Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Colosseum In Hindi, कोलोसियम(Colosseum) इटली के रोम नगर में स्थित रोमन साम्राज्य का सबसे बड़ा एलिप्टिकल एंफीथियेटर है जिसको रोमन स्थापत्य और अभियांत्रिकी का एक उत्क्रष्ट नमूना माना जाता है। आपको बता दें कि यह दुनिया के 7 अजूबों में से एक है और यहां पर हर साल लगभग 4.2 मिलियन पर्यटक हर साल आते हैं। रोम के इस अजूबे के बारे में बता दें कि इसका निर्माण 70-72वीं ईस्वी के मध्य में शुरू हुआ था जिसको 80वीं ईस्वी में इसको सम्राट टाइटस द्वारा पूरा किया गया था। पूरा होने के बाद फिर 81वीं इस्वी में इसमें कुछ बदलवा करवाए गए थे। बता दें कि इसका नाम एम्फीथियेटरम् फ्लेवियम, टाइटस और वेस्पियन के पारिवारिक नाम फ्लेवियस के चलते रखा गया है। अगर आप कोलोसियम के बारे में और भी जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें इसमें हमने कोलोसियम के इतिहास और इसके 25 के रोचक तथ्यों के बारे में बताने जा रहे हैं।

  1. कोलोसियम इतिहास- Colosseum History In Hindi
  2. कोलोसियम के रोचक तथ्य- Facts About Colosseum In Hindi
  3. कोलोसियम की लोकेशन का मैप – Colosseum Location
  4. कोलोसियम की फोटो गैलरी – Colosseum Images

1. कोलोसियम इतिहास- History Of Colosseum In Hindi

कोलोसियम इतिहास- Colosseum History In Hindi

अंडाकार में बने हुए कोलोसियम में 50000 दर्शक समा सकते थे जो उस समय में किसी भी भवन के लिए बहुत बड़ी बात थी। आपको जानकर हैरानी होगी कि इस स्टेडियम में सिर्फ मनोरंजन के लिए योद्धाओं के खुनी लड़ाइयाँ होती थी। यहाँ पर योद्धाओं को जानवरों के साथ भी लड़ाई करनी पड़ती थी। इस जगह को लेकर अनुमान है कि यहाँ और करीब 10 लाख से भी ज्यादा मनुष्य और 5 लाख पशु मारे गए थे। इसके अलावा कई पौराणिक कथाओं से संबंधित नाटक भी यहां आयोजित किये जाते थे। यहां पर एक साल में 2 बार भव्य आयोजन किये जाते थे जिसको रोमन के लोग बेहद पसंद करते थे।

मध्यकाल की शुरुआत में इस इमारत में सार्वजानिक कामों के लिए बंद कर दिया गया था और बाद में इसको रहने, धार्मिक कामों, किले, और तीर्थ स्थल के रूप में प्रयोग किया जाता रहा है। वर्तमान में इस संरचना की बात करें तो यह भूकंप और पत्थर चोरी के की वजह से एक खंडहर बन चुकी है। लेकिन आज भी इस खंडहर को यहां आने वाले पर्यटकों के लिए अच्छी तरह से सजा कर रखा गया है। आज भी यह स्थान रोमन साम्राज्य के वैभव को बताता है। यह रोम में पर्यटकों द्वारा पसंद की जाने वाली जगहों में से एक है। इस ऐतिहासिक स्थल को यूनेस्को द्वारा विश्व विरासत स्थलों की सूचि में भी शामिल किया गया है। आज भी इस जगह पर हर गुड फ्राइडे को पोप यहाँ मशाल जलाकर जुलूस निकालते हैं।

और पढ़े: माचू पिच्चू की जानकरी रहस्य और इतिहास 

2. कोलोसियम के रोचक तथ्य- Facts About Colosseum In Hindi

कोलोसियम के रोचक तथ्य- Facts About Colosseum In Hindi

  • बता दें कि कोलोसियम को फ्लेवियन एम्फीथिएटर के नाम से भी जाना जाता है, जिसका निर्माण एक अंडाकार आकार में किया गया है।
  • साल 2007 में कोलोसियम को दुनिया के 7 अजूबों में से एक के रूप में चुना गया था।
  • कोलोसियम का निर्माण 72 ईस्वी और ईस्वी के बीच किया गया था, जो इटली शहर के केंद्र में स्थित है।
  • कोलोसियम की दीवार की उंचाई 157 फीट और परिधि 1788 फीट है।
  • इस आकर्षक संरचना को बनाने में पत्थरों और ईंटों के साथ 1.1 मिलियन टन कंक्रीट इस्तेमाल हुआ था।
  • आपको जानकर हैरानी होगी कि कोलोसियम में 80 से भी ज्यादा प्रवेश द्वार हैं और यह दुनिया के सबसे प्रसिद्ध रोमन पर्यटक आकर्षणों में से एक है।
  • रोम के कोलोसियम में लगभग 50000 लोगों के बैठने की जगह है।
  • कोलोसियम के निर्माण के समय लगभग 200 बैलगाड़ियों का उपयोग मार्बल्स के परिवहन में किया गया था।
  • कोलोसियम ने केवल रोमन गणराज्य में लोगों के मनोरंजन के लिए ग्लैडीएटर युगल की मेजबानी की थी।
  • इसके निर्माण के लिए करीब 100,000 क्यूबिक मीटर पत्थर का इस्तेमाल किया गया है।
  • कोलोसियम का निर्माण फ़्लेवियन राजवंश के सम्राट वेस्पासियन ने किया था।
  • यह इटली में सबसे ज्यादा देखे जाने वाले स्मारकों में से एक है। हर साल यहाँ 4 मिलियन से भी ज्यादा पर्यटक घूमने के लिए आते हैं।
  • सबसे ज्यादा हैरान कर देने वाली बात यह है कि यहां पर सिर्फ मनोरंजन के लिए खेलों में 5 लाख लोगों और 1 लाख जानवरों की जान गई है।
  • यहाँ पर आखिरी रिकॉर्ड किये गए खेल 6 वीं शताब्दी में आयोजित किये गए थे।
  • कोलोसियम की इमेज को पाँच-सेंट यूरो के सिक्कों में देख सकते हैं। हर गुड फ्राइडे पर यहाँ मशाल का जुलूस निकाला जाता है। कोलोसियम आज भी रोमन कैथोलिक चर्च के साथ घनिष्ठ संबंध रखता है।
  • 847 में आये एक बड़े भूकंप ने कोलोसियम के दक्षिणी भाग को नष्ट कर किया गया था।
  • 80 ईस्वी में टाइटस ने कोलोसियम की शुरुआत में 100 दिन का खेल आयोजित किया था। यह वनस्पति विज्ञानियों के लिए एक लोकप्रिय जगह है।
  • सेंट पीटर की बासीलीक के निर्माण के लिए कोलोसियम के कुछ टूटे हुए टुकड़ों का इस्तेमाल किया गया है।
  • कोलोसियम को बनाने के लिए 60,000 यहूदी दासों ने काम किया था, जो 6 एकड़ के क्षेत्र को कवर करता है।
  • कोलोसियम को रोम के लोगों के लिए एक उपहार के रूप में बनाया गया था।
  • इस विशाल एम्फीथिएटर 10 साल से भी कम समय लगा था।
  • यहां की सबसे बड़ी सीट बॉक्स में बैठने वाले सम्राट की थी, जो अखाड़े का सबसे अच्छा दृश्य प्रदान करता था।
  • 80 ईस्वी में टाइटस के शासनकाल के दौरान कोलोसियम के अंदर समुद्री युद्ध हुआ था।
  • कोलोसियम के टिकट प्राचीन रोमनों के लिए पूरी तरह से मुफ्त थे।
  • अगर आज के हिसाब से कोलोसियम की लागत का हिसाब लगाया जाए तो यह 39 मिलियन यूरो से अधिक होगी।

और पढ़े: दुनिया के सात अजूबों के बारे में जानकारी

3. कोलोसियम की लोकेशन का मैप – Colosseum Location

4. कोलोसियम की फोटो गैलरी – Colosseum Images

और पढ़े:

Write A Comment