Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Ram Mandir Ayodhya In Hindi, राम जन्मभूमि भारत के एक प्राचीन शहर अयोध्या में स्थित राम भूमि है जो हिंदुओं के लिए सात सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ स्थलों में से एक है। अयोध्या भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में सरयू नदी के तट पर स्थित है, जिसे बेहद पवित्र माना जाता है। राम जन्मभूमि का अर्थ है वह स्थान जहां पर भगवान श्री राम का जन्म हुआ था, जो जो हिंदू देवता विष्णु के 7 वें अवतार हैं। इस बात का जिक्र रामायण में भी हुआ है कि राम की जन्मभूमि का स्थान अयोध्या शहर में सरयू नदी के तट पर है।

1. राम जन्मभूमि अयोध्या को लेकर विवाद – Ram Janam Bhumi Ayodhya Vivad In Hindi

राम जन्मभूमि अयोध्या को लेकर विवाद

हिंदुओं धर्म के लोगों का यह मानना है कि राम की जन्मभूमि का स्थान वही है जहाँ पर बाबरी मस्जिद को उत्तर प्रदेश में स्थित अयोध्या में बनाया गया था। इस सिद्धांत के अनुसार, मुगलों ने एक हिंदू मंदिर को ध्वस्त कर दिया, जो राम भगवान का था और इसके स्थान पर मस्जिद का निर्माण कर दिया गया था। बहुत से लोगों के इस बात का विरोध भी किया कि अयोध्या में राम जन्म भूमि होने के दावे सिर्फ 18 वीं शताब्दी में ही सामने आये हैं और यह भी कहा गया कि मस्जिद वाली जगह पर राम जन्म भूमि या राम मंदिर होने का कोई सबूत नहीं है। बाबरी मस्जिद के इतिहास और राम जन्म भूमि को लेकर राजनीतिक, ऐतिहासिक और सामाजिक-धार्मिक बहस शुरू हो गई और कहा गया कि मस्जिद का निर्माण करने के लिए मंदिर को नष्ट कर दिया गया है जिसे अयोध्या विवाद के नाम से जाना जाता है। बता दें कि 2003 में पुरातात्विक खुदाई में मस्जिद के मलबे के नीचे एक मंदिर की उपस्थिति का संकेत मिला है, जिसके बाद यह माना जाता है कि बाबरी मस्जिद का निर्माण मंदिर के उपर किया गया था और वो श्री राम का है।

और पढ़े: पुरी की यात्रा के लिए सलाह और घूमने की जानकारी 

2. राम मंदिर अयोध्या का इतिहास और रोचक तथ्य – Ayodhya Ram Mandir History And Interesting Facts In Hindi

राम मंदिर अयोध्या का इतिहास और रोचक तथ्य

  • आपको बता दें कि 1853 मे निर्मोही अखाड़े से संबंधित सशस्त्र हिंदू तपस्वियों के एक समूह ने बाबरी मस्जिद स्थल पर कब्जा कर लिया और इस जगह का स्वामित्व होने का दावा किया। इसके बाद नागरिक प्रशासन 1855 में, मस्जिद परिसर को दो भागों में विभाजित किया, जिसमें से एक हिंदुओं के लिए, और दूसरा मुसलमानों के लिए।
  • 1883 में हिंदुओं ने मंच पर एक मंदिर बनाने का प्रयास शुरू किया। जब प्रशासन ने उन्हें ऐसा करने की अनुमति नहीं दी तो वे इस मामले को कोर्ट में ले गए।
  • 1885 में हिंदू उप न्यायाधीश पंडित हरि किशन सिंह ने मुकदमा खारिज कर दिया। इसके बाद, उच्च न्यायालयों ने भी 1886 में मुकदमे के पक्ष में मुकदमा खारिज कर दिया। दिसंबर 1949 में हिंदू धर्म के लोगों कोमस्जिद में राम और सीता की मूर्ति मिली जिसके बारे में कहा गया कि वे चमत्कारिक रूप से प्रकट हुई है। लेकिन मुस्लिम धर्म के लोगों ने यह दावा किया कि वे मूर्ति कुछ हिन्दुओं द्वारा रखी गई थी।
  • जैसे ही राम और सीता की मूर्ति मंदिर में मिली तो हजारों हिंदू भक्तों ने वहां जाना शुरू किया, इसके बाद सरकार ने मस्जिद को विवादित क्षेत्र घोषित कर दिया और उसके द्वार बंद कर दिए। इसके बाद हिंदुओं द्वारा कई मुकदमे किये गए, जिसमें के कई मुकदमों ने स्थल को पूजा स्थल में बदलने की अनुमति मांगी गई।
  • 1980 के दशक में विश्व हिंदू परिषद (VHP) और अन्य हिंदू राष्ट्रवादी समूहों और राजनीतिक दलों ने स्थल पर राम जन्मभूमि मंदिर बनाने का अभियान चलाया। राजीव गांधी सरकार ने हिंदुओं को पूजा करने के लिए इस जगह का इस्तेमाल करने करने की अनुमति दी।
  • 6 दिसंबर 1992 को हिंदू राष्ट्रवादियों ने मस्जिद को ध्वस्त कर दिया, जिसके बाद कई सांप्रदायिक दंगे हुए, जिनमें 2,000 से अधिक लोग मारे गए।
  • बता दें कि जब 2003 में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने अदालत के आदेशों पर राम के पास जाएगी। 1/3 भूमि इस्लामिक सुन्नी वक्फ बोर्ड और शेष 1/3 एक हिंदू धार्मिक संप्रदाय निर्मोही अखाड़ा को दी जाएगी।
  • जब इस जगह की खुदाई की तो एएसआई की रिपोर्ट में बाबरी मस्जिद के नीचे 10 वीं शताब्दी के मंदिर की उपस्थिति का संकेत मिला। मुस्लिम समूहों और उनका समर्थन करने वाले इतिहासकारों ने इस रिपोर्ट का विरोध किया और इसे राजनीति से प्रेरित बताते हुए खारिज कर दिया। लेकिन इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने एएसआई की इस रिपोर्ट को बरकरार रखा।

और पढ़े: क्या आप जानते हैं भगवान शिव के रहस्य और उनसे जुड़ी गुप्त बाते 

3. राम मंदिर अयोध्या का नक्शा – Ram Mandir Ayodhya Map

4. राम मंदिर अयोध्या की फोटो गैलरी – Ram Mandir Ayodhya Images

और पढ़े:

Write A Comment