भारत के 10 सबसे रहस्यमयी मंदिर – 10 Mysterious Temples In India In Hindi

 

10 Mysterious Temples In India In Hindi भारत 64 करोड़ देवी-देवताओं की भूमि है, जो अपने प्राचीन और प्रसिद्ध मंदिरों के लिए विश्वविख्यात है। भारत देश के कोने-कोने में आपको बिभिन्न देवी-देवतायों को समर्पित मंदिर देखने को मिलते है, जो अपनी किसी ना किसी परम्परा,सिद्धि, संस्कृति, या मान्यतायों के लिए प्रसिद्ध है। लेकिन इनके साथ-साथ भारत में कुछ ऐसे मंदिर भी है, जो अपनी रहस्यमयी और अविश्वसनिय घटनायों की बजह से चर्चा के विषय बने हुए है। जो श्र्धालुयों और पर्यटकों के साथ-साथ इतिहासकारों के लिए भी एक पहेली बने हुए है। और ये रहस्यमयी मंदिर अपनी रहस्यमयी घटनायों और अद्भुद कहानियों से कई हजारों पर्यटकों और इतिहासकारों को इन्ही रहस्यमयी घटनायों पर खोज करने के लिए अपनी और  आकर्षित करते है।

भारत कई रहस्यमय मंदिरों का देश है। भारत के इन रहस्यमय मंदिरों में से कुछ अपने अपरंपरागत देवताओं के कारण प्रसिद्ध हैं, कुछ उनके भूत-प्रेत संस्कार के कारण, और कुछ इसलिए क्योंकि वे 2000 वर्ष से अधिक पुराने हैं। लेकिन आज हम यहाँ अपने लेख में आपको भारत के 10 अज्ञात रहस्यमय मंदिरों में बारे में बताने जा रहे है-

वेंकटेश्वर मंदिर, आंध्र प्रदेश – Venkateshwara Temple, Andhra Pradesh In Hindiवेंकटेश्वर मंदिर, आंध्र प्रदेश - Venkateshwara Temple, Andhra Pradesh In Hindi

आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले में स्थित, भगवान वेंकटेश्वर मंदिर को तिरुपति के रूप में जाना जाता है जो देश के सबसे अधिक प्रसिद्ध तीर्थस्थलों में से एक है। वेंकटेश्वर मंदिर तिरुपति की सात पहाड़ियों में से एक है, जहाँ मुख्य मंदिर स्थित है। माना जाता है कि यहाँ भगवान वेंकटेश्वर ने एक मूर्ति का रूप धारण किया था और इसलिए यहाँ वेंकटेश्वर मंदिर  की स्थापना हुई। देवता के घर को बालाजी और गोविंदा के रूप में भी जाना जाता है। नाइयों द्वारा निर्मित, भारत के इस सबसे प्रसिद्ध रहस्यमय मंदिर में दो विशाल हॉल हैं, जो हर दिन 12,000 से अधिक तीर्थयात्रियों के बाल काटते है, जो सालाना लगभग 75 टन बाल तक पहुंचते हैं। और इन बालों को बेचकर तिरुपति मंदिर को 6.5 मिलियन अमरीकी डालर से अधिक की कमाई होती हैं।

और पढ़े : आन्ध्र प्रदेश राज्य के इतिहास और अन्य जानकारी

स्तम्भेश्वर महादेव मंदिर गुजरात – Stambheshwar Mahadev Temple Gujarat In Hindi

स्तम्भेश्वर महादेव मंदिर गुजरात - Stambheshwar Mahadev Temple Gujarat In Hindi
Image Credit : Aatish_Divate

गुजरात में स्थित स्तम्भेश्वर महादेव मंदिर भारत के अविश्वसनीय और रहस्यमय मंदिरों में से एक है। यह मंदिर रोजाना दिन में कुछ देर के लिए पूरी तरह से गायब हो जाता है, और मंदिर का कुछ भी हिस्सा दिखाई नही देता। गुजरात में अरब सागर और कैम्बे की खाड़ी के तट के बीच स्थित स्तम्भेश्वर महादेव मंदिर उच्च ज्वार घंटों के दौरान हर दिन पानी में डूब जाता है, और ज्वार का स्तर नीचे आने पर यह मंदिर फिर से प्रकट होता है। और फिर इसे श्रद्धालुओं के लिए खोला जाता है। प्रकृति के इस असाधारण दृश्य को देखने के लिए बड़ी संख्या में पर्यटक और श्रद्धालु इस मंदिर का दौरा करते है।अन्य पोराणिक कथायों के अनुसार माना जाता है की मंदिर में स्थापित शिव लिंग की स्थापना स्वयं कार्तिकेय ने की थी।

ब्रह्मा मंदिर पुष्कर राजस्थान – Brahma Temple Pushkar, Rajasthan In Hindi

ब्रह्मा मंदिर पुष्कर राजस्थान – Brahma Temple Pushkar, Rajasthan In Hindi
Image Credit : Keshav Singh

ब्रह्मा मंदिर जिसे जगतपिता ब्रह्मा मंदिर भी कहा जाता है। ब्रह्मा मंदिर राजस्थान भारत का प्राचीन रहस्यमय मंदिर है जो भगवान ब्रह्मा को समर्पित है, जिन्हें ब्रह्मांड का निर्माता माना जाता है। यह भारत में ब्रह्मा को समर्पित एकमात्र मंदिर होने के कारण हर साल लाखों तीर्थयात्रियों को आकर्षित करता है। माना जाता है कि ब्रह्मा मंदिर 2000 साल पुराना है, जिसे मूल रूप से 14 वीं शताब्दी में बनाया गया था। यह आदि शंकराचार्य और ऋषि विश्वामित्र द्वारा निर्मित किया गया था। संगमरमर और विशाल पत्थर की शिलाओं से निर्मित इसमें भगवान ब्रह्मा की दो पत्नियों, गायत्री और सावित्री के चित्र हैं। और इस मंदिर को संन्यासी (तपस्वी) संप्रदाय द्वारा संचालित है।

और पढ़े : ब्रह्माजी मंदिर पुष्कर के दर्शन और पर्यटन स्थल की जानकारी

करणी माता मंदिर – Karni Mata Temple In Hindi

करणी माता मंदिर – Karni Mata Temple In Hindi

राजस्थान की रीगल भूमि के देशनोक टाउन में स्थित करणी माता का मंदिर भारत के सबसे रहस्यमयी मंदिरों में से एक है। करणी माता का मंदिर चूहे की आबादी के बजह से रहस्यमयी बना हुआ  है। यह पहलु इस मंदिर को असामान्य बनाता है कि इस मंदिर में 20,000 से अधिक चूहे है, और चूहों का झूठा भोजन बेहद पवित्र माना जाता है जिसे वहा प्रसाद के रूप में वितरित किया जाता है। और इसके अलावा यह माना जाता है कि अगर एक चूहा मारा जाता है, तो उसके स्थान पर सोने से बने चूहे को इस्तेमाल किया जाता है।

और पढ़े : बीकानेर के करणी माता मंदिर के दर्शन की जानकारी और पर्यटन स्थल

कामाख्या देवी मंदिर गुवाहाटी असम – Kamakhya Devi Temple Guwahati, Assam In Hindi

कामाख्या देवी मंदिर गुवाहाटी असम - Kamakhya Devi Temple Guwahati, Assam In Hindi
Image Credit : Uttam Sarkar

गुवाहाटी में निलाचल पहाड़ी के ऊपर स्थित कामाख्या देवी मंदिर असम भारत में सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। यह भारतीय उपमहाद्वीप के 51 शक्तिपीठों में से एक है। यह मंदिर अपने काले जादू के अनुष्ठानों और तांत्रिक उपासकों के लिए प्रसिद्ध है। 8 वीं -17 वीं शताब्दी के उक्त काल में कई बार मंदिर का निर्माण और नवीनीकरण किया गया था। हर साल मानसून के दौरान, देवी मासिक धर्म, और मंदिर तीन दिनों के लिए बंद कर दिया जाता है और माना जाता है उस समय मंदिर के गर्भगृह में बहने वाला भूमिगत झरना इन तीन दिनों में लाल हो जाता है। इसके अलावा मंदिर में भक्तो को प्रसाद के रूप में पत्थर की मूर्ति को ढंकने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले लाल कपड़े का एक टुकड़ा दिया जाता है।

और पढ़े : कामाख्या देवी मंदिर के बारे में रोचक तथ्य और इतिहास 

कोडुंगल्लूर भगवती मंदिर केरल – Kodungallur Bhagavathy temple Kerala In Hindi

कोडुंगल्लूर भगवती मंदिर केरल - Kodungallur Bhagavathy temple Kerala In Hindi
Image Credit : Sreekumar_A G

कोडुंगल्लूर भगवती मंदिर या केरल में श्री कुरुम्बा भगवती मंदिर केरल के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक है। कोडुंगल्लूर भगवती मंदिर देवी भद्रकाली के एक प्रमुख रूप को समर्पित है। पवित्र मंदिर केरल के सबसे शक्तिशाली शक्ति पीठों में से एक है और इसे कन्नकी के अवतार के रूप में जाना जाता है। इस मंदिर का आकर्षक या रहस्यमयी पहलू यह है कि यहाँ माना जाता है कि मंदिर में होने वाली पूजा या अनुष्ठान स्वयं देवी के निर्देशों के तहत किए जाते हैं।

वीरभद्र मंदिर, आंध्र प्रदेश –  Veerabhadra Temple, Andhra Pradesh In Hindiवीरभद्र मंदिर, आंध्र प्रदेश –  Veerabhadra Temple, Andhra Pradesh In Hindi

वीरभद्र मंदिर भारत के सबसे रहस्यमयी मंदिरों में से एक है। 16 वीं शताब्दीके आसपास निर्मित 16 वीं शताब्दी 70 विशाल स्तंभों का घर है जो विजयनगर शैली को दर्शाते हैं। वीरभद्र मंदिर की रहस्यमयी बात यह है की यहाँ 70 विशाल स्तंभों में से एक स्तंभ मंदिर की छत से लटका हुआ है, और वह जमीन को बिलकुल भी स्पर्श नही करता है। जिसे हैंगिंग पिलर के नाम से भी जाना जाता है। जहाँ अक्सर पर्यटक स्तंभ के निचे से एक पतला कपड़ा निकालते हुए देखे जाते है।

और पढ़े : दक्षिण भारत के 50 प्रमुख मंदिर की जानकारी

काल भैरव नाथ मंदिर, वाराणसी – Kal Bhairav Nath Temple Varanasi In Hindiकाल भैरव नाथ मंदिर, वाराणसी - Kal Bhairav Nath Temple Varanasi In Hindi

काल भैरव नाथ मंदिर भारत के सबसे रहस्यमयी मंदिरों में से एक है। यह मंदिर बटुक भैरव को समर्पित है, जो भगवान शिव के अवतार थे। वाराणसी का प्रसिद्ध मंदिर काल भैरव नाथ मंदिर अघोरियों और तांत्रिकों के लिए उनका बिशेष पूजा स्थल माना जाता है। काल भैरव नाथ मंदिर की सबसे रहस्यमयी और दिलचस्प विशेषता पवित्र अखंड दीप है जो माना जाता है कि यह युगों से जल रहा है। कहा जाता है कि इस दीपक के तेल में हीलिंग पॉवर होती है। साथ इस मंदिर की एक और दिलचस्प बात यह की यहाँ भैरव नाथ को प्रसाद के रूप में शराब चढ़ाई जाती है चाहे बस व्हिस्की, वोडका या फिर देशी शराब। काल भैरव नाथ मंदिर में शराब सीधे देवता के खुले हुए मुह में डाली जाती है और उसे बाद में भक्तो को प्रसाद के रूप में वितरित किया जाता है। और इस मंदिर के बाहर अन्य मंदिरों की तरह फूल या मिठाइयाँ नही बेचीं जाती है बल्कि इस मंदिर के बाहर के स्टाल प्रसाद के लिए केवल शराब बेचते हैं।

और पढ़े : वाराणसी के 10 प्रमुख मंदिर घूमने की पूरी जानकारी 

देवारागट्टू मंदिर, आंध्र प्रदेश – Devaragattu Temple, Andhra Pradesh In Hindi

देवारागट्टू मंदिर, आंध्र प्रदेश - Devaragattu Temple, Andhra Pradesh In Hindi
Image Credit : Sachin_Bharadwaj

देवारागट्टू मंदिर दक्षिण भारत के सबसे रहस्यमय मंदिरों में से एक है। देवारागट्टू मंदिर बानी महोत्सव के लिए प्रसिद्ध है। यह त्योहार निश्चित रूप से भारत का सबसे अजीब और सबसे खूनी दशहरा उत्सव है। जहाँ कर्नाटक और आंध्र प्रदेश के सैकड़ों ग्रामीण इस खतरनाक उत्सव का हिस्सा बनने के लिए कुरनूल में इकट्ठा होते हैं। जहाँ लोग उत्सव में एक दूसरे पर लाठियों से प्रहार करते है, चाहे उससे किसी का सिर फूटे या कुछ भी लेकिन उत्सव नही रोका जाता है। और माना जाता है की कुछ 100 बर्षो पहले यह उत्सव कुल्हाड़ियों और भाले के साथ मनाया जाता था। लेकिन अब यह वर्तमान स्वरूप में सिर्फ लाठी के साथ मनाया जाता है। जबकि पूरा उत्सव दर्शकों को झकझोर कर रख देता है, यह स्थानीय लोगों का “मारने या मारने” का उत्साह है जो हमें आश्चर्यचकित करता है कि हम बुराई पर अच्छाई की जीत का जश्न मनाने के लिए कितना दूर जाते हैं।

बालाजी मंदिर महेन्दीपुर राजस्थान – Balaji Temple Mahendipur Rajasthan In Hindi

बालाजी मंदिर महेन्दीपुर राजस्थान - Balaji Temple Mahendipur Rajasthan In Hindi
Image Credit : Rohit Mongha

राजस्थान राज्य के दौसा जिले में स्थित मेहंदीपुर बालाजी मंदिर भगवान हनुमान (शक्ति के देवता) को समर्पित है। कई भक्तों का मानना ​​है कि यह जगह जादुई शक्तियों से युक्त मंदिर है और इसलिए बालाजी मंदिर में हजारों श्रद्धालु काला जादू से छुटकारा पाने और राहत पाने के लिए आते हैं। भूत और बुरी आत्माओं को दूर करने के लिए यह सबसे अच्छा स्थल माना जाता है। पोराणिक कथायों के अनुसार माने तो बालाजी मंदिर से कई दिव्य  शक्तियां जुड़ी है, जो बुरी आत्माओं से प्रभावित लोगों को ठीक करने की क्षमता रखती है, और उन्हें काले जादू के चंगुल से खुद को मुक्त करने में मदद करती है।     

और पढ़े :

Leave a Comment