दिल्ली के जंतर मंतर की पूरी जानकारी – Jantar Mantar Delhi In Hindi

Jantar Mantar Delhi In Hindi, जंतर मंतर भारत की राजधानी दिल्ली के दक्षिण में कनॉट सर्कल पार्लियामेंट स्ट्रीट में स्थित एक विशाल वेधशाला है जिसका निर्माण समय और स्थान के अध्ययन में मदद और सुधार के लिए किया गया है। बता दें कि दिल्ली के जंतर मंतर का निर्माण महाराजा जय सिंह द्वारा वर्ष 1724 में किया गया था और यह जयपुर, उज्जैन, वाराणसी और मथुरा में स्थित पांच ऐसी वेधशालाओं के ग्रुप का एक हिस्सा है। जंतर मंतर के पास पूर्व में भैरव का एक छोटा सा मंदिर है जिसका निर्माण भी महाराजा जय सिंह द्वितीय द्वारा करवाया गया है। अगर आप दिल्ली के जंतर मंतर के बारे और जानना चाहते हैं तो इस लेख को अवश्य पढ़ें, जिसमे हम आपको जंतर मंतर दिल्ली के बारे में पूरी जानकारी देने जा रहें हैं। –

जंतर मंतर कैसे काम करता है – How Does Jantar Mantar Work In Hindi

जंतर मंतर कैसे काम करता है

दिल्ली के जंतर मंतर में 13 आर्किटेक्चरल एस्ट्रोनॉमी उपकरण हैं, जिनका उपयोग खगोलीय तालिकाओं को संकलित करने और सूर्य, चंद्रमा और ग्रहों की गति और समय की भविष्यवाणी के लिए किया गया है। इस उपकरण के निर्माण और प्लेसमेंट ने पर्यवेक्षक को अकेले नग्न आंखों के साथ स्वर्गीय निकायों की स्थिति को नोट करने की अनुमति दी। बता दें कि जयपुर के महाराजा जय सिंह द्वितीय को खगोलीय टिप्पणियों और सभी प्रणालियों का अध्यन करने के बड़ी गहरी रूचि थी। इसलिए उन्होंने मुहम्मद शाह के निर्देश पर इस वेधशाला का निर्माण किया। जंतर मंतर का निर्माण ईंट, मलबे किया गया और फिर इसके ऊपर चूने से प्लास्टर किया गया है। बाद में इन उपकरणों को समय-समय पर बिना किसकी बड़े बदलाव के बहाल किया गया है।

दिल्ली के जंतर मंतर का सिस्टम मिस्र के टॉलेमिक खगोल विज्ञान से संबंधित है, जो आकाश के निकायों की स्थितियों को ट्रैक करने के लिए तीन शास्त्रीय खगोलीय निर्देशांक का अनुसरण करता है। यहां पर चार उपकरणों का निर्माण किया गया है जिनके नाम सम्राट यंत्र, जय प्रकाश, राम यंत्र और मिश्रा यंत्र हैं।

और पढ़े: दिल्ली में घूमने वाली सबसे अच्छी जगहें 

नई दिल्ली के जंतर मंतर का इतिहास – Jantar Mantar Delhi History In Hindi

राजा सवाई जय सिंह एक कुशल विद्वान थे। सम्राट मुहम्मद शाह ने उन्हें आकाशीय पिंडों की गति पर उपलब्ध वर्तमान आंकड़ों की पुष्टि करने और उनमे सुधार करने का काम सौंपा था। राजा जय सिंह प्राचीन इस्लामिक ज़िज (Islamic Zij) टेबल को परिष्कृत करना चाहते थे जिससे कि वे दिन के सही समय पता कर सकें। वे सटीक कैलेंडर बना कर व्यक्तिगत और सामाजिक लाभ दोनों के लिए सटीक ज्योतिषीय भविष्यवाणियां करना चाहते थे। उन्होंने इसके लिए वर्ष 1724 में जंतर मंतर का निर्माण किया और दिल्ली में पहली वेधशाला बनाई। इसके बाद उन्होंने जयपुर, उज्जैन, वाराणसी और मथुरा में भी अन्य वेधशालाओं का निर्माण किया गया।

बता दें कि दिल्ली के जंतर मंतर की स्थित 1867 तक काफी खराब हो गई थी। जिसके बाद सरकार की ओर से इसे बहाल करने का काम भी किया गया था। आज यह जंतर मंतर एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल बना चुका है जो पूरे भारत में प्रसिद्ध है।

जंतर मंतर दिल्ली के अंदर की संरचनाएं – Structures Inside Jantar Mantar Delhi In Hindi

जंतर मंतर दिल्ली के अंदर की संरचनाएं

भारत के राज्य दिल्ली में स्थित जंतर मंतर वेधशाला के भीतर विभिन्न यंत्र हैं जिनके नाम सम्राट यंत्र, जयप्रकाश, मिश्रा यंत्र है,

सम्राट यंत्र – Samrat Yantra In Hindi

जंतर मंतर में स्थित सम्राट यंत्र एक विशालकाय त्रिभुज है जो 70 फीट ऊंचा, 114 फीट लंबा और 10 फीट मोटा है। आपको बता दें कि यह यंत्र दिन के सटीक समय को आधा सेकंड की सटीकता के साथ माप सकता है। वैसे तो उस समय पहले से ही धूपघड़ी थी जो समय को माप सकती थी लेकिन सम्राट यंत्र एक क्रांतिकारी यंत्र साबित हुआ, क्योंकि यह बेहद सटीक था। इस यंत्र का उपयोग ग्रहों के घोषित कोण को मापने के लिए भी किया जा सकता था।

जयप्रकाश – Jai Prakash In Hindi

जयप्रकाश यन्त्र जंतर मंतर में स्थित एक खोखले गोले के समान यन्त्र है जिसकी मदद से पर्यवेक्षक विभिन्न चिह्नों के साथ एक स्टार की स्थिति को संरेखित कर सकता है।

मिश्रा यंत्र – Mishra Yantra In Hindi

मिश्रा यंत्र को वर्ष के सबसे छोटे दिन को निर्धारित करने के लिए डिज़ाइन किया गया था। इस यन्त्र की सबसे खास बात यह है कि इसे खुद जय सिंह द्वारा डिजाइन किया गया था। इसके अलावा यहां एक राम यंत्र भी है जो दक्षिण में दो गोलाकार इमारतों का प्रतिनिधित्व करता है।

और पढ़े: उज्जैन की वेधशाला के बारे में पूरी जानकारी 

जंतर मंतर दिल्ली घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Jantar Mantar Delhi In Hindi

जंतर मंतर दिल्ली घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

अगर आप दिल्ली के जंतर मंतर की यात्रा करने की योजना बना रहे हैं और यहां जाने के अच्छे समय के बारे में जानना चाहते हैं तो बता दें कि यहां आप अक्टूबर से मार्च के बीच यात्रा कर सकते हैं। इन महीनों के दौरान दिल्ली का मौसम काफी ठंडा होता है लेकिन नवंबर के अंत से जनवरी तक के कुछ हफ्तों में भारी धुंध हो सकती है। इसलिए इस दौरान आपको दिल्ली कि यात्रा से बचना चाहिए। आप अगर ज्यादा ठण्ड से बचना चाहते हैं तो फरवरी और मार्च के दौरान दिल्ली की यात्रा कर सकते हैं। अप्रैल से जुलाई तक दिल्ली में भीषण गर्मी पड़ती है लेकिन मानसून के मौसम (अगस्त से सितंबर) के दौरान तापमान में थोड़ी गिरावट आती है।

जंतर मंतर दिल्ली के दर्शन के लिए टिप्स – Tips For Visiting Jantar Mantar Delhi In Hindi

  • अगर आप गर्मियों के दौरान दिल्ली के जंतर मंतर की यात्रा करने के लिए जा रहें हैं तो सुबह या शाम के समय इस पर्यटन स्थल पर जाने की कोशिश करें।
  • यात्रा के दौरान अपने आप को हाइड्रेटेड रखने के लिए अपने साथ पानी की बोतल ले जाना न भूलें।

जंतर मंतर, दिल्ली कैसे पहुंचें – How To Reach Jantar Mantar Delhi In Hindi

जंतर मंतर, दिल्ली कैसे पहुंचें

अगर आप दिल्ली के जंतर मंतर की यात्रा करने जा रहे हैं तो बता दें कि यह संसद मार्ग, जनपथ पर स्थित है और इसलिए यहां तक आप आसानी से पहुंच सकते हैं। जंतर मंतर के लिए निकटतम मेट्रो स्टेशन 1 किमी की दूरी पर राजीव चौक, पटेल चौक और जनपथ मेट्रो स्टेशन हैं। आप इन मेट्रो स्टेशनों के बाहर से एक ऑटोरिक्शा या टैक्सी किराए पर लेकर या बस की मदद से जंतर मंतर तक पहुंच सकते हैं।

और पढ़े: जंतर मंतर का इतिहास और घूमने की जानकारी 

इस आर्टिकल में आपने दिल्ली के जंतर मंतर के बारे में जाना है आपको हमारा यह आर्टिकल केसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

जंतर मंतर दिल्ली का नक्शा – Jantar Mantar Delhi Map

जंतर मंतर दिल्ली की फोटो गैलरी – Jantar Mantar Delhi Images

View this post on Instagram

……………

A post shared by David Gowtham (@david.gowtham.528) on

View this post on Instagram

10.09.19

A post shared by Ralph Millicent Ednalino (@archie.techie) on

और पढ़े:

Leave a Comment