Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Bhimashankar Temple In Hindi, भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग महारास्ट्र के पुणे से लगभग 100 किलोमीटर की दूरी पर और मुंबई से लगभग 223 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक बहुत ही पवित्र तीर्थ स्थान है। भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग सह्याद्री रेंज के घाटी क्षेत्र में भोरगिरी गाँव में स्थित आकर्षित पर्यटन स्थल है। भगवान शंकर के 12 दर्शनीय ज्योतिर्लिंगों में शामिल भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग भी एक तीर्थ स्थल हैं। भीमाशंकर पहाड़ी से घिरा हुआ यह दर्शनीय भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग हरि-भरी वादियों से सुशोभित स्थान है। भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग ट्रेकिंग के लिए एक बहुत ही अच्छी जगह के रूप में जाना जाता है। भीमाशंकर शंकर ज्योतिर्लिंग वन्य जीव अभ्यारण की वजह से पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ हैं और पर्यटक इस मनमोहक दर्शनीय स्थान की ओर खींचे चले आते हैं। भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की ऊंचाई समुद्र तल से लगभग 3250 फीट हैं। बता दें कि यदि आप भी इस परम दर्शनीय स्थान और इसके नजदीकी पर्यटन स्थल के बारे में जानना चाहते हैं तो हमारे इस लेख को पूरा जरूर पढ़े।

1.भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की संरचना – Bhimashankar Temple Architecture In Hindi

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की संरचना

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग में खूबसूरत नगाड़ा शैली की वास्तुकला को देखा जा सकता हैं यह शैली नई और पुरनी दोनों का सह-मिश्रण हैं। भीमाशंकर की संरचना प्राचीन विश्वकर्मा मूर्तिकारों द्वारा की गई उच्च कोटि कलाकृति को दर्शाता हैं। मंदिर के सामने एक खूबसूरत अनोखी घंटी लगी हुई हैं। इस घंटी में जीसस के साथ मदर मैरी की मूर्ति को भी प्रस्तुत किया गया है। पर्यटक दूर-दूर से भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग मंदिर की संरचना देखने के लिए यहां तक का सफ़र तय करते हैं।

और पढ़े: त्र्यंबकेश्वर मंदिर महाराष्ट्र के बारे में जानकारी 

2. भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग मंदिर खुलने और बंद होने का समय – Bhimashankar Jyotirlinga Mandir Timing In Hindi

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग मंदिर खुलने और बंद होने का समय

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग मंदिर में आने वाले पर्यटकों के लिए प्रातः 5 बजे से रात्रि के 9:30 तक खुला रहता हैं। इस समय के दौरान भक्तगण यहां का दौरा कर भगवान भोलेनाथ के दर्शनों के लाभ उठा सकते हैं।

3. भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की कहानी – Bhimashankar Jyotirlinga Story In Hindi

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की कहानी

Image Credit: Harish Iyer

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की उत्त्पति का रहस्य एक पौराणिक कथा के अनुसार भीमा नदी से माना जाता हैं जोकि भगवान शिव और दानव त्रिपुरासुर के युद्ध से उत्पन्न हुई थी। यहां स्थित ज्योतिर्लिंग की वजह से यहां स्थान भारत के प्रमुख पवित्र और दर्शनीय स्थलों में से एक माना जाता हैं।

4. भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग मंदिर के आसपास में घूमने लायक पर्यटन और दर्शनीय स्थल – Places To Visit Near Bhimashankar Temple In Hindi

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की यात्रा के दौरान आप यहां के कई दर्शनीय और प्रमुख पर्यटन स्थल का भी दौरा कर सकते हैं। जोकि भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग के नजदीक स्थित हैं तो आइयें हम आपको इन टूरिस्ट पैलेस की जानकारी एक-एक करके देते हैं।

4.1 भीमाशंकर वन्यजीव अभयारण्य – Bhimashankar Wildlife Sanctuary Information In Hindi

भीमाशंकर वन्यजीव अभयारण्य

भीमाशंकर वन्यजीव अभयारण्य भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की यात्रा के दौरान घूमने लायक एक बेहतरीन स्थान हैं। मूल रूप से यहां पाए जाने वाले स्थानिक प्रजातियों के प्राकृतिक आवास की रक्षा करने के लिए भीमाशंकर वन्यजीव अभयारण्य वर्तमान में पूरे पुणे और महाराष्ट्र राज्य का एक प्रमुख आकर्षण केंद्र बन गया हैं। यह स्थान महामारी से ग्रस्त पशु पक्षियों का निवास स्थान है और यह भीमाशंकर वन्यजीव अभयारण्य निवास के रूप में भी जाना जाता हैं।

4.2 भीमाशंकर में ट्रेकिंग – Trekking In Bhimashankar In Hindi

भीमाशंकर में ट्रेकिंग

भीमाशंकर ट्रेक महाराष्ट्र में सबसे प्रसिद्ध ट्रेक में से एक है और जोकि खेड से लगभग 50 किलोमीटर की दूरी पर हैं। यह ट्रेक प्रसिद्ध भीमाशंकर मंदिर की ओर जाता हैं। यह मंदिर भारत के दक्षिण क्षेत्र में स्थित हैं और घने जंगल से घिरा हुआ रमणीय स्थान हैं। इस ट्रेक पर चलते हुए आप कई प्रकार के पौधो और  जीव-जंतुओं की प्रजाति को देखा सकते हैं। साहसिक गतिविधियाँ करने के लिए भी यह एक उपयुक्त स्थान हैं।

और पढ़े:  सिद्दिविनायक मंदिर दर्शन की जानकारी

4.3 हनुमान झील – Hanuman Lake In Hindi

हनुमान झील

भीमाशंकर में स्थित हनुमान झील तक पहुंचना थोड़ा मुश्किल है हालाकि हनुमान झील भीमाशंकर में स्थित एक शानदार टूरिस्ट डेस्टिनेशन हैं। गिलहरी बोलियों के अलावा भी आपको यहां कई जानवर देखने को मिल जाएंगे। यहां आने वाले पर्यटकों के लिए हनुमान झील एक आदर्श पिकनिक स्पॉट के रूप में जाना जाता हैं।

4.4 अहुपे वॉटरफॉल भीमाशंकर – Ahupe Waterfall In Hindi

अहुपे वॉटरफॉल भीमाशंकर

अहुपे झरना भारत के महाराष्ट्र राज्य में भीमाशंकर में स्थित है। इस वॉटरफॉल के नजदीक एक वन्यजीव अभ्यारण भी हैं और यहां से दिंबे बांध बैकवाटर का एक सुंदर दृश्य भी नजर आता है। यहां झरना खासतौर से युवा कपल के घूमने के लिए अधिक जाना जाता हैं।

4.5 गुप्त भीमाशंकर मंदिर – Gupt Bhimashankar Temple In Hindi

गुप्त भीमाशंकर मंदिर

Image Credit: Chandresh Gupta

गुप्त भीमाशंकर मंदिर यहां के प्रसिद्ध भीमाशंकर मंदिर के पास स्थित है। यह माना जाता है कि यह वही स्थान हैं जहां मूल शिवलिंग की खोज की गई थी और यही खास वजह हैं कि इस स्थान का दौरा भक्तो द्वारा बहुत अधिक संख्या में किया जाता हैं।

और पढ़े: नासिक में घूमने की 10 सबसे खास जगह 

4.6 सह्याद्री वन्यजीव अभयारण्य – Sahyadri Wildlife Sanctuary In Hindi

सह्याद्री वन्यजीव अभयारण्य

भीमाशंकर में घूमने वाली जगहों सह्याद्री वन्यजीव अभयारण्य को भीमाशंकर वन्यजीव अभयारण्य के नाम से भी जाना जाता है। इस अभयारण्य की ऊंचाई 2100 फीट से 3800 फीट तक हैं और 120 वर्ग किलोमीटर तक के क्षेत्र में फैला हुआ है। सह्याद्री वन्यजीव अभयारण्य में भौंकने वाले हिरण, सांभर, तेंदुए, जंगली सूअर, लकड़बग्घा और जंबो आकार की गिलहरी के साथ कई प्रकार के जानवरों को देखा जा सकता हैं।

4.7 शिवनेरी किला पुणे – Shivneri Fort Pune In Hindi

शिवनेरी किला पुणे

शिवनेरी किला भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग यात्रा में देखने के लिए पुणे शहर का एक प्रमुख आकर्षण हैं। बता दें कि यह किला महान मराठा सम्राट शिवाजी का जन्म स्थान था और इसी जगह उन्होंने मराठा राजवंश के निर्विवाद राजा के रूप में अपनी भावी भूमिका के शुरुआती प्रशिक्षण लिया था। शिवनेरी किला 300 मीटर ऊंची एक पहाड़ी पर स्थित है जिसको देखने जाने के लिए आपको सात फाटकों को पार करना पड़ता है। इस किले के फाटकों से इस बात का पता चलता है कि उस समय इस किले की सुरक्षा कितनी अच्छी थी। शिवनेरी किले का सबसे खास आकर्षण अपनी मां जीजाबाई के साथ शिवाजी की एक मूर्ति है।

4.8 आगा खान पैलेस पुणे – Aga Khan Palace In Hindi

आगा खान पैलेस पुणे

पुणे में घूमने की जगह आगा खान पैलेस अपने नाम से बिलकुल अलग है आगा खान पैलेस में महात्मा गांधी, कस्तूरबा गांधी और महादेव भाई देसाई (गांधी के सचिव) को अगस्त 1942 और मई 1944 के बीच जेल में बंधी बनाकर रखा गया था। आगा खान पैलेस को सुल्तान मुहम्मद शाह आगा खान III ने वर्ष 1892 में बनाया था। इस पैलेस को पड़ोस में रहने वालों की मदद के लिए बनाया गया था, लेकिन इसके अकाल के समय बुरे प्रभावों का सामना करना पड़ा था।

और पढ़े:  पुणे में घूमने की 10 सबसे अच्छी जगह 

4.9 पार्वती हिल पुणे – Parvati Hill In Hindi

पार्वती हिल पुणे

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की यात्रा में शामिल पार्वती हिल पुणे शहर का एक बहुत प्रसिद्ध हिल स्टेशन हैं जो प्राचीन मंदिरों का घर है। यहां के चार मंदिर शिव, विष्णु, गणेश और कार्तिकेय को समर्पित हैं, जो 17 वीं शताब्दी के हैं। समुद्र तल से 2100 फीट की ऊंचाई पर स्थित पार्वती हिल चोटी से कई शानदार दृश्य देखने को मिलते हैं। पहाड़ी पर बने हुए पार्वती संग्रहालय में आप कई पुरानी पांडुलिपियों, तलवारों, बंदूकों, सिक्कों और चित्रों के संग्रह को देख सकते हैं। इस संग्रहालय में पेशवा के शासकों के चित्र भी देखे जा सकते हैं।

4.10 राजगढ़ का किला – Rajgad Fort In Hindi

राजगढ़ का किला

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग के पर्यटन में शामिल राजगढ़ का किला पुणे में 4600 फीट की ऊंचाई पर पहाड़ी पर स्थित हैं, जो 25 वर्षों से अधिक समय तक शिवाजी की राजधानी रहा है। इस स्थान पर आप एक शानदार ट्रेकिंग का अनुभव ले सकते है। यह किला बेहद उंचाई पर स्थित है इसलिए ट्रेकिंग करने के बाद आपका यहां रात भर रुकना अच्छा रहेगा।

4.11 द एम्प्रेस गार्डन – The Empress Garden In Hindi

द एम्प्रेस गार्डन

Image Credit: Chinmay Bapat

द एम्प्रेस गार्डन 39 एकड़ भूमि में फैला हुआ गार्डन है जो आश्चर्यजनक रूप अंग्रेजों के शासन और उनकी शक्ति की याद दिलाता है। इस गार्डन का नाम अंग्रेजों ने महारानी विक्टोरिया के नाम रखा था, जब उन्हें ‘भारत की महारानी’ का खिताब दिया गया। यह गार्डन पुणे और भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों में से एक है।

4.12 पेशवा उद्यान चिड़ियाघर पुणे – Peshwa Udyan Zoo In Hindi

पेशवा उद्यान चिड़ियाघर पुणे

पेशवा उद्यान चिड़ियाघर हरियाली से भरपूर पुणे में घूमने की एक ऐसी जगह है जिसे आप अपने पूरे परिवार के साथ घूम सकते हैं। इस चिड़ियाघर में पक्षियों, जानवरों और सरीसृपों की कई किस्में पाई जाती हैं। यह उद्यान सिर्फ वन्यजीवों का घर नहीं है बल्कि इसके परिसर के अंदर बच्चों के खेलने की जगह और मंदिर भी है। पेशवा उद्यान चिड़ियाघर के अंदर 17 वीं शताब्दी में निर्मित एक भगवान गणेश का मंदिर भी है जोजो बेहद ख़ास है। इस प्रकृतिक उद्यान में टॉय ट्रेन एक मुख्य आकर्षण है।

और पढ़े: 12 ज्योतिर्लिंग के नाम और स्थान 

4.13 लाल महल पुणे – Lal Mahal In Hindi

लाल महल पुणे

भामशंकर ज्योतिर्लिंग के पर्यटन में शामिल लाल महल पुणे शहर के बीच स्थित लाल ईंट की ऐसी संरचना है जो आपको अपनी ओर आकर्षित करती है। यह महल पुणे आने वाले पर्यटकों के बीच बेहद लोकप्रिय है। लाल महल का निर्माण 1643 ईस्वी में सम्राट शिवाजी के पिता शाहजी ने अपनी पत्नी और बेटे के लिए करवाया था।

4.14 सिंहगढ़ किला पुणे – Sinhagad Fort In Hindi

सिंहगढ़ किला पुणे

अगर आप समुद्र तल से 4300 फीट ऊपर से पृथ्वी को देखना तो पुणे में स्थित भीमशंकर ज्योतिर्लिंग का यह पर्यटन स्थल आपके लिए बेहद खास होगा। सह्याद्रि पहाड़ियों पर सिंहगढ़ किले की यात्रा करना आपके लिए बेहद यादगार साबित हो सकता हैं। इस किले की यात्रा करने के साथ आप यहां मौजूद हरी-भरी हरियाली सुंदर झरने और अद्भुद शांति का आनंद ले सकते हैं। बता दें कि सिंहगढ़ किले में शिवाजी के छोटे पुत्र राजाराम का निधन हो गया था इसके अलावा भी इस किले में बयान करने को बहुत कुछ है।

4.15 पश्चिमी घाट पुणे – Western Ghats Pune In Hindi

पश्चिमी घाट पुणे

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग पर्यटन में शामिल पुणे के पास स्थित पश्चिमी घाट प्रकृति प्रेमियों को एक सुखद और खास जगह है, जिसे ‘यूनेस्को की विश्व विरासत स्थल’ का दर्जा मिला है। पुणे के आसपास घूमने की जगह पश्चिमी घाट में देखने के लिए पहाड़, घने जंगल, लुभावनी घाटियां, फूलों की विस्तृत श्रृंखला है, जो यहां आने वाले पर्यटकों को बेहद आकर्षित करती है।

और पढ़े: शिरडी पर्यटन और 10 सबसे खास दर्शनीय स्थल 

5. भीमाशंकर मंदिर के पास खाने के लिए स्थानीय भोजन – Famous Local Food Of Bhimashankar Jyotirlinga In Hindi

भीमाशंकर मंदिर के पास खाने के लिए स्थानीय भोजन

महाराष्ट्र एक ऐसा राज्य है जहां का भोजन अपने स्वाद से आपको आश्चर्यचकित कर सकता है। महाराष्ट्र के मसालेदार भोजन में आपको रेगिस्तान स्वाद भी मिलेगा। यहां के प्रसिद्ध भोजन में वड़ा पाव, मिसल, प्याज फ्राई का नाम शामिल है। इसके अलावा यहां पर चावल, दाल, चपाती और सब्जी रोजमर्रा का भोजन है। महाराष्ट्र के भोजन में अनगिनत किस्में मिलती हैं। अगर आप भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की यात्रा पर हैं तो यहां की बंगाली मिठाई का स्वाद लेना न बिल्कुल न भूलें।

6. भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग मंदिर के दर्शन करने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Bhimashankar Jyotirlinga In Hindi

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग मंदिर के दर्शन करने का सबसे अच्छा समय

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की यात्रा का सबसे अच्छा समय नवम्वर से फरवरी माह के बीच का होता है। क्योकि इन महीनो में भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग का दृश्य बहुत ही मनमोहक लगता है और हल्की-हल्की सर्दी की फीलिंग के साथ यात्रा करने का बहुत ही अलौकिक आनंद होता हैं। लेकिन आप वर्ष में किसी भी महीने के दौरान भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की यात्रा पर जा सकते हैं।

7. भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग मंदिर के आसपास कहाँ रुके – Where To Stay Near Bhimashankar Jyotirlinga Temple In Hindi

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग मंदिर के आसपास कहाँ रुके

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग मंदिर के दर्शन करने के साथ-साथ यहाँ के आस पास के दर्शनीय स्थल घूमने के बाद यदि आप यहाँ रुकना चाहते है। तो हम आपको बता दे कि भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग के आसपास लो-बजट से लेकर हाई-बजट के होटल आपको मिल जाएंगे।

  • स्पार्ट रिज़ॉर्ट और चेलेट
  • होटल वुडलैंड्स माथेरान
  • डॉ मोदी का रिज़ॉर्ट
  • रेडिसन ब्लू रिज़ॉर्ट और स्पा कर्जत
  • ग्रीन हिल रिज़ॉर्ट

और पढ़े: पंचगनी के बारे में जानकारी और घूमने की टॉप 10 जगह 

8. भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग कैसे पहुँचे – How To Reach Bhimashankar Jyotirlinga Temple In Hindi

यदि अपने भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग मंदिर घूमने जाने की योजना बनाई है तो हम आपको बता दे की आप फ्लाइट, ट्रेन तथा बस में से किसी भी साधन का चुनाव कर सकते है।

8.1 फ्लाइट से भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग कैसे जाये – How To Reach Bhimashankar Jyotirling Mandir By Flight In Hindi

फ्लाइट से भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग कैसे जाये

यदि अपने भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग जाने के लिए हवाई मार्ग की योजना बनाई है, तो हम आपको बता दे कि भीमशंकर का अपना कोई हवाई अड्डा नही हैं। भीमाशंकर का सबसे निकटतम हवाई अड्डा पुणे हवाई अड्डा है। पुणे से भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की दूरी लगभग 109 किलोमीटर हैं।

8.2 भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग ट्रेन से कैसे पहुँचे – How To Reach Bhimashankar Jyotirling Mandir By Train In Hindi

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग ट्रेन से कैसे पहुँचे

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग मंदिर के दर्शन के लिए यदि आपने रेल मार्ग से जाने की योजना बनाई है, तो हम आपको बता दे की भीमाशंकर में कोई रेलवे स्टेशन नही है। यहाँ का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन कर्जत रेलवे स्टेशन है जो भीमाशंकर से लगभग 168 किलोमीटर की दूरी पर है। आप इस रेलवे स्टेशन से बस या टेक्सी के माध्यम से भीमाशंकर आसानी से पहुँच सकते है।

8.3 भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग कैसे पहुँचे बस से – How To Reach Bhimashankar Jyotirling Mandir By Bus In Hindi

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग कैसे पहुँचे बस से

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग मंदिर के दर्शन करने के लिए यदि आपने बस का चुनाव किया है। तो हम आपको बता दे कि भीमाशंकर सड़क मार्ग से विभिन्न शहरो से जुड़ा हुआ है।

और पढ़े: लोनावला में घूमने की जानकारी और इसके दर्शनीय स्थल 

9. भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग मंदिर का नक्शा – Bhimashankar Temple Map

10. भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की फोटो गैलरी – Bhimashankar Jyotirling Mandir Images

View this post on Instagram

भीमाशंकर मंदिर 1200 वर्षापूर्वीचे असून हे हेमाडपंथी बांधणीचे आहे. मंदिराच्या छतावर आणि खांबावर अतिशय सुंदर नक्षीकाम केलेलं दिसून येते. मंदिर परिसरात शनि मंदिरही आहे. या क्षेत्राचा पुराणातही उल्लेख आढळतो. प्राचीन कथेनुसार, कुंभकर्णाच्या मुलाचे नाव भीम होते. कुंभकर्णाला कर्कटी नावाची एक स्त्री पर्वतावर भेटली होती. तिला पाहून कुंभकर्ण तिच्यावर मोहित झाला आणि कालांतराने त्या दोघांचे लग्न झाले. लग्नानंतर कुंभकर्ण लंकेत निघून गेला, परंतु त्याची पत्नी कर्कटी तेथेच राहिली, काही काळानंतर कर्कटीला भीम नावाचा एक मुलगा झाला. रामायण युद्धात श्रीरामाने कुंभकर्णाचा वध केल्यानंतर कर्कटीने मुलाला देवतांपासून दूर ठेवण्याचा निर्णय घेतला. भीम मोठा झाल्यानंतर त्याला आपल्या वडिलांच्या मृत्यूचे कारण समजे. त्यानंतर त्याने देवतांचा बदला घेण्याचा निश्चय केला. भीमाने ब्रह्मदेवाची कठोर तपश्चर्या करून सर्वांपेक्षा ताकदवान होण्याचे वरदान मागितले. त्या काळी कामरूपेश्वर नावाचा एक राजा महादेवाचा मोठा भक्त होता. एके दिवशी राजाला महादेवाची पूजा करताना पाहून भीमने राजाला महादेवाची नाही तर माझी पूजा कर असे सांगितले. राजाने भीमाच्या आज्ञेचे पालन केले नाही. यामुळे क्रोधीत झालेल्या भीमने राजाला बंदी बनवले. राजाने कारागृहातच शिवलिंग तयार करून त्याची पूजा करण्यास सुरुवात केली. भीमाला हे पाहून खूप राग आला आणि त्याने तलवारीने शिवलिंग तोडण्याचा प्रयत्न केला. असे केल्याने शिवलिंगातुन स्वतः महादेव प्रकट झाले. भगवान शिव आणि भीममध्ये घोर युद्ध झाले. युद्धमध्ये भीमाचा मृत्यू झाला. त्यानंतर देवतांना महादेवाला कायमस्वरूपी येथेच वास्तव्य करण्याची विनंती केली. त्यानंतर शिवलिंग रूपात याच ठिकाणी महादेव स्थापित झाले. या ठिकाणी भीमाशी युद्ध केल्यामुळे या ठिकाणाचे भीमाशंकर असे नाव पडले.

A post shared by ₹ U $ # i (@rushikesh_bholane) on

View this post on Instagram

🙏हर हर महादेव 🙏

A post shared by PaResh PaTil (@durg_nad_paresh_1232) on

और पढ़े:

Write A Comment