टारना मंदिर की जानकारी और पर्यटन स्थल – Tarna Devi Temple Mandi Information In Hindi

Tarna Devi Temple In Hindi, टारना मंदिर हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में स्थित एक दिव्य तीर्थ स्थल है जो देवी पार्वती के रूप श्यामा काली को समर्पित है। यह मंदिर घने जंगल के बीच समुद्र तल से 300 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। बर्फ से ढके पहाड़ों का शानदार दृश्य पर्यटकों और तीर्थ यात्रियों को अपनी तरफ आकर्षित करता है। टारना देवी मंदिर को श्यामा देवी मंदिर के नाम से भी जाना जाता है और इसका निर्माण 17 वीं शताब्दी में हुआ था। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि जो भी भक्त पूरे दिल से इस मंदिर में जो भी मनोकामना मांगता है वो पूरी हो जाती है। श्यामा काली देवी के अलावा इस मंदिर में अन्य देवताओं, देवी और गुरुओं के कई सुंदर चित्र भी हैं।

मंदिर के अंदर देवी काली और महिषासुरमर्दिनी की 3 मुखी प्रतिमा है। दुनिया भर के लोग दूर-दूर से श्यामा काली का के दर्शन करने के लिए आते हैं। इस मंदिर का जाने के लिए पर्यटकों को 305 सीढ़ियां चढ़नी होंगी, क्योंकि यह मंदिर एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित, मंदिर एक शानदार प्राकृतिक दृश्य प्रदान करता है। अगर आप टारना देवी मंदिर के बारे अन्य जानकारी चाहते हैं तो इस लेख को जरुर पढ़ें, इसमें हम आपको टारना मंदिर के पास के पर्यटन स्थल के बारे में बताने जा रहे हैं।

1. टारना देवी मंदिर मंडी के मशहूर रेस्तरां और स्थानीय भोजन – Restaurants And Local Food In Tarna Devi Temple Mandi In Hindi

टारना देवी मंदिर मंडी के मशहूर रेस्तरां और स्थानीय भोजन

टारना देवी मंदिर हिमाचल प्रदेश के मंडी शहर के पास स्थित है जो राज्य का एक छोटा शहर होने के साथ ही एक वाणिज्यिक केंद्र भी है यहाँ पर खाने के लिए कई कई रेस्तरां, ढाबे उपलब्ध हैं जिनमें आप कई तरह के व्यजनों का स्वाद ले सकते हैं। इसके साथ ही यहाँ रेस्टोरेंट्स में बहु-व्यंजनों वाली थालियाँ भी उपलब्ध हैं।

और पढ़े: स्पीति घाटी घूमने की जानकारी और आकर्षक स्थल

2. टारना देवी मंदिर घूमने जाने का सबसे अच्छा समय क्या है – What Is The Best Time To Visit Tarna Devi Temple Mandi In Hindi

टारना देवी मंदिर घूमने जाने का सबसे अच्छा समय क्या है
Image Credit: Rajnish Kumar

मंडी उत्तर भारत का एक ऐसा शहर है जहाँ पर गर्मियों के में गर्मी और सर्दियों में काफी ठंड होती है। सदियों में यहाँ पर गर्म पकड़ें पहनने की सलाह दी जाती है। अगर आप मंडी की यात्रा करना चाहते हैं तो बता यहाँ जाने का सबसे अच्छा समय अप्रैल से अक्टूबर का होता है। क्योंकि यह समय हॉलिडे मेकर्स के लिए एकदम आदर्श समय है।

3. टारना देवी मंदिर के आस पास घूमने लायक जगह और प्रमुख पर्यटन स्थल – Best Tourist Attractions Near Tarna Devi Temple In Hindi

अगर आप टारना देवी मंदिर के अलावा इसके आसपास के पर्यटन स्थलों की सैर करना चाहते हैं तो नीचे दी गई जानकारी को जरुर पढ़ें, यहाँ हम आपको टारना देवी मंदिर के पास के प्रमुख पर्यटन स्थलों के बारे में बताने जा रहे हैं।

3.1 प्रशार झील ट्रेक – Prashar Lake Trek In Hindi

प्रहार झील ट्रेक

प्रशार झील ट्रेक हिमाचल प्रदेश के सबसे ऑफबीट जगहों में से एक है जो मंडी से लगभग 50 किमी दूर स्थित एक क्रिस्टल क्लियर वाटर बॉडी है। जहाँ पर एक तीन मंजिला शिवालय है, जो ऋषि प्रशार को समर्पित है। यह झील अपने गहरे नीले पानी के साथ समुद्र तल से 2730 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। कुल्लू घाटी में शक्तिशाली धौलाधार पर्वतमाला से घिरा यह क्षेत्र रहस्यमय आकर्षण से भरा हुआ है और यहाँ से नीचे बहती हुई ब्यास नहीं का आकर्षण दृश्य दिखाई देता है। यहाँ की बर्फ से घिरी चोंटियां, हरी-भरी घाटियाँ, नदियाँ और झीलें इसे एक बेहतरीन ट्रेकिंग अनुभव प्रदान करती हैं। टारना देवी मंदिर से प्रशार झील की दूरी 56 किलोमीटर हैं।

3.2 भूतनाथ मंदिर – Bhutnath Temple In Hindi

मंदिर भूतनाथ मंदिर

भूतनाथ मंदिर मंडी में स्थित एक प्रमुख धार्मिक स्थल है जिसकी आध्यात्मिकता 1520 के दशक की है। यह मंदिर उतना ही पुराना है जितना पुराना यह शहर है। भूतनाथ मंदिर मंडी शहर के केंद्र में स्थित है और यह भगवान् शिव को समर्पित है। यहाँ आने वाले पर्यटक और तीर्थ यात्री भगवान शिव के बैल नंदी को देखेंगे जो परिसर के बाहर स्थित है। मार्च के महीने में यहाँ पर शिव रात्रि का त्यौहार बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है। यह इस कस्बे और मंदिर का प्रमुख त्यौहार है। टारना देवी मंदिर से भूतनाथ मंदिर की दूरी 1 किलोमीटर है।

3.3 रिवालसर झील – Rewalsar Lake In Hindi

रिवालसर झील

रिवालसर झील मंडी की प्रमुख झील है जिसको त्सो पेमा लोटस झील के नाम से भी जाना जाता है। यह झील मंडी जिले के दक्षिण में लगभग 23 किलोमीटर की दूरी पर मंडी जिले में एक पहाड़ी स्पर पर माध्यम उंचाई पर स्थित है। यह झील चौकोर आकर की है और समुद्र तल से 1,360 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। बता दें कि यह पहाड़ी विभिन्न प्रकार की घनी वनस्पतियों और पौधों द्वारा संरक्षित है। यह स्थान पर्यटकों द्वारा इसकी शांत वातावरण और प्राकृतिक सुंदरता की वजह से पसंद किया जाता है। रिवालसर झील हिमाचल प्रदेश की सबसे प्रसिद्ध झीलों में से एक है जहाँ पर्यटकों को एक बार जरुर जाना चाहिए। टारना देवी मंदिर से रिवालसर झील की दूरी 24 किलोमीटर है।

और पढ़े: रिवालसर झील की जानकरी और पर्यटन स्थल

3.4 बड़ौत – Barot In Hindi

बड़ौत

हिमाचल प्रदेश में मंडी जिले की शांत घाटियों में स्थित बड़ौत एक खूबसूरत गाँव है। यह एक नया पाया गया पर्यटन स्थल है और मंडी से लगभग 67 किलोमीटर दूर स्थित है। अगर आप एक या दो दिन घूमने की कोई जगह तलाश रहे हैं तो यह जगह आपके लिए बहुत अच्छी है। यहाँ के मनोरम दृश्य और अनपेक्षित हवा दुनिया भर के यात्रियों को यहाँ दर्शनीय स्थलों की यात्रा के लिए आकर्षित करती है। यह जगह ट्रेकर्स के लिए स्वर्ग के सामान है। क्योंकि यह स्थान अपने कई ट्रेकिंग ट्रेल्स के लिए गाँव से होकर गुजरता है और इसलिए यह एक पसंदीदा ट्रेकिंग स्थल भी है। टारना देवी मंदिर से बड़ौत की दूरी 261 किलोमीटर है।

और पढ़े: बड़ौत घाटी की जानकारी और पर्यटन स्थल

3.5 कामरू नाग झील – Kamrunag Lake In Hindi

कामरू नाग झील

कामरू नाग झील मंडी-करसोग मार्ग पर 3334 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है पर्यटकों और ट्रेकिंग के लिए एक खास जगह है। बर्फ से ढके धौलाधार और बाहु घाटी से घिरी झील बेहद आकर्षक नज़र आती है। कामरू नाग झील मंदिर हरे भरे जंगल के घने आवरण से घिरा हुआ है। झील के निकट एक कामरू नाग मंदिर हरे भरे जंगल के घने आवरण से घिरा हुआ है। टारना देवी मंदिर से कामरू नाग झील 57 किलोमीटर है।

3.6 शिकारी देवी मंदिर – Shikari Devi Temple In Hindi

शिकारी देवी मंदिर

शिकारी देवी मंदिर मंडी से 15 किमी दूर स्थित, समुद्र तल से 3332 मीटर की ऊंचाई पर स्थित एक प्रसिद्ध स्थल है जो ट्रैकिंग के लिए काफी रोमांचक है। अगर आप आप सूर्योदय या सूर्यास्त के देखना पसंद करते हैं तो यह जगह आपके लिए बहुत खास साबित हो सकती है। टारना देवी मंदिर से शिकारी देवी मंदिर जाने के लिए आपको 90 किलोमीटर की दूरी तय करनी होगी।

3.7 चिंदी – Chindi In Hindi

चिंदी

चिंदी शहर की भीड़ भाड़ से दूर छोटा सा गाँव है जो प्रकृति की गोद में चुपचाप बैठा है। यहाँ गाँव में प्राकृतिक सुंदरता और यहाँ स्थित कई छोटे मंदिरों के लिए जाना जाता है। मंडी से 107 किलोमीटर दूर स्थित, यह स्थान तत्तापानी के माध्यम से आसानी से पहुँचा जा सकता है। टारना देवी मंदिर से चिंदी 164 किलोमीटर दूर है।

3.8 जंझली – Janjehli In Hindi

जंझली

जंझली ट्रेकिंग जैसी गतिविधियों के लिए एक आदर्श जगह है। 3300 मीटर तक की पगडंडी के साथ यह स्थान मंडी से लगभग 67 किमी दूर है। जंझली जाने के लिए आप गोहर तक वाहन से 32 किलोमीटर की यात्रा कर सकते हैं, और इसके बाद पैदल यात्रा कर सकते हैं। टारना देवी मंदिर से जंझली 98 किलोमीटर दूर है।

और पढ़े: जगतसुख घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल 

3.9 कमलाह फोर्ट – Kamlah Fort In Hindi

कमलाह फोर्ट

कमलाह फोर्ट मंडी शहर से लगभग 80 किमी दूर स्थित सिकंदर धार पर्वतमाला पर खड़ा हुआ है। इस किले का निर्माण 1625 में राजा सूरज सेन द्वारा किया गया था जो 4772 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। किले के प्रवेश द्वार के आसपास के हरे-भरे परिदृश्य देखने लायक है। टारना देवी मंदिर से कमलाह फोर्ट जाने के लिए 82 किलोमीटर की दूरी तय करनी होगी।

3.10 भीमा काली मंदिर – Bhima Kali Temple In Hindi

भीमा काली मंदिर

भीमा काली मंदिर देवी भीमा काली को समर्पित मंडी शहर के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। ब्यास नदी के तट पर स्थित, यह मंदिर एक संग्रहालय में विभिन्न देवी-देवताओं की मूर्तियों को भी प्रदर्शित करता है। बता दें कि यह वही स्थल है जहाँ पर भगवान् कृष्ण ने बाणासुर नाम के राक्षस से युद्ध किया था।

3.11 तत्तापानी – Tattapani In Hindi

तत्तापानी

तत्तापानी हिमाचल प्रदेश में एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। बता दें कि यह एक विचित्र क्षेत्र है, जो किसी वंडरलैंड से कम नहीं है। तत्तापानी पर्यटन शिमला शहर से करीब 60 किलोमीटर की दूरी पर एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है जो कई आकर्षणों को को संग्रहीत करता है। पहाड़ों के बीच बसे इस खूबसूरत पर्यटन स्थल को आप कभी मिस नहीं करना चाहेंगे। तत्तापानी में मंदिर, गुफाएं, घास के मैदान, गर्म पानी के झरने जैसे आकर्षण के अलावा ट्रेकिंग, रिवर राफ्टिंग और रॉक क्लाइम्बिंग जैसे एडवेंचर खेल भी शामिल हैं। सतलुज नदी और हरी भरी घाटी के साथ शांत वातावरण में पैदल चलता आपके थके हुए दिमाग को शांति प्रदान करता है। टारना देवी मंदिर से तत्तापानी 128 किलोमीटर दूर है।

और पढ़े: किब्बर गाँव घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल

4. टारना देवी मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Tarna Devi Temple In Hindi

टारना देवी मंदिर मंडी शहर से 17 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है जहाँ पर्यटको द्वारा आसानी से पहुंचा जा सकता है। यह मंदिर ब्यास और सुकेती के संगम पर स्थित है। आप कैब किराए पर लेकर इस अद्भुत जगह की यात्रा कर सकते हैं या फिर स्थानीय परिवहन द्वारा यात्रा कर सकते हैं। बता दें कि कैब से यात्रा करना सबसे अच्छा विकल्प है। अपने पर्यटन स्थल पहुँचने के बाद इसके अलावा मंडी शहर के अन्य पर्यटन स्थलों की सैर कर सकते हैं।

4.1 फ्लाइट से टारना देवी मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Tarna Devi Temple By Flight In Hindi

फ्लाइट से टारना देवी मंदिर कैसे पहुंचे

मंडी का निकटतम हवाई अड्डा भुंतर (60 किमी) में स्थित है। भुंतर हवाई अड्डे से आप मंडी के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं और अपने पर्यटन स्थल पर पहुँच सकते हैं।

4.2 सड़क मार्ग से टारना देवी मंदिर तक कैसे पहुंचे – How To Reach Tarna Devi Temple By Road In Hindi

सड़क मार्ग से टारना देवी मंदिर तक कैसे पहुंचे

एचआरटीसी की बस सेवा दिल्ली, पंजाब और हरियाणा जैसे पड़ोसी शहरों और राज्यों से आसानी से उपलब्ध है। दिल्ली शहर से मंडी लगभग 400 किमी दूर है।

4.3 ट्रेन से टारना देवी मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Tarna Devi Temple By Train In Hindi

ट्रेन से टारना देवी मंदिर कैसे पहुंचे

मंडी के लिए शहर का निकटतम ब्रॉड गेज रेलहेड पठानकोट (210 किमी) है जो गेज जोगिंदर नगर रेलहेड से जुड़ा हुआ है और मंडी से 55 किमी दूर है। बस या कैब से आप रेलवे स्टेशन से अपने पर्यटन स्थल तक पहुँच सकते हैं।

और पढ़े: मंडी घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल

इस आर्टिकल में आपने मंडी के प्रसिद्ध टारना देवी मंदिर की यात्रा से जुडी की जानकारी को जाना है, आपको हमारा ये आर्टिकल केसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

5. टारना देवी मंदिर का नक्शा – Tarna Devi Temple Map

6. टारना देवी मंदिर की फोटो गैलरी – Tarna Devi Temple Images

View this post on Instagram

#canon

A post shared by Sameer (@sameer_kaundal) on

और पढ़े :

Leave a Comment