Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Sahara Desert In Hindi, सहारा मरुस्थल जिसे ग्रेट सहारा रेगिस्तान के नाम से भी जाना जाता है अफ्रीका महाद्वीप में स्थित दुनिया का सबसे गर्म रेगिस्तान है। दुनिया का पहला सबसे बड़ा रेगिस्तान अंटार्कटिका दूसरा आर्कटिक और तीसरा अफ्रीका का सहारा मरुस्थल है। सहारा में अल्जीरिया, चाड, मिस्र, लीबिया, माली, मॉरिटानिया, नाइजर, पश्चिमी सहारा, सूडान और ट्यूनीशिया के बड़े हिस्से शामिल हैं। दुनिया का सबसे बड़ा रेगिस्तान सहारा रेगिस्तान अपने पूर्व में अटलांटिक महासागर से लगभग 3,000 मील की दूरी पर नील नदी से लेकर लाल सागर तक फैला है।  दक्षिण दिशा में सहारा रेगिस्तान मोरक्को के एटलस पर्वत और भूमध्य सागर से घिरा हुआ है। 9.2 मिलियन वर्ग किलोमीटर का इसका क्षेत्र चीन या संयुक्त राज्य अमेरिका के क्षेत्र के बराबर है जोकि अफ्रीका महाद्वीप के लगभग 31% भू-भाग में फैला हुआ हैं।

सहारा मरुस्थल इतना गर्म है कि यहाँ बारिश नाम मात्र की होती है और बारिश का पानी ज़मीन पर गिरते ही वाष्प में बदल जाता है। सहारा डेजर्ट की सबसे ख़ास बात यह है कि इतना गर्म होने के बाद भी यहाँ पेड़-पौधे, वनस्पति और 4 मिलियन लोग जीवित रह रहे है। सन 2006 में सहारा मरुस्थल में उल्का पिंडों की खोज की गई थी। सहारा डेजर्ट के भीषण गर्म होने के बाबजूद भी पर्यटक यहाँ घूमने के लिए आया करते हैं। यदि आप सहारा मरुस्थल संबंधी जानकारी अधिक से अधिक प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे इस लेख को पूरा जरूर पढ़े।

1. सहारा डेजर्ट का इतिहास – Sahara Marusthal History In Hindi

सहारा डेजर्ट का इतिहास

सहारा मरुस्थल या ग्रेट सहारा डेजर्ट या सहारा रेगिस्तान के इतिहास के बारे में अमेरिका के टेक्सस विश्वविद्यालय के शोध कर्ताओं ने यह बताया है कि आज से लगभग 6000 साल पहले सहारा मरुस्थल बहुत ही हरी-भरी भूमि हुआ करता था। पहले सहारा में भी बहुत बारिश होती थी परन्तु अचानक जलवायु परिवर्तन ने इस क्षेत्र को बहुत प्रभावित किया और सहारा एक मरुस्थल के रूप में बदल गया। सहारा मरुस्थल में हजारों साल पहले लोग रेगिस्तान के किनारे पर रहते थे। परन्तु धीरे-धीरे यहाँ की गर्मी के कारण लोगों ने अपने निवास स्थान को बदल लिया। सहारा मरुस्थल में अफ्रोवेंटर, जोबेरिया और आउनोसोरस सहित डायनासोर के जीवाश्म भी यहाँ पाए गए हैं। 1600 ईसा पूर्व पृथ्वी की धुरी में बदलाब हुए जिसने अफ्रीका का मरुस्थलीकरण कर दिया। यहाँ 4000 ईसा पूर्व के कृषि के निशान भी पाए गए है। सन 1922 में तूफान और बाढ़ ने अल्जीरिया में तमनरासेट को नष्ट कर दिया था।

और पढ़े: टोरंटो के टॉप पर्यटन स्थल

2. सहारा मरुस्थल के बारे में रोचक तथ्य – Sahara Marusthal Ke Interesting Facts In Hindi

सहारा मरुस्थल के बारे में रोचक तथ्य

  • सहारा मरुस्थल का नाम सहारा अरबी भाषा से लिया गया है जिसका अर्थ रेगिस्तान होता है।
  • सहारा मरुस्थल का क्षेत्रफल भारत के क्षेत्रफल से लगभग 2 गुना है।
  • सहारा डेजर्ट में दिन का तापमान 56 डिग्री सेल्सियस से ऊपर तो रात को बर्फ जमा देने वाला तापमान जीरो से भी नीचे चला जाता है।
  • सहारा मरुस्थल ने विश्व के 8 प्रतिशत थल भाग को घेर रखा है। यह मरुस्थल कुल 11 देशों में फैला हुआ है।
  • विश्व की सबसे लम्बी नील नदी सहारा मरुस्थल के पूर्वी भाग से गुजरती है।
  • 19 दिसम्बर साल 2016 को सहारा में 37 साल बाद बर्फ़बारी हुई थी। इससे पहले साल 1979 में ऐसा देखने को मिला था।
  • सहारा रेगिस्तान में कई रेत के टीले 180 मीटर से अधिक ऊँचाई तक पहुँचते हैं। इस रेगिस्तान का उच्चतम बिंदु चाड में माउंट कूसि नामक विलुप्त ज्वालामुखी है जिसकी ऊँचाई 3415 मीटर है।
  • सहारा मरुस्थल में 12000 से भी अधिक ऊँटों का कारवां व्यापार के लिए उपयोग किया जाता रहा हैं।
  • सहारा में बोली जाने वाली सबसे आम भाषा अरबी है।
  • सहारा मरुस्थल में कहीं-कहीं कुएं, नदियाँ और झरने भी देखने को मिलते है।
  • सहारा मरुस्थल में खारे पानी की झील भी पाई जाती है।

3. अफ्रीका के सहारा मरुस्थल का रहस्य – Mystery Of Sahara Desert In Hindi

अफ्रीका के सहारा मरुस्थल का रहस्य

सहारा मरुस्थल के रहस्य के बारे में जानने के लिए आप सभी उत्सुक होंगे तो हम आपको बता दे कि इस रेगिस्तान का सबसे अनौखा रहस्य यहाँ बनी हुई नीली आँख है। यह अद्भुत कलाकृति इंसानी आंख की तरह देख नही पाती है परन्तु बिल्कुल इंसानी आँख के समान ही दिखाई देती है। इस आँख को अन्तरिक्ष से स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है। कई शोध कर्ताओं का मानना है की यह आँख इंसानों द्वारा बनाई गई थी और कई शोध कर्ताओं के अनुसार इस अद्भुत संरचना को रेत के बीचों-बीच एलियन द्वारा बनाया गया माना जाता हैं। इसके अलावा भी सहारा रेगिस्तान से जुड़े कई रहस्य है।

कई सालों पहले सहारा रेगिस्तान में बर्फ गिरने से वहां एक नदी का निर्माण हुआ जिसे गुएल्टा डी आर्चेई के नाम से जाना जाता है और इसी नदी के पानी को पीकर सहारा डेजर्ट के जानवर जीवित रहते हैं। यह पानी कभी सूखता नही है। परन्तु ऊँटों के मल-मूत्र के कारण यह पानी अब काला पड़ गया है।

4. सहारा डेजर्ट का उच्तम तापमान – Highest Temperature Recorded In Sahara Desert In Hindi

 सहारा डेजर्ट का उच्तम तापमान

सहारा मरुस्थल 13 सितम्बर 1922 को सबसे अधिक तापमान रिकॉर्ड किया गया हैं। इस दिन सहारा डेजर्ट का तापमान 136 डिग्री फ़ारेनहाइट तक पहुँच गया था।

5. रेगिस्तान मरुस्थल किस देश में स्थित है – Sahara Marusthal Kaha Par Sthit Hai

सहारा मरुस्थल अफ्रीका महाद्वीप में स्थित हैं।

6. सहारा मरुस्थल का क्षेत्रफल कितना है – Area Of Sahara Desert In Hindi

सहारा मरुस्थल का क्षेत्रफल लगभग 9.2 मिलियन वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है।

और पढ़े: कनाडा में घूमने लायक प्रमुख पर्यटन स्थल की जानकारी

7. क्या कोई सहारा डेजर्ट में रहता है – Does Anyone Live In The Sahara Desert In Hindi

क्या कोई सहारा डेजर्ट में रहता है

क्या आप जानते हैं कि रेगिस्तान में भी कोई रह सकता हैं तो हम आपको बता दे कि सहारा डेजर्ट में भी लोग रहना पसंद करते है। सहारा मरुस्थल के तुआरेग लोग जोकि नाइजीरियाई, माली, बुर्किना फासो, अल्जीरिया, लीबिया, मोरक्को और ट्युनिसिया जैसे अफ्रीकी देशों के निवासी है। तुआरेग लोग कबीलों के रूप में परिवार बनाकर सहारा डेजर्ट में रहते है। तुआरेग लोग इस्लामी धर्म के होते है जिनकी अपनी अलग संस्कृति और भाषा होती है।

ये लोग महिलाओं को बहुत ऊँचा दर्जा देते है। तुआरेग पुरुष टैगेलमस्ट नाम की पगड़ी पहनते है। इस तरह के कपड़ों से तुआरेग लोग अपने मुंह को ढँक कर रखते है ताकि वो प्रदूषण से बचे रहे। यहाँ के लोग तावीज, गहने और सामान बनाने की कला में निपुण होते है।

8. सहारा रेगिस्तान के वनजीव – Sahara Marusthal Mein Animals In Hindi

सहारा रेगिस्तान के वनजीव

सहारा मरुस्थल में जानवर भी पाए जाते है जिनमे से कुछ बिस्क्रा, कैटफिश, गेरबिल, शुतुरमुर्ग, जरबोआ, केप हरे, रेगिस्तानी हाथी, बर्बरी भेड़, डामा हिरण, न्यूबियन जंगली गधा ये सभी जानवर शामिल है। सहारा में पक्षियों की भी बहुत अधिक प्रजातियाँ शामिल है। सहारा की झीलों और ताल में शैवाल और नमकीन चिंराट और अन्य क्रस्टेशियंस भी पाए जाते है। सहारा मरुस्थल के जानवर और पक्षी भोजन के रूप में घोंघे का उपयोग करते है। चट्टानों और टीलों के बीच छिपकली, गिरगिट, कंकाल और कोबरा पाए जाते हैं।

9. सहारा रेगिस्तान में वनस्पति – Sahara Marusthal Mein Plants In Hindi

सहारा रेगिस्तान में वनस्पति

सहारा मरुस्थल का नाम सुनते ही आप अचम्भे में पड़ जायेंगे कि यहाँ पौधे और वनस्पती भी पाई जाती है। हम आपको सहारा रेगिस्तान की कुछ प्रमुख पौधों और वनस्पतियों की जानकारी देना चाहते है। जिनमे से लेपरिन का ओलिव ट्री, सहारन सरू, खजूर, डेजर्ट थाइम, तामरिस्क, बबूलडम पाम,  रेगिस्तानी लौकी प्रमुख है। सहारा के कठोर और शुष्क वातावरण के बाद भी कई स्थान ऐसे है जहां पौधों की प्रजातियाँ उगती है।

और पढ़े: नयाग्रा फॉल्स कनाडा की जानकारी

10. सहारा रेगिस्तान का तापमान – Sahara Desert Temperature In Hindi

सहारा रेगिस्तान दुनिया का सबसे गर्म मरुस्थल है जहां वार्षिक औसत तापमान 86 डिग्री फोरेनहीट या 30 डिग्री सेल्सियस होता है। इसके अलावा तापमान बदलता रहता है जिसमे सबसे ज्यादा तापमान 122 डिग्री फोरेनहीट या 50 डिग्री सेल्सियस होता है।

11. सहारा मरुस्थल की अर्थव्यवस्था – Economy Of Sahara Desert In Hindi

सहारा मरुस्थल की अर्थव्यवस्था

सहारा मरुस्थल से द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से ही खनिज संसाधनों का व्यापार होने लगा था। सहारा डेजर्ट तेल, प्राकृतिक गैस, कोयला ये सभी खनिजों का केंद्र माना जाता है। इन खनिज उद्योगों के लिए ही सहारा के पूरे क्षेत्र का विकास होना प्रारंभ हो गया था।

12. सहारा डेजर्ट में ट्रेन का सफ़र – Sahara Marusthal Train Tour In Hindi

सहारा डेजर्ट में ट्रेन का सफ़र

सहारा रेगिस्तान की यात्रा को ट्रेन से तय करने के बारे में आपने सोचा भी नही होगा। परन्तु सहारा में बीच के क्षेत्र में ट्रेन चलती है जिससे पर्यटक पूरे सहारा रेगिस्तान का मजा ले सकते हैं। हालाकि कुछ फ़्रांसिसी यात्रियों की हत्या हो जाने के कारण इस ट्रेन पर एक बार प्रतिबंध लगा दिया गया था लेकिन इसे दोबारा चालू कर दिया गया हैं। आप सहारा रेगिस्तान आये तो इस शानदार ट्रेन की यात्रा का लाभ जरूर उठाएं।

और पढ़े: पोलैंड को वो कौन से आकर्षण स्थल है जो पोलैंड टूरिज्म को इतना खुबसूरत बनाते है

13. सहारा मरुस्थल अफ्रीका का नक्शा – Sahara Desert Africa Map

14. सहारा मरुस्थल की फोटो गैलरी – Sahara Desert Images

और पढ़े:

Write A Comment