Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Kargil War In Hindi, कारगिल वार भारत और पाकिस्तान के बीच लड़ी गई सबसे यादगार लडाइयों में से एक है जिसे आज भी कारगिल विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। आपको बता दें कि कारगिल युद्ध को ऑपरेशन विजय के नाम से भी जाना जाता है। कारगिल युद्ध भारत और पाकिस्तान के बीच साल 1999 में मई और जुलाई के महीनों के बीच कश्मीर के कारगिल नामक जिले में लड़ा गया था। जब कश्मीर के उग्रवादियों और पाकिस्तानी सेना ने भारत और पाकिस्तान के बीच की नियंत्रण रेखा पार करके हिंदुस्तान की जमीन पर कब्जा करना चाहा तो भारतीय सेना ने इसका मुंहतोड़ जवाब दिया। आपको बता दें कि कारगिल युद्ध में लगभग 30000 से भी ज्यादा भारतीय सैनिक और 5000 घुसपैठिए शामिल थे।

जब पाकिस्तानी सेना ने भारत के इलाके में कब्जा करने की कोशिश की तो इसके जवाब में भारतीय सेना और वायु सेना ने कब्जे वाली जगह पर हमला किया और दूसरे देशों की मदद से पाकिस्तान के घुसपैठियों को भागने पर मजबूर कर दिया। आपको बता दें कि युद्ध को इतनी ऊंचाई पर लड़ा गया था कि इसमें भारत और पाकिस्तान दोनों की सेना को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा था। इस लड़ाई को लेकर पाकिस्तान ने यह दावा किया था कि भारत पर कब्जा करने वाले लोग पाकिस्तानी नहीं बल्कि कश्मीरी उग्रवादी हैं। लेकिन लड़ाई के समय मिले दस्तावेजों से और कई पाकिस्तानी नेताओं की बयानबाजी से यह साबित हो गया कि पाकिस्तान कि सेना भी इस युद्ध में कश्मीरी उग्रवादियों के साथ शामिल थी।

1. कारगिल युद्ध की शुरुआत कैसे हुई थी – How Did The Kargil Yudh Start In Hindi

कारगिल युद्ध की शुरुआत कैसे हुई थी

बता दें कि कारगिल वॉर की शुरुआत पाकिस्तान की तरफ से हुई थी। कारगिल युद्ध की शुरुआत करते हुए पाकिस्तान के सैनिकों ने 3 मई 1999 कश्मीर के कारगिल जिले में ऊंची पहाड़ियों पर अपने 5000 सैनिकों के साथ घुसपैठ की और यहां पर कब्जा कर लिया। जब इस बात की जानकारी भारतीय सरकार को मिली तो हमारे जांबाज सिपाहियों ने पाकिस्तान सैनिकों को भगाने के लिए “ऑपरेशन विजय” चलाया।

2. कारगिल युद्ध का परिणाम क्या रहा – What Was The Result Of Kargil War In Hindi

कारगिल युद्ध का परिणाम क्या रहा

भारत ने 23 जुलाई 1999 को कारगिल युद्ध में जीत हासिल की थी। आज भी इस दिन को पूरे भारतवर्ष में कारगिल विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। आपको बता दें कि कारगिल का युद्ध लगभग 2 महीने तक चला था। जो भारतीय सैनिकों ने बड़ी साहस और वीरता के साथ लड़ा था। जिसकी वजह से आज भी हर भारतीय सैनिकों पर गर्व करता है। आपको बता दें कि यह लड़ाई करीब 18000 फीट की ऊंचाई में कारगिल में लड़ी गई थी, जिसमें भारत ने घुसपैठियों को बुरी तरह मार भगाया था।

और पढ़े: इस स्वतंत्रता दिवस देश के शहीदों को याद करने के लिए करें इन 15 प्रमुख जगहों की यात्रा!

3. कारगिल युद्ध में भारत को क्या नुक्सान हुआ – What Did India Lose In Kargil War In Hindi

कारगिल युद्ध में भारत को क्या नुक्सान हुआ

कारगिल युद्ध भारतीय योद्धाओं द्वारा बहुत ही वीरता के साथ लड़ा गया था। पाकिस्तान के खिलाफ इस युद्ध में भारत के लगभग 527 से भी ज्यादा सैनिक शहीद हो गए थे। वही 1300 से भी ज्यादा सैनिक बुरी तरह से जख्मी हो गए थे।

4. कारगिल वॉर का घटनाक्रम और रोचक बातें- Interesting Facts About Kargil War In Hindi

कारगिल वॉर का घटनाक्रम और रोचक बातें

  • 3 मई 1999 को एक चरवाहे द्वारा भारतीय सेना को पाकिस्तान सेना के घुसपैठ करके कब्जा करने की जानकारी मिली।
  • 5 मई को भारतीय सेना ने जब अपनी पेट्रोलिंग टीम को इसकी जानकारी लेने के लिए कारगिल भेजा तो पाकिस्तानी सैनिकों ने उन्हें बंदी बना लिया और उनमें से 5 लोगों की हत्या कर दी।
  • 9 मई को पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा गोलाबारी करने से कारगिल में मौजूद भारतीय सेना का गोला बारूद स्टोर नष्ट हो गया।
  • 10 मई को लद्दाख के प्रवेश द्वार के पास पाकिस्तानी घुसपैठियों को देखा गया।
  • इसके बाद 26 मई को भारतीय सेना को पाकिस्तानी घुसपैठियों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए आदेश दिया गया।
  • 27 मई को पाकिस्तानी घुसपैठियों के खिलाफ कार्यवाही करते हुए भारतीय सेना ने मिग-27 और मिग 29 का इस्तेमाल किया। इस दौरान पाकिस्तान ने भारत के फ्लाइट लेफ्टिनेंट नचिकेता को बंदी बना लिया।
  • 28 मई को भारत का मिग 27 हेलीकॉप्टर पाकिस्तान द्वारा नष्ट कर दिया गया और इसमें चार सैनिक मारे गए।
  • 1 जून को नेशनल हाईवे 1A पर पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा गोलीबारी की गई।
  • 5 जून को पाकिस्तानी रेंजर्स से मिले कागजातों को भारतीय सेना द्वारा अखबारों के लिए जारी कर दिया गया जिसमें पाकिस्तानी रेंजर्स के शामिल होने का जिक्र था।
  • 2 जून को भारतीय सेना ने पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई करने में अपनी पूरी ताकत लगा दी।
  • 9 जून को बाल्टिक क्षेत्र की दो अग्रिम चौकियों पर भारतीय सेना द्वारा फिर से कब्जा कर लिया गया।
  • 11 जून को आर्मी चीफ लेफ्टिनेंट जनरल अजीज खान और परवेज मुशर्रफ की बातचीत की रिकॉर्डिंग जारी की, जिसमें इस बात का जिक्र मिला कि इस घुसपैठ में पाकिस्तानी सेना भी शामिल है।
  • इसके बाद 13 जून को भारतीय सेना ने द्रास सेक्टर मैं भी कब्जा कर लिया।
  • 15 जून को अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने परवेज मुशर्रफ से फोन पर बात की और कहा कि वह अपने सैनिकों को कारगिल सेक्टर से जाने को कहें।
  • 29 जून को भारतीय सैनिकों द्वारा टाइगर हिल के पास की दो प्रमुख चौकियों पॉइंट 5100 और 5050 पर कब्जा कर लिया गया।
  • 2 जुलाई को भारतीय सेना द्वारा कारगिल पर तीन तरफ से हमला किया गया।
  • 4 जुलाई को भारतीय सेना ने टाइगर हिल्स पर फिर से अपना कब्जा कर लिया।
  • 5 जुलाई को भारतीय सेना ने द्रास सेक्टर में एक बार फिर कब्जा कर लिया और इसके तुरंत बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने बिल क्लिंटन से बातचीत में कहा कि वह अपनी सेना को कारगिल से हटाने को तैयार हैं।
  • 7 जुलाई को भारतीय सैनिकों द्वारा बटालिक में जुबर हिल पर कब्जा कर लिया गया।
  • 11 जुलाई को पाकिस्तानी रेंजर्स बटालिक से भागने लगे।
  • 14 जुलाई को भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई ने “ऑपरेशन विजय” के जीत का ऐलान कर दिया।
  • 26 जुलाई के दिन को प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई विजय दिवस के रूप में मनाए जाने की घोषणा की।

और पढ़े: लेह लद्दाख में घूमने लायक टॉप 15 पर्यटन स्थल की जानकारी 

5. कारगिल वॉर मेमोरियल की लोकेशन – Kargil War Memorial Map

6. कारगिल वॉर मेमोरियल की फोटो – Kargil War Memorial Images

और पढ़े:

Write A Comment