Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Best Places To Visit In Puri In Hindi, ओडिशा में स्थित पुरी हिंदुओं के लिए प्रमुख चार-तीर्थ स्थलों में से एक है। जो भारत में चार धाम यात्रा का हिस्सा है। पुरी बंगाल की खाड़ी के समुद्र तट पर स्थित एक पवित्र शहर है। पुरी भगवान शिव के विश्राम स्थल के रूप में जाना जाता है, पुरी का राजसी इतिहास और विरासत तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व की मानी जाती है। पुरी, में जगन्नाथ, कोणार्क और भुवनेश्वर उड़ीसा के स्वर्ण त्रिभुज को पूरा करते है, इस धार्मिक महत्व और सांस्कृतिक विरासत के साथ इस राज्य में अनेक पर्यटन स्थल भी हैं। पुरी में सबसे अधिक देखे जाने वाले मंदिरों में से कुछ जगन्नाथ मंदिर, गुंडिचा घर मंदिर, कोणार्क मंदिर, लोकनाथ मंदिर और अर्धासनी मंदिर हैं। इन सभी मंदिरों की अपनी अलग पहचान है। पुरी संस्कृति, मन और आत्मा का मिश्रण माना जाता है जहां लोग अपनी कला, रीति-रिवाजों और प्रथाओं के साथ रहते हैं।

पुरी में लोग, अपनी संस्कृति को विभिन्न त्योहारों के रूप में मनाते हैं, और इन त्योहारों के बीच, जगन्नाथ मंदिर में रथ यात्रा का बहुत बड़ा महत्व माना जाता है पुरी ओडिशा राज्य के समुद्री तट पर स्थित है, इसलिए यहाँ की पारंपरिक कला के रूप में समुद्री शिल्प भी शामिल हैं। पुरी की संस्कृति अपने इतिहास, वास्तुकला, साहित्य, कला और शिल्प का एक प्रतीकात्मक प्रतिनिधित्व करती है। यह राज्य अपनी वास्तुकला, मंदिरों और प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। पुरी परिवार या दोस्तों के साथ यात्रा करने के लिए अति रमणीय स्थान है, तो यहाँ हम आपको पुरी के प्रमुख पर्यटन स्थलों के बारे में बताने जा रहे है।

1. पुरी पर्यटन में घूमने लायक प्रमुख मंदिर – Puri Paryatan Me Ghumne Layak Pramukh Mandir In Hindi

यदि आप पुरी की यात्रा के लिए जाते हैं तो आपको यहाँ सबसे अधिक मंदिर देखने को मिलेगें आइये जानतें हैं पुरी के प्रमुख मंदिरों के बारे में।

1.1 पुरी के तीर्थ स्थल जगन्नाथ मंदिर – Puri Ke Tirth Sthal Jagannath Temple In Hindi

पूरी के तीर्थ स्थल जगन्नाथ मंदिर

जगन्नाथ मंदिर पुरी के मंदिरों में सबसे लोकप्रिय मंदिरों में से एक है। पुरी का यह मंदिर भारत में हिंदू धर्म में चार धाम के प्रति आस्था रखने वाले लोगों के बीच काफी प्रसिद्ध माना जाता है। उपमहाद्वीप में हिंदू धर्म का पालन करने वाले लोगों के लिए चार धाम तीर्थ यात्रा के लिए जगन्नाथ मंदिर, बद्रीनाथ, द्वारका और रामेश्वरम चार सबसे महत्वपूर्ण केंद्र माने जाते हैं। जगन्नाथ मंदिर, पुरी को ब्रह्मांड के भगवान को श्रद्धांजलि देने के लिए स्थापित किया गया था। मंदिर का नाम दो अलग-अलग शब्दों से लिया गया है। ये ‘जग’ और ‘नाग’ हैं। पहले शब्द जग का अर्थ है ‘ब्रह्मांड और दूसरे शब्द नाग का अर्थ है’ प्रभु ‘।

पुरी में जगन्नाथ मंदिर नीलगिरी पहाड़ियों पर स्थित है। उड़ीसा का यह मंदिर यहां आने वाले श्रधालुओं के लिए मुख्य आकर्षण केंद्र है यह मंदिर भारत देश में स्थापित किए गए सबसे ऊंचे मंदिरों में से एक है। जगन्नाथ मंदिर की मूल संरचना की कुल ऊंचाई लगभग 65 मीटर है। यह 12 वीं शताब्दी में स्थापित माना जाता है।

और पढ़े: जगन्नाथ पुरी मंदिर के आश्चर्यजनक तथ्य और इतिहास के बारे में संपूर्ण जानकारी 

1.2 पुरी टूरिज्म का सबसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थान कोणार्क मंदिर – Puri Tourism Ka Sabse Prasidh Paryatan Sthan Konark Mandir In Hindi

पूरी टूरिज्म का सबसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थान कोणार्क मंदिर

700 साल पुराना कोणार्क का सूर्य मंदिर भारत के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। यूनेस्को ने इसे विश्व धरोहर स्थल घोषित किया है। कोणार्क मंदिर सूर्य देव को समर्पित माना जाता है। कोणार्क मंदिर सूर्य देवता के पौराणिक रथ से मिलता जुलता माना जाता है। कोणार्क का नाम कोणार्क (सूर्य मंदिर के प्रमुख देवता) से लिया गया है और यह ‘कोना’ अर्थ कोने और ‘अर्का’ सूर्य का संयोजन है। सर्दियों के दौरान जब लोग कोणार्क आते हैं, तब कोणार्क नृत्य महोत्सव के कारण मंदिर पूरे भारत के प्रसिद्ध नर्तकियों के घुंघरूओं की ध्वनि से गूंज उठता है।

कोणार्क अपने शांत वातावरण, समुद्र के किनारे और विरासत स्थलों के कारण पुरी का एक प्रमुख स्थल माना जाता है। कोणार्क मंदिर प्राचीन भारतीय वास्तुकला का एक अद्भुत प्रमाण है जहाँ पत्थर की भाषा मनुष्य की भाषा से अच्छा अनुबाद प्रकट करती है। कोर्णाक में नृत्य महोत्सव सबसे लोकप्रिय त्योहार माना जाता है। जो हर साल दिसंबर के महीने में आयोजित होता है, जो दर्शकों को विभिन्न भारतीय शास्त्रीय नृत्य देखने का आनदं देता है। कोणार्क हिंदू देवताओं की छवियों और पत्थर, सींग और लकड़ियों से बनी सजावटी वस्तुओं की उत्कृष्ट नक्काशी के लिए भी प्रसिद्ध है ।

और पढ़े: कोणार्क के सूर्य मंदिर के बारे में संपूर्ण जानकारी

1.3 पुरी के धार्मिक स्थल गुंडिचा घर मंदिर – Puri Ke Dharmik Sthal Gundicha Ghar Temple In Hindi

पूरी के धार्मिक स्थल गुंडिचा घर मंदिर

Image Credit: Dheerendra Kumar Singh

गुंडिचा घर मंदिर, पुरी के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। पुरी के गुंडिचा घर मंदिर की लोकप्रियता को इस बात से अच्छी तरह समझा जा सकता है कि इसकी तुलना अक्सर पुरी के जगन्नाथ मंदिर से की जाती है। प्रचलित मान्यता के अनुसार, पुरी में स्थित गुंडिचा घर मंदिर भगवान श्री कृष्ण की चाची का निवास स्थान माना जाता है, जिन्हें गुंडिचा कहा जाता है।

कहा जाता है इस मंदिर को हिंदू धर्म से जुड़ी पौराणिक आकृति से इसका नाम मिला है। यह भी कहा जाता है कि यह वही मंदिर है जहा भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा का त्योहार मनाने के लिए यहाँ 9 दिन तक रहते थे। ओर इस अवसर पर, बलभद्र, जगन्नाथ और सुभद्रा, जो कि तीन भाई बहन माने जाते है, गुंडिचा उनका स्वागत चावल से बने विशेष व्यंजन ‘पोदापीथा’ खिलाकर करती थी। यह जगन्नाथ रथ यात्रा अभी भी पुरी में बहुत लोकप्रिय बनी हुई है।

1.4 पुरी के दर्शनीय स्थल लोकनाथ मंदिर – Puri Ke Darshaniya Sthal Loknath Temple In Hindi

पूरी के दर्शनीय स्थल लोकनाथ मंदिर

Image Credit: Mahendra Sahu

लोकनाथ मंदिर पुरी शहर में आने वाले पर्यटकों के बीच काफी लोकप्रिय स्थानों में से एक है। पुरी का यह लोकनाथ मंदिर शिव मंदिर के नाम से भी जाना जाता है, जिसे भगवान शिव को श्रद्धांजलि देने के लिए बनाया गया है। प्रचलित मान्यता के अनुसार, उड़ीसा का यह मंदिर 11 वीं शताब्दी या 12 वीं शताब्दी ईस्वी में भगवान राम ने एक कद्दू की मदद से इस लिंग की स्थापना की थी। हिंदू धर्म को मानने वाले लोग अक्सर भगवान लोकनाथ की एक झलक पाने के लिए इस मंदिर में आते हैं। ओर व्यापक रूप से यह भी माना जाता है कि आम लोगो कि स्वास्थ्य से संबंधित सभी प्रकार की समस्या भी यहाँ आने से दूर हो जाती है।

लोकनाथ मंदिर में सरन्ती सांबर मेला बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है। इस मंदिर में भगवान राम से संबंधित कई लोकप्रिय पौराणिक कहानियां भी जुड़ी हुई मानी जाती हैं। जो हिंदू धर्म से जुड़े सबसे लोकप्रिय महाकाव्य में से एक है। यह लोकनाथ मंदिर , जगन्नाथ मंदिर से 1 किलोमीटर कि दुरी पर स्थित है।

1.5 पुरी शहर के प्रसिद्ध मंदिर दरिया हनुमान और सोनार गौरंगा मंदिर – Puri Ke Prasidh Mandir Daria Hanuman And Sonar Gouranga Temple In Hindi

पूरी शहर के प्रसिद्ध मंदिर दरिया हनुमान और सोनार गौरंगा मंदिर

Image Credit: Baldev Das

दारिया हनुमान और सोनार गौरंगा मंदिर पुरी के सबसे प्रसिद्ध मंदिरो में से एक है। पुरी में स्थित दरिया हनुमान और सोनार गौरंगा मंदिर को अक्सर पर्यटकों द्वारा पसंद किये जाने वाले स्थान के रूप में देखा जाता है। हिन्दू धर्म के लोगो के लिए भी यह मंदिर आस्था का केंद्र बना हुआ है। छुटियाँ मनाने आने वाले लोग अक्सर यहाँ आना पसंद करते है।

1.6 पुरी के प्रमुख तीर्थ स्थल अर्धासनी मंदिर – Puri Ke Pramukh Tirth Sthan Ardhasani Temple In Hindi

पूरी के प्रमुख तीर्थ स्थल अर्धासनी मंदिर

Image Credit: Umashankar Behera

उड़ीसा के पुरी में स्थित अर्धासनी मंदिर यहाँ का प्रमुख तीर्थ स्थलों में से एक है। सफेदी रंग में समाया हुआ यह मंदिर संरचना में छोटा मगर एक आकर्षक स्थल है। जो जगन्नाथ मंदिर से 3 किलोमीटर कि दुरी पर स्थित है। पुरी का यह अर्धासनी मंदिर सुभद्रा जी की पौराणिक आकृतियो को प्रकट करता है। स्कंद पुराण के अनुसार कहा जाता है कि सुभद्रा जी ने शहर को बचाने के लिए बाढ़ का आधा पानी पी लिया था। पुरी में अर्धासनी मंदिर में इस पौराणिक चित्र की ही छवि है। उनकी प्रतिमा की नियमित रूप से मंदिर में पूजा की जाती है। पुरी स्थित अर्धासनी मंदिर में जाने का आदर्श समय रथ यात्रा के उत्सव के माना जाता है। आप इस समय रथ यात्रा में शामिल हो सकते है।

2. पुरी पर्यटन में घूमने लायक प्रमुख मठ – Puri Tourism Me Ghumne Ke Liye Famous Monastery In Hindi

पुरी पर्यटन में घूमने लायक प्रमुख मठ

Image Credit: Subhasis Pore

पुरी में कई मठ हैं, जो पुरी आने वाले पर्यटकों के बीच काफी लोकप्रिय हैं। पुरी के प्रत्येक मठ में एक अलग चरित्र है जो हिंदू समुदाय के लोगों के लिए बहुत महत्व रखता है जो धार्मिक चीजों को पसंद करते हैं। आइये जानतें हैं पुरी के प्रमुख मठों के बारे में।

2.1  पूरी के आकर्षण स्थल सुना गोस्वामी मठ – Puri Ke Aakarshan Sthal Suna Goswami Monastery In Hindi

सुना गोस्वामी मठ पुरी शहर के पर्यटकों के लिए सबसे लोकप्रिय आकर्षणों में से एक माना जाता है। भारत के इस स्थान पुरी में कई मठ हैं, जिनमे सुना गोस्वामी मठ इस क्षेत्र के सबसे प्रसिद्ध मठो में से एक है। हिंदु धर्म से जुड़े कई त्योहार पुरी के इस मठ में मनाये जाते है। बनकलगी, चंदन यात्रा, अग्नि उत्सव और स्नान पूर्णिमा इस मठ में मनाये जाने वाले प्रमुख त्यौहार हैं। पुरी के इस मठ में कार्य करने वाले महंत यहाँ के अन्य मठो के लिए भी महंत है जिसे दरापा नारायण मठ कहा जाता है।

स्नाना पूर्णिमा के समय, पुरी में सुना गोस्वामी मठ सीतला कुँए से ‘अदिबास जल’ की व्यवस्था करता है। चंदन यात्रा के अवसर पर, पुरी में सुना गोस्वामी मठ चौसर और अलका जैसे रंगीन फूलों से बने कई प्रकार के सुंदर गहने बनाता है और उन्हें वितरित करता है, जो उस उत्सव को औरअधिक लोकप्रिय बनता है। सुना गोस्वामी मठ अग्नि उत्सव के अवसर पर, मंदिर में पौराणिक डोला गोबिन्दा के लिए एक विशेष प्रकार का भोग बनाने की व्यवस्था करता है जिसे ‘पंत भोग’ कहा जाता है।

2.2  पूरी के देखने लायक जगह बाउली मठ – Puri Mein Dekhne Layak Jagha Bauli Monastery In Hindi

पुरी में बाउली मठ बहुत प्रसिद्ध सिख तीर्थस्थलों में से एक है। यह मठ पुरी के मुख्य केंद्र से केवल 3.5  किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। कहा जाता है जब गुरु नानक देव जगन्नाथ मंदिर गए, तो उन्होंने कुछ समय के लिए इस स्थान पर विश्राम किया था। जिससे पुरी स्थित बाउली मठ में सिख भक्तों द्वारा गुरुद्वारा की तरह व्यवहार किया जाता है। ओर यहाँ गुरु ग्रन्थ साहेब को रखा जाता है और गुरु नानक देव की प्रार्थना की जाती है। अगर आप जगन्नाथ कि यात्रा करते है तो आपको इस शांत जगह पर अवश्य  जाना चाहिय। बाउली मठ के पास रेतीले समुद्र तट भी हैं जो पिकनिक मानाने या टहलने के लिए लोकप्रिय माने जाते है।

और पढ़े: उड़ीसा राज्य के बारे में पूरी जानकारी 

2.3 पूरी में घूमने की अच्छी जगह जगन्नाथ बल्लव मठ – Jagannath Ballav Matha In Hindi

पूरी में घूमने की अच्छी जगह जगन्नाथ बल्लव मठ

Image Credit: Anuschka Sahoo

जगन्नाथ बल्लव मठ पुरी के सबसे लोकप्रिय मठो में से एक माना जाता है। जगन्नाथ बल्लव मठ को रामानंद जी के प्रसिद्ध व्यक्तित्व को श्रद्धांजलि देने के लिए बनाया गया है। रामानंद जी 16 वीं शताब्दी में उड़ीसा राज्य के सबसे प्रसिद्ध संतों में से एक के रूप में प्रसिद्ध थे। मठ के आकर्षण को बढाने के लिए मठ के पीछे एक सुन्दर उद्यान बनया गया है। इस उद्यान के केंद्र में एक हनुमान जी का मंदिर स्थित है, जो पर्यटकों के बीच काफी लोकप्रिय है। माना जाता है मंदिर की स्थापना भगवान हनुमान के उत्साही भक्तों के लिए की गई थी। यहाँ सुभद्रा, जगन्नाथ और बलभद्र की छोटी-छोटी तस्वीरों को बसंत पंचमी जैसे अलग-अलग शुभ अवसरों पर पुरी में जगन्नाथ बल्लव मठ के बगीचों में ले जाया जाता है।

2.4 पूरी पर्यटन में घूमने लायक जगह गोवर्धन मठ – Puri Paryatan Me Ghumne Layak Jagah Govardhan Monastery In Hindi

पूरी पर्यटन में घूमने लायक जगह गोवर्धन मठ

Image Credit: Resham Das

गोवर्धन मठ पुरी के प्रसिद्ध मठों में से एक है उड़ीसा के इस स्थान पर जाने वाले तीर्थयात्रियों के लिए इस मठ का विशेष महत्व माना जाता है। माना जाता है कि इस मठ का निर्माण भगवान शिव के अवतार शंकराचार्य ने लगभग 1000 साल पहले 9 वी शताब्दी में किया था। पुरी को गोवर्धन मठ के कारण चार पवित्र धामों में से एक धाम की मान्यता मिली है। शंकराचार्य ने संन्यासियों के विभिन्न समूहों को एकजुट करने के लिए 4 मठों (चारधाम) गोवर्धन मठ, श्रिंगेरी में श्रृंगेरी मठ, द्वारका में चरद मठ और बद्रीनाथ में ज्योति मठ स्थापित किये थे। जिनमे में से गोवर्धन मठ एक है।

गोवर्धन मठ को आमतौर पर भोगो वर्धन मठ के रूप में भी जाना जाता है। और गोवर्धन मठ के प्रमुख मठ अधिकारियो से सभी धार्मिक मामलो में परामर्श लिया जाता है। अगर आप पुरी की यात्रा पर जा रहे है तो आपको गोवर्धन मठ भी जाना चाहिये।

3.  पुरी टूरिज्म के फेमस टूरिस्ट प्लेस – Puri Tourism Ke Famous Tourist Place In Hindi

अगर आप पूरी की यात्रा पर जा रहें हैं तो आपको यहां मंदिरों और मठों के आलावा भी और बहुत से पर्यटन स्थल मिलेगें जहाँ आप अपने परिवार के साथ घूम सकतें हैं।

3.1 पुरी का प्रसिद्ध आकर्षण स्थल अथरनाला ब्रिज – Puri Ke Tourist Attraction Atharnala Bridge In Hindi

 पूरी का प्रसिद्ध आकर्षण स्थल अथरनाला ब्रिज

Image Credit: Atish Anshuman Mohapatra

अथरनाला ब्रिज पुरी में सबसे प्रसिद्ध स्थानों में से एक माना जाता है। जो पर्यटक पुरी की यात्रा करते हैं, वे आमतौर पर अथरनाला ब्रिज की यात्रा करना भी जरूर चाहते है यह स्थान उन पर्यटन स्थल में से एक है जो इस क्षेत्र के इतिहास की गवाही देता है। पुरी के अथरनाला ब्रिज को 13 वीं शताब्दी में इस जगह की परिवहन प्रणाली को विकसित करने के प्रयास में इस पुल का निर्माण किया गया था। जो लोगो को एक तरफ़ से दूसरी तरफ जाने में मदद करता था।

यह अथरनाला पुल शहर के केंद्र में स्थित है, यहाँ लोग पुल के ऐतिहासिक महत्व के अलावा, यहाँ कि  वास्तु विशेषता को देखने के लिए भी आते हैं। धार्मिक गतिविधियों की ओर झुकाव रखने वाले पर्यटकों के लिए,अथरनाला पुल का विशेष महत्व माना जाता है। पुरी के तीर्थयात्री अक्सर यहाँ प्रार्थना करने आते हैं, क्योंकि इस जगह को सबसे लोकप्रिय स्थलों में से एक माना जाता है जो पुरी में प्रार्थना के लिए प्रसिद्ध हैं।

3.2 पुरी में परिवार के साथ घूमने की खूबसूरत जगह पुरी बीच – Puri Me Parivar Ke Sath Ghumne Ki Khubsurat Jagah Puri Beach In Hindi

पूरी में परिवार के साथ घूमने की खूबसूरत जगह पुरी बीच

पुरी बीच को भारत के सबसे खूबसूरत समुद्र तटों में गिना जाता है। पिकनिक और सैर के लिए हर साल हजारों पर्यटकों के लिए यह एक आदर्श स्थान है, यह जगह हनीमून मनाने वालों के लिए भी पसंदीदा जगहों में से एक मानी जाती है। बंगाल की खाड़ी में स्थित, पुरी के समुद्र तट पर सूर्योदय और सूर्यास्त का शानदार नजारा देखने को मिलता है। यहाँ आ पवित्र डुबकी लगा सकतें है या समुद्र में तैर सकतें है, रेतीले समुद्र तट पर टहल सकतें है, या किसी अन्य गतिविधियो का आनंद उठा सकतें है। ओर समुद्र तट की सुरम्य वादियों का आनंद भी ले सकतें है।

पुरी में समुद्र तट की सैर करने का सबसे अच्छा समय नवंबर के महीने में माना जाता है जब पुरी बीच पर महोत्सव का आयोजन किया जाता है। त्योहार के दौरान, समुद्र तट पर दिन ओर रात में सुन्दर नजारा देखने को मिलता है। आपको इस उत्सव में भाग इसलिए भी लेना चाहिए क्योंकि यह स्थानीय लोगों की जीवन शैली, संस्कृति और कलात्मक कौशल का बोध कराता है। इसके अलावा, आप वहां मुंह में पानी लाने वाले स्थानीय व्यंजनों का आनदं ले सकते हैं। यात्री यहाँ स्थानीय शिल्प कार्यों की खरीदारी भी कर सकते है।

3.3 पुरी में देखने लायक जगह पुरी आश्रम – Puri Me Dekhne Layak Jagah Puri Ashram In Hindi

पूरी में देखने लायक जगह पुरी आश्रम

Image Credit: Susanta Bhattacharya

पुरी आश्रम आध्यात्मिक और धार्मिक मुद्दों पर ज्ञान प्राप्त करने का प्रमुख केंद्र माना जाता है। पुरी में विभिन्न आश्रम हैं जो जगन्नाथ मंदिर के अनुष्ठानों से जुड़े हुए हैं। उनमे  पांडु आश्रम, परसरा आश्रम, अंगिरा आश्रम और मार्कंडेय आश्रम मुख्य हैं। भगवान नृसिंह देवता के श्रावण के उज्ज्वल पखवाड़े के नौवें दिन कि यात्रा पुरी के उपर्युक्त आश्रमों में लायी जाती है। इस यात्रा को बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। पुरी के इन आश्रमों का प्रबंधन, स्थानीय समितियों द्वारा किया जाता है।

पुरी के अधिकांश आश्रम शहर की हलचल, शोर से दूर हैं, जिससे इन स्थानों पर योग के माध्यम से आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करने के विभिन्न तरीकों को सीखना बहुत आसान हो जाता है। आश्रम सुंदर बगीचों से सजे हैं, जो वहां रहने वाले लोगों द्वारा बनाए गये है। आश्रम में संतो ओर उनके छात्रों के अलावा कुत्तों और गायों के लिए भी एक निवास स्थान हैं। वहां रहने वाले लोगों को आश्रम चलाने के लिए खेती करने में भाग लेना पड़ता है। तथा पुरी के अधिकांश आश्रम में अनुशासन बनाए रखने के लिए एक सख्त दिनचर्या का पालन किया जाता हैं। ये नियम और कानून, आश्रम आने वाले यात्रियों पर भी लागू होते हैं।

पुरी में अन्य लोकप्रिय आश्रमों में चक्रतीर्थ के पास प्रणबानंद आश्रम, नरेंद्र टैंक के पास बिजया कृष्ण गोस्वामी आश्रम, स्वर्गद्वार क्षेत्र में भारत सेवा आश्रम, बस स्टैंड के पास भागवत आश्रम, मारीचोटे लेन में अभिराम परमहंस आश्रम, लोकनाथ रोड पर निगमानंद आश्रम, और अद्वैत ब्रह्मश्रम गिरिनारबंता आश्रम भी स्थित हैं।

3.4  पुरी में घूमने लायक जगह स्वर्गद्वार – Puri Me Ghumne Layak Jagah Swargadwar In Hindi

 पूरी में घूमने लायक जगह स्वर्गद्वा

Image Credit: Gopal Moharana

पुरी के लोकप्रिय पर्यटन स्थल की सैर के लिए आने वाले पर्यटकों के आकर्षण लिए स्वर्गद्वार का सबसे महत्वपूर्ण स्थान माना जाता है। पुरी का स्वर्गद्वार न केवल उड़ीसा राज्य में, बल्कि पूरे देश में प्रसिद्ध है। मानवीय धारणा के अनुसार, जो व्यक्ति इस स्थान पर अंतिम सांस लेता है उसे सीधे स्वर्ग में जाने का सौभाग्य प्राप्त होता है। यह भी व्यापक रूप से माना जाता है कि ऐसा व्यक्ति आसानी से पूर्ण मोक्ष प्राप्त करता है। इस लोकप्रिय पौराणिक कहानी से, हिंदू धर्म के प्रति आस्था रखने वाले लोगों के बीच स्वर्ग के विशेष प्रवेश को रूप में जाना जाता है।

स्वर्गद्वार से जुड़ी एक और बहुत प्रसिद्ध पौराणिक कहानी यह भी है कि पवित्र ब्रह्मदेरु इस पुरी के समुद्र तट पर तैरते हुए आया था। जिस क्षेत्र को स्वर्गद्वार कहा जाता है वह वास्तव में एक श्मशान घाट है, जो एक ऐसे व्यक्ति का अंतिम संस्कार करने के लिए है, जो हिंदू धर्म का अनुयायी रहा है। हिंदुओं के समुदाय से संबंधित लोगों द्वारा यह भी माना जाता है कि पुरी में समुद्र के पानी में डुबकी लगाने से मोक्ष प्राप्त करने में मदद मिल सकती है।

और पढ़े: उड़ीसा में घूमने लायक 10 खूबसूरत जगहों की जानकारी 

4. पुरी घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Puri In Hindi

पुरी घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

पुरी कि यात्रा करने के लिए अक्टूबर से फरवरी का समय सबसे अच्छा समय माना जाता है। क्योंकि इस समय आपको एक सुखद जलवायु मिलती है। इस समय चिलचिलाती गर्मी और उच्च आर्द्रता आपकी यात्रा योजनाओं में बाधा उत्पन्न नही करती है। इस समय सर्दियों में थोड़ी ठंड होती है जो आपकी यात्रा को ओर रोमांचक बनाती हैं। अगर आप भगवान् जगन्नाथ कि रथ यात्रा में शामिल होना चाहते है तो आप जून –जुलाई के समय यहां जा सकते है।

5. पुरी कैसे पंहुचा जाये – How To Reach Puri In Hindi

पुरी का खुद का एक प्रमुख रेलवे जंक्शन है। जो देश के सभी प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। निकटतम हवाई अड्डा राजधानी शहर, भुवनेश्वर में स्थित है जो पुरी से 56 किलोमीटर दूरी पर है।

5.1  फ्लाइट से पुरी केसे पहुचें – How To Reach Puri By Flight In Hindi

फ्लाइट से पुरी केसे पहुचें

पुरी का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा भुवनेश्वर में है और यह पुरी से केवल 68 किलोमीटर की दूरी पर है। तो आप भुवनेश्वर तक फ्लाइट से जा सकते है, ओर फिर वहा से टैक्सी करके पुरी पहुच सकतें हैं।

5.2 कैसे पहुंचे पुरी सड़क मार्ग से – How To Reach Puri By Road In Hindi

कैसे पहुंचे पुरी सड़क मार्ग से

पुरी भारत के प्रमुख शहरो से जुड़ा हुआ है यदि आप सड़क मार्ग से पुरी जाना चाहते हैं तो विशाखापट्टनम, कोलकाता, भुवनेश्वर आदि से बस से यात्रा करके पुरी पहुच सकतें है।

5.3 ट्रेन से पुरी कैसे जाये – How To Reach Puri By Train In Hindi

ट्रेन से पुरी कैसे जाये

पुरी का अपना खुद का रेलवे स्टेशन है,जो पुरी कलकत्ता-चेन्नई लाइन के साथ स्थित है और अधिकांश ट्रेनें यहाँ रुकती हैं। आप ट्रेन के माध्यम से यात्रा करके पुरी रेलवे स्टेशन पहुच सकतें है।

5.4 पुरी में स्थानीय परिवहन – Local Transport In Puri In Hindi

पुरी में स्थानीय परिवहन

पुरी शहर के अन्दर यात्रा के लिए जैसे साइकिल-रिक्शा, ऑटो-रिक्शा और किराए की मोटरबाइक की सुविधा है। साइकिल रिक्शा सबसे किफायती विकल्प माना जाता हैं। ऑटो रिक्शा के मीटर आमतौर पर काम नहीं करते हैं, इसलिये आपको ऑटो चालक से मोलभाव करना पड़ सकता है।

और पढ़े: लिंगराज मंदिर, भुवनेश्वर की जानकारी 

6. पुरी ओडिशा का नक्शा – Puri Map

7. पुरी की फोटो गैलरी – Puri Images

View this post on Instagram

A beautiful clean Beach at PURI

A post shared by srikanta kumar behera (@bsrikanta694) on

और पढ़े:

Write A Comment