकर आपके मुह में पानी आ जायेगा

बेलूर मठ कोलकाता कैसे पहुंचे – How To Reach Belur Math Kolkata in Hindi

अगर आप अपने परिवार या दोस्तों के साथ कोलकाता में बेलूर मठ घूमने जाने का प्लान बना रहे है और जानना चाहते है की हम बेलूर मठ कोलकाता केसे पहुंचे ? तो हम आपको बता दे आप सड़क, रेल और हवाई मार्ग में से किसी का भी चुनाव करके बेलूर मठ  कोलकाता पहुंच सकते है।

यदि आप कोलकाता जाने के लिए अन्य परिवहन के साधनों के बारे में जानना चाहते है तो आप हमारे द्वारा नीचे दी गई जानकरी को अवश्य पढ़े।

फ्लाइट से बेलूर मठ कोलकाता कैसे पहुंचे – How To Reach Belur Math Kolkata By Flight in Hindi

फ्लाइट से बेलूर मठ कोलकाता कैसे पहुंचे – How To Reach Belur Math Kolkata By Flight in Hindi

यदि आप फ्लाइट से बेलूर मठ कोलकाता जाने का प्लान बना रहे है तो हम आपको बता दे कोलकाता का अपना घरलू हवाई अड्डा, नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है जो बेलूर मठ से लगभग 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। फ्लाइट से ट्रेवल करके कोलकाता एयरपोर्ट पहुचने के बाद आप यहाँ से मेट्रो, ऑटो, टेक्सी या केब बुक करके बेलूर मठ  पहुंच सकते हैं।

सड़क मार्ग से बेलूर मठ कोलकाता कैसे जाये – How To Reach Belur Math Kolkata By Road in Hindi

सड़क मार्ग से बेलूर मठ कोलकाता कैसे जाये – How To Reach Belur Math Kolkata By Road in Hindi

अगर आपने बेलूर मठ कोलकाता जाने के लिए सड़क मार्ग का चुनाव किया है तो हम आपको बता दे कोलकाता पश्चिम बंगाल के साथ-साथ भारत के सभी प्रमुख शहरों से सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। भारत के लगभग किसी भी हिस्से से कोलकाता के लिए नियमित बस सेवाएं भी उपलब्ध हैं। दिल्ली से, NH 19 के माध्यम से, कोलकाता पहुँचने में लगभग एक दिन लगता है। आसपास के शहरों जैसे खड़गपुर, हल्दिया आदि से भी बसें उपलब्ध हैं। तो आप अपनी सुविधानुसार बस, टैक्सी या अपनी निजी कार से यात्रा करके आसानी से बेलूर मठ  कोलकाता पहुंच सकते हैं।

ट्रेन से बेलूर मठ कोलकाता कैसे जाए – How To Reach Belur Math Kolkata By Train in Hindi

ट्रेन से बेलूर मठ कोलकाता कैसे जाए – How To Reach Belur Math Kolkata By Train in Hindi

यदि आप ट्रेन से यात्रा करके बेलूर मठ कोलकाता जाना चाहते है तो हम आपको वता दे कोलकाता में हावड़ा और सियालद दो मुख्य रेलवे स्टेशन हैं जो भारत के सभी बड़े स्टेशनों से जुड़ा हुआ है और उत्तर-पूर्वी भारत का प्रवेश द्वार है। तो आप भारत के प्रमुख शहरों से ट्रेन से यात्रा करके हावड़ा और सियालद रेलवे स्टेशन जा सकते है। और रेलवे स्टेशन से ऑटो,टेक्सी केब या अन्य स्थानीय वाहनों की मदद से अपने निश्चित स्थान तक पहुंच सकते हैं।

और पढ़े : कोलकाता की सबसे डरावनी और भूतिया जगहें

इस आर्टिकल में आपने बेलूर मठ के बारे में जाना है आपको यह आर्टिकल केसा लगा हमे कमेन्टस में जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

बेलूर मठ कोलकाता का मेप – Map of Belur Math Kolkata

और पढ़े :

Leave a Comment