Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Dadh Devi Temple Kota In Hindi, कोटा से लगभग 20 किलोमीटर दूरी पर स्थित डाढ़ देवी मंदिर कोटा के प्रमुख तीर्थ स्थलों में से एक है। डाढ़ देवी मंदिर का निर्माण 10 वीं शताब्दी में किया गया था। जो कैथून के तंवर राजपूतों ने अपनी कुल देवी के रूप में स्थापित की थी। डाढ़ देवी मंदिर कोटा में प्रमुख आस्था केंद्र बना हुआ है जो पर्यटकों और तीर्थ यात्रियों के घूमने लिए कोटा का एक लोकप्रिय स्थल माना जाता है।

Table of Contents

दाढ़ देवी मंदिर कोटा का इतिहास – Dadh Devi Temple Kota History In Hindi

दाढ़ देवी मंदिर कोटा का इतिहास – Dadh Devi Temple Kota History In Hindi

Image Credit : Anant Mishra

डाढ़ देवी मंदिर का इतिहास लगभग 10 वीं शताब्दी पुराना माना जाता है। माना जाता है की एक समय कोटा के महाराजा उम्मेद शिंगा हाड़ा ने मुख्य मंदिर के पास एक और मंदिर का निर्माण किया और वह माता की इस मूर्ति को नए मंदिर में शिफ्ट करना चाहते थे, लेकिन उनके तमाम प्रयासों के बावजूद मूर्ति को अपनी जगह से हिलाया नही जा सका।

कोटा के डाढ़ देवी मंदिर की वास्तुकला – Dadh Devi Temple Architecture In Hindi

कोटा के डाढ़ देवी मंदिर की वास्तुकला – Dadh Devi Temple Architecture In Hindi

Image Credit : Yash Kumar Das

डाढ़ देवी का मंदिर एक वर्गाकार मंच पर आधारित है जिसमें छत को सहारा देने वाले 12 खंभे लगे हुए हैं। प्रत्येक स्तंभ शेर और फूलों के पैटर्न की नक्काशी से सुशोभित है। मंदिर का गुंबद गोल आकार का है जिसके शीर्ष पर कमल का फूल है। और मंदिर के सामने एक पवित्र जल कुंड जो आंतरिक मंदिर के नीचे से आने वाले पानी से भरा है। चौकोर आकार के अभयारण्य सनातनम में शेर पर बैठा दस-सशस्त्र और तीन आंखों वाली देवी की पत्थर की मूर्ति है, प्रत्येक हाथ में एक हथियार है। मंदिर परिसर में शिव मंदिर, काल भैरव मंदिर, एक हवन कुंड और एक बगीचा भी है।

और पढ़े : राजस्थान के घुश्मेश्वर मंदिर के दर्शन की जानकारी

कोटा के दाढ़ देवी मंदिर खुलने और बंद होने का समय – Dadh Devi Temple Kota Timing In Hindi

कोटा के दाढ़ देवी मंदिर खुलने और बंद होने का समय – Dadh Devi Temple Kota Timing In Hindi

Image Credit : Bharat Kumar

डाढ़ देवी का मंदिर श्रद्धालुओं के लिए प्रतिदिन सुबह 6.00 बजे से शाम 8.00 बजे तक खुला रहता है। और आपको बता दे मंदिर की सुखद यात्रा के लिए 1-2 घंटे का समय अवश्य व्यतीत करें।

डाढ़ देवी मंदिर दाढ़ का प्रवेश शुल्क – Dadh Devi Temple Entry Fees In Hindi

डाढ़ देवी मंदिर में श्रद्धालुओं के प्रवेश और माता के दर्शन के लिए कोई शुल्क नही है।

डाढ़ देवी टेम्पल दाढ़ घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Dadh Devi Temple Kota In Hindi

डाढ़ देवी टेम्पल दाढ़ घूमने जाने का सबसे अच्छा समय - Best Time To Visit Dadh Devi Temple Kota In Hindi

Image Credit : Kuldeep Singh

अगर आप डाढ़ देवी मंदिर कोटा घूमने जाने के बारे में विचार कर रहे हैं तो हम आपको बता दें की वैसे तो आप साल की किसी भी समय डाढ़ देवी मंदिर की यात्रा कर सकते है लेकिन अगर आप डाढ़ देवी मंदिर के साथ -साथ कोटा के अन्य पर्यटक स्थल घूमने का प्लान बना रहे है, तो आपको बता दे कोटा घूमने के लिए सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च तक का समय होता है। सर्दियों का मौसम कोटा  की यात्रा करना एक अनुकूल समय है। क्योकि रेगिस्तानी क्षेत्र होने की वजह से राजस्थान गर्मियों में बेहद गर्म होता है जिसकी वजह से गर्मी के मौसम में कोटा की यात्रा करने से बचना चाहिए।

और पढ़े : कोटा में घूमने लायक दर्शनीय स्थलों की सम्पूर्ण जानकारी

डाढ़ देवी मंदिर के आसपास के प्रमुख पर्यटक स्थल – Best Tourist Places Around Dadh Devi Temple In Hindi

अगर आप राजस्थान के प्रसिद्ध शहर कोटा में डाढ़ देवी मंदिर की यात्रा की योजना बना रहे है तो हम आपकी जानकारी के लिए अवगत करा दें की कोटा में डाढ़ देवी मंदिर के अलावा भी अन्य प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है जिन्हें आप अपनी डाढ़ देवी मंदिर कोटा की यात्रा के दोरान अवश्य घूम सकते हैं

डाढ़ देवी मंदिर कोटा कैसे पहुंचें – How To Reach Dadh Devi Temple Kota In Hindi

अगर आप राजस्थान के प्रसिद्ध शहर कोटा में डाढ़ देवी मंदिर घूमने जाने का प्लान बना रहे, तो आप फ्लाइट, ट्रेन और बस में से किसी का भी अपनी सुविधानुसार चुनाव करके डाढ़ देवी मंदिर कोटा पहुंच सकते हैं।

फ्लाइट से दाढ़ देवी मंदिर कोटा कैसे पहुँचे – How To Reach Dadh Devi Mandir By Flight In Hindiफ्लाइट से दाढ़ देवी मंदिर कोटा कैसे पहुँचे - How To Reach Dadh Devi Mandir By Flight In Hindi

अगर आप फ्लाइट से डाढ़ देवी मंदिर घूमने जाने का प्लान बना रहे है तो हम आपको बता दे कोटा शहर का सबस निकटतम हवाई अड्डा जयपुर का सांगानेर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है जो कि कोटा से लगभग 245 किलोमीटर की दूरी पर है। यह हवाई अड्डा भारत के अन्य बड़े प्रमुख शहरों के साथ हवाई मार्ग से  जुड़ा हुआ है। तो आप भारत के किसी भी प्रमुख शहर से यात्रा करके सांगानेर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा पहुंच सकते है और हवाई अड्डे से बस या टैक्सी बुक करके डाढ़ देवी मंदिर कोटा पहुँच सकते हैं।

ट्रेन से डाढ़ देवी मंदिर कैसे जाये – How To Reach Dadh Devi Temple Kota By Train In Hindiट्रेन से डाढ़ देवी मंदिर कैसे जाये - How To Reach Dadh Devi Temple Kota By Train In Hindi

यदि आपने कोटा जाने के लिए रेल मार्ग का चुनाव किया है तो आपको बता दे कोटा शहर का अपना रेलवे जंक्सन,कोटा रेल्वे जंक्शन है जो डाढ़ देवी मंदिर से लगभग 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। बता कोटा रेल्वे जंक्शन दिल्ली-मुंबई रेल मार्ग पर स्थित हैं, और दिल्ली, कोलकाता,  मुंबई,  पुणे और चेन्नई आने-जाने वाली ट्रेन कोटा स्टेशन पर रुकती हैं। तो आप किसी भी प्रमुख शहर से  ट्रेन के माध्यम से  यात्रा करके कोटा रेलवे स्टेशन पहुंच सकते है और रेलवे स्टेशन से टैक्सी, केब या ऑटो बुक करके डाढ़ देवी मंदिर कोटा पहुंच सकते हैं।

सड़क मार्ग से दाढ़ देवी मंदिर कोटा कैसे जाये – How To Reach Dadh Devi Mandir By Bus In Hindiसड़क मार्ग से दाढ़ देवी मंदिर कोटा कैसे जाये - How To Reach Dadh Devi Mandir By Bus In Hindi

डाढ़ देवी मंदिर कोटा की यात्रा सड़क मार्ग से यात्रा करना काफी आरामदायक साबित हो सकता है क्योंकि यह सिटी अच्छी तरह रोड नेटवर्क द्वारा भारत के कई प्रमुख शहरों जैसे मुंबई, दिल्ली, इंदौर, कोटा और अहमदाबाद से अच्छी तरह से जुड़ा है। बस से यात्रा करने के लिए भी आपके सामने बहुत से विकल्प होते हैं। आप डीलक्स बसें, एसी कोच और राज्य द्वारा संचालित बसों के माध्यम से डाढ़ देवी मंदिर कोटा की यात्रा कर सकते हैं।

और पढ़े : भारत के राज्यों में मनाये जाने वाले प्रमुख त्योहारों की जानकारी

डाढ़ देवी मंदिर कोटा का नक्शा – Dadh Devi Temple Kota Map

डाढ़ देवी मंदिर की फोटो गैलरी – Dadh Devi Temple Images

और पढ़े :

Featured Image Credit : Anant Mishra

Write A Comment