रेल म्यूजियम दिल्ली घूमने की पूरी जानकारी – Complete information of Rail Museum Delhi in Hindi

Rail Museum Delhi in Hindi : रेल म्यूजियम 10 एकड़ के विशाल झेत्र में हरे भरे बागानों के बीच में स्थित दिल्ली की सबसे प्रसिद्ध और घूमे जाने वाली जगहों में से एक है जो रेलवे की समृद्ध प्राचीन विरासत को प्रस्तुत करता है।  1 फरवरी, 1977 को स्थापित, रेल संग्रहालय को प्रमुख रूप से भारत की 163 वर्ष पुरानी रेलवे विरासत को संरक्षित करने के उदेश्य से स्थापित किया गया था। जिसमे भारतीय रेलवे की प्राचीन वस्तुएँ, फर्नीचर सहित 100 से भी अधिक वस्तुयों को देखा जा सकता है। रेल म्यूजियम दिल्ली अपने पर्यटकों के लिए 3 डी वर्चुअल ट्रेन की सवारी, स्टीम लोको सिम्युलेटर, टॉय ट्रेन और एक इनडोर गैलरी की सुविधा भी प्रदान करता है। इनके अलावा म्यूजियम में 200 लोगों के बैठने की क्षमता वाला एक सभागार भी है, जहाँ कभी-कभार कार्यशालाएँ आयोजित की जाती हैं और वृत्तचित्रों का प्रदर्शन किया जाता है।

यदि रेल म्यूजियम घूमने जाने का प्लान बना रहे है या फिर इस म्यूजियम के बारे में अधिक विस्तार से जानना चाहते है तो इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़े –

Table of Contents

रेल म्यूजियम का इतिहास – History of Rail Museum in Hindi

रेल म्यूजियम का इतिहास – History of Rail Museum in Hindi

यदि हम रेल म्यूजियम के इतिहास पर नजर डालें तो मूल रूप से रेल म्यूजियम का इतिहास 1962 से शुरू होता है जब इसे बनाने पर विचार किया जा रहा था। लगभग 10 साल के इतंजार के बाद रेल उत्साही माइकल ग्राहम की सलाह के तहत 1970 में इस विचार ने आकार लिया। भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति, श्री वी.वी. गिरी ने चाणक्यपुरी में भवन की आधारशिला रखी, जिसे रेलवे परिवहन संग्रहालय (आर.टी.एम.) कहा जाता था और इसका उद्देश्य रेलवे के अलावा रोडवेज, वायुमार्ग, जलमार्ग के इतिहास को कवर करना था। 1977 में, इसका उद्घाटन तत्कालीन रेल मंत्री- कमलापति त्रिपाठी ने किया था। जिसे 1995 एक पूर्ण रेलवे संग्रहालय के रूप में स्थापित किया गया जिसके बाद से इसे राष्ट्रीय रेलवे संग्रहालय के रूप में भी जाना जाने लगा।

रेल संग्रहालय में मुख्य प्रदर्शनी – Main Exhibits at Rail Museum in Hindi

रेल संग्रहालय में मुख्य प्रदर्शनी – Main Exhibits at Rail Museum in Hindi
Image Credit : Raj Kamal

यदि आप रेल म्यूजियम की यात्रा पर जाने का विचार कर रहे है और जानना चाहते है की आप यहाँ क्या क्या देख सकते है तो हम आपको बता दे इस म्यूजियम में आप मूल रूप से नीचे पेश किये गये इंजनो और अन्य चीजों को देख सकते है –

फेयरी क्वीन

यह सबसे पुराना काम करने वाला स्टीम लोकोमोटिव है ।

पटियाला स्टेट मोनोरेल

पटियाला स्टेट मोनोरेल मूल रूप से 1907 में निर्मित, सिंगल रेल का एक ट्रैक है जिसे 1927 में पुनर्निर्मित और बहाल किया गयाथा।

फायर इंजन

जॉन मॉरिस एंड संस लिमिटेड द्वारा निर्मित, अभी तक केवल दो मॉरिस-बेलसाइज इंजन मौजूद हैं, जिनमें से एक को यहां प्रदर्शित किया गया है। दूसरे को व्हाइटवेब्स म्यूजियम ऑफ ट्रांसपोर्ट, क्ले हिल, लंदन में संरक्षित किया गया है।

प्रिंस ऑफ वेल्स का सैलून

प्रिंस वेल्स की भारत यात्रा के सम्मान में निर्मित।

होल्कर के महाराजा का सैलून

इंदौर के महाराजा के सम्मान में बनाया गया।

मैसूर के महाराजा का सैलून

मैसूर के महाराजा के सम्मान में बनाया गया।

इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव 4502

भारत की पहली पीढ़ी का 1500V डीसी लोकोमोटिव इंजन। आराम और गति के दौरान उनकी आवाज़ में समानता के कारण इसे स्थानीय रूप से ‘खेकदास’ (केकड़ों) के रूप में जाना जाता था।

एक्टिविटीज एट रेल म्यूजियम – Activities at Rail Museum in Hindi

एक्टिविटीज एट रेल म्यूजियम – Activities at Rail Museum in Hindi
Image Credit : Raj Prajapati

रेल म्यूजियम एक म्यूजियम होने के साथ साथ दिल्ली का फेमस पिकनिक स्पॉट भी हैं जहाँ आप अपने बच्चो के साथ 3 डी वर्चुअल ट्रेन की सवारी, स्टीम लोको सिम्युलेटर, टॉय ट्रेन जैसी एक्टिविटीज को एन्जॉय कर सकते है।

रेल म्यूजियम की टिकट्स

भीम डीजल उत्तेजक राइड की टिकट  

  • 150 रूपये प्रति व्यक्ति

स्टीम लोको सिम्युलेटर

  • 150 रूपये प्रति व्यक्ति

3डी वर्चुअल कोच राइड

  • 100 रूपये प्रति व्यक्ति

टॉय ट्रेन 1:8

  • 100 रूपये प्रति व्यक्ति

जॉय ट्रेन

  • पर्यटकों के लिए : 10 रूपये
  • बच्चो के लिए : 10 रूपये

और पढ़े : भारत के आकर्षक रेलवे स्टेशन जो प्राकृतिक सुन्दरता और मनमोहक वास्तुकला से लबरेज है

रस्टोरेंट एट रेल म्यूजियम – Restaurant at Rail Museum in Hindi

द रेल्स इज द न्यू इनोवेटिव रेस्तरां, रेल संग्रहालय के परिसर के अंदर स्थित है, जहाँ आप एक दिखावटी रेल गाड़ी में फैंसी डिनर कर सकते हैं। छत्रपति शिवाजी टर्मिनस के डिजाइनों से प्रेरित, रेस्तरां में एक समान गुंबद है। भोजन को भाप के इंजन में लाया जाता है और भारत के विभिन्न रेलवे स्टेशनों के नाम पर अलग-अलग टेबल पर बैठे मेहमानों को परोसा जाता है। यदि आप रेल म्यूजियम  घूमने आने वाले है तो अपनी इस ट्रिप को और स्पेशल बनाने के लिए इस रेस्टोरेंट में लंच या डिनर जरूर करें।

रेल म्यूजियम की टाइमिंग – Timings of Rail Museum in Hindi

बता दे रेल म्यूजियम दिल्ली सप्ताह के प्रत्येक सोमबार कोछोड़कर प्रतिदिन सुबह 10.00 बजे से शाम 5.00 बजे तक खुला रहता है इस दौरान आप कभी अपने बच्चो या फैमली के साथ घूमने यहाँ आ सकते है।

रेल म्यूजियम की एंट्री फीस – Entry Fee of Rail Museum in Hindi

  • व्यस्क पर्यटकों के लिए : 50 रूपये प्रति व्यक्ति
  • 3-12 साल के बच्चो के लिए : 10

रेल म्यूजियम के आसपास घूमने की जगहें – Places To Visit Near Rail Museum in Hindi

यदि आप अपनी फैमली या फ्रेंड्स के साथ रेल म्यूजियम घूमने आने वाले हैं तो हम आपको बता दे रेल म्यूजियम के आसपास भी घूमने के लिए काफी अच्छी जगहें मौजूद है जहाँ आप अपनी यात्रा के दौरान घूमने जा सकते है। आप जब भी रेल म्यूजियम घूमने आयें यदि टाइम बचे तो रेल म्यूजियम के नजदीक स्थित इन पर्यटक स्थलों की यात्रा जरूर करें –

रेल म्यूजियम दिल्ली घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit Rail Museum Delhi in Hindi

रेल म्यूजियम दिल्ली घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit Rail Museum Delhi in Hindi

वैसे तो साल के किसी भी रेल म्यूजियम घूमने आ सकते है लेकिन यदि आप रेल म्यूजियम के साथ दिल्ली के अन्य पर्यटक स्थल की यात्रा पर भी जाने की सोच रहे हैं तो इसके लिए सर्दियों के महीने सबसे अच्छा समय होता है इस दौरान दिल्ली का मौसम काफी सुखद और तापमान कम होता है जिससे आप आसानी से पूरा दिन दिल्ली घूम सकते है।

और पढ़े : दिल्ली में बच्चों के साथ घूमने की जगहें

रेल म्यूजियम की यात्रा में रुकने के लिए होटल्स – Hotels In Delhi in Hindi

रेल म्यूजियम की यात्रा में रुकने के लिए होटल्स – Hotels In Delhi in Hindi

यदि आप दिल्ली के बाहर से रेल म्यूजियम दिल्ली की यात्रा पर आ रहे हैं और अपनी यात्रा में रुकने के लिए होटल्स सर्च कर रहे है तो बिलकुल निश्चिंत होकर अपनी यात्रा पर जाईयें भारत की राजधानी और प्रमुख पर्यटक स्थल होने के नाते आज दिल्ली के लगभग सभी हिस्सों में सभी बजट की होटल्स उपलब्ध है जिन्हें आप अपनी चॉइस और बजट के अनुसार सिलेक्ट कर सकते है।

रेल म्यूजियम दिल्ली केसे पहुचें – How To Reach Rail Museum Delhi in Hindi

दिल्ली भारत की राजधानी सिटी और सबसे विकसित शहरों में से एक है जिस वजह से दिल्ली फ्लाइट, ट्रेन और सड़क मार्ग द्वारा भारत के सभी शहरों से बहुत अच्छी तरह से कनेक्ट है यहाँ पर्यटन बड़े आसानी से फ्लाइट, ट्रेन या सड़क मार्ग से ट्रेवल करके आ सकता है। खान मार्केट रेल म्यूजियम का निकटतम मेट्रो स्टेशन है जो दिल्ली एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन से लेकर दिल्ली के अन्य हिस्सों से मेट्रो के माध्यम से जुड़ा हुआ है।

फ्लाइट से रेल म्यूजियम केसे पहुचें – How To Reach Rail Museum By Flight in Hindi

फ्लाइट से रेल म्यूजियम केसे पहुचें – How To Reach Rail Museum By Flight in Hindi

दिल्ली शहर के पश्चिम भाग में स्थित इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा रेल म्यूजियम का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा है जो दुनिया के सबसे अच्छे हवाई अड्डों में से एक है। दिल्ली एयरपोर्ट के लिए आप भारत के किसी भी एयरपोर्ट से उड़ान भर सकते है और एयरपोर्ट पहुचने के बाद म्यूजियम के लिए चलने वाली डीटीसी बसें ले सकते हैं। या एक टेक्सी या केब बुक कर सकते है।

ट्रेन से रेल म्यूजियम केसे पहुचें – How To Reach Rail Museum By Train in Hindi

ट्रेन से रेल म्यूजियम केसे पहुचें – How To Reach Rail Museum By Train in Hindi

दिल्ली में चार मुख्य स्टेशन हैं – दिल्ली जंक्शन जिसे “पुराणी दिल्ली” भी कहा जाता है, मध्य दिल्ली में स्थित नई दिल्ली, शहर के दक्षिण भाग में हज़रत निज़ामुद्दीन और पूर्व में आनंद विहार है। दिल्ली जंक्शन और नई दिल्ली रेलवे स्टेशन मेट्रो लाइन 2 से जुड़े हुए हैं, जबकि आनंद विहार मेट्रो लाइन 3 से जुड़ा हुआ है। हज़रत निज़ामुद्दीन दक्षिण की ओर जाने वाली अधिकांश ट्रेनों के लिए प्रस्थान बिंदु है और आनंद विहार पूर्व में चलने वाली अधिकांश सेवाओं को संचालित करता है। आप रेल म्यूजियम जाने के लिए पहले किसी भी स्टेशन के लिए ट्रेन ले सकते है और स्टेशन पर पहुचने के बाद स्टेशनों के बाहर उपलब्ध टैक्सी या मेट्रो की मदद से रेल म्यूजियम पहुच सकते है।

सड़क मार्ग से रेल म्यूजियम केसे पहुचें – How To Reach Rail Museum By Road in Hindi

सड़क मार्ग से रेल म्यूजियम केसे पहुचें – How To Reach Rail Museum By Road in Hindi

सड़क मार्ग से रेल म्यूजियम की यात्रा काफी आसान और आरामदायक है क्योंकि दिल्ली देश के सभी प्रमुख शहरों से सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है। दिल्ली में कई बस टर्मिनल हैं और प्रमुख ऑपरेटर दिल्ली परिवहन निगम (DTC) है। कश्मीरी गेट आईएसबीटी, जिसे “आईएसबीटी” कहा जाता है, सबसे बड़ा टर्मिनल है। बस, टेक्सी या मेट्रो से यात्रा करने के साथ साथ आप अपनी पर्सनल कार से ट्रेवल करके भी रेल म्यूजियम आ सकते है।

और पढ़े : कपल्स के लिए दिल्ली के बेस्ट रोमांटिक प्लेसेस

इस आर्टिकल में आपने रेल म्यूजियम घूमने जाने के बारे में जाना है आपको हमारा यह लेख केसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

रेल म्यूजियम का मेप

और पढ़े :

Leave a Comment