सुकेती जीवाश्म पार्क घूमने की जानकारी और प्रमुख पर्यटन स्थल – Suketi Fossil Park Information In Hindi

Suketi Fossil Park In Hindi : सुकेती जीवाश्म पार्क भारत में हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में स्थित एक ऐसा पर्यटन स्थल है जहाँ  कशेरुकी जीवाश्मों और कंकालों का एक संग्रह है। सुकेती जीवाश्म पार्क एशिया का सबसे बड़ा जीवाश्म पार्क है और नाहन से 21 किलोमीटर की दूरी पर मार्कंडा नदी के तट पर स्थित है। यह जीवाश्म पार्क, विलुप्त स्तनधारियों के छह जीवन-आकार वाले फाइबरग्लास मॉडल की प्रदर्शनी के लिए प्रसिद्ध है, जिनके कंकाल और जीवाश्म इस स्थान पर पाए गए थे।

पार्क में रखी गई विभिन्न प्रदर्शनी दुनिया भर से लोगों को वैज्ञानिक रूप से आकर्षित करती है और आम जनता में भी उत्सुकता पैदा करती है। पार्क अनुसंधान के विद्वानों को इस क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय अध्ययन की सुविधा भी प्रदान करता है और इस पार्क में दुनिया भर से लोग आते हैं। सुकेती जीवाश्म पार्क, हिमाचल प्रदेश में मौज-मस्ती और ज्ञान लेने के लिए एक दम बेस्ट जगह है। यदि आप सुकेती जीवाश्म पार्क के बारे में अन्य जानकारी चाहते हैं तो इस लेख को जरुर पढ़ें जिसमे हम आपको सुकेती जीवाश्म पार्क, इसमें पाए जाने वाले मॉडल्स, संग्रहालय और इसके पास के पर्यटन स्थलों के बारे में जानकारी देने जा रहें हैं।

1. सुकेती जीवाश्म पार्क में देखने के लिए कौन से मॉडल है – Models At Suketi Fossil Park In Hindi

सुकेती जीवाश्म पार्क में देखने के लिए कौन से मॉडल है
Image Credit: Jesse Bali

सुकेती फॉसिल पार्क में सभी आकृति और आकार में मॉडल देखे जा सकते हैं, और इन मॉडल्स को देखना काफी दिलचस्प है। इस पार्क में एक मॉडल एक कृपाण-दाँत बिल्ली का है जिसके पास अपने शिकार को फाड़ने के लिए लंबे ऊपरी कैनाइन दांत है। यह विशेष बिल्ली लगभग एक मिलियन साल पहले विलुप्त हो गई थी। जीवाश्म पार्क में दरियाई घोड़ा का लाइफ-साइज्ड मॉडल है जिसमें एक बड़े मुंह के साथ छह दांत। इस तरह के दरियाई घोड़े लगभग 2.5 मिलियन साल पहले बड़ी संख्या में मौजूद थे, लेकिन दुख की बात है कि आज यह विलुप्त हो चुके हैं।

एक विशालकाय कछुआ का मॉडल भी यहाँ उपस्थित है जो सभी कछुओं में सबसे बड़ा है और आज देखे जाने वाले अन्य कछुओं की तुलना में काफी विशाल है। इसके अलावा जो अन्य मॉडल जीवाश्म पार्क में देखे जा सकते हैं जिनमें विशालकाय हाथी और चार सींग वाले जिराफ शामिल हैं। इन सभी को शुरू में पार्क के अंदर रखा गया था, लेकिन जंगल में आग लगने से इनमें से कई क्षतिग्रस्त हो गए। शेष बचे मॉडल अब संग्रहालय के बाहर देखे जा सकते हैं।

और पढ़े: सिरमौर घूमने की जानकारी और प्रमुख पर्यटन स्थल 

2. सुकेती जीवाश्म पार्क संग्रहालय – Saketi Fossil Park Museum in Hindi

सुकेती जीवाश्म पार्क संग्रहालय
Image Credit: Radhey Shyam Gupta

सुकेती फॉसिल पार्क विभिन्न स्तनधारियों की खोपड़ी और अंगों के विभिन्न प्रकार के कंकालों को प्रदर्शित करता है, जिनमें दरियाई घोड़ा, कछुआ, घड़ियाल और मगरमच्छ की खोपड़ी शामिल हैं। इसके अलावा हाथियों की 22 प्रजातियों के टस्क भी प्रदर्शित किए गए हैं। यहाँ पर कई रॉक, चार्ट्स और चित्र भी देखे जा सकते हैं जो पौधों और जानवरों के साथ-साथ विलुप्त प्रजातियों के जीवन से संबंधित हैं।

3. सुकेती फॉसिल पार्क के खुलने का समय – Saketi Fossil Park Timings In Hindi

सुकेती फॉसिल पार्क के खुलने का समय
Image Credit: Adarsh Pundir

सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक और हर मंगलवार को पार्क बंद रहता है।

4. सुकेती जीवाश्म पार्क घूमने में जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Suketi Fossil Park In Hindi

सुकेती जीवाश्म पार्क घूमने में जाने का सबसे अच्छा समय
Image Credit: Raj Kumar

सुकेती फॉसिल पार्क की यात्रा पूरे वर्ष में किसी भी समय की जा सकती है, लेकिन जनवरी में पार्क का दौरा करना उचित नहीं है क्योंकि इस महीने के दौरान बहुत ठंड पड़ती है।

और पढ़े: डलहौज़ी के सतधारा झरना घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल

5. सुकेती फॉसिल पार्क के आसपास के प्रमुख पर्यटन और आकर्षण स्थल – Tourist Spots Near Suketi Fossil Park In Hindi

अगर आप सुकेती जीवाश्म पार्क घूमने की योजना बना रहें हैं और इसके साथ शहर के अन्य पर्यटन स्थलों की यात्रा भी करना चाहते हैं नीचे दी गई जानकारी को जरुर पढ़ें, जिसमें हमने सुकेती जीवाश्म पार्क के पास के प्रमुख पर्यटन स्थलों के बारे में बताया है।

5.1 चूड़धार – Churdhar In Hindi

चूड़धार

चूड़धार 3,646 मीटर की ऊंचाई पर स्थित एक सुंदर जगह है जो न केवल सिरमौर बल्कि हिमाचल प्रदेश में सबसे सुंदर और पवित्र स्थान है। पौराणिक कथा में ऐसा बताया गया है कि ये वही स्थान है कि जहां से भगवान हनुमान गंभीर रूप से घायल लक्ष्मण के लिए जड़ी-बूटी खोजने के लिए आए थे और बाद में पूरी पहाड़ी को रामायण में ले गए। बता दें कि इस जगह कि सुंदरता जंगलों और वन्यजीवों के कारण बढ़ जाती है जो इसमें निवास करते हैं। यह स्थान कई यात्रियों के लिए प्रसिद्ध ट्रेकिंग स्थल भी है।

5.2 रेणुका जी – Renuka Ji In Hindi

रेणुका जी
Image Credit: Rohit Jaswal

रेणुका जी प्राचीन और साफ रेणुका झील के पास स्थित लोगों के बीच एक लोकप्रिय तीर्थ स्थान है। बता दें कि इस जगह पर एक गेमिंग अभयारण्य और एक वन्यजीव रिजर्व भी है। इस वन्यजीव अभ्यारण्य विभिन्न प्रकार के वनस्पति और जीव पाए जाते हैं। रेणुका जी के पास कार्तिका एकादशी एक त्यौहार का आयोजन किया जाता है जिसमें आपको जरुर शामिल होना चाहिए।

और पढ़े: रेणुका झील के टॉप पर्यटन स्थल और उनकी जानकारी 

5.3 हबन घाटी – Habban Valley In Hindi

हबन घाटी

हबन घाटी सिरमौर के पास स्थित एक घाटी है जो अपने बहुत सारे मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है। इस घाटी के नक्काशीदार मंदिर काफी आकर्षक हैं जो राजपूत शासकों की देखरेख में बनाए गए थे। हबन घाटी अपना एक समृद्ध इतिहास और संस्कृति है। अगर आप इस घाटी की यात्रा करते हैं तो यहां शिरगुल देवता मंदिर, पालु देवता मंदिर और टोकरो टिब्बा काली मंदिर के दर्शन के लिए जा सकते हैं।

5.4 हरिपुर धार – Haripur Dhar In Hindi

हरिपुर धार
Image Credit: Jasmer Rana

हरिपुर धार ट्रैकिंग के लिए एक लोकप्रिय पहाड़ी है जो 2687 मीटर की ऊंचाई पर है। यहां पहाड़ी पर एक प्राचीन और अद्भुत मंदिर मां भंगायनी को समर्पित मंदिर स्थित है जिसको माँ भंगायनी मंदिर कहा जाता है। इस मंदिर में भारी संख्या में प्रार्थना करने और आशीर्वाद लेने भक्त आते हैं। इस पहाड़ी पर एक किला स्थित है जो इस जगह के इतिहास में एक झलक देता है। हरिपुर धार सिरमौर का के प्रमुख पर्यटन स्थल है जो यह स्थान ट्रेकर्स और प्रकृति प्रेमियों के लिए एक स्वर्ग के सामान है।

5.5 भूरेश्वर महादेव – Bhureshwar Mahadev In Hindi

भूरेश्वर महादेव
Image Credit: Ashwani Kumar

भूरेश्वर महादेव एक प्रमुख और पवित्र स्थान है। स्थान के बारे में कहा जाता है कि यहां से भगवान शिव और देवी पार्वती ने महाभारत के महाकाव्य में कुरुक्षेत्र के प्रसिद्ध युद्ध को देखा था। इस प्रसिद्ध पौराणिक कथा के चलते इस स्थान पर बहुत सारे तीर्थयात्री और पर्यटक आते हैं। आपको बता दें कि यह जगह हरे-भरे पेड़ों और पहाड़ियों से भरी है। यहां आने के बाद पर्यटकों को एक अदभुद शांति प्राप्त होती है।

और पढ़े: पालमपुर के टॉप पर्यटन स्थल घूमने की जानकारी

5.6 गुरुद्वारा पांवटा साहिब – Gurudwara Paonta Sahib In Hindi

गुरुद्वारा पांवटा साहिब

गुरुद्वारा पांवटा साहिब सिरमौर में एक पवित्र गुरुद्वारा है जहाँ काफी संख्या में पर्यटक आते हैं। आपको बता दें कि यह गुरुद्वारा गुरु गोविंद सिंहजी को समर्पित है जिन्हें सिरमौर के एक शासक राजा मेदिनी प्रकाश ने आमंत्रित किया था। यह गुरुद्वारा सकारात्मकता को महसूस करने और आपकी आत्मा को शुद्ध करने के एक बहुत अच्छा स्थान है।

5.7 रेणुकाजी मिनी चिड़ियाघर – Renukaji Mini Zoo In Hindi

रेणुकाजी मिनी चिड़ियाघर
Image Credit: Daljit Singh Chaudhary

रेणुकाजी मिनी चिड़ियाघर सिरमौर जिले के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है, जिसकी शुरुआत 1957 में जानवरों को बचाने और सुरक्षित आवास प्रदान करने के लिए की गई थी। इस चिड़ियाघर सांभर, चिंकारा, होगदर और काला हिरन जैसे जानवर देखे जा सकते हैं। इस चिड़ियाघर में शेर के एक जोड़े को प्रजनन और प्रजाति को बढाने के लिए यहां लाया गया था। यह चिड़ियाघर प्रकृति की सुंदरता को देखने और इसको महसूस करने के लिए एक बहुत अच्छी जगह है।

5.8 जगन्नाथ मंदिर – Jaganath Temple In Hindi

जगन्नाथ मंदिर
Image Credit: Aayush Sharma

जगन्नाथ मंदिर लगभग चार सदियों पुराना है जिसको यहां के स्थानीय लोगों के बीच बहुत पवित्र माना जाता है। इस मंदिर को और राजा बुद्ध प्रकाश द्वारा बनवाया गया था। हर साल मानसून के मौसम के अंत के रूप में यहां पर ‘सावन द्वादशी’ नाम का त्योहार मनाया जाता है। इस त्योहार को भव्यता के साथ मनाया जाता है जिसमें एक जुलूस शामिल होता है। इस जुलूस में बावन देवी-देवताओं की मूर्तियों को मंदिर से ले जाया जाता है और एक तालाब में तैराया जाता है। बता दें कि इस तालाब को बहुत ही खूबसूरती से सजाया गया है। पर्यटक इस तालाब में बतक को भी देख सकते हैं।

5.9 त्रिलोकपुर मंदिर – Trilokpur Temple In Hindi

त्रिलोकपुर मंदिर
Image Credit: Dinesh Puri

त्रिलोकपुर मंदिर नाहन के पास स्थित देवी महामाया बाला सुंदरी को समर्पित है। इस मंदिर का का निर्माण 1573 में राजा दीप प्रकाश की देखरेख में करवाया गया था। त्रिलोकपुर मंदिर इस क्षेत्र का एक प्रसिद्ध मंदिर है जिसकी वजह से यहां साल भर बड़ी संख्या में तीर्थयात्री आते हैं। इस मंदिर में प्रार्थना करने और देवी आशीर्वाद लेने के बाद लोगों को एक अदभुद शांति प्राप्त होती है। त्रिलोकपुर मंदिर में साल में दो बार मेला लगता है जो बहुत से लोगों को अपनी तरफ आकर्षित करता है।

5.10 धौला कुआँ – Dhaula Kuan In Hindi

धौला कुआँ
Image Credit: Shammi kumar

धौला कुआँ एक खूबसूरत जगह है जहाँ पेड़ और बाग आड़ू और आम जैसे फलों से भरे हुए हैं। अगर आप यहां के ताजा फलों को घर ले जाना चाहते हैं तो डिब्बाबंद फल भी खरीद सकते हैं। इसके अलावा आप आम से बने अचार को भी यहां से खरीद सकते हैं। अगर आप धौला कुआँ की यात्रा करने के लिए जाएं तो अवश्य यहां के स्वस्थ फलों का स्वाद चखें।

और पढ़े: हिमाचल प्रदेश के चंबा के दर्शनीय स्थल और घूमने की जानकारी

6. सुकेती फॉसिल पार्क कैसे पहुंचे – How To Reach Suketi Fossil Park In Hindi

सुकेती फॉसिल पार्क हिमाचल प्रदेश के नाहन से 21 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। पर्यटक सार्वजनिक परिवहन के किसी भी माध्यम पार्क तक पहुँच सकते हैं।

6.1 फ्लाइट से सुकेती फॉसिल पार्क कैसे पहुंचे – How To Reach Saketi Fossil Park By Flight In Hindi

फ्लाइट से सुकेती फॉसिल पार्क कैसे पहुंचे

अगर आप नाहन के लिए हवाई यात्रा करना चाहते हैं तो बता दें कि इसका निकटतम हवाई अड्डा चंडीगढ़ हवाई अड्डा है जो नाहन से लगभग 50 किमी दूर स्थित है। आप देहरादून और शिमला हवाई अड्डे को भी चुन सकते हैं। आप नाहन की यात्रा के लिए इन सभी शहरों से टैक्सी किराए पर ले सकते हैं। अगर आप टैक्सी से यात्रा नहीं करना चाहते तो बता दें कि इस मार्ग पर नियमित रूप से बसें चलती हैं।

6.2 सड़क मार्ग से सुकेती फॉसिल पार्क कैसे पहुँचे – How To Reach Suketi Fossil Park By Road In Hindi

सड़क मार्ग से सुकेती फॉसिल पार्क कैसे पहुँचे

आप सड़क मार्ग से कई रास्तों से नाहन की यात्रा कर सकते हैं। एक मार्ग पर देहरादून से गुजरने वाले मार्ग से पोंटा साहिब, शिमला से सोलन और हरियाणा से काला-अंब के माध्यम से होकर जाता है। हालांकि, दिल्ली से यात्रा करते समय सबसे छोटा रास्ता साहा से होकर जाएगा। सड़क मार्ग से यात्रा करते समय आप नियमित बस सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं जो पड़ोसी शहरों और राज्यों को नाहन से जोडती हैं।

6.3 ट्रेन से सुकेती फॉसिल पार्क कैसे पहुँचे – How To Reach Saketi Fossil Park By Train In Hindi

ट्रेन से सुकेती फॉसिल पार्क कैसे पहुँचे

ट्रेन से यात्रा करने वालों के लिए बता दें कि नाहन के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन कालका, बरारा, चंडीगढ़ और अंबाला हैं। आप यमुनानगर स्टेशन के लिए भी ट्रेन ले सकते हैं। राज्य की नियमित बस सेवा इन स्टेशनों को नाहन से जोड़ती है।

और पढ़े: देहरादून के प्रमुख पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी 

इस आर्टिकल में आपने सुकेती जीवाश्म पार्क घूमने की जानकारी और आसपास के प्रमुख पर्यटन स्थल को जाना है आपको हमारा ये लेख केसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

7. सुकेती फॉसिल पार्क का नक्शा – Suketi Fossil Park Map

8. सुकेती फॉसिल पार्क की फोटो गैलरी – Suketi Fossil Park Images

View this post on Instagram

Shivalik Fossil Park, also known as the Suketi Fossil Park , is a notified National Geo-heritage Monument fossil park in the Sirmaur district in the Indian state of Himachal Pradesh. It has a collection of prehistoric vertebrate fossils and skeletons recovered from the upper and middle shivalik geological formations of sandstones and clay at Suketi. . . . . . Did you know? . . . The Fossil Park in Suketi is the first park in Asia from where fossil can be discovered . . Fossils found here are as old as 8.5 million year old. . . Shivaliks where the park is located are said to have the world's largest number of mammalian fossils that can help palaeontologists understand evolution and prehistoric era. . . . #Nahan #Sirmaur #himachalvalley #himachalpradesh #fossilpark #Suketi #SuketiFossilPark . . . @himalayangeographic @himachal_navigator @himachal_valley @himachalvalley @thesirmourretreat @sirmaur_incredible @imsirmaur @nahansirmaur @himachal_photography123 @himachalpictures @in.himachal @instahimachal

A post shared by Nahan Instagram (@instanahan) on

और पढ़े:

Leave a Comment