Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Vashisht Temple In Hindi, वशिष्ठ मंदिर मनाली का एक प्रमुख मंदिर है जो शहर से लगभग 3 किमी दूर स्थित है, आपको बता दें कि यह मंदिर वशिष्ठ नाम के गांव में स्थित है जो अपने शानदार गर्म पानी के झरनों और वशिष्ठ मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। मंदिर के पास स्थित गर्म पानी के झरनों को बेहद पवित्र माना जाता है और इसमें किसी भी बीमारी को ठीक करने की शक्ति है। वशिष्ठ मंदिर ऋषि वशिष्ठ को समर्पित है, जो भगवान राम के कुल गुरु थे। यह मंदिर मनाली में सबसे प्रसिद्ध स्थानों में से एक है। माना जाता है कि वशिष्ठ मंदिर 4000 साल से अधिक पुराना है। मंदिर के अंदर धोती पहने ऋषि की एक काले पत्थर की मूर्ति स्थित है। वशिष्ठ मंदिर को लकड़ी पर उत्कृष्ट और सुंदर नक्काशी से सजाया गया है इसके अलावा मंदिर का इंटीरियर एंटीक पेंटिंग के साथ अलंकृत हैं। यहां पर वशिष्ठ मंदिर के अलावा एक और मंदिर स्थित है जिसको राम मंदिर के रूप में जाना जाता है। इस मंदिर के अंदर राम, सीता और लक्ष्मण की मूर्तियां स्थापित हैं। यहां पर दशहरा सात दिनों तक मनाया जाता है।

1. वशिष्ठ मंदिर की कहानी – Vashisht Temple Story In Hindi

वशिष्ठ मंदिर की कहानी

Image Credit: Raj Yaduvanshi

वशिष्ठ गुरु हिंदू धर्म के सात ऋषियों में से एक है और उनकी के नाम पर गांव का नाम रखा गया है। एक पौराणिक कथा के अनुसार ऋषि वशिष्ठ इस बात से दुखी थे कि उनके बच्चों को विश्वामित्र ने मार दिया था। ऋषि वशिष्ठ ने एक नदी में कूदकर आत्महत्या करने की कोशिश की लेकिन नदी ने उन्हें मारने से मना कर दिया था। इसके बाद ऋषि ने यहां पर गांव में एक नया जीवन शुरू किया। जिस नदी में ऋषि आत्महत्या करने गए थे उसका नाम विपाशा था अब उसी नदी को ब्यास नदी के नाम से जाना जाता है।

2. प्रसिद्ध वशिष्ठ हॉट वाटर – Vashisht Hot Water Spring In Hindi

प्रसिद्ध वशिष्ठ हॉट वाटर

Image Credit: Rakesh Chauhan

वशिष्ठ हॉट वाटर स्प्रिंग इस स्थान के प्रसिद्ध आकर्षणों में से एक है। बता दें कि इस हॉट स्प्रिंग्स का अपना औषधीय महत्व है। स्प्रिंग्स कई त्वचा रोगों का इलाज करने के लिए जाना जाता है। बहुत से लोग अपनी त्वचा संक्रमण और बीमारियों से छुटकारा दिलाने के लिए वशिष्ठ झरने में स्नान करने के लिए जाते हैं। यहां पर पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए अलग-अलग बाथरूम भी बने हुए हैं।

और पढ़े: माँ बाला सुंदरी मंदिर त्रिलोकपुर हिमाचल प्रदेश के दर्शन की जानकारी

3. वशिष्ठ मंदिर मनाली के खुलने और बंद होने का समय – Vashisht Temple Timings In Hindi

वशिष्ठ मंदिर मनाली के खुलने और बंद होने का समय

Image Credit: shridhar swadi

वशिष्ठ मंदिर खुलने का समय: सुबह 7 से रात 9 बजे तक।
वशिष्ठ स्नान का समय: सभी दिन सुबह 7 से 1 बजे और दोपहर 2 से 9 बजे।

4. वशिष्ठ मंदिर(मनाली) में खाने के लिए स्थानीय भोजन – Local Food Near Vashisht Temple Manali In Hindi

वशिष्ठ मंदिर(मनाली) में खाने के लिए स्थानीय भोजन

वशिष्ठ मंदिर के पास में मनाली कई तरह के रेस्तरां, कैफे और बार के साथ एक खूबसूरत हिल स्टेशन है, जो अपने पर्यटकों की हर जरुर का ख्याल रखता है। आपको मनाली में एक समृद्ध विविधता और मेनू में स्वादिष्ट भोजन के साथ अनगिनत रेस्तरां मिलेंगे। पर्यटक मनाली में यहां के लोकप्रिय तिब्बती राजवंशों के साथ इतालवी, चीनी, कोरियाई, महाद्वीपीय, थाई, भारतीय, जापानी, वियतनामी भोजन का स्वाद ले सकते हैं। यहां के कैफे युवा भीड़ को अपनी ओर आकर्षित करते हैं और दिन भर पिज्जा, मोमोज, बनाना पेनकेक्स और एप्पल पाई जैसे स्वादिष्ट फास्ट फूड परोसते हैं। इसके अलावा आप स्ट्रीट फूड में समोसे, आलू टिक्की, ब्रेड पकोड़े, पाव भाजी, गुलाब जामुन का स्वाद चख सकते हैं। इसके अलावा शहर में स्थनीय हिमाचल भोजन काफी मशहूर है।

और पढ़े: लाहौल स्पीति के टॉप पर्यटन स्थल की जानकरी 

5. वशिष्ठ मंदिर के आसपास घूमने लायक प्रमुख पर्यटन और आकर्षण स्थल – Vashisht Temple Manali Ke Darshaniya Sthal In Hindi

वशिष्ठ मंदिर मनाली में स्थित एक प्रमुख पर्यटन स्थल है, अगर आप इस मंदिर के अलावा इसके आसपास के प्रमुख पर्यटन स्थलों की सैर करना चाहते हैं तो आपको वशिष्ठ मंदिर के पास के इन पर्यटन स्थलों के बारे में जानकारी जरुर होना चाहिए।

5.1 ओल्ड मनाली – Old Manali In Hindi

ओल्ड मनाली
ओल्ड मनाली कई विचित्र कैफे और रेस्तरांओं के लिए प्रसिद्ध है। इसके अलावा शॉपिंग विशेष रूप से कपड़े और चेरी के लिए लोकप्रिय है। ओल्ड मनाली अपनी खूबसूरती से पर्यटकों को आकर्षित करता है।

5.2 नग्गर – Naggar In Hindi

नग्गर
नग्गर हिमाचल प्रदेश राज्य के कुल्लू जिले में स्थित है। यह एक छोटा शहर है जो अपनी आश्चर्यजनक प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। यह पर्यटन स्थल उन लोगों के लिए बेहद खास जगह है जो प्रकृति की गोद में रहकर आराम करना चाहते हैं। नग्गर में आप ट्रेकिंग और कैंपिंग का भी लुत्फ उठा सकते हैं। आपको बता दें कि नग्गर में एक महल भी स्थित है जिसको अब एक रिटेज होटल में बदल दिया गया है, जहां पर कोई भी जा सकता है। इसके अलावा नग्गर में एक लोक कला संग्रहालय और एक गर्म पानी का झरना है, जहां पर्यटकों को जरुर जाना चाहिए।

और पढ़े: नग्गर घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल

5.3 नग्गर कैसल – Naggar Castle In Hindi

नग्गर कैसल
नग्गर कैसल जोगिनी एक महल हुआ करता था जिसको अब एक एक हेरिटेज होटल में परिवर्तित कर दिया गया है। नग्गर कैसल लकड़ी और पत्थर से निर्मित यूरोपीय और हिमालयी वास्तुकला का एक संयोजन है। मध्ययुगीन नग्गर कैसल का निर्माण कुल्लू के राजा सिद्ध सिंह द्वारा 1460 के आसपास किया था। नग्गर कैसल अब हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम द्वारा संचालित है जो ब्यास घाटी के जंगलों की शानदार दृश्यों की वजह से अब भी पर्यटकों का पसंदीदा है।

और पढ़े: नग्गर कैसल घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल 

5.4 हिडिम्बा देवी मंदिर – Hidimba Devi Temple In Hindi

हिडिम्बा देवी मंदिर
हिडिम्बा देवी मंदिर हिमाचल प्रदेश राज्य के मनाली शहर में स्थित है। यह एक प्राचीन गुफा मंदिर है, जो महाकाव्य महाभारत के भीम की पत्नी हिडिम्बी देवी को समर्पित है। यह मनाली में सबसे प्रसिद्ध और प्रमुख मंदिरों में से एक है। इसे ढुंगरी मंदिर (Dhungiri Temple) भी कहा जाता है। मनाली आने वाले पर्यटक इस मंदिर के दर्शन करने के लिए जरुर आते हैं। इस मंदिर की इमारत चार मंजिला संरचना है जो जंगल के बीच में स्थित है। इस मंदिर में देवी की कोई मूर्ति स्थापित नहीं है बल्कि इसमें हिडिम्बा देवी के पदचिह्नों को पूजा जाता है।

और पढ़े: हिडिम्बा देवी मंदिर का इतिहास, कहानी और रोचक तथ्य

5.5 कसोल – Kasol In Hindi

कसोल
कसोल पार्वती घाटी के तट पर स्थित एक छोटा सा गाँव है जो एडवेंचर, बाइकिंग और खीरगंगा, चायल, तोश घाटी, मलाणा, मैजिक वैली जैसी ट्रेकिंग के लिए प्रसिद्ध है।

5.6 मनाली अभयारण्य – Manali Sanctuary In Hindi

मनाली अभयारण्य
मनाली अभयारण्य एक प्रमुख पर्यटन स्थल है जो हिमाचल प्रदेश में एक आश्चर्यजनक और प्रभावशाली वन्यजीव अभ्यारण्य है। यह अभयारण्य मनाली शहर के केंद्र से पैदल दूरी पर स्थित हैऔर यह कई तरह के समृद्ध वनस्पतियों और जीवों का पता लगाने के लिए एक आदर्श स्थान है। मनाली वन्यजीव अभयारण्य सभी जानवरों और प्रकृति प्रेमियों के लिए पृथ्वी पर एक स्वर्ग है। इस अभयारण्य को घूमने के लिए भारी संख्या में पर्यटक यहां आते हैं।

और पढ़े: मनाली अभयारण्य घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल 

5.7 रोहतांग दर्रा – Rohtang Pass In Hindi

रोहतांग दर्रा
मनाली बर्फबारी 2019: रोहतांग दर्रा मनाली घूमने के लिए आने वालों लोगों के लिए यहां की बर्फबारी आकर्षण का केंद्र है। यहाँ की बर्फबारी आने वाले पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करती है। यह पर्यटन स्थल मनाली बस स्टैंड से 51 किमी की दूरी पर स्थित है।

और पढ़े: रोहतांग दर्रा की यात्रा के बारे में संपूर्ण जानकारी 

5.8 मणिकरण साहिब – Manikaran Sahib In Hindi

मणिकरण साहिब
मणिकरण साहिब मनाली में स्थित सिखों का प्रसिद्ध गुरुद्वारा और तीर्थ स्थान है। यह वशिष्ठ मंदिर से करीब 82 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस गुरुद्वारे का संबंध सिख धर्म के पहले गुरु, गुरु नानक से संबंधित है। इस गुरुद्वारे अलावा यहां गर्म पानी के झरने हैं। मणिकरण साहिब, मनाली बस स्टैंड से 24 किमी की दूरी पर स्थित है।

और पढ़े: मणिकरण साहिब की पूरी जानकारी और इसके पास के पर्यटन स्थल 

5.9 गायत्री मंदिर – Gayatri Temple In Hindi

गायत्री मंदिर
गायत्री मंदिर प्रसिद्ध वशिष्ठ मंदिर से 9 किमी दूर स्थित है जिसमें संगमरमर से बनी देवी गायत्री की मूर्ति स्थापित है। इस मंदिर की वास्तुकला शैली काफी शानदार है। गायत्री मंदिर की यात्रा करने के साथ आप इसके आस-पास के मंदिर जैसे शिकारा शैली शिव मंदिर की यात्रा भी कर सकते हैं।

5.10 भंटर – Bhunter In Hindi

भंटर
भंटर एक हरियाली भरी जगह है जहां पर कई मंदिर स्थित है। भंटर एक ऐसा पर्यटन स्थल है जहां आपको एक बार जरुर जाना चाहिए। यहां आप बहने वाली ब्यास नहीं में वाइट वाटर राफ्टिंग के लिए भी जा सकते हैं। भंटर हिमाचल प्रदेश के हिल स्टेशन और भीड़ भाड़ वाले पर्यटन स्थलों से अलग एक सरल और शांत जगह है।

5.11 सुल्तानपुर पैलेस – Sultanpur Palace In Hindi

सुल्तानपुर पैलेस
सुल्तानपुर पैलेस पहले रूपी पैलेस कहा जाता था। इसको नए रूप में पुराने अवशेषों पर बनाया गया था जो भूकंप में क्षतिग्रस्त हो गया था। इस महल में विभिन्न वाल पेंटिंग और पहाड़ी शैली की वास्तुकला और औपनिवेशिक शैली का अद्भुत मिश्रण है। बता दें कि इस पैलेस में महल कुल्लू घाटी के पूर्ववर्ती शासकों का निवास स्थान है।

5.12 कोठी – Kothi In Hindi

कोठी
कोठी उन लोगों के लिए एकदम सही जगह है जो कम यात्रा वाले रास्तों को पसंद करते हैं। हिमाचल प्रदेश के हलचल वाले पर्यटन स्थलों से दूर यह गांव एक बहुत ही शांत जगह है।यहां से आप आस-पास की पहाड़ियों और घाटियों के शानदार दृश्यों को देख सकते हैं। यह रोहतांग और इसके आस-पास की चोटियों पर ट्रैकिंग करने वाले लोगों के लिए आधार शिविर का कम करता था।

5.13 गुलाबा – Gulaba In Hindi

गुलाबा
गुलाबा मनाली के पास एक सुंदर सा गांव है जो अपने खूबसूरत दृश्यों से पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करते हैं। पर्यटक इस क्षेत्र में ट्रेकिंग कर सकते हैं।अधिकांश पर्यटक गुलाबा एक्स्प्लोर करने के लिए भृगु झील की ओर जाते हैं। बता दें कि बॉलीवुड की हिट फिल्म ये जवानी है दीवानी के कुछ दृश्यों की शूटिंग गुलाबा में हुई है। गुलाबा प्रकृति प्रेमियों और उन लोगों के लिए एक आदर्श स्थान है जो शांति पसंद करते हैं।

5.14 सियाली महादेव मंदिर – Siyali Mahadev Temple In Hindi

सियाली महादेव मंदिर - Siyali Mahadev Temple In Hindi
सियाली महादेव मंदिर मनाली में सबसे पुराने मंदिरों में से एक है जो भगवान शिव को समर्पित है। सियाली महादेव मंदिर काफी सुंदर है और अक्सर इस मंदिर में भगवान शिव के भक्तों द्वारा पूजा की जाती है। दूर से मंदिर को देखने का नजारा हर किसी को आश्चर्यचकित कर देता है।

और पढ़े: सियाली महादेव मंदिर घूमने की जानकारी और इसके पर्यटन स्थल 

5.15 अर्जुन गुफा – Arjun Gufa In Hindi

अर्जुन गुफा
अर्जुन गुफा को एक पौराणिक प्राकृतिक निर्माण माना जाता है। यह गुफा पर्यटकों और स्थानीय लोगों का एक पसंदीदा पिकनिक स्थल है और अंदर से सृष्टि की खोज के रोमांच के लिए भी प्रसिद्ध है। अर्जुन गुफा ब्यास नदी के बाईं ओर स्थित है और सुंदर प्रिंसी गांव के बहुत करीब है। गुफा तक की चढ़ाई के दौरान आप यहां के प्राकृतिक दृश्यों का आनंद ले सकते हैं। अर्जुन गुफा एक पहाड़ी में एक संकीर्ण रास्ता है। इस पूरी गुफा को एक्स्प्लोर करने में आपको करीब 45 मिनट लगते हैं।

5.16 रहला फॉल्स – Rahala Falls In Hindi

रहला फॉल्स
रहला फॉल्स मनाली बस स्टैंड से करीब 29 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है जो रोहतांग दर्रे के रास्ते में स्थानीय लोगों और पर्यटकों के लिए एक प्रसिद्ध पिकनिक स्थल है। यहां का पानी काफी ठंडा होता है क्योंकि यह हिमालय में स्थित पिघलने वाले ग्लेशियर से निकलता है। रहला फॉल्स के आसपास देवदार और सिल्वर बर्च के पेड़ों के साथ वनस्पति है। आप हिमालय की बर्फ की चोटियों को रहला झरने आस-पास के विभिन्न स्थानों से देखे सकते हैं।

5.17 जगत्सुख – Jagatsukh In Hindi

जगत्सुख - Jagatsukh In Hindi
जगत्सुख एक बहुत ही खूबसूरत गांव है जो अपने प्राकृतिक दृश्यों और प्राचीन जगत्सुख मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है जो धार्मिक रूप से महत्वपूर्ण मंदिर हैं। यह मंदिर भगवान शिव और देवी संध्या देवी को समर्पित हैं। आमतौर पर आप जगात्सुख को एक दिन में घूम सकते हैं।

और पढ़े: जगतसुख घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल 

5.18 गौरी शंकर मंदिर – Gauri Shankar Temple In Hindi

गौरी शंकर मंदिर
गौरी शंकर मंदिर भगवान शिव को समर्पित है जो मनाली के नग्गर गाँव में स्थित है। यह मंदिर पत्थरों से उकेरी गई एक छोटी और आकर्षक संरचना है, लेकिन इस क्षेत्र में इसका ऐतिहासिक महत्व है। देवी गौरी और भगवान शिव के दिव्य स्वर को अभी भी मंदिर में देखा जा सकता है। इसम इस मंदिर की नक्काशीदार संरचना शोधकर्ताओं, वास्तुकला प्रेमियों और इतिहास प्रेमियों को आकर्षित करती है।

5.19 रोजी वाटरफॉल्स – Rozy Waterfalls In Hindi

रोजी वाटरफॉल्स
रोजी वाटरफॉल्स मनाली से रोहतांग मार्ग पर स्थित है और एक बहुत ही लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। लम्बे देवदार के पेड़ों, घने जंगल और प्रकृति की हरियाली में लिप्त रोजी वाटरफॉल्स एक प्रसिद्ध पिकनिक स्थल है।

5.20 वन विहार – Van Vihar In Hindi

वन विहार - Van Vihar In Hindi
बड़े- बड़े देवदार के पेड़ों से सजी और हरे रंग के कालीन से सुसज्जित, मनाली में वन विहार प्रकृति प्रेमियों और एविफ़ुना उत्साही लोगों के लिए लिए एक आश्रय स्थल है। वन विहार को वन विहार राष्ट्रीय उद्यान के रूप में भी जाना जाता है। वन विहार शहर के नगर निगम द्वारा संचालित और रखरखाव किया जाता है।

5.21 नेहरू कुंड – Nehru Kund In Hindi

नेहरू कुंड
नेहरु कुंड को अपना नाम भारत के पहले प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरु के नाम से लिया गया है। यह इस कुंड का पानी नेहरू के लिए दिल्‍ली तक ले जाया जाता था क्योंकि उन्हें इस कुंड का पानी बेहद पसंद था। जब जवाहरलाल नेहरु मनाली दौरे पर आये थे तो वो इस कुंड के पानी को पीकर मंत्रमुग्ध हो गए थे। नेहरु कुंड यहाँ पर चलने वाले ठंडे पानी और पहाड़ों और घाटियों के लुभावने दृश्यों के लिए जाना जाता है।

और पढ़े: नेहरू कुंड मनाली की जानकारी और पर्यटन स्थल

5.22 चंद्रताल बारलाचा ट्रेक – Chandratal Baralacha Trek In Hindi

चंद्रताल बारलाचा ट्रेक
चंद्रताल बारालाचा एक आदर्श ट्रेक डेस्टिनेशन है जो प्रकृति की सुंदरता और रोमांच और शांति से भरपूर है। चंद्रताल 4,300 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है जो हिमालय क्षेत्र में ऊंचाई वाली झीलों में से एक है।

और पढ़े: चंद्रताल झील घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल

5.23 सोलांग घाटी – Solang Vallly In Hindi

सोलांग घाटी
सोलांग घाटी मनाली में घूमने वालों के लिए एडवेंचर स्पोर्ट्स, पैराशूटिंग, पैराग्लाइडिंग और जोरबिंग(Zorbing), रोपवे और ट्रेकिंग के लिए प्रसिद्ध है। सोलांग घाटी मनाली बस स्टैंड से 14 किमी की दूरी पर स्थित है।

और पढ़े: सोलंग वैली घूमने के बारे में संपूर्ण जानकारी

6. कैसे पहुंचे वशिष्ठ मंदिर मनाली – How To Reach Vashisht Temple Manali In Hindi

वशिष्ठ मंदिर मनाली से 3 किमी दूर स्थित है जहां सार्वजनिक वाहन टैक्सी या कैब से कर सकते हैं। वशिष्ठ मंदिर का निकटतम रेलवे स्टेशन जोगिंद्रनगर रेलवे स्टेशन है जो मनाली से लगभग 165 किलोमीटर दूर है। वशिष्ठ मंदिर जाने के लिए किराये की टैक्सी या कैब या सार्वजनिक वाहन की मदद ले सकते हैं। वशिष्ठ मंदिर का निकटतम हवाई अड्डा भुंतर में कुल्लू मनाली हवाई अड्डा है, जो वशिष्ठ मंदिर से 55 किलोमीटर की दूरी स्थित है।

6.1 फ्लाइट से वशिष्ठ मंदिर कैसे जाये – How To Reach Vashisht Temple By Flight In Hindi

फ्लाइट से वशिष्ठ मंदिर कैसे जाये

वशिष्ठ मंदिर मनाली का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। अगर आप वशिष्ठ मंदिर के लिए यात्रा हवाई जहाज से करना चाहते हैं तो बता दे कि इसका निकटतम हवाई भुंतर में कुल्लू मनाली हवाई अड्डा है जो वशिष्ठ मंदिर से 55 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। वशिष्ठ मंदिर जाने के लिए आप हवाई अड्डे से टैक्सी ले सकते हैं या फिर राज्य परिवहन द्वारा चलने वाली बसों से यात्रा कर सकते हैं।

6.2 सड़क मार्ग से वशिष्ठ मंदिर कैसे पहुँचे – How To Reach Vashisht Temple By Road In Hindi

सड़क मार्ग से वशिष्ठ मंदिर कैसे पहुँचे

दिल्ली से मनाली के लिए बसें आसानी से उपलब्ध हैं। दिल्ली से मनाली 570 किमी की दूरी पर है। शिमला, धर्मशाला, लेह और चंडीगढ़ से भी मनाली के लिए बस सेवाएं उपलब्ध हैं। अगर आप बस से सफर नहीं करना चाहते तो आप मनाली की यात्रा के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं। हालांकि ये सुनिश्चित करें कि चालक को पहाड़ी क्षेत्रों में ड्राइव करने का अनुभव है। मनाली से वशिष्ठ मंदिर जाने के लिए पर्यटक टैक्सी या कैब की मदद ले सकते हैं।

6.3 वशिष्ठ मंदिर कैसे पहुँचे ट्रेन से – How To Reach Vashisht Temple By Train In Hindi

वशिष्ठ मंदिर कैसे पहुँचे ट्रेन से

मनाली के लिए ट्रेन: अगर आप ट्रेन से वशिष्ठ मंदिर या मनाली जाने की योजना बना रहे हैं तो बता दें कि मनाली का निकटतम रेलवे स्टेशन अंबाला कैंट या चंडीगढ़ है। ट्रेन की मदद से चंडीगढ़ या अंबाला पहुंचने के बाद आपको मनाली के लिए बस से यात्रा करनी होगी।

और पढ़े: बिजली महादेव मंदिर  के दर्शन की जानकारी और इसके पर्यटन स्थल 

7. वशिष्ठ मंदिर मनाली का नक्शा – Vashisht Temple Manali Map

8. वशिष्ठ मंदिर की फोटो गैलरी – Vashisht Temple Images

View this post on Instagram

The 4000 years old historic temple is in vashisht village. The origin point of mighty beas river. The Vashisht temple is dedicated to the great saga vashisht. Vashistha village is extremely significant when it comes to the heritage Indian Hindu culture as one of the saptrishis rishi Vashistha stayed there for sometime. There is a hot water spring known as Vashisht kund. According to legend the saddened Rishi Vashisht after knowing that his children were killed by Vishwamitra tried to commit suicide, but the river refused to kill him, the river was therefore named as Vipasha which means ‘ freedom from bondage.’ It was later shortened to Beas River. He began mediating and vowed to start his new life.  The creation of the spring is associated with the belief that since Lakshman, did not want the sage Vashisht to have to walk too far for a bath; he shot an arrow into the ground, and the hot springs emerged.Vashisht offers an excellent view of the Beas River and the Old Manali.  #manali #oldmanali #vashishttemple #explorepage #exploremanali #himachal_diaries #himachal #manalidiaries #historyofmanli

A post shared by eat_sleep_travel_repeat (@dope_traaveller) on

और पढ़े:

Write A Comment