भारत के 11 प्रसिद्ध गुरुद्वारे – 11 Famous Gurudwaras Of India In Hindi

11 Famous Gurudwaras Of India In Hindi, गुरुद्वारे भारत के सबसे सुंदर, पवित्र और दयालु स्थानों में से एक हैं। गुरुद्वारे सिक्ख समुदाय के लोगो के लिए प्रमुख तीर्थ स्थल और आस्था केंद्र के रूप में कार्य करते हैं। भारत के ये प्रसिद्ध गुरूद्वारे संत गुरु नानक जी महाराज और सिक्ख गुरुयों को समर्पित हैं। जिन्होंने सिख धर्म को भारत में स्थापित किया।  गुरुद्वारे सिख धर्म के लोगो का पवित्र का पूजा स्थल है, जो न केवल हमे आत्मिक सुकून प्रदान करते हैं बल्कि हमें इस बात की भी जानकारी देते हैं कि सिख धर्म किस तरह कायम है।

देखा जाएँ तो आज पूरे भारत में हजारों गुरुद्वारे स्थापित है जो सिख समुदाय के भक्तों के लिए आस्था केंद्र के रूप में कार्य करते हैं। लेकिन आज हम आपको यहाँ अपने लेख में भारत के 11 सबसे प्रसिद्ध और लोकप्रिय गुरुद्वारों की सूची पेश करने जा रहे हैं जो सिख अनुयायीयों के साथ साथ बड़ी संख्या में भारतीय और विदेशी पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करते हैं-

स्वर्ण मंदिर अमृतसर – Golden Temple Amritsar In Hindi

स्वर्ण मंदिर अमृतसर - Golden Temple Amritsar In Hindi

अमृतसर का स्वर्ण मंदिर केवल भारत ही नहीं बल्कि दुनिया का मशहूर मंदिर है। ये सिख धर्म के मशहूर तीर्थ स्थलों में से एक है। इस मंदिर का ऊपरी माला 400 किलो सोने से निर्मित है, इसलिए इस मंदिर को स्वर्ण मंदिर नाम दिया गया। बहुत कम लोग जानते हैं लेकिन इस मंदिर को हरमंदिर साहिब के नाम से भी जाना जाता है। कहने को तो ये सिखों का गुरुद्वारा है, लेकिन मंदिर शब्द का जुडऩा इसी बात का प्रतीक है कि भारत में हर धर्म को एकसमान माना गया है। यही वजह है कि यहां सिखों के अलावा हर साल विभिन्न धर्मों के श्रद्धालु भी आते हैं, जो स्वर्ण मंदिर और सिख धर्म के प्रति अटूट आस्था रखते हैं। इस मंदिर के चारों ओर बने दरवाजे सभी धर्म के लोगों को यहां आने के लिए आमंत्रित करते हैं।

और पढ़े : स्वर्ण मंदिर अमृतसर का इतिहास और अन्य जानकारी

श्री हेमकुंड साहिब – Hemkund Sahib In Hindi

श्री हेमकुंड साहिब - Hemkund Sahib In Hindi

श्री हेमकुंड साहिब स्थल हिमालय पर्वत के बीचो-बीच उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित है। हर साल हजारों सिखों और पर्यटकों द्वारा इस पूजनीय पवित्र तीर्थ स्थल का दौरा किया जाता है। हेमकुंड साहिब का शाब्दिक अर्थ “लेक ऑफ स्नो” हैं और यह दुनिया का सबसे ऊंचा गुरुद्वारा हैं जिसकी ऊँचाई समुद्र तल से 4633 मीटर है। हेमकुंड साहिब पर्यटन स्थल बर्फ से ढके पहाड़ों पर स्थित है। बता दे  श्री हेमकुंड साहिब गुरद्वारे को श्री हेमकुंट साहिब के नाम से भी जाना जाता है। हेमकुंड साहिब गुरुद्वारे के नजदीक कई झरने, हिमालय का मनोरम दृश्य और घने जंगल हैं, जो ट्रेकिंग की सुविधा प्रदान करते हैं। श्री हेमकुंड साहिब गुरुद्वारा वह स्थान जो श्री गुरु गोविन्द सिंह जी की आत्मकथा से सम्बंधित हैं और बर्फ से ढंकी सात पहाड़ियों के लिए जाना जाता हैं।

और पढ़े : श्री हेमकुंड साहिब यात्रा की जानकारी और इसके प्रमुख पर्यटन स्थल

गुरुद्वारा बंगला साहिब – Gurudwara Bangla Sahib In Hindi

गुरुद्वारा बंगला साहिब - Gurudwara Bangla Sahib In Hindi

गुरुद्वारा बंगला साहिब सिख धर्म का एक धार्मिक स्थल है जो दिल्ली में कनॉट प्लेस के पास बाबा खड़क सिंह मार्ग पर स्थित है। आपको बता दें कि यह गुरुद्वारा अपनी आकर्षक वास्तुकला और धार्मिक महत्व के लिए दिल्ली की सबसे लोकप्रिय संरचनाओं में से एक है। गुरुद्वारा बंगला साहिब को पहले जयसिंहपुरा पैलेस के रूप में जाना जाता था, क्योंकि यह कभी राजा जय सिंह का बंगला था, जिसे बाद में गुरुद्वारे के रूप में परिवर्तित कर दिया गया।

इस गुरुद्वारा का नाम आठवें सिख गुरु, गुरु हरकिशन साहिब के नाम पर रखा गया है। इसके साथ ही यह भारत में सिख समुदाय के लिए सबसे महत्वपूर्ण पूजा स्थलों में से एक है। गुरुद्वारा बंगला साहिब एक बड़ा ऐतिहासिक, सामाजिक और सांस्कृतिक महत्व है, जिसकी वजह से बड़ी संख्या में लोग इसके दर्शन करने के लिए आते हैं। यहां की सबसे खास बात यह है कि गुरुद्वारा के रखरखाव के बहुत सारे कार्य स्वयंसेवकों और भक्तों द्वारा किए जाते हैं। इसके अलावा यहां पर वंचित वर्गों के लोग यहां भोजन और आश्रय भी प्रदान किया जाता है।

और पढ़े : गुरुद्वारा बंगला साहिब के बारे में पूरी जानकारी

श्री मंजी साहिब गुरुद्वारा आलमगीर – Shri Manji Sahib Gurudwara Alamgir In Hindi

श्री मंजी साहिब गुरुद्वारा आलमगीर - Shri Manji Sahib Gurudwara
Image Credit : Sarbjeet Singh

आलमगीर गाँव लुधियाना शहर से लगभग 10 किलोमीटर दूर स्थित है। इस गाँव का मुख्य आकर्षण श्रीमानजी साहिब गुरुद्वारा है, जिसे आमतौर पर आलमगीर गुरुद्वारा के नाम से जाना जाता है। यह स्थान सिख धर्म की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में बहुत महत्व रखता है। गुरुद्वारा 10 वें सिख गुरु, गुरु गोबिंद सिंह के जीवन में एक और ऐतिहासिक स्थल है। इस प्रसिद्ध सिख तीर्थ स्थल का बैकस्टोरी एक तरह से दिलचस्प है। गुरु गोबिंद सिंह का मुगल सेना द्वारा पीछा किया गया था और और यह वही जगह है जहां उन्होंने विश्राम किया।

श्री मंजी साहिब का लंगर हॉल सभी सिख तीर्थस्थलों में से सबसे बड़ा लंगर हॉल है, जिसमें एक बार में सैकड़ों लोगों की मुफ्त सेवा की जा सकती है। अन्य सभी सिख तीर्थ स्थलों की तरह, आलमगीर गुरुद्वारा शीर्ष पायदान पर स्वच्छता प्रदान करता है। गुरुद्वारा मंजी साहिब एक पवित्र स्थल के साथ-साथ एक पर्यटन स्थल भी है।

मणिकरण गुरुद्वारा कसोल – Manikaran Gurudwara, Kasol In Hindi

मणिकरण गुरुद्वारा कसोल – Manikaran Gurudwara, Kasol In Hindi

कसोल से लगभग 15 मिनट की दूरी पर स्थित, मणिकरण गुरुद्वारा भारत की सबसे प्रसिद्ध गुरुद्वारों में से एक है। पार्वती नदी के तट पर स्थित मणिकरण गुरुद्वारा सिखों के साथ साथ हिंदुओं लिए भी एक प्रमुख तीर्थस्थल के रूप में कार्य करता है। क्योंकि गुरूद्वारे में सिख साहिब के साथ भगवान राम, विष्णु और कृष्ण को समर्पित कई मंदिर भी हैं। जो बड़ी संख्या में सिख और हिन्दू तीर्थ यात्रियों को आकर्षित करता हैं। पहाड़ों की पृष्ठभूमि के मध्य स्थित मणिकरण गुरुद्वारा अपने गर्म पानी के झरने के लिए भी जाना जाता है।

गुरुद्वारा नाडा साहिब पंचकुला – Gurudwara Nada Sahib Panchkula In Hindi

गुरुद्वारा नाडा साहिब पंचकुला - Gurudwara Nada Sahib Panchkula In Hindi
Image Credit : Rajat Bansal

सिख धर्म के अनुयायीयों के लिए प्रमुख धार्मिक स्थान गुरुद्वारा नाडा साहिब परवाणू से लगभग 22 किमी दूर पंचकुला जिले में स्थित है। महत्वपूर्ण अतीत के साथ गुरुद्वारा नाडा साहिब एक पवित्र स्थान है। ऐसा माना जाता है कि गुरु गोबिंद सिंह कुछ समय के लिए यहां रुके थे। दैनिक आधार पर भक्तों से भरे गुरूद्वारे में पूर्णिमा के दिन तीर्थयात्रियों की संख्या कई गुना बढ़ जाती है। इस गुरुद्वारा में एक बड़ा आंगन और साथ ही तीर्थयात्रियों के लिए आवास भी है।

और  पढ़े :  पंजाब पर्यटन में घूमने की सबसे प्रसिद्ध जगह की जानकारी 

गुरुद्वारा दुख निवारन साहिब – Gurdwara Dukh Niwaran Sahib In Hindi

गुरुद्वारा दुख निवारन साहिब - Gurdwara Dukh Niwaran Sahib In Hindi
Image Credit : Ajitpal Singh

पटियाला का प्रसिद्ध स्थान दुख निवारन साहिब गुरुद्वारा वर्तमान समय में पटियाला शहर का एक अहम हिस्सा है और यह पंजाब राज्य के सबसे प्रसिद्ध गुरुद्वारों में से एक है। गुरु द्वारे की महिमा कुछ ऐसी हैं कि यदि कोई याचक अपनी पूरी निष्ठा और भावना से इसके निकट के तालाब में डुबकी लगाता है तो उसके कष्ट दूर हो जाते हैं। पर्यटक यहाँ प्रार्थना करने के लिए आते हैं और यहाँ कि गतिविधियों का हिस्सा बनते हैं जैसे लोगों को खाना खिलाना और गुरूद्वारे को साफ रखना आदि। बसंत पंचमी के दिन गुरूद्वारे गुरुनानक जयंती या लोहड़ी जैसे उत्सव मनाए जाते हैं क्योंकि इस दिन गुरु तेग बहादुर जी यहाँ आए थे। खासतौर पर यहाँ नवविवाहित जोडे और बच्चो के जन्म की कामना के लिए याचक आते हैं।

तखत सचखंड श्री हजूर अचलनगर साहिब गुरुद्वारा- Takhat Sachkhand Shri Hazur Abchalnagar Sahib Gurudwara, Maharashtra In Hindi

तखत सचखंड श्री हजूर अचलनगर साहिब गुरुद्वारा- Takhat Sachkhand Shri Hazur Abchalnagar Sahib Gurudwara, Maharashtra In Hindi
Image Credit : Swapnil Mohod

महाराष्ट्र के नांदेड़ में स्थित तखत सचखंड श्री हजूर साहिब गुरुद्वारा भारत के सबसे प्रसिद्ध और पूज्यनीय गुरुद्वारों में से एक है। तखत सचखंड श्री हजूर साहिब गुरुद्वारा को सिख धर्म के पाँच तख्तों में से एक माना जाता है। यह वही स्थान है जहां 10 वें सिख गुरु, गुरु गोविंद सिंह ने अंतिम सांस ली थी। और महाराजा रणजीत सिंह द्वारा 1832 में इसी स्थान पर एक गुरुद्वारा बनवाया गया था, जो सिख समुदाय में बहुत पूजनीय है। और हर साल हजारों सिख अनुयायीयों और पर्यटकों द्वारा इस पवित्र स्थल का दौरा किया जाता है। आपको बता दे गुरुद्वारे के अन्दर के परिसर को सचखंड या सत्य का क्षेत्र कहा जाता है और गुरुद्वारा के अंदर एक कमरा भी मौजूद है जहाँ गुरु गोबिंद सिंह ने अंतिम सांस ली, उसे अंगीठा साहिब कहा जाता है।

गुरुद्वारा नानक झीरा साहिब, कर्नाटक – Gurudwara Nanak Jhira Sahib, Karnataka In Hindi

गुरुद्वारा नानक झीरा साहिब, कर्नाटक - Gurudwara Nanak Jhira Sahib, Karnataka In Hindi

भारत के सबसे महत्वपूर्ण गुरुद्वारों में से एक गुरुद्वारा नानक झीरा साहिब कर्नाटक के बीदर में स्थित है। एक चमत्कारी घटना होने के बाद गुरुद्वारा को इसका नाम मिला। माना जाता है गुरु नानक मर्दाना के बाहरी इलाके में रह रहे थे, जहाँ पानी की कमी थी और गाँव के लोगों की कोशिशों के बावजूद पीने योग्य पानी मिलना मुश्किल था। और गुरु नानक ने अपने पैर की उंगलियों से पहाड़ी के एक हिस्से को छुआ और कुछ मलबे को हटा दिया जिसके बाद मीठे पानी का एक फव्वारा वहाँ से निकल गया। और उसके बाद उस स्थान पर गुरु नानक को समर्पित पवित्र गुरुद्वारे का निर्माण किया गया। जो आज सिख समुदाय के लिए प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है। जबकि एक वर्ष में तीन बार होली, दशहरा और गुरु नानक के जन्मदिन पर बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं द्वारा गुरुद्वारा नानक झीरा साहिब का दर्शन किया जाता है।

और पढ़े : भारत के प्रसिद्ध बौद्ध मंदिर और बौद्ध स्थल

तख्त श्री पटना साहिब बिहार – Takht Sri Patna Sahib, Bihar In Hindi

तख्त श्री पटना साहिब बिहार - Takht Sri Patna Sahib, Bihar In Hindi
Image Credit : Avinash Gupta

हरमंदिर तख्त श्री पटना साहिब, जिसे पटना साहिब गुरुद्वारा के नाम से जाना जाता है, सिख समुदाय के लिए सबसे पवित्र तीर्थस्थलों में से एक है। पवित्र गंगा के तट पर स्थित, पटना, बिहार के इस गुरुद्वारे का निर्माण सिखों के दसवें गुरु, श्री गुरु गोबिंद सिंह द्वारा किया गया था। इस गुरुद्वारे में सिखों के कई धर्मग्रंथ देखे जा सकते हैं। यह जगह सिखों के अधिकार के 5 तात्कालिक या पवित्र सीटों में से एक है। बता दें कि इस स्थान पर मूल रूप से सालिस राय जौरी की हवेलियाँ थी जिनको धर्मशाला में बदल दिया था क्योंकि वह गुरु नानक के एक भक्त थे। इस गुरूद्वारे को तख्त श्री पटना साहिब और गुरु गोविंद सिंह जी का निवास स्थान भी कहा जाता है। पवित्र आत्मज्ञान का अनुभव करने के लिए बड़ी संख्या में सिख धर्म के साथ साथ सभी धर्मो के लोग इस गुरुद्वारे का दौरा करते है।

गुरुद्वारा श्री तरनतारन साहिब, अमृतसर – Gurudwara Shri Tarn Taran Sahib, Amritsar In Hindi

गुरुद्वारा श्री तरनतारन साहिब, अमृतसर - Gurudwara Shri Tarn Taran Sahib, Amritsar In Hindi
Image Credit : Sanjeev Mankotia

गुरुद्वारा श्री तरनतारन साहिब अमृतसर से 22 किलोमीटर की दूरी पर स्थित तरनतारन साहिब के गांव में स्थित है। और भारत की इस प्रसिद्ध गुरुद्वारा का निर्माण सिखों के पांचवें गुरु, गुरु अर्जन देव द्वारा करबाया गया था। मुगल शैली की वास्तुकला में निर्मित गुरुद्वारा सबसे बड़ा सरोवर होने के लिए प्रसिद्ध है। पवित्र गुरुद्वारा में हर दिन कीर्तन पाठशालाएँ की जाती है, जो सुबह के शुरुआती घंटों से शुरू होती हैं और देर शाम तक चलती हैं, जो कि आगंतुकों के लिए एक सुखद अनुभव होता है। जबकि महीने की हर अमावस के दिन बड़ी संख्यां में श्रद्धालु माथा टेकने के लिए इस पवित्र स्थल पर एकत्रित होते है। इसके अलावा आपको बता दे बिभिन्न श्र्धालुयों का मानना है की सरोवर के जल में चिकित्सीय गुण हैं। और इस सरोवर में स्नान करने से कुष्ठ रोग से छुटकारा मिलता है।

और पढ़े :

Leave a Comment