Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Triloknath Temple In Hindi, त्रिलोकीनाथ मंदिर को श्री त्रिलोकीनाथजी मंदिर भी कहा जाता है, जो भारत के हिमाचल प्रदेश राज्य के लाहौल और स्पीति जिले के त्रिलोकीनाथ गाँव में स्थित है। यहाँ स्थित उदयपुर गाँव से लगभग 9 किमी दूर स्थित है। यह मंदिर दुनिया में एक मात्र ऐसा मंदिर है यहाँ पर हिंदू और बौद्ध दोनों पूजा करते हैं। हिन्दुओं द्वारा इस मंदिर में ‘भगवान शिव’ की पूजा की जाती है और बौद्ध इसे आर्य अवलोकितेश्वर के रूप में देखते हैं। हालांकि, यह माना जाता है कि त्रिलोकीनाथ मंदिर मूल रूप से एक बौद्ध मठ था। त्रिलोकीनाथदिर, 2760 मीटर की ऊंचाई पर त्रिलोकीनाथ गांव में सड़क के अंत में सफ़ेद रंग का सुंदर त्रिलोकीनाथ मंदिर देखा जा सकता है।

आपको बता दें कि इस मंदिर को कैलाश और मानसरोवर के बाद सबसे पवित्र तीर्थ माना जाता है। मंदिर अपने हवा में लहराते हुए रंगीन तिब्बती प्रार्थना झंडे, आसपास के बर्फ से ढके पहाड़ की चोटियों और देवदार के पेड़ों के साथ पर्यटकों और तीर्थ यात्रियों को आँखों को शांति प्रदान करता है। यह मंदिर शांति पसंद करने वाले लोगों और धार्मिक लोगों के लिए एक बहुत ही खास स्थल है।

1. त्रिलोकीनाथ मंदिर का इतिहास और महत्व – Triloknath Temple History & Significance In Hindi

त्रिलोकीनाथ मंदिर का इतिहास और महत्व

आपको बता दें कि 2002 में परिसर में पाए गए पत्थर के शिलालेख के अनुसार त्रिलोकीनाथ मंदिर मूल रूप से 10 वीं शताब्दी में बनाया गया था। हालांकि, आज मूल संरचना का कोई अवशेष नहीं है, जिसमें छह सिर वाले अवलोकितेश्वर की संगमरमर की मूर्ति शामिल है। इसे दशकों पहले चुरा लिए गया था और जिसे अब ग्रे पत्थर से बनी मूर्ति से बदल दिया गया था। वर्तमान में इस मंदिर में सफेद संगमरमर के छह-सशस्त्र अवलोकितेश्वरा हैं जिसकें 12 वीं शताब्दी में बने होने का दावा किया जाता है। इस मंदिर के बारे में यह कहा जाता है कि यह पहले एक बौद्ध विहार या मठ था और 8 वीं शताब्दी में पद्मसंभव द्वारा इसको एक पूजा स्थल के रूप में बदल दिया गया था। बताया जाता है कि मंदिर की मूल प्रतिमा की उत्पत्ति उस समय की है जितनी कि चंद्रा और भागा नदियों के संगम के पास पाए गए अवलोकितेश्वर के सिर की है।

2. हिमाचल प्रदेश के त्रिलोकीनाथ मंदिर में पोरी मेला – Pori Mela At Triloknath Temple In Hindi

हिमाचल प्रदेश के त्रिलोकीनाथ मंदिर में पोरी मेला

पोरी मेला त्रिलोकीनाथ मंदिर और गाँव में प्रतिवर्ष मनाया जाने वाला तीन दिनों का भव्य त्यौहार है, जिसमें हिंदू और बौद्ध दोनों बड़े उत्साह के साथ शामिल होते हैं। इस पवित्र उत्सव के दौरान सुबह-सुबह, भगवान को दही और दूध से नहलाया जाता है और लोग बड़ी संख्या में मंदिर के आसपास इकट्ठा होते हैं और ढोल नगाड़े बजाए जाते हैं। इस त्यौहार में मंदिर के अन्य अनुष्ठानों का पालन किया जाए।

स्थानीय मान्यता के अनुसार भगवान शिव इस दिन घोड़े पर बैठकर गाँव आते हैं। इसी वजह से इस उत्सव के दौरान एक घोड़े को मंदिर के चारों ओर ले जाया जाता है एक भव्य मेला भी आयोजित किया जाता है जो यहाँ आसपास के शहरों के व्यापारियों को एक साथ लाता है। इस मेले में आपको हस्तशिल्प, स्थानीय भोजन और अन्य उत्पादों का एक समृद्ध संग्रह मिलेगा। अगर आप इस उत्सव में शामिल होना चाहते हैं तो अगस्त के महीने में त्रिलोकीनाथ के दर्शन करने के लिए जरुर जाएं।

और पढ़े: सुंदर नगर की जानकारी और पर्यटन स्थल

3. त्रिलोकीनाथ मंदिर के खुलने का समय – Triloknath Temple Timings In Hindi

प्रातः 6:00 बजे – 8:00 बजे

4. त्रिलोकीनाथ मंदिर प्रवेश शुल्क – Triloknath Temple Entry Fee In Hindi

त्रिलोकीनाथ मंदिर में प्रवेश नि-शुल्क है।

5. त्रिलोकनाथ मंदिर के आस पास के प्रमुख पर्यटन और आकर्षक स्थल – Tourist Attractions Near Triloknath Temple Himachal Pradesh In Hindi

अगर आप त्रिलोकनाथ मंदिर के अलावा इसके आसपास के पर्यटन स्थलों की सैर करना चाहते हैं तो नीचे दी गई जानकारी को जरुर पढ़ें, यहाँ हम आपको त्रिलोकनाथ मंदिर के पास के प्रमुख पर्यटन स्थलों के बारे में बताने जा रहे हैं।

5.1 प्रशार झील ट्रेक – Prashar Lake Trek In Hindi

प्रहार झील ट्रेक

प्रशार झील ट्रेक हिमाचल प्रदेश के सबसे ऑफबीट जगहों में से एक है जो मंडी से लगभग 50 किमी दूर स्थित एक क्रिस्टल क्लियर वाटर बॉडी है। जहाँ पर एक तीन मंजिला शिवालय है, जो ऋषि प्रशार को समर्पित है। यह झील अपने गहरे नीले पानी के साथ समुद्र तल से 2730 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। कुल्लू घाटी में शक्तिशाली धौलाधार पर्वतमाला से घिरा यह क्षेत्र रहस्यमय आकर्षण से भरा हुआ है और यहाँ से नीचे बहती हुई ब्यास नहीं का आकर्षण दृश्य दिखाई देता है। यहाँ की बर्फ से घिरी चोंटियां, हरी-भरी घाटियाँ, नदियाँ और झीलें इसे एक बेहतरीन ट्रेकिंग अनुभव प्रदान करती हैं। त्रिलोकनाथ मंदिर से प्रशार झील की दूरी 56 किलोमीटर हैं।

5.2 भूतनाथ मंदिर – Bhutnath Temple In Hindi

मंदिर भूतनाथ मंदिर

भूतनाथ मंदिर मंडी में स्थित एक प्रमुख धार्मिक स्थल है जिसकी आध्यात्मिकता 1520 के दशक की है। यह मंदिर उतना ही पुराना है जितना पुराना यह शहर है। भूतनाथ मंदिर मंडी शहर के केंद्र में स्थित है और यह भगवान् शिव को समर्पित है। यहाँ आने वाले पर्यटक और तीर्थ यात्री भगवान शिव के बैल नंदी को देखेंगे जो परिसर के बाहर स्थित है। मार्च के महीने में यहाँ पर शिव रात्रि का त्यौहार बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है। यह इस कस्बे और मंदिर का प्रमुख त्यौहार है। त्रिलोकनाथ मंदिर से भूतनाथ मंदिर की दूरी 1 किलोमीटर है।

5.3 रिवालसर झील – Rewalsar Lake In Hindi

रिवालसर झील

रिवालसर झील मंडी की प्रमुख झील है जिसको त्सो पेमा लोटस झील के नाम से भी जाना जाता है। यह झील मंडी जिले के दक्षिण में लगभग 23 किलोमीटर की दूरी पर मंडी जिले में एक पहाड़ी स्पर पर माध्यम उंचाई पर स्थित है। यह झील चौकोर आकर की है और समुद्र तल से 1,360 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। बता दें कि यह पहाड़ी विभिन्न प्रकार की घनी वनस्पतियों और पौधों द्वारा संरक्षित है। यह स्थान पर्यटकों द्वारा इसकी शांत वातावरण और प्राकृतिक सुंदरता की वजह से पसंद किया जाता है। रिवालसर झील हिमाचल प्रदेश की सबसे प्रसिद्ध झीलों में से एक है जहाँ पर्यटकों को एक बार जरुर जाना चाहिए। त्रिलोकनाथ मंदिर से रिवालसर झील की दूरी 24 किलोमीटर है।

और पढ़े: रिवालसर झील की जानकरी और पर्यटन स्थल

5.4 बड़ौत – Barot In Hindi

बड़ौत

हिमाचल प्रदेश में मंडी जिले की शांत घाटियों में स्थित बड़ौत एक खूबसूरत गाँव है। यह एक नया पाया गया पर्यटन स्थल है और मंडी से लगभग 67 किलोमीटर दूर स्थित है। अगर आप एक या दो दिन घूमने की कोई जगह तलाश रहे हैं तो यह जगह आपके लिए बहुत अच्छी है। यहाँ के मनोरम दृश्य और अनपेक्षित हवा दुनिया भर के यात्रियों को यहाँ दर्शनीय स्थलों की यात्रा के लिए आकर्षित करती है। यह जगह ट्रेकर्स के लिए स्वर्ग के सामान है। क्योंकि यह स्थान अपने कई ट्रेकिंग ट्रेल्स के लिए गाँव से होकर गुजरता है और इसलिए यह एक पसंदीदा ट्रेकिंग स्थल भी है। त्रिलोकनाथ मंदिर से बड़ौत की दूरी 261 किलोमीटर है।

और पढ़े: बड़ौत घाटी की जानकारी और पर्यटन स्थल

5.5 कामरू नाग झील – Kamrunag Lake In Hindi

कामरू नाग झील

कामरू नाग झील मंडी-करसोग मार्ग पर 3334 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है पर्यटकों और ट्रेकिंग के लिए एक खास जगह है। बर्फ से ढके धौलाधार और बाहु घाटी से घिरी झील बेहद आकर्षक नज़र आती है। कामरू नाग झील मंदिर हरे भरे जंगल के घने आवरण से घिरा हुआ है। झील के निकट एक कामरू नाग मंदिर हरे भरे जंगल के घने आवरण से घिरा हुआ है। त्रिलोकनाथ मंदिर से कामरू नाग झील 57 किलोमीटर है।

5.6 शिकारी देवी मंदिर – Shikari Devi Temple In Hindi

शिकारी देवी मंदिर

शिकारी देवी मंदिर मंडी से 15 किमी दूर स्थित, समुद्र तल से 3332 मीटर की ऊंचाई पर स्थित एक प्रसिद्ध स्थल है जो ट्रैकिंग के लिए काफी रोमांचक है। अगर आप आप सूर्योदय या सूर्यास्त के देखना पसंद करते हैं तो यह जगह आपके लिए बहुत खास साबित हो सकती है। त्रिलोकनाथ मंदिर से शिकारी देवी मंदिर जाने के लिए आपको 90 किलोमीटर की दूरी तय करनी होगी।

5.7 चिंदी – Chindi In Hindi

चिंदी

चिंदी शहर की भीड़ भाड़ से दूर छोटा सा गाँव है जो प्रकृति की गोद में चुपचाप बैठा है। यहाँ गाँव में प्राकृतिक सुंदरता और यहाँ स्थित कई छोटे मंदिरों के लिए जाना जाता है। मंडी से 107 किलोमीटर दूर स्थित, यह स्थान तत्तापानी के माध्यम से आसानी से पहुँचा जा सकता है। त्रिलोकनाथ मंदिर से चिंदी 164 किलोमीटर दूर है।

और पढ़े: किब्बर गाँव घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल

5.8 जंझली – Janjehli In Hindi

जंझली

जंझली ट्रेकिंग जैसी गतिविधियों के लिए एक आदर्श जगह है। 3300 मीटर तक की पगडंडी के साथ यह स्थान मंडी से लगभग 67 किमी दूर है। जंझली जाने के लिए आप गोहर तक वाहन से 32 किलोमीटर की यात्रा कर सकते हैं, और इसके बाद पैदल यात्रा कर सकते हैं। त्रिलोकनाथ मंदिर से जंझली 98 किलोमीटर दूर है।

5.9 कमलाह फोर्ट – Kamlah Fort In Hindi

कमलाह फोर्ट

कमलाह फोर्ट मंडी शहर से लगभग 80 किमी दूर स्थित सिकंदर धार पर्वतमाला पर खड़ा हुआ है। इस किले का निर्माण 1625 में राजा सूरज सेन द्वारा किया गया था जो 4772 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। किले के प्रवेश द्वार के आसपास के हरे-भरे परिदृश्य देखने लायक है। त्रिलोकनाथ मंदिर से कमलाह फोर्ट जाने के लिए 82 किलोमीटर की दूरी तय करनी होगी।

और पढ़े: टारना मंदिर की जानकारी और पर्यटन स्थल 

5.10 भीमा काली मंदिर – Bhima Kali Temple In Hindi

भीमा काली मंदिर

भीमा काली मंदिर देवी भीमा काली को समर्पित मंडी शहर के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। ब्यास नदी के तट पर स्थित, यह मंदिर एक संग्रहालय में विभिन्न देवी-देवताओं की मूर्तियों को भी प्रदर्शित करता है। बता दें कि यह वही स्थल है जहाँ पर भगवान् कृष्ण ने बाणासुर नाम के राक्षस से युद्ध किया था।

5.11 तत्तापानी – Tattapani In Hindi

तत्तापानी

तत्तापानी हिमाचल प्रदेश में एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। बता दें कि यह एक विचित्र क्षेत्र है, जो किसी वंडरलैंड से कम नहीं है। तत्तापानी पर्यटन शिमला शहर से करीब 60 किलोमीटर की दूरी पर एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है जो कई आकर्षणों को को संग्रहीत करता है। पहाड़ों के बीच बसे इस खूबसूरत पर्यटन स्थल को आप कभी मिस नहीं करना चाहेंगे। तत्तापानी में मंदिर, गुफाएं, घास के मैदान, गर्म पानी के झरने जैसे आकर्षण के अलावा ट्रेकिंग, रिवर राफ्टिंग और रॉक क्लाइम्बिंग जैसे एडवेंचर खेल भी शामिल हैं। सतलुज नदी और हरी भरी घाटी के साथ शांत वातावरण में पैदल चलता आपके थके हुए दिमाग को शांति प्रदान करता है। त्रिलोकनाथ मंदिर से तत्तापानी 128 किलोमीटर दूर है।

और पढ़े:  भारत में रिवर राफ्टिंग करने की 10 खास जगह

6. त्रिलोकनाथ मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Triloknath Temple In Hindi

रोहतांग दर्रा लाहौल और स्पीति घाटी का प्रवेश द्वार है। लेकिन यह पर्यटकों के लिए केवल अप्रैल से नवंबर तक खुला रहता है। त्रिलोकीनाथ मंदिर मंडी से 18 किलोमीटर, कीलोंग से 45 किमी और मनाली से 146 किमी दूर स्थित है। हिमाचल प्रदेश सड़क परिवहन निगम (HRTC) की बसें इन आस-पास के शहरों से त्रिलोकीनाथ तक संचालित है। अगर आप बस से सफर नहीं करना चाहते तो आप मंडी, मनाली, कुल्लू या उदयपुर से टैक्सी किराए पर लेकर भी पहुँच सकते हैं।

6.1 फ्लाइट से त्रिलोकनाथ मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Triloknath Temple By Flight In Hindi

फ्लाइट से त्रिलोकनाथ मंदिर कैसे पहुंचे

मंडी का निकटतम हवाई अड्डा भुंतर (60 किमी) में स्थित है। भुंतर हवाई अड्डे से आप मंडी के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं और अपने पर्यटन स्थल पर पहुँच सकते हैं।

6.2 सड़क मार्ग से त्रिलोकनाथ मंदिर तक कैसे पहुंचे – How To Reach Triloknath Temple By Road In Hindi

सड़क मार्ग से त्रिलोकनाथ मंदिर तक कैसे पहुंचे

एचआरटीसी की बस सेवा दिल्ली, पंजाब और हरियाणा जैसे पड़ोसी शहरों और राज्यों से आसानी से उपलब्ध है। दिल्ली शहर से मंडी लगभग 400 किमी दूर है।

6.3 ट्रेन से त्रिलोकनाथ मंदिर तक कैसे पहुंचे – How To Reach Triloknath Temple By Train In Hindi

ट्रेन से त्रिलोकनाथ मंदिर तक कैसे पहुंचे

मंडी के लिए शहर का निकटतम ब्रॉड गेज रेलहेड पठानकोट (210 किमी) है जो गेज जोगिंदर नगर रेलहेड से जुड़ा हुआ है और मंडी से 55 किमी दूर है। बस या कैब से आप रेलवे स्टेशन से अपने पर्यटन स्थल तक पहुँच सकते हैं।

और पढ़े: मंडी घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल 

7. त्रिलोकनाथ मंदिर का नक्शा – Triloknath Temple Map

8. त्रिलोकनाथ मंदिर की फोटो गैलरी – Triloknath Temple Images

और पढ़े:

Write A Comment