तमिलनाडु राज्य के बारे में हिंदी में जानकारी – Tamil Nadu Information In Hindi

Tamil Nadu In Hindi, तमिलनाडु भारत का एक ऐसा राज्य है जो अपनी धार्मिक और सांस्कृतिक विरासत के लिए जाना जाता है। यहां का इतिहास और सुंदरता पर्यटकों को बेहद आकर्षित करती है। तमिलनाडु का वेशभूषा, खानपान, संस्कृति, इतिहास और पर्यटन स्थल इसे बेहद खास बनाते हैं। इस राज्य ने चोलों, चेरों और पल्लवों जैसे कई राजवंशों के उत्थान और पतन को देखा है। यह राज्य प्रत्येक राजवंश ने अपने रीति-रिवाजों और परंपराओं से समृद्ध है। तमिलनाडु में प्रसिद्ध मीनाक्षी मंदिर, कन्याकुमारी या ऊटी के खूबसूरत हिल स्टेशन को देखने के लिए दुनिया भर से पर्यटक आते हैं। यह राज्य उस समय के महान राजवंशों के किलों और महलों के खंडहरों को देखने के लिए एक बहुत अच्छी जगह है।

तमिलनाडु का इतिहास – Tamil Nadu History In Hindi

तमिलनाडु का इतिहास

तमिलनाडु इतिहास प्रागैतिहासिक काल का है। इसको लेकर कहा जाता है कि यह क्षेत्र सिंधु घाटी सभ्यता से पहले बसा हुआ था। कई महान राज्य जैसे पल्लव, चोल और विजयनगर साम्राज्य इस क्षेत्र में बनाए गए थे और गंगा के किनारे के रूप में इसे उत्तर की ओर बढ़ाया गया था। इस दौरान विभिन्न शासकों ने समुद्र के किनारों पर कई राजसी मंदिरों का निर्माण करवाया था जो आज भी बड़ी शान से खड़े हैं और दुनिया भर के लोगों को आकर्षित करते हैं। इसके बाद अंग्रेजों ने इस क्षेत्र को अपने शासन में ले लिया थ।

तत्कालीन शासक नायक राजवंश के साथ कई खूनी लड़ाइयों के बाद ब्रिटिश भारत के तीन सबसे महत्वपूर्ण हिस्सों में से एक मद्रास प्रेसिडेंसी का गठन किया। बता दें कि वर्तमान तमिलनाडु का गठन 1969 किया गया था और इसका नाम मद्रास राज्य से बदलकर तमिलनाडु रख दिया गया था।

और पढ़े: तमिलनाडु के 30 प्रसिद्ध मंदिर की सूची

तमिलनाडु का नृत्य और संगीत – Music And Dance Of Tamil Nadu In Hindi

तमिलनाडु का नृत्य और संगीत

तमिलनाडु की संस्कृति का इतिहास काफी समृद्ध रहा है। यहां के नृत्य और संगीत के आज भी इस पर पड़े विभिन्न कारकों के प्रभाव को दर्शाते हैं। भरतनाट्यम यहां का एक प्राचीन पारंपरिक तमिलियन नृत्य है, जो आज पूरे भारत में लोकप्रिय है। भरतनाट्यम नृत्य भारत के सात शास्त्रीय नृत्यों में से एक के रूप में जाना जाता है। कुचिपुड़ी, आंध्र प्रदेश का नृत्य भी इस राज्य में बहुत लोकप्रिय है। कर्नाटकी संगीत, जिसका हिंदुस्तानी शास्त्रीय के समान आधार है लेकिन इसके लिए विभिन्न उपकरणों का उपयोग किया जाता है। कर्नाटकी संगीत तमिलनाडु में भी काफी विकसित है।

इसके अलावा यहां पर सर्दियों के दौरान नाट्यंजलि और मामल्लपुरम नृत्य उत्सव आयोजित किए जाते हैं, जो अपनी ओर दुनिया भर के लोगों को आकर्षित करते हैं। इसी तरह यहां पर त्यागराज संगीत समारोह कर्नाटकी संगीत की किस्मों के साथ आयोजित किया जाता है जिसमें लोगों की बड़ी भीड़ शामिल होती है।

तमिलनाडु की भाषा, संस्कृति, धर्म – Tamil Nadu Language, Culture, And Religion In Hindi

तमिलनाडु की भाषा, संस्कृति, धर्म

तमिलनाडु भारत में सबसे अधिक शहरी राज्यों में से एक है, लेकिन आज भी इस राज्य के बहुत सारे लोग ग्रामीण हिस्सों में रहते हैं। आपको बता दें कि तमिलनाडु की 80% आबादी हिंदू धर्म का पालन करती है जिसमें विभिन्न जातियां शामिल हैं और यह आज भी यहां एक महत्वपूर्ण मुद्दा है। यहां की बहुसंख्यक आबादी चेन्नई और मदुरै, कोयम्बटूर आदि शहरों में रहती है, जो राज्य की व्यावसायिक सांद्रता है। तमिलनाडु में तमिल बोली जाने वाली आधिकारिक भाषा है।

हालाँकि यहां एक ही भाषा की अलग अलग बोलियाँ हैं और यहां पर 18 से अधिक अन्य भाषाएँ भी यहाँ मौजूद हैं। तमिलनाडु की संस्कृति और परंपरा काफी प्राचीन है जो 2,000 साल पहले विकसित हुई थी और आज भी बरकरार है। तमिलनाडु के लोग अपनी संस्कृति, परंपराओं और रीति-रिवाजों का बहुत अच्छी से पालन करते हैं।

और पढ़े: तमिलनाडु राज्य के प्रमुख त्यौहार 

तमिलनाडु के कला और शिल्प की जानकारी – Arts And Crafts Of Tamil Nadu In Hindi

Arts And Crafts Of Tamil Nadu In Hindi

तमिल शिल्प कौशल की समृद्ध विरासत को मौर्य काल से पहले कई कालखंडों में प्रलेखित किया गया है। तमिलनाडु की सबसे सबसे प्रसिद्ध कला तंजौर पेंटिंग है जो कीमती पत्थरों और मोतियों के साथ चाक और गोंद के मिश्रण का इस्तेमाल करके बनाई जाती थी। इन चित्रों की सबसे खास बात है कि यह थ्री डी इफ़ेक्ट देते हैं। इस राज्य में वुड कार्विंग भी काफी लोकप्रिय है जिसका इस्तेमाल मंदिरों, रोजमर्रा की रसोई की वस्तुओं और खंबे बनाने के लिए किया जाता था। यहां पर चंदन की बहुतायत के कारण कई वस्तुओं को चंदन की सुगंधित लकड़ी से तराशा जाता है। बेल मेटल से मेटल वर्क योर के मंदिर कस्बों की विशेषता थी और यह आज भी प्रमुख हस्तशिल्प उत्पाद है।

तमिलनाडु का प्रसिद्ध पकवान – Famous Food Of Tamil Nadu In Hindi

तमिलनाडु का प्रसिद्ध पकवान

तमिलनाडु के प्रसिद्ध पकवानों की लिस्ट

प्रसिद्ध व्यंजन चेतेनाडु
नाश्ता इडली, डोसा, सांभर, मेदु वाडा, पुरी मसाला
दोपहर का भोजन विभिन्न सब्जियां और चावल
स्नैक्स वाडा, भज्जी, एपम
रात का भोजन या डिनर चावल या डोसा
चावल के प्रकार नींबू चावल, दही चावल, संभार चावल, टमाटर चावल आदि
डोसा के प्रकार सादा डोसा, मसाला डोसा, घी डोसा, प्याज डोसा, पॉडी डोसा, मशरूम डोसा, पनीर डोसा
नॉनवेज व्यंजन चिकन पकोडा, चिकन 65, चेतेनाडु चिकन और अन्य सभी नॉनवेज आइटम

तमिलनाडु का भोजन शाकाहारी और मांसाहारी दोनों तरह के व्यंजनों से भरपूर है। आपको बता दें कि यहां के प्रमुख आहार में चावल, दाल, फलियां जैसे मसाले के साथ करी पत्ते, दालचीनी, लौंग, अदरक, लहसुन इस्तेमाल किया जाता है। यहां के भोजन में नारियल का उपयोग विभिन्न रूपों में किया जाता है।

तमिलनाडु के लोगों का मानना है कि दूसरे जीवों को भी भोजन देना चाहिए, चाहे वो जानवर हो या इंसान, ऐसा करना खुद भगवान की सेवा करने के बराबर है। इसलिए यहां के लोग भोजन के लिए अविश्वसनीय रूप से उदार होते हैं, चाहे वह मंदिर हो, घर हो या फिर रेस्तरां में।

तमिलनाडु में भोजन को केले के पत्ते पर परोसा जाता है, और लोग खाने के लिए फर्श पर बैठते हैं। यहां के विशिष्ट भोजन में चावल, सांभर (करी), दो प्रकार की सब्जियां, दही और एक अचार होता है। डोसा, इडली, उपमा, परोता, सांभर, रसम, पोंगल, ऐसे व्यंजन हैं जिनसे तमिलनाडु के व्यंजनों की पहचान की जाती है। पायसम, केसरी, स्वीट पोंगल यहां के मीठे व्यंजन है।

फ़िल्टर कॉफी दक्षिण-भारतीय व्यंजनों की एक विशेषता है। फिल्टर कॉफी बनाना एक अनुष्ठान की तरह है। इसे बनाने के लिए पहले कॉफी बीन्स को पहले भुना जाता है और फिर पाउडर बनाया जाता है। इसके बाद एक फ़िल्टर सेट का उपयोग करते हैं और पाउडर कॉफी के कुछ स्कूप के साथ उबला हुआ पानी लेते हैं। इसके बाद एक गाड़ा लिक्विड तैयार करते हैं जिसे काढ़ा कहा जाता है। फिर शक्कर के साथ दूध के एक मग में काढ़े की एक छोटी मात्रा के साथ परोसा जाता है।

और पढ़े: तमिलनाडु के पर्यटन स्थल की जानकारी 

तमिलनाडु का नक्शा – Tamil Nadu Map

तमिलनाडु की फोटो गैलरी – Tamil Nadu Images

और पढ़े:

Leave a Comment