Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Smallest Countries In The World In Hindi, दुनिया के सबसे सबसे बड़े देश कौनसे हैं उनके बारे में तो आप सभी जानते ही होंगे लेकिन क्या अपने यह सोचा है कि दुनिया के सबसे छोटे देश कौनसे हैं और वो कितने बड़े हैं। आपको बता दें कि दुनिया में कई इतने छोटे देश भी हैं जिनमें से कुछ तो इतने छोटे हैं कि भारत का कोई गाँव भी उनसे बड़ा होगा, हमें पता है आपको हमारी यह बातें मजाक लग रही होंगी लेकिन यह देश क्षेत्रफल और जनसँख्या के हिसाब से इतने छोटे हैं यह देश कहलाने के लायक नहीं हैं। आइये इस लेख में दुनिया के 10 छोटे ऐसे देशों के बारे में बताने जा रहें हैं जिनके बारे में जानकार आप हैरान रह जायेंगे।

1. दुनिया का पहेला सबसे छोटे देश माल्टा – Malta 1st Smallest Countries In The World In Hindi

दुनिया का पहेला सबसे छोटे देश माल्टा

माल्टा का नाम दुनिया के 11 सबसे छोटे देशों में आता है। आपको बता दें कि यह यूरोप महादीप का एक संपन्न देश है जिसकी राजधानी वलेत्ता है। माल्टा 316 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र को कवर करता है और इसकी जनसंख्या 423,282 है।

2. दूसरा दुनिया का सबसे छोटे देश मालदीव – Maldives 2nd Smallest Countries In The World In Hindi

 दूसरा दुनिया का सबसे छोटे देश मालदीव

मालदीव भारत और श्रीलंका के दक्षिण-पश्चिम में स्थित है। बता दें कि यह देश 298 वर्ग किमी (115 वर्ग मील) भूमि क्षेत्र को कवर करता है और इसकी जनसंख्या लगभग 341,356 है। मालदीव का 99% महासागर है। इस देश के करीब 1200 द्वीप हैं, जिनमें से 200 में बसे हुए हैं। मालदीव दुनिया के उन देशों में से एक है जिसकी अधिकतम ऊंचाई 2.6 मीटर है। जिसकी वजह से इसे ग्लोबल वार्मिंग का खतरा रहता है, क्योंकि समुद्र के स्तर में वृद्धि इसे ख़त्म कर सकती है। यह देश पर्यटन की दृष्टि से काफी संपन्न है क्योंकि यहां पर ताड़ के पेड़ों, सुंदर समुद्र तटों और समृद्ध रंगीन प्रवाल भित्तियों के अलावा और भी बहुत कुछ है जो इसे पृथ्वी पर स्वर्ग बनाता है।

और पढ़े: दुनिया के 10 सबसे खतरनाक पुल 

3. तीसरा दुनिया का सबसे छोटे देश सेंट किट्स और नेविस – Saint Kitts And Nevis 3rd Smallest Countries In The World In Hindi

तीसरा दुनिया का सबसे छोटे देश सेंट किट्स और नेविस

सेंट किट्स और नेविस कैरेबियन सागर में स्थित है जो इन दो द्वीपों के साथ 261 वर्ग किमी (104 वर्ग मील) के संयुक्त क्षेत्र में फैला हुआ है। सेंट किट्स और नेविस की आबादी लगभग 48,000 है और इसके 1983 में ब्रिटेन से अपनी स्वतंत्रता प्राप्त हुई थी।

4. चौथा दुनिया का सबसे छोटे देश मार्शल द्वीप समूह – Marshall Islands 4th Smallest Countries In The World In Hindi

 चौथा दुनिया का सबसे छोटे देश मार्शल द्वीप समूह

मार्शल द्वीप समूह दुनिया के सबसे छोटे देशों में से एक है और समुद्र तल से सिर्फ 2।1 मीटर (7 फीट) की औसत ऊंचाई पर स्थित है। यह देश केवल 180 वर्ग किमी (70 वर्ग मील) के क्षेत्र को कवर करता है और इसमें 1150 द्वीप शामिल हैं। मार्शल द्वीप समूह आबादी लगभग 72,000 है और यह द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जापानी इंपीरियल नेवी के 6 फ्लीट का प्रशासनिक केंद्र था। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान संयुक्त राज्य अमेरिका के कब्जे के बाद मार्शल द्वीप 1947 में औपचारिक रूप से अमेरिका शामिल हुआ। बाद में अमेरिका ने यहां पर परमाणु परिक्षण किये जिससे इसे काफी नुकसान हुआ। 1979 में मार्शल द्वीप समूह को अमेरिका से अपनी स्वतंत्रता मिली।

5. दुनिया का पांचवा सबसे छोटे देश लिकटेंस्टीन – Liechtenstein 5th Smallest Countries In The World In Hindi

दुनिया का पांचवा सबसे छोटे देश लिकटेंस्टीन

लिकटेंस्टीन एक ऐसा छोटा देश है जहाँ पर जर्मन भाषा बोली जाती है। यह देश ऑस्ट्रिया और स्विट्जरलैंड के बीच स्थित है। इसका कुल क्षेत्रफल 160 वर्ग किमी (61 वर्ग मील) है और अनुमानित जनसंख्या 37,000 है। यह एक संवैधानिक राजतंत्र है जिसकी अध्यक्षता लिकटेंस्टीन के राजकुमार ने की थी। एक अल्पाइन देश होने की वजह से लिकटेंस्टीन मुख्य रूप से पहाड़ी देश है, जो इसे एक आदर्श शीतकालीन खेल पर्यटन स्थल बनाता है। दुनिया के कुछ देशों की तरह लिकटेंस्टीन के पास कोई सेना नहीं है। हालांकि, यहां पर पुलिस बल और एक स्वाट टीम है। बता दें कि यह देश यूरोपीय संघ का सदस्य नहीं है, फिर भी यह शेंगेन क्षेत्र में भाग लेता है। लिकटेंस्टीन फार्मास्यूटिकल्स, कई तरह के फूड प्रोडक्ट्स, चीनी मिट्टी की चीज़ें, बिजली उपकरण और कैलकुलेटर का उत्पादन करता है।

और पढ़े: दुनिया के 25 प्रमुख हनीमून स्थल

6. छठा दुनिया का सबसे छोटे देश सैन मैरीनो – San Marino 6th Smallest Countries In The World In Hindi

छठा दुनिया का सबसे छोटे देश सैन मैरीनो

सैन मैरीनो इटली से घिरा हुआ एक छोटा देश है जो इतालवी प्रायद्वीप पर स्थित है। आपको बता दें कि यह देश 61 वर्ग किमी (24 वर्ग मील) में फैला हुआ है और इसकी आबादी लगभग 32,000 है। सैन मैरिनो को दुनिया का सबसे पुराना गणतंत्र माना जाता है। इसका इतिहास 301 ईस्वी पूर्व का है। भले ही सैन मैरीनो का नाम दुनिया 10 सबसे देशों की सूचि में शामिल है लेकिन यह जीडीपी के मामले में सबसे धनी देशों में से एक है। यह एक मात्र ऐसा देश है जहां पर लोगों की तुलना में वाहन ज्यादा हैं। यह देश अपनी सुंदर टिकटों और सिक्कों के लिए भी जाना जाता है। सैन मैरिनो के पास दुनिया की सबसे छोटी सेनाओं में से एक है।

7. सातवां दुनिया का सबसे छोटे देश तुवालु – Tuvalu Smallest 7th Countries In The World In Hindi

सातवां दुनिया का सबसे छोटे देश तुवालु

तुवालु दुनिया का चौथा सबसे छोटा देश हैं और दक्षिण प्रशांत महासागर में ऑस्ट्रेलिया और हवाई (Hawaii ) के बीच स्थित है। आपको बता दें कि देश में केवल 26 वर्ग किमी (10 वर्ग मील) के कुल भूमि क्षेत्र में फैला हुआ है जिसके साथ नौ द्वीप शामिल हैं। इस देश का भूमि क्षेत्र हर साल ग्लोबल वार्मिंग और बढ़ते समुद्र के स्तर के कारण हर साल सिकुड़ रहा है। वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि इस सदी के अंत तक तुवालु पूरी तरह से पानी के नीचे होगा।

8. आठवां दुनिया का सबसे छोटे देश नाउरू – Nauru Smallest 8th Countries In The World In Hindi

आठवां दुनिया का सबसे छोटे देश नाउरू

नाउरू दक्षिण प्रशांत महासागर में स्थित है। यह दुनिया का तीसरे नंबर का सबसे छोटा देश हैं, जो केवल 21 वर्ग किमी (8 वर्ग मील) भूमि में फैला हुआ है। नाउरू ने 1969 में अपनी स्वतंत्रता हासिल की और पहले यह एक द्वीप के रूप में जाना जाता था और दुनिया में सबसे धनी स्थानों में से एक था। इस जगह पर फॉस्फेट के महत्वपूर्ण भंडार थे। बता दे कि अब यहां प्राकृतिक संसाधन समाप्त हो गए हैं और नाउरू आज काफी गरीब हो गया है। यह देश लगभग पूरी तरह से ऑस्ट्रेलियाई समर्थन पर निर्भर करता है। ऑस्ट्रेलिया द्वीप का उपयोग शरणार्थियों के लिए निरोध केंद्र के रूप में कर रहा है।

और पढ़े: दुनिया के सात अजूबों के बारे में जानकारी

9. दुनिया का नवा सबसे छोटे देश मोनाको – Monaco 9th Smallest Countries In The World In Hindi

दुनिया का नवा सबसे छोटे देश मोनाको

मोनाको दूसरा सबसे छोटा देश है और दुनिया में सबसे घनी आबादी वाला देश है। आपको बता दें कि यह खूबसूरत देश खूबसूरत जगह भूमध्यसागरीय तट पर स्थित है। यह देश इतना छोटा है कि सिर्फ 2।02 वर्ग किमी (0.78 वर्ग मील) के क्षेत्र में फैला हुआ है और इसकी आबादी लगभग 37,800 है। मोनाको के पास व्यक्तिगत आयकर नहीं है,  जिसकी वजह से यह देश अमीर लोगों के बीच बहुत लोकप्रिय है। आपको बता दें कि मोनाको की लगभग 30 प्रतिशत आबादी करोड़पति है। इसे फॉर्मूला वन के ग्रैंड प्रिक्स की राजधानी के रूप में भी जाना जाता है। इसके अलावा मोंटे कार्लो कैसिनो (Monte Carlo Casino) यहाँ स्थित है। ऐसा बताया जाता है कि इस देश के स्थानीय नागरिकों को कैसिनों में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है।

10. दसवां दुनिया का सबसे छोटे देश वेटिकन सिटी – Vatican City 10th Smallest Countries In The World In Hindi

दसवां दुनिया का सबसे छोटे देश वेटिकन सिटी

वेटिकन सिटी दुनिया का सबसे छोटा देश होने के साथ-साथ सबसे छोटा शहर भी है। आपको बता दें कि यह देश कैथोलिक धर्म की राजधानी है। आपको जानकर हैरानी होगी कि इस देश की जनसंख्या 842 लोग हैं और क्षेत्रफल केवल 0.44 वर्ग किमी (0.17 वर्ग मील) है। बता दें कि वेटिकन सिटी पूरी तरह से रोम इटली से घिरा हुआ है। इस देश की इकॉनमी पर्यटक के लिए मिलने वाले शुल्क से चलती है। इसके अलावा यह देश मोजाइक जैसी कुछ चीजों का उत्पादन भी करता है। वैटिकन सिटी अपने स्वयं के सिक्कों पर मुहर लगाता है।

11. दुनिया का ग्यारवा सबसे छोटे देश सीलैंड – Sealand Smallest Countries In The World In Hindi

दुनिया का ग्यारवा सबसे छोटे देश सीलैंड

बहुत से लोग ऐसे होंगे जिन्होंने सीलैंड के बारे में नहीं सुना होगा। आपको बता दें कि सीलैंड बहुत छोटा है, यह सिर्फ केवल 0.025 वर्ग किमी (0.001 वर्ग मील) है। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान विमान-रोधी रक्षा के रूप में ब्रिटिश द्वारा मंच का निर्माण किया गया था। 1967 से इस पर ब्रिटिश सेना के पूर्व प्रमुख धान रॉय बेट्स का कब्जा था। उन्होंने स्वतंत्र संप्रभु राज्य का दावा किया। 1975 में बेट्स ने सीलैंड, एक राष्ट्रीय ध्वज और यहां तक ​​कि मुद्रा और पासपोर्ट के लिए एक संविधान बनाया। 20 वर्षों के दौरान देश ने लगभग 150,000 पासपोर्ट जारी किए, लेकिन बेट्स परिवार ने 1997 में उन सभी को निरस्त कर दिया। 2007 में समुद्री डाकू बे ने सीलैंड को खरीदने का प्रयास किया क्योंकि वे कॉपीराइट कानूनों से बचने के लिए एक रास्ता तलाश रहे थे। बाद में इसे 900 मिलियन अमेरिकी डॉलर में बिक्री के लिए पेश किया गया था। 1987 में यूके ने अपने क्षेत्रीय जल को 6 से 22 किमी तक बढ़ाया और अब सीलैंड ब्रिटिश जल के अंदर है। इस प्रकार, सीलैंड को एक देश के रूप में मान्यता नहीं दी गई है क्योंकि यह एक मानव निर्मित संरचना है।

और पढ़े:

Write A Comment