Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Tag

Facts in hindi

Browsing

दिल्ली से लगभग 150 किलोमीटर दूर उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित मथुरा को भगवान कृष्ण के जन्मस्थान के रूप में जाना जाता है। मथुरा युमना नदी के किनारे बसा भारत का एक प्रमुख प्राचीन शहर है, जिसका वर्णन प्राचीन हिंदू महाकाव्य रामायण में भी मिलता है। इसके साथ ही इस पवित्र जगह के अपने कई ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व भी हैं। मथुरा भारत में पर्यटकों और तीर्थयात्रियों के सबसे पसंदिता धार्मिक स्थलों में से एक है जहां पर कई धार्मिक मंदिर और तीर्थस्थल भी हैं। मथुरा भारत में सबसे पुराने शहरों में से एक है जो अपनी प्राचीन संस्कृति और परंपरा के चलते पर्यटकों के लिये आकर्षण का केंद्र है। अगर आप मथुरा जाना चाहते हैं और जाने के बारे में पूरी जानकारी चाहते हैं तो इस लेख को अच्छी तरह पढ़ें, जिसमें हमनें मथुरा जाने के बारे में पूरी जानकारी दी है।

Vrindavan Dham Tour In Hindi वृंदावन उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में स्थित एक ऐतिहासिक शहर है। यह ब्रज भूमि क्षेत्र के प्रमुख स्थानों में से एक है। हिंदू धर्म के अनुसार, भगवान कृष्ण ने अपने बचपन के दिन यहीं बिताए थे। यह शहर मथुरा से लगभग 10 किमी दूर है, आगरा-दिल्ली राजमार्ग (Nh 2) पर कृष्ण की जन्मस्थली है। वृंदावन धाम राधा और कृष्ण की पूजा के लिए समर्पित है और कई मंदिरों की मेजबानी करता है। वृंदावन को वैष्णववाद द्वारा पवित्र माना जाता है। वैसे तो वृंदावन धाम में पूरे वर्ष भर पर्यटक आते हैं लेकिन कृष्ण जन्माष्टमी के समय कृष्ण की बाल लीलाओं और झांकियों को देखने के लिए यहां भारी भीड़ जुटती है। इस लेख में हम आपको वृंदावन धाम की यात्रा और वृंदावन धाम घूमने के बारे में पूरी जानकारी देगें।

Chitrakoot Waterfalls In Hindi चित्रकोट जलप्रपात भारतीय राज्य छत्तीसगढ़ में बस्तर जिले में जगदलपुर के पश्चिम में इंद्रावती नदी पर स्थित एक प्राकृतिक झरना है। इसे भारत का नियाग्रा फॉल्‍स के रूप में भी जाना जाता हैं। यह जगदलपुर के से 38 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। चित्रकूट जलप्रपात को भारत का नियाग्रा फॉल्स कहा जाता है। यह देश का सबसे बड़ा झरना में से एक है। यह जलप्रपात लगभग 100 फीट की ऊंचाई से गिरता है और बारिश के मौसम में 150 मीटर तक चौड़ा होता है। यह विंध्याचल पर्वतमाला में स्थित है, जो छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश के बीच फैला है। वैसे तो इस जलप्रपात के अद्भुत नजारे के देखने के लिए हर मौसम में पर्यटक आते हैं लेकिन खासतौर से मानसून के दौरान यहां भारी भीड़ दिखायी देती है।