गोपेश्वर महादेव मंदिर वृंदावन के दर्शनं के बारे में पूरी जानकारी – Gopeshwar Mahadev Temple Vrindavan In Hindi

Gopeshwar Mahadev Mandir In Hindi, गोपेश्वर महादेव मंदिर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में वृंदावन नगरी में स्थित हैं और यह मन्दिर यहाँ के सबसे पुराने मंदिरों में से एक हैं। गोपेश्वर महादेव मंदिर वंशी बट और यमुना नदी के तट पर स्थित है जोकि भगवान भोलेनाथ को समर्पित हैं। गोपेश्वर महादेव मंदिर में भगवान भोलेनाथ के शिवलिंग के दर्शन करने के लिए हजारों भक्त वृंदावन आते हैं। वृंदावन आने वाले भक्त भगवान शिव के मंदिर पूजा अर्चना बहुत ही धूम धाम से करते हैं और भगवान शिव के दर्शनों का लाभ उठाते हैं। पवित्र यमुना नदी के जल से शिव लिंग को स्नान कराने की धार्मिक प्रथा आज भी इस पवित्र स्थान पर प्रचलित है। भगवान शंकर के गोपी रूप में प्रसिद्ध इस मंदिर में आज भी शिव को नारी के रूप में सजाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर के परिसर में पीपल का पेड़ स्थित है जो हर मनोकामना को पूरा करता है। इस मंदिर में भगवान शिव की पुरुष और स्त्रियों की शक्ति के संगम को बताया गया हैं। यदि आप वृन्दावन स्थित गोपेश्वर महादेव मंदिर के बारे में अधिक जानकरी पाना चाहते हैं तो हमारे इस लेख को पूरा जरूर पढ़े।

1. वृंदावन के गोपेश्वर महादेव की कथा – Gopeshwar Mahadev Vrindavan Story In Hindi

वृंदावन के गोपेश्वर महादेव की कथा
Image Credit: Suresh Kumar Parashar

गोपेश्वर महादेव मंदिर से जुडी एक पौराणिक कथा के अनुसार शरद पूर्णिमा की पूर्णिमा की रात को भगवान श्री कृष्ण और राधा जी की रासलीला से सम्बंधित हैं। माना जाता हैं कि श्री कृष्ण और देवी राधा यमुना नदी के तट पर रास लीला कर रहे थे। उनकी रासलीला देखने की जिज्ञासा भगवान शिव और माता के मन में जाग्रत होती हैं और दोनों रासलीला देखने के लिए निकल पढ़ते हैं। माता पार्वती को रासलीला देखने की अनुमति मिल जाती हैं लेकिन भगवान शिव को रोक दिया जाता हैं। क्योंकि श्री कृष्ण के अतिरिक्त किसी अन्य पुरुष को रास लीला देखने की अनुमति नही थी। लेकिन भगवान भोलेनाथ ने रास लीला देखने की मन में ठान ली थी और फिर उन्होंने राधा रानी का ध्यान किया।

राधा जी ने प्रसन्न होकर अपनी करीबी सखी ललिता को भोलेनाथ को लाने के लिए भेजा। जिन्होंने भगवान शिव के पास आकर उन्हें सखिभव के रहस्यों को बाताया जिसके उपरांत भोलेनाथ ने पवित्र यमुना में डुबकी लगाई और जब बाहर आए तो स्त्रीभाव से पूर्ण होकर वापिस आए, जिसके बाद ललिता ने उन्हों रास मंडल में प्रवेश कराया। इसके बाद भगवान शिव ने ललिता को सखी रहस्य समझाने की वजह से अपना गुरु माना। श्री कृष्ण ने भोलेनाथ के इस रूप को पहचान लिया और उन्हें गोपेश्वर नाम से संबोधित किया।

और पढ़े: वृंदावन धाम के बारे में पूरी जानकारी 

2. गोपेश्वर मंदिर में शिवलिंग की स्थापना किसने की – Who Founded Shivling In Gopeshwar Temple In Hindi

गोपेश्वर महादेव मंदिर में भगवान शिव के शिवलिंग की स्थापना भगवान श्री कृष्ण के पौत्र व्रजनाभ ने की थी।

3. गोपेश्वर महादेव मंदिर खुलने तथा बंद होने का समय – Gopeshwar Mahadev Mandir Vrindavan Timing In Hindi

गर्मियों के समय गोपेश्वर महादेव मंदिर के खुलने का समय सुबह 5 बजे से 12 बजे तक तथा शाम 4:30 से 9:30 बजे तक का है। शर्दियों के समय गोपेश्वर महादेव मंदिर के खुलने का समय सुबह 5:30 से 12 बजे तक तथा शाम 4:30 से 9 बजे तक का है।

4. गोपेश्वर महादेव मंदिर में आरती का समय – Aarti Timing In Gopeshwar Mahadev Mandir In Hindi

गोपेश्वर महादेव मंदिर में आरती का समय
Image Credit: Krsna Katha

गर्मी के दिनों में गोपेश्वर महादेव मंदिर में आरती का समय सुबह 7:30 और शाम 7:30 का है। हालाकि सर्दियों के मौसम में सुबह 6:30 और शाम 6:30 का बजे आरती की जाती है।

5. गोपेश्वर मंदिर लगने वाला प्रवेश शुल्क – Gopeshwar Mahadev Temple Entry Fee In Hindi

गोपेश्वर महादेव मंदिर किसी तरह का कोई प्रवेश शुल्क नही लगता हैं।

6. श्री गोपेश्वर महादेव मंदिर मथुरा के बारे में कुछ रोचक तथ्य – Interesting Facts About Gopeshwar Mahadev Temple In Hindi

  • गोपेश्वर महादेव मंदिर सुबह 6 बजे से शाम के 10 बजे तक शिवलिंग का विशेष श्रृंगार किया जाता हैं और उन्हें गोपियों के रूप में तैयार किया जाता हैं।
  • रासलीला के वक्त शाम को 5 बजे से 9 बजे के दौरान भगवान शिव की पूजा की जाती हैं।

और पढ़े: वृंदावन और मथुरा की होली क्यों है इतनी खास

7. गोपेश्वर महादेव वृन्दावन के आसपास में घूमने लायक पर्यटन और दर्शनीय स्थल – Best Places To Visit Near Gopeshwar Mahadev Mandir In Hindi

वृन्दावन शहर बहुत ही धार्मिक और सांस्कृतिक शहर है। यह भगवान श्री कृष्ण की पावन भूमि है जो एक तीर्थ स्थान के रूप में भी जाना जाता है। पर्यटन की दृष्टि से भी वृन्दावन बहुत ही सुन्दर शहर है। यमुना नदी के तट पर बसा यह शहर भोलेनाथ के गोपेश्वर मंदिर के लिए भी जाना जाता है। गोपेश्वर महादेव मंदिर के साथ-साथ वृन्दावन के आस-पास कई ऐसे स्थान है जहां घूमकर पर्यटकों को बहुत आनंद मिलेगा।

7.1 बांके बिहारी मंदिर वृंदावन – Banke Bihari Mandir Vrindavan In Hindi

बांके बिहारी मंदिर वृंदावन

बांके बिहारी मंदिर मथुरा जिले के वृन्दावन शहर एक बहुत ही प्रसिद्ध और दर्शनीय स्थल है। इस मंदिर में भगवान श्री कृष्ण के बाल रूप की छवि है जोकि बहुत ही सुन्दर और मनमोहक लगती है। राजस्थानी शैली में बना हुआ यह मंदिर पर्यटकों को बहुत ही आकर्षित करता है। बांके बिहारी मंदिर की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इस मंदिर में कोई भी घंटी या शंख नही बजता है सिर्फ राधा रानी के नाम के मंत्रों से शांतिपूर्ण पूजा होती है। इस मंदिर में भगवान श्री कृष्ण की पूजा तीन भागों में की जाती है। पहले भाग में भगवान का श्रृंगार किया जाता है दूसरे भाग में भगवान का भोग लगाया जाता है और अंतिम भाग में भगवान को सुलाया जाता है। इस अद्भुत मंदिर में हर साल दुनिया भर से भक्त भगवान के बाल रूप के दर्शन करने आते है।

और पढ़े: बांके बिहारी मंदिर का रहस्य और पौराणिक कथा

7.2 प्रेम मंदिर वृंदावन – Prem Mandir Vrindavan In Hindi

प्रेम मंदिर वृंदावन

प्रेम मंदिर उत्तर प्रदेश राज्य के वृन्दावन में स्थित एक दर्शनीय मंदिर हैं। प्रेम मंदिर राधा-कृष्ण और सीता-राम के प्रेम को समर्पित है। प्रेम मंदिर का निर्माण सन 2001 में जगद्गुरु श्री कृपालुजी महाराज जी द्वारा किया गया था। प्रेम मंदिर बहुत ही सुन्दर मंदिर है जोकि सफ़ेद संगमरमर से बना हुआ है। प्रेम मंदिर में भगवान श्री कृष्ण के गोवर्धन पर्वत को उठाते हुए अलौकिक रूप की मूर्ति है। इस मंदिर में राधा-कृष्ण के मधुर भजनों की धुन भक्तों के मन को मोह लेती है।

7.3 राधा रमण मंदिर वृंदावन – Radharaman Temple Vrindavan In Hindi

राधा रमण मंदिर वृंदावन
Image Credit: Shyam S. Kansal

वृन्दावन के प्रमुख हिन्दू धार्मिक मंदिरों में राधा रमण मंदिर बहुत ही आकर्षक है जोकि वृन्दावन रेलवे स्टेशन से लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। राधा रमण मंदिर का निर्माण सन 1542 में किया गया था। राधा रमण श्री कृष्ण का ही एक नाम है। इस खूबसूरत मंदिर में भगवान श्री कृष्ण के शालिग्राम रूप के साथ राधा रानी विराजमान है। इस मंदिर में श्री कृष्ण की मीठी मुस्कान वाली मूर्ति है जो भक्तों को सहज ही अपनी और आकर्षित करती है।

7.4 श्री गोविंद देवजी मंदिर वृंदावन – Shri Govind Dev Ji Temple Vrindavan In Hindi

श्री गोविंद देवजी मंदिर वृंदावन
Image Credit: Shiva Pokh

श्री गोविन्द देवजी मंदिर मथुरा के वृन्दावन का बहुत ही प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर भगवान श्री कृष्ण के बचपन के दिनों की याद दिलाता है। भगवान श्री कृष्ण ने अपने बचपन के कई साल इसी स्थान पर बिताये थे। श्री गोविन्द देवजी मंदिर में भगवान श्री कृष्ण के जन्म के समय की मूर्ति स्थापित है। श्री गोविन्द देवजी मंदिर का निर्माण बहुत ही खूबसूरत लाल बलुआ पत्थरों से हुआ है जोकि इसकी वास्तुशिल्प की छवि को प्रस्तुत करता है। इस शानदार मंदिर में ही भगवान श्री कृष्ण ने बहुत चमत्कार किए थे। पर्यटक श्री कृष्ण की बाल मनुहार लीलाओं के बारे में जानने के लिए इस स्थान पर दर्शन के लिए आते है।

7.5 इस्कॉन मंदिर वृंदावन – Iskcon Vrindavan Temple In Hindi

इस्कॉन मंदिर वृंदावन

वृन्दावन के पावन मंदिरों में एक इस्कॉन मंदिर बहुत लोकप्रिय है जोकि भगवान श्री कृष्ण और उनके भाई बलराम को समर्पित है। कृष्ण और बलराम ने यहाँ साथ में बहुत खेल खेले थे। इस स्वच्छ मंदिर में भगवान कृष्ण के साथ बलराम के बाल रूप की मूर्ति भी स्थापित है। इसके साथ ही भगवान कृष्ण के मित्रों सहित ललिता और  विशाखा नाम की गोपियों की मूर्ति भी स्थापित है। इस मंदिर का निर्माण स्वामी प्रभुपाद जी द्वारा करवाया गया था।

और पढ़े: इस्कॉन मंदिर वृंदावन की जानकारी

7.6 कात्यायनी पीठ वृन्दावन – Katyayani Peeth Vrindavan In Hindi

 कात्यायनी पीठ वृन्दावन
Image Credit: Anjali Singh

वृन्दावन के दर्शनीय स्थलों में से एक माता सती के 51 शक्तिपीठों में कात्यायनी शक्ति पीठ है जोकि उमा शक्ति पीठ के रूप में वृन्दावन में स्थित है। कात्यायनी पीठ में नवरात्री और विजया दसमी का उत्सव मनाया जाता है। धार्मिक और श्रधालुओं के लिए यह एक तीर्थ स्थान के सामान है। इसके साथ ही पर्यटन की दृष्टि से भी यह स्थान बहुत आकर्षक है जहां पास के घाट पर घूमना और यहाँ के स्ट्रीट फ़ूड का आनंद लेने का अनुभव हर पर्यटक को मोहित करता है।

7.8 श्री श्री राधा गोकुलानंद मंदिर वृंदावन – Sri Sri Radha Gokulananda Temple Vrindavan In Hindi

श्री श्री राधा गोकुलानंद मंदिर वृंदावन
Image Credit: Krishna Sharma

लोकनाथ गोस्वामी जी द्वारा बनाया गया श्री श्री राधा गोकुलानंद मंदिर वृन्दावन का एक दर्शनीय मंदिर है। भगवान चैतन्य के अंगूठे को धारण करती हुई राधा गोकुलानंद मंदिर में एक गोवर्धन-शिला है जो भगवान चैतन्य द्वारा रघुनाथ दास गोस्वामी को दी गई थी। इस मंदिर में आने वाले भक्त बहुत ही शांति का अनुभव करते है।

7.9 श्री रंगनाथ मंदिर वृंदावन – Sri Ranganatha Temple Vrindavan In Hindi

श्री रंगनाथ मंदिर वृंदावन

श्री रंगनाथ मंदिर वृन्दावन का एक अन्य दर्शनीय मंदिर हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वृन्दावन में इतने धार्मिक मंदिर हैं कि इस भूमि को मंदिरों की भूमि कहा जाने लगा हैं। श्री रंगनाथ मंदिर भगवान विष्णु और उनकी पत्नी देवी लक्ष्मी जी को समर्पित है। इनके साथ-साथ इस मंदिर में भगवान नरसिंह, वेणुगोपाला और रामानुजाचार्य के साथ-साथ श्री राम, देवी सीता और अनुज लक्ष्मण की मूर्ति भी स्थापित है। बहुत बड़ी संख्या में भक्त यहाँ दर्शन के लिए आते है और भव्य मंदिर के आकर्षक रूप को देख कर मंत्रमुग्ध हो जाते है।

7.10 शाहजी मंदिर वृंदावन – Shahji Temple Vrindavan In Hindi

शाहजी मंदिर वृंदावन

भगवान् श्री कृष्ण का प्रसिद्ध मंदिर शाहजी मंदिर वृन्दावन में स्थित है। इस मंदिर का निर्माण शाह कुंदन लाल जी द्वारा सन 1876 में करवाया गया था। धार्मिक स्थान होने के साथ-साथ यह मंदिर पर्यटक स्थल भी है, जोकि संगमरमर से बना हुआ अद्भुत वास्तुकला का उदहारण प्रस्तुत करता हैं। यह मंदिर अपनी सजावट के कारण आलौकिक सौन्दर्य का प्रतीक है।

और पढ़े: ज्वाला देवी मंदिर कांगड़ा 

8. वृन्दावन में मनाये जाने वाले प्रसिद्ध त्यौहार – Famous Festival Of Vrindavan In Hindi

वृन्दावन में मनाये जाने वाले प्रसिद्ध त्यौहार

वृन्दावन श्री कृष्ण की पावन भूमि है और श्री कृष्ण को संगीत और नृत्य से बहुत प्रेम था। इसलिए वृन्दावन में श्री कृष्ण के द्वारा शुरू की गई रासलीला का आयोजन बहुत धूमधाम से किया जाता है। इसके साथ ही वृन्दावन में होली के उत्सव को बहुत ही आनंद के साथ मनाया जाता है। श्री कृष्ण जन्माष्टमी और राधा जी का जन्म उत्सव भी मथुरा वासियों द्वारा बहुत धूम धाम से मनाया जाता है।

9. गोपेश्वर महादेव मंदिर के दर्शन पर जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Gopeshwar Mahadev Mandir In Hindi

गोपेश्वर महादेव मंदिर के दर्शन पर जाने का सबसे अच्छा समय
Image Credit: Krsna Katha

अगर आपने प्रसिद्ध शिव मंदिर के दर्शन करने की योजना बनाई है तो हम आपको बता दे कि अक्टूबर से मार्च के बीच का समय सबसे अच्छा होता है क्योकि यह मौसम ठंडा होता है। लेकिन भगवान श्री कृष्णा की भूमि पर आप साल में किसी भी वक्त जा सकते हैं। खास कर जन्मष्मी, डोला ग्यारस और होली के दौरान वृन्दावन का नजारा दिल को छू लेने वाला होता हैं।

10. वृन्दावन में कहाँ रुके – Where To Stay In Vrindavan In Hindi

वृन्दावन में कहाँ रुके

गोपेश्वर महादेव मंदिर और वृन्दावन के प्रमुख दर्शनीय स्थलों की यात्रा करने के बाद यदि आप किसी आवास स्थान की तलाश में हैं तो हम आपको बता दें कि वृन्दावन में कई निवास स्थान हैं। यहाँ कुछ स्थान निशुल्क हैं तो कुछ स्थानों पर रुखने के लिए मूल्य चुकाना होता हैं। लो-बजट से लेकर हाई-बजट की रेंज में कुछ होटल भी उपलब्ध हैं।

  • मनभावन अपार्टमेंट्स (Manbhavan Apartments)
  • होटल शगुन रेसीडेंसी (Hotel Shagun Residency)
  • होटल बृंदा पैलेस (Hotel Brinda Palace)
  • श्री वृन्दावन धाम होटल (Shreevrindavandhaam Hotel)
  • होटल कृष्णम (Hotel Krishnam)

11. वृन्दावन में खाने के लिए प्रसिद्ध भोजन – Famous Food Of Vrindavan In Hindi

वृन्दावन में खाने के लिए प्रसिद्ध भोजन

भगवान कृष्ण की पावन भूमि वृन्दावन में केवल शाकाहारी भोजन ही उपलब्ध है। यहाँ के प्रसिद्ध व्यंजनों में आलू-पुरी, पकोड़े, लस्सी के साथ-साथ हिंग की कचौड़ी, कचोरी-सब्जी, चना-भटूरा, छोले-पूड़ी के साथ-साथ पेठे, लड्डू, राबड़ी, जलेबी, खीर, कलाकंद, खुरचन, बालूशाई और कई मिठाई शामिल हैं। श्री कृष्ण पकवानों के बहुत शौकीन थे इसलिए वृन्दावन के पकवान बहुत ही ज्यादा स्वादिष्ट होते है।

और पढ़े: अयोध्या में भगवान श्री राम मंदिर के बारे में रोचक तथ्य और जानकारी 

12. गोपेश्वर महादेव मंदिर वृन्दावन कैसे पंहुचा जाये – How To Reach Gopeshwar Mahadev Mandir Vrindavan In Hindi

यदि आपने गोपेश्वर महादेव मंदिर की यात्रा की योजना बनाई है तो हम आपको बता दे कि गोपेश्वर महादेव मंदिर उत्तर प्रदेश के वृन्दावन में स्थित है। इसलिए आप वृन्दावन जाने के लिए हवाई मार्ग, रेल मार्ग और सड़क मार्ग में से किसी का भी चयन कर सकते है।

12.1 फ्लाइट से वृन्दावन कैसे पहुँचे – How To Reach Vrindavan By Flight In Hindi

फ्लाइट से वृन्दावन कैसे पहुँचे

अगर आपने वृन्दावन जाने के लिए हवाई मार्ग का चुनाव किया है तो हम आपको बता दे कि वृन्दावन का अपना कोई हवाई अड्डा नही है। वृन्दावन के सबसे निकट आगरा हवाई अड्डा है। आप यहाँ से स्थानीय साधन के माध्यम से आसानी से वृन्दावन पहुँच सकते है

12.2 ट्रेन से वृन्दावन कैसे जाये – How To Reach Vrindavan By Train In Hindi

ट्रेन से वृन्दावन कैसे जाये

वृन्दावन जाने के लिए आपने रेलवे मार्ग का चुनाव किया है तो हम आपको बता दे कि वृन्दावन के सबसे निकट मथुरा रेलवे स्टेशन है। जहाँ से आप टैक्सी लेकर आसानी से वृन्दावन पहुँच सकते है।

12.3 कैसे जाये वृन्दावन बस से – How To Reach Vrindavan By Bus In Hindi

कैसे जाये वृन्दावन बस से

वृन्दावन जाने के लिए सबसे अच्छा साधन बस है। क्योंकि सड़क मार्ग के माध्यम से वृन्दावन पूरे भारत से जुड़ा हुआ है। नियमित रूप से आपको किसी भी शहर से वृन्दावन जाने के लिए बस उपलब्ध है।

और पढ़े: चित्रकूट के टॉप 20 आकर्षण स्थल की जानकारी

13. गोपेश्वर मंदिर वृन्दावन का नक्शा – Gopeshwar Mandir Vrindavan Map

14. गोपेश्वर मंदिर की फोटो गैलरी – Gopeshwar Temple Images

View this post on Instagram

Холи в Индии – это ух ? ?? Мы пока стараемся объезжать – убегать – скрываться как можем ? Оборачиваемся полотенцами))) Но все равно попадает ? . Все улицы превратились в сплошные цветные столбы пыли – от земли до стен домов)) . А еще Холи – это если у тебя разблокировка телефона настроена на опознавание лица – то телефон его даже не может узнать ??? Отакота… ? . Ловите фото нашей веселой девчачьей компании!

A post shared by Враджа Виласини▫️Mantra singer (@vraja_vilasini) on

और पढ़े:

Leave a Comment