Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Places To Visit In Auli In Hindi औली उत्तराखंड का एक खूबसूरत पर्यटन स्थल है जो दुनिया भर में स्कीइंग के लिए प्रसिद्ध है। यह प्राकृतिक स्थल समुद्र तल से 2800 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। सेब के बाग, पुराने ओक और देवदार के पेड़ों के साथ औली एक लोकप्रिय पहाड़ी शहर है जहां हिमालय की सीमा के बीच स्थित कई स्की रिसॉर्ट हैं। औली ढलानों और स्वच्छ वातावरण के कारण भारत में एक लोकप्रिय स्कीइंग डेस्टीनेशन भी है। स्कीइंग के अलावा आप गढ़वाल हिमालय की पहाड़ियों में कई ट्रेक के लिए जा सकते हैं और बर्फ से ढके पहाड़ों के मंत्रमुग्ध दृश्यों का आनंद ले सकते हैं।

औली खासतौर से अपने ओक-धार ढलानों और शंकुधारी जंगलों के लिए जाना जाता है। औली का इतिहास 8वीं शताब्दी का है। कुछ मान्यताओं के अनुसार, गुरु आदि शंकराचार्य ने इस पवित्र स्थान का दौरा किया था। उन्होंने औली को अपनी यात्रा से आशीर्वाद दिया था। इस स्थान को ‘बुग्याल’ के नाम से भी जाना जाता है, जिसका क्षेत्रीय भाषा में अर्थ है ‘मैदानी’। पर्यटक नंदादेवी, मन पर्वत और कामत पर्वत श्रृंखलाओं के अद्भुत दृश्यों का आनंद ले सकते हैं। तो चलिए आज हम आपको यात्रा कराते हैं खूबसूरत पर्यटन स्थल औली की। यहां ऐसे कई जगहें हैं, जहां आप घूमने जा सकते हैं। खासतौर से अगर छुट्टियां बितानी हो, तो यहां के खूबसूरत पर्यटन स्थलों की यात्रा करना अच्छा अनुभव होगा।

औली में घमूने वाली जगहें – Places To Visit In Auli In Hindi

  1. औली में स्कीइंग – Auli Skiing In Hindi
  2. नंदा देवी – Nanda Devi In Hindi
  3. गुरसों बुग्याल – Gorson Bugyal In Hindi
  4. कुवारी बुग्याल – Kuari Pass Trek In Hindi
  5. त्रिशूल पीक – Trisul Mountain In Hindi
  6. चिनाब झील – Chenab Lake In Hindi
  7. जोशीमठ – Jyotirmath In Hindi
  8. रुद्रप्रयाग – Rudraprayag In Hindi
  9. नंदप्रयाग – Nandaprayag In Hindi
  10. केबल कार की सवारी – Chair Lift In Auli In Hindi
  11. छत्रा कुंड – Chattrakund Lake Auli
  12. सोलधार तपोवन – Saildhar Tapovan In Hindi
  13. औली कृत्रिम झील – Kermit Lake In Hindi
  14. भव्‍य बद्री – Badri In Hindi
  15. औली में ट्रेकिंग – Trekking In Auli In Hindi
  16. विष्णुप्रयाग – Vishnuprayag In Hindi

औली का प्रमुख पारंपरिक भोजन – Local Food In Auli In Hindi

औली जाने के लिए सबसे अच्छा समय क्या है – Best Time To Visit Auli In Hindi

कैसे पहुंचें औली – How To Reach Auli In Hindi

  1. बद्रीनाथ से कैसे पहुंचें औली – How To Reach Auli From Badrinath In Hindi
  2. फ्लाइट से कैसे पहुंचें औली – How To Reach Auli By Flight In Hindi
  3. सड़क मार्ग से कैसे पहुंचें औली – How To Reach Auli By Road In Hindi
  4. ट्रेन से कैसे पहुंचें औली – How To Reach Auli By Train In Hindi
  5. औली में स्थानीय परिवहन – Local Transport In Auli In Hindi

क्या औली में एटीएम फैसिलिटी उपलब्ध है – Is There ATM Facility Available In Auli In Hindi

औली में स्कीइंग गीयर कहां उपलब्ध है  From Where I Get The Skiing Gear In Auli In Hindi

औली की लोकेशन का मैप – Auli Location

औली की फोटो गैलरी – Auli Images

1. औली में घमूने वाली जगहें – Places To Visit In Auli In Hindi

1.1 औली में स्कीइंग – Auli Skiing In Hindi

औली में स्कीइंग - Auli Skiing In Hindi

औली एक बर्फ से ढका हिल स्टेशन है जो समुद्र तल से 2-3 हजार मीटर की ऊँचाई पर स्थित है, जहां से माउंट नंदा देवीकेम, मन पर्वत, डुनागिरि, बेथारटोली, नीलकंठ, हरि पर्वत, घोरी पर्वत और नर पर्वत का बहुत ही सुंदर दृश्य दिखाई देता है। औली स्कीइंग के लिए एक आदर्श स्थान है। औली की बर्फ से ढकी ढलानों की फ्रेंच और ऑस्ट्रियाई विशेषज्ञों ने दुनिया के सबसे अच्छे स्कीइंग ग्राउंड से तुलना की और इसे सर्वश्रेष्ठ में से एक माना है ।

सामान्य टिप्स – Auli Skiing Tips In Hindi

अगर आप स्कीइंग करने की योजना बनाते हैं तो अच्छे फुटवियर और स्की पैंट बहुत जरूरी हैं। ऐसे ऑपरेटर को सर्च करें जो रजिस्टर्ड हैं और आपकी स्की यात्रा के लिए अच्छे उपकरण और सुरक्षा उपकरण प्रदान करते हैं।

सुरक्षा टिप्स – Auli Skiing Safety Tips In Hindi

सर्दी और फ्लू के लिए दवाइयाँ लें। इस जगह पर जाने के लिए अपने बैग में आप बहुत सारे गर्म कपड़े ले जाएं। जो जैकेट इंसुलेट किए जाते हैं, उनका सुझाव दिया जाता है।

1.2 नंदा देवी – Nanda Devi In Hindi

नंदा देवी - Nanda Devi In Hindi

नंदा देवी भारत के सबसे ऊंचे हिल स्टेशनों में से एक है। चोटी का नाम स्वयं देवी को आशीर्वाद देने के लिए पड़ा है। चोटी को घेरे हुए नंदादेवी राष्ट्रीय उद्यान भी एक ऐसा स्थान है जहाँ आप वनस्पतियों और जीवों और जैव विविधता को देख सकते हैं। पहाड़ी घास, ओक, देवदार, देवदार, शंकुधारी, रोडोडेंड्रोन और कई अन्य ऊंचे पेड़ों की विशेषता के कारण यह विश्व यूनेस्को की विरासत का एक हिस्सा बन गया है। भारत का सबसे ऊंचा पर्वत, नंदादेवी 7,817 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है ।

और पढ़े: धनोल्टी यात्रा की जानकारी और घूमने की 5 खास जगह

1.3 गुरसों बुग्याल – Gorson Bugyal In Hindi

गुरसों बुग्याल - Gorson Bugyal In Hindi

समुद्र तल से 3,056 मीटर की ऊंचाई पर स्थित गर्सन बुग्याल एक सुरम्य स्थान है जहाँ से आप हिमालय जैसे नंदा देवी, त्रिशूल और द्रोण को देख सकते हैं। औली से 3 किमी ट्रेक आपको इस मनोरम स्थान तक ले जाएगा। आप छत्रकुंड की ओर भी ट्रेक कर सकते हैं जो सिर्फ एक किमी दूर है।

1.4 कुवारी बुग्याल – Kuari Pass Trek In Hindi

कुवारी बुग्याल - Kuari Pass Trek In Hindi

गुरसौं बुग्याल से 12 किमी की दूरी पर समुद्र तल से 3380 मीटर की ऊंचाई पर स्थित क्वांरी बुग्याल ट्रेकर्स के लिए एक बहुत लोकप्रिय स्थान है। जून से सितंबर तक क्वानी बुग्याल घूमने जाना सबसे अच्छा समय माना जाता है।

1.5 त्रिशूल पीक – Trisul Mountain In Hindi

त्रिशूल पीक - Trisul Mountain In Hindi

पश्चिमी कुमायूँ की तीन हिमालय पर्वत चोटियाँ त्रिशूल शिखर बनाती हैं। इसकी ऊंचाई 7120 मीटर है। 1907 में, त्रिसूल I, 7 हजार मीटर की ऊंचाई वाली पहली ऐसी चोटी बन गई थी, जहां किसी ने पहली बार चढ़ाई की थी। चोटी को कौसानी से या रूपकुंड ट्रेक के दौरान सबसे अच्छे देखा जा सकता है।

और पढ़े: रानीखेत के 5 प्रमुख दर्शनीय स्थल

त्रिशूल चोटी के दर्शन के लिए टिप्स – Tips For Trisul Mountain Trekking In Hindi

त्रिशूल चोटी तक जाने के लिए जीप सफ़ारी उपलब्ध हैं और लेह तक मिनी बस से यात्रा कर सकते हैं। नदियों और नालों के आसपास रहते हुए सावधान रहें क्योंकि बारिश के दौरान जल स्तर कभी भी बढ़ सकता है। कृपया अपने आप को बचाने के लिए फुल बॉडी रेन कोट लें। पर्यटकों को सलाह दी जाती है कि वे सर्दियों के दौरान हल्के ऊनी कपड़ों को अपने साथ ले आएं। लेकिन अगर आप रोहतांग या ऊंचाई वाले क्षेत्रों की यात्रा करना चाहते हैं तो आपको भारी ऊनी कपड़े ले जाने की जरूरत है।

1.6 चिनाब झील – Chenab Lake In Hindi

चिनाब झील - Chenab Lake In Hindi

चिनाब झील को देखने के लिए आपको बहुत ऊंची चढ़ाई चढऩी पड़ती है। अगर आप चढ़ाई चढ़ सकते हैं, तो इस जगह पर जरूर जाएं, क्योंकि यहां का मनोरम दृश्य देखने का मौका बार-बार नहीं मिलता।

1.7 जोशीमठ – Jyotirmath In Hindi

जोशीमठ - Jyotirmath In Hindi

Image Credit: Jayanti Banerjee

हिंदुओं के बीच एक प्रमुख तीर्थस्थल, जोशीमठ कई मंदिरों की मेजबानी करता है। इतिहास के अनुसार आदि गुरु शंकराचार्य ने यहां सन्यासियों के लिए चार पिठों (केंद्रों) में से एक की स्थापना की।

जोशीमठ के सभी मंदिरों में, नरसिंह मंदिर सबसे लोकप्रिय है। जोशीमठ बद्रीनाथ जाने वाले तीर्थयात्रियों का विश्राम स्थल है।

1.8 रुद्रप्रयाग – Rudraprayag In Hindi

रुद्रप्रयाग - Rudraprayag In Hindi

अलकनंदा नदी के पाँच ‘प्रयाग’ (संगम) में से एक, रुद्रप्रयाग अलकनंदा और मंदाकिनी नदियों का मिलन बिंदु है। बद्रीनाथ और केदारनाथ मंदिरों से निकटता के कारण रुद्रप्रयाग एक व्यस्त बिंदु बना हुआ है। पास में कई मंदिर स्थित हैं जैसे रुद्रनाथ मंदिर, चामुंडा देवी मंदिर और कई अन्य जहां के आपको दर्शन जरूर करने चाहिए।

और पढ़े: देवप्रयाग की यात्रा के बारे में पूरी जानकारी

1.9 नंदप्रयाग – Nandaprayag In Hindi

नंदप्रयाग - Nandaprayag In Hindi

दो पवित्र नदियों- नंदकिनी और अलकनंदा के संगम पर स्थित, नंदप्रयाग, बद्रीनाथ और केदारनाथ के तीर्थ स्थलों का एंट्री पॉइंट है। अलकनंदा के तट पर स्थित गोपालजी मंदिर में हर साल भक्त बड़ी संख्या में दर्शन के लिए आते हैं। नंदप्रयाग उत्तराखंड के चमोली जिले में अलकनंदा और नंदकिनी नदियों के संगम पर स्थित है। कई भक्त अपने पापों को धोने के लिए संगम पर डुबकी लगाते हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार, नंदप्रयाग यदुवंश की राजधानी थी। अन्य प्रयाग विष्णुप्रयाग, कर्णप्रयाग, रुद्रप्रयाग और देवप्रयाग हैं। नंदप्रयाग को बर्फ से ढके पहाड़ों के मनोरम दृश्यों के लिए जाना जाता है।

1.10 केबल कार की सवारी – Chair Lift In Auli In Hindi

केबल कार की सवारी - Chair Lift In Auli In Hindi

औली में सबसे रोमांचक चीजों में से एक है केबल कार की सवारी। सवारी 3.96 किलोमीटर की दूरी तय करती है और इसमें 10 टावरों पर 2 केबल कारें हैं। रोपवे की सवारी के दौरान आप नीचे के घाटों और ऊपर पहाड़ों का मनोरम दृश्य देख सकते हैं। केबल कार की सवारी जोशीमठ से शुरू होकर औली पर खत्म होती है।

1.11 छत्रा कुंड – Chattrakund Lake Auli

छत्रा कुंड - Chattrakund Lake Auli

यह दर्शनीय स्थल पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करने में सफल रहता है। यहाँ से प्रकृति के खूबसूरत नज़ारे देखे जा सकते हैं। यह स्थल घने जंगल के बीच स्थित है,  इसलिए यहां की यात्रा करना एक अलग ही अनुभव होगा।

1.12 सोलधार तपोवन – Saildhar Tapovan In Hindi

सोलधार तपोवन - Saildhar Tapovan In Hindi

सोलधार तपोवन औली का प्रमुख पर्यटन स्थल है। यहां पर चलने वाले गर्म पानी के फव्वारे देखने लायक होते हैं। लेकिन यहां जाने के लिए पर्यटकों को काफी सावधानी बरतने की जरूरत होती है। कहा जाता है कि जो पर्यटक मानसिक और शारीरिक रूप से मजबूत होते हैं, वही इस जगह की सैर आसानी से कर सकते हैं।

1.13 औली कृत्रिम झील – Kermit Lake In Hindi

औली कृत्रिम झील - Kermit Lake In Hindi

औली आर्टिफिशियल झील समुद्र तल से ऊँचाई पर स्थित है। इस झील सरकार द्वारा स्काई ढलानों पर आर्टिफिशियल बर्फ उपलब्ध कराने के लिए बनाई गई थी। कहा जाता है कि इस झील का पानी स्की ढलानों के साथ रखी स्नो गन्स में भरा जाता है।

1.14 भव्‍य बद्री – Badri In Hindi

भव्‍य बद्री - Badri In Hindi

भव्‍य बद्री से तपोवन तक पैदल पहुंचा जा सकता है। यह स्थान घने जंगल के केंद्र में स्थित है। समुद्र तल से 2744 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, यह स्थल पांच बद्री मंदिरों में से एक है। अन्य तीर्थ स्थान हैं बद्रीनाथ, योग ध्यान बद्री, आदि बद्री, और वृद्धा बद्री। मान्यताओं के अनुसार, खराब जलवायु के कारण बद्रीनाथ मंदिर भविष्य में सुलभ नहीं होगा। इसलिए, यह माना जाता है कि इस स्थल को बद्रीनाथ के विकल्प के रूप में पूजा जाएगा। हिंदू भगवान विष्णु के अवतार नरसिंह की एक छवि यहां स्थित मंदिर में विराजित है। तपोवन से आगे धौलीगंगा नदी तक जाने वाले सभी मार्ग से पर्यटक ट्रेकिंग मार्ग से इस स्थान तक पहुँच सकते हैं।

और पढ़े: बद्रीनाथ की यात्रा और इतिहास

1.15 औली में ट्रेकिंग – Trekking In Auli In Hindi

औली में ट्रेकिंग - Trekking In Auli In Hindi

औली में कुछ बेहतरीन ढलानें हैं जहाँ आप ट्रेक कर सकते हैं। लगभग 2500 से 3000 मीटर तक की चोटियाँ, औली में ट्रैकिंग के शौकीनों के लिए अच्छे ट्रैकिंग मार्ग हैं। आप औली से नंदादेवी, कामेत, मन पर्वत, दुनागिरि, और जोशीमठ जैसे हिमालय की चोटियों तक जा सकते हैं। अन्य छोटी ट्रेकिंग रेंज गोर्सन, टाली, कुआरी पास, खुलारा और तपोवन हैं।

1.16 विष्णुप्रयाग – Vishnuprayag In Hindi

विष्णुप्रयाग - Vishnuprayag In Hindi

विष्णुप्रयाग उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित है और समुद्र तल से 1,372 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। इस राजसी तट पर आप एक प्रसिद्ध विष्णु मंदिर भी देख सकते हैं जो 1889 में इंदौर की महारानी ने बनवाया था। यहां अलकनंदा और दहलीगंगा की दो सहायक नदियों को एक साथ स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है। विष्णुप्रयाग वास्तव में उन पांच स्थानों (पंचप्रयाग) में से एक है जहां नदी शक्तिशाली गंगा नदी में बदलने से पहले अपनी बहन सहायक नदियों से मिलती है।

2. औली का प्रमुख पारंपरिक भोजन – Local Food In Auli In Hindi

औली का प्रमुख पारंपरिक भोजन - Local Food In Auli In Hindi

शहर में भोजन के विकल्प सीमित हैं इसलिए यहां रिसॉर्ट और होटल सबसे सुविधाजनक विकल्प होते हैं। यहां पर आपको कुछ जगहों पर गढ़वाली भोजन का स्वाद लेने का मौका मिलेगा। गढ़वाली व्यंजनों में कई प्रकार की दालें, पत्तेदार सब्जियाँ और चावल शामिल हैं। स्थानीय व्यंजनों में कचौली (तेल और मसाले के साथ भरवां बकरी), बाल मिठाई (एक लोकप्रिय स्थानीय मिठाई), सिंघोरी (मालू के पत्ते में लिपटी एक शंकु के आकार की मिठाई) शामिल हैं। चाय, कॉफी और इंस्टेंट नूडल्स सर्व करने वाले छोटे-छोटे कैफे सड़क किनारे बने हुए हैं।

3. औली जाने के लिए सबसे अच्छा समय क्या है – Best Time To Visit Auli In Hindi

औली एक ऐसी जगह है जहाँ गर्मियों और सर्दियाँ दोनों में जाया जा सकता है। औली की यात्रा की योजना बनाने का सबसे अच्छा समय अप्रैल से जून या अक्टूबर से फरवरी के बीच है। यदि आप विशेष रूप से स्कीइंग के लिए जा रहे हैं, तो जनवरी-मार्च जाने का समय है – जब पूरे शहर में स्कीइंग उत्सव और चैंपियनशिप होती हैं। हालाँकि, औली पूरे साल बर्फ में ढका रहता है और इसलिए वर्ष के किसी भी समय स्कीइंग का आनंद लिया जा सकता है।

और पढ़े: उत्तराखंड के प्रसिद्ध हिल स्टेशन लैंसडाउन यात्रा की पूरी जानकारी

4. कैसे पहुंचें औली – How To Reach Auli In Hindi

औली पहुंचने का सबसे अच्छा तरीका है कि दिल्ली से ऋषिकेश के लिए बस ली जाए। यह रातभर की यात्रा है। ऋषिकेश से, आप या तो औली (9 घंटे) के लिए एक निजी टैक्सी ले सकते हैं या जोशीमठ (8 घंटे) तक एक साझा टैक्सी ले सकते हैं। एक और मजेदार तरीका यह होगा कि जोशीमठ तक एक साझा टैक्सी ले ली जाए और वहां से जोशीमठ से औली तक भारत में दूसरी सबसे लंबी केबल कार की सुविधा लें। यह केबल कार 16 किलोमीटर लंबी है, 22 मिनट का समय लेती है। याद रखें कि कैब / बस ऑपरेटर ऋषिकेश और जोशीमठ के बीच सड़कों पर सूर्यास्त के बाद ड्राइव नहीं करते हैं, हालांकि वह आपको डेस्टीनेशन तक पहुंचाने का वादा करते हैं लेकिन यह जोखिम भरा है।

4.1 बद्रीनाथ से कैसे पहुंचें औली – How To Reach Auli From Badrinath In Hindi

बद्रीनाथ से कैसे पहुंचें औली - How To Reach Auli From Badrinath In Hindi

कई टैक्सी यात्रियों को बद्रीनाथ से औली ले जाती हैं। देहरादून में जॉली ग्रांट हवाई अड्डा निकटतम हवाई अड्डा है। आप जोशीमठ से औली तक 16 किमी तक ड्राइव करके भी जा सकते हैं।

4.2 फ्लाइट से कैसे पहुंचें औली – How To Reach Auli By Flight In Hindi

फ्लाइट से कैसे पहुंचें औली - How To Reach Auli By Flight In Hindi

औली का निकटतम हवाई अड्डा देहरादून का जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है। देहरादून से, टैक्सी से यात्रा करना या औली के लिए बस पकड़ना सबसे सुविधाजनक है। बस आपको जोशीमठ तक ले जाती है, जोशीमठ से आपको रोपवे या सड़क मार्ग से औली पहुंचना होगा। रोपवे द्वारा यात्रा करना समय की बचत और अधिक रोमांचक है।

4.3 सड़क मार्ग से कैसे पहुंचें औली – How To Reach Auli By Road In Hindi

सड़क मार्ग से कैसे पहुंचें औली - How To Reach Auli By Road In Hindi

औली पहुँचने के लिए आपको जोशीमठ से बस या टैक्सी पकड़नी होगी। जोशीमठ उत्तराखंड के प्रमुख शहरों जैसे देहरादून, ऋषिकेश और हरिद्वार से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। दिल्ली से जोशीमठ के लिए बसें भी उपलब्ध हैं। जोशीमठ से, औली 10 किमी की दूरी पर स्थित है और आप रोपवे या सड़क मार्ग से यहां जा सकते हैं।

4.4 ट्रेन से कैसे पहुंचें औली – How To Reach Auli By Train In Hindi

ट्रेन से कैसे पहुंचें औली - How To Reach Auli By Train In Hindi

औली का निकटतम रेलवे स्टेशन हरिद्वार रेलवे स्टेशन है जो औली से 273 किमी दूर स्थित है। देहरादून और ऋषिकेश रेलवे स्टेशनों को औली का निकटतम रेलवे प्रमुख भी माना जाता है। हरिद्वार से, आप औली के लिए एक बस पकड़ सकते हैं या आप जोशीमठ के लिए एक टैक्सी किराए पर ले सकते हैं, जहाँ से आपको केबल कार या बस से औली जाना पड़ेगा।

4.5 औली में स्थानीय परिवहन – Local Transport In Auli In Hindi

औली में स्थानीय परिवहन - Local Transport In Auli In Hindi

केबल कारें औली में परिवहन के सबसे लोकप्रिय साधनों में से एक हैं। बसें भी उपलब्ध हैं, लेकिन अनियमित रूप से। औली के आसपास घूमने के लिए आप दूसरे शहरों से भी कैब बुक कर सकते हैं।

6. क्या औली में एटीएम फैसिलिटी उपलब्ध है – Is There ATM Facility Available In Auli In Hindi

क्या औली में एटीएम फैसिलिटी उपलब्ध है - Is There ATM Facility Available In Auli In Hindi

औली में एटीएम फैसिलिटी आसानी से उपलब्ध नहीं है। अगर एक या दो हैं भी तो ज्यादातर आउट ऑफ ऑर्डर रहते हैं। एटीएम के लिए आपको जोशीमठ तक जाना होगा जो औली से 16 किमी की दूरी पर है।

7. औली में स्कीइंग गीयर कहां उपलब्ध है  From Where I Get The Skiing Gear In Auli In Hindi

औली में स्कीइंग गीयर हर जगह मिल जाते हैं। यहां कई ऐसे लोकल वेंडर्स हैं, जो रेंटल बेसिस पर स्कींग गीयर उपलब्ध कराते हैं।

और पढ़े: कौसानी के 5 प्रमुख दर्शनीय स्थल

8. औली की लोकेशन का मैप – Auli Location

9. औली की फोटो गैलरी – Auli Images

और पढ़े:

Write A Comment