Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Panchavati Darshan In Hindi, पंचवटी भारत के महाराष्ट्र राज्य में नाशिक शहर के उत्तर-पश्चिम में स्थित बहुत ही पवित्र तीर्थ स्थल है। पंचवटी गोदावरी नदी के तट पर स्थित एक बहुत ही शांत पर्यटन स्थल है जोकि हिन्दू महाकाव्य रामायण से बहुत गहरा सम्बन्ध रखता है। पंचवटी में पांच बरगद के पेड़ों का समूह है जहां भगवान राम ने माता सीता और लक्ष्मण  जी के साथ अपने वनवास का कुछ समय व्यतीत किया था। नाशिक भारत के धार्मिक शहरो में शीर्ष स्थान पर आता है और यहाँ गोदावरी नदी के तट पर कुम्भ मेले का आयोजन किया जाता हैं। पंचवटी पर्यटन स्थल अपने गौरव और धार्मिक संस्कृति के लिए बहुत अधिक लौकप्रिय है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पंचवटी वही स्थल हैं सीता हरण हुआ था। पंचवटी के प्रमुख आकर्षण में शामिल कालाराम मंदिर और सीता गुफा (Kalaram Temple And The Sita Gufa) शामिल हैं।

पंचवटी पर्यटन स्थल के आसपास अनेक पवित्र स्थान है जो पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करते है। अगर आप पंचवटी से जुड़ी अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो हमारे इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़े।

1. पंचवटी की कहानी – Panchvati Story In Hindi

पंचवटी की कहानी

पंचवटी की कहानी हमें रामायण काल में ले जाती हैं जहां से हमें पता चलता हैं कि नाशिक का नाम “नाशिका” अर्थात नाक से लिया गया है। नाशिक वह स्थान है जहाँ लक्ष्मण जी ने शूर्पनखा की नाक और कान काटे थे। रामायण से जुडी पंचवटी की कहानी कुछ इस प्रकार है कहा जाता है कि भगवान राम को जब माता कैकई के कहने से 14 वर्ष का वनवास मिला। तब भगवान राम ने अपनी पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ पंचवटी में निवास किया। पंचवटी पर्यटन स्थल माता सीता के हरण के लिए जाना जाता हैं और इसी वजह से पंचवटी को हिन्दू धर्म में बहुत ही पवित्र तीर्थ स्थल माना जाता है। पंचवटी में पांच बरगद के पेड़ होने की वजह से इस स्थान का नाम पंचवटी पड़ा है।

और पढ़े: नासिक में घूमने की 10 सबसे खास जगह

2. पंचवटी से ब्रह्मगिरि पर्वत की दूरी – Brahmagiri Mountain Distance From Panchavati In Hindi

पंचवटी से ब्रह्मगिरि पर्वत की दूरी

पंचवटी से 30 किलोमीटर दूर ब्रह्मगिरी पर्वत है जिसे पवित्र गोदावरी नदी का उद्गम स्थल माना जाता है।

3. पंचवटी के आसपास के घूमने लायक प्रमुख पर्यटन स्थल – Best Place To Visit In Panchavati Darshan In Hindi

पंचवटी पर्यटन स्थल भारत के खूबसूरत राज्य महारास्ट्र के नाशिक शहर से लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। पंचवटी यात्रा के दौरान आप नाशिक और पंचवटी के आसपास के प्रमुख पर्यटन स्थलों पर घूमने जा सकते हैं।

3.1 सीता गुफा पंचवटी – Sita Gufa Panchavati In Hindi

सीता गुफा पंचवटी

Image Credit: Deepaksingh Rajput

सीता गुफा पंचवटी में पांच बरगद के पेड़ों के पास स्थित बहुत ही पवित्र और आकर्षित गुफा है। यह गुफा बहुत ही सकड़ी है जिसमे सीढ़ी की मदद से गुफा में प्रवेश किया जा सकता है। भगवान राम, माता सीता और लक्षमण जी के साथ इस गुफा में शिवलिंग भी स्थापित है। वनवास के दौरान शंकर भगवान के शिवलिंग की पूजा सीता जी करती थी और ऐसा कहा जाता है की यह गुफा वही स्थान है जहाँ से रावण ने माता सीता का अपहरण किया था।

3.2 सुंदरनारायण मंदिर नाशिक – Sundarnarayan Mandir Nashik In Hindi

सुंदरनारायण मंदिर नाशिक

Image Credit: Abhijeet Jadhav

सुंदर नारायण मंदिर नाशिक में होल्कर ब्रिज के पास स्थित काले रंग का मंदिर है। इस मंदिर को काले पत्थरों से बनाया गया है जोकि सन 1756 में गंगाधर यशवंत चन्द्रचूड जी द्वारा बनबाया गया था। सुन्दरनारायण मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है। कहा जाता है कि जालंधर की पत्नी के क्रोध के कारण भगवान विष्णु का शरीर काला हो गया था फिर उन्होंने पवित्र गोदावरी नदी में स्नान किया तो उनका सुन्दर रूप बापस आ गया। इस मंदिर में तीन मूर्तियाँ है जो पर्यटकों को बहुत ही ज्यादा आकर्षित करती है।

3.3 कालाराम मंदिर पंचवटी – Kalaram Mandir Panchavati In Hindi

कालाराम मंदिर पंचवटी

कालाराम मंदिर पंचवटी का धार्मिक केंद्र होने के साथ-साथ ऐतिहासिक महत्त्व भी रखता है। कालाराम मंदिर काले पत्थरों से निर्मित है और साथ ही इस मंदिर के निर्माण में 32 टन सोने का भी उपयोग किया गया है। कालाराम मंदिर में भगवान राम की काली मूर्ती स्थापित है। भगवान राम जी की मूर्ति के साथ माता सीता, लक्षमण जी और हनुमान जी मूर्ति भी स्थापित है। इस मंदिर में सन 1930 में डॉ अम्बेडकर जी द्वारा दलितों के लिए इस मंदिर में प्रवेश के लिए सत्याग्रह भी किया था।

3.4 राम कुंड पंचवटी – Ram Kund Panchavati In Hindi

राम कुंड पंचवटी

राम कुंड पंचवटी के प्रमुख दर्शनीय स्थलों में से एक है। राम कुण्ड तालाब हिन्दुओं के लिए बहुत ही धार्मिक स्थल है। ऐसा कहा जाता है कि भगवान राम से अपने पिता श्री दशरथ जी के अवशेषों का विसर्जन करके इसके जल में स्नान किया था। तब से यहाँ मोक्ष की प्राप्ति के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है। इस दर्शनीय तालाब के पास ही गांधी जी की संगमरमर से बनी हुई बहुत ही अद्भुत स्मारक है। जोकि 30 जनवरी सन 1948 में गांधीजी के निधन के बाद नेहरु जी की उपस्थिति में बनबाया गया था।

3.5 पांडव गुफा नासिक – Pandav Caves Nashik In Hindi

पांडव गुफा नासिक

पांडव गुफाएं नाशिक रोड पर स्थित पंचवटी के आस-पास के दर्शनीय स्थलों में से एक है। ये गुफाएं जमीन से 300 फीट की उंचाई पर स्थित है। पर्यटक इस शानदार पहाड़ी पर ट्रेकिंग के लिए घूमने जाते है। चौथी शताव्दी में बनी यह गुफाएं 24 बौद्ध गुफाओं का समूह है।

और पढ़े: 12 ज्योतिर्लिंग के नाम और स्थान

3.6 कुम्भ मेला नाशिक – Kumbh Mela Nashik In Hindi

कुम्भ मेला नाशिक

कुम्भ मेला नाशिक का सबसे बड़ा और प्रसिद्ध मेला है जोकि पवित्र गोदावरी के तट पर लगता है। जहां श्रद्धालु मेले के दर्शन करने के साथ-साथ गोदावरी नदी में स्नान करने आते है। गोदावरी के तट को प्रसिद्ध तीर्थ स्थलों में भी गिना जाता है।

3.7 त्र्यंबकेश्वर कुशावर्त पंचवटी – Trimbakeshwar Kushavarta Panchavati In Hindi

 त्र्यंबकेश्वर कुशावर्त पंचवटी

त्र्यंबकेश्वर कुशावर्त तीर्थ स्थल त्र्यंबकेश्वर शहर में स्थित बहुत ही प्राचीन और प्रसिद्ध मंदिर है। त्र्यंबकेश्वर शिवजी की 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है जहां गोदावरी नदी ब्रह्मगिरी की पहाड़ियों में समाती है। त्र्यंबकेश्वर कुशावर्त में 21 फीट गहरा कुण्ड है जोकि सन 1750 में प्रकृति द्वारा बनाया गया था। यह स्थान बहुत ही श्रेष्ठ तीर्थ स्थलों में शामिल है।

और पढ़े: त्र्यंबकेश्वर मंदिर महाराष्ट्र के बारे में जानकारी 

3.8 श्री सप्तश्रृंगी गड वाणी पंचवटी – Shree Saptashrungi Gad Vani Panchavati In Hindi

श्री सप्तश्रृंगी गड वाणी पंचवटी

श्री सप्तश्रृंगी गद वाणी मंदिर नाशिक से 60 किलोमीटर दूर कलवन तहसील में स्थित है। यह मंदिर समुद्र तल से 4659 फीट की उंचाई पर स्थित होने के कारण बहुत ही आकर्षक दिखाई देता है। देवी दुर्गा को समर्पित यह मंदिर देवी के शक्ति पीठों में से एक अर्ध शक्तिपीठ है जोकि सात चोटियों की पहाड़ी से घिरा हुआ है। सप्त श्रृंग का मतलब सात सींग होता है। इस स्थान पर बहुत बड़े मेलों का आयोजन भी किया जाता है।

3.9 सोमेश्वर मंदिर पंचवटी – Someshwar Temple Panchavati In Hindi

सोमेश्वर मंदिर पंचवटी

Image Credit: Akshada Tajanpure

सोमेश्वर मंदिर गोदावरी नदी के तट पर स्थित भगवान शिव के प्राचीन मंदिरों में से एक है। इस मंदिर के आस-पास बहुत ही सुन्दर बाग़-बगीचे है जिनकी हरियाली से गोदावरी तट का पूरा वातावरण बहुत ही आकर्षक दिखाई देता है।

3.10 मांगी तुंगी मंदिर पंचवटी – Mangi Tungi Temple Panchavati In Hindi

मांगी तुंगी मंदिर पंचवटी

Image Credit: X Mahale

मांगी तुंगी मंदिर नाशिक से 125 किलोमीटर दूर सतना तालुका में स्थित है। मांगी तुंगी मंदिर में भगवान राम, हनुमान, सुग्रीव, नल, नील के कारण प्रसिद्ध है। यह पवित्र धार्मिक स्थान पर्यटकों को रामायण से जुड़े अनौखे रहस्यों से अवगत कराता है जहां पर पूरी वानर सेना ने भगवान राम की स्वामी भक्ति की थी।

और पढ़े: शेषनाग झील के बारे में जानकारी और रहस्य

4. पंचवटी में खाने के लिए का प्रसिद्ध भोजन – Famous Foods Of Panchavati In Hindi

पंचवटी में खाने के लिए का प्रसिद्ध भोजन

पंचवटी के प्रसिद्ध पकवानों के बारे में आप जानना चाहते है तो हम आपको बता दे कि पंचवटी महाराष्ट्र के नाशिक में स्थित बहुत ही पवित्र तीर्थ स्थान है। जहां पर्यटकों को शाकाहारी भोजन का स्वाद चखने का मौका मिलेगा। पंचवटी का सबसे प्रसिद्ध व्यंजन मोदक है जिसे नारियल और गुड़ के मिश्रण से बनाया जाता है। इसके अलावा आपको यहाँ के प्रसिद्ध रेस्तरां में वड़ा पाव, साबुदाना वड़ा, बिरयानी, मोमोज और थुक्पा भी चखने को मिलेंगे है।

5. पंचवटी की यात्रा में कहाँ रुके – Where To Stay In Nashik Panchavati In Hindi

पंचवटी की यात्रा में कहाँ रुके

अगर आप पंचवटी घूमने और इसके आसपास के आकर्षक पर्यटन स्थलों के दर्शन करने के बाद पंचवटी में रुकने के लिए आवास स्थान की तलाश कर रहे है। तो हम आपको बता दे कि पंचवटी और नाशिक में आपको लो-बजट से लेकर हाई-बजट तक की होटल आसानी से उपलब्ध हो जायेंगी। आप अपनी सुविधा के अनुसार किसी भी होटल का चुनाव कर सकते है।

  • होटल पंचवटी यात्री (Hotel Panchavatiyatri)
  • श्री बालाजी गेस्ट हाउस (Shreebalaji Guest House)
  • ब्लू मून होटल (Blue Moon Hotel)
  • अतिथि गेस्ट हाउस (Atithi Guest House)
  • होटल राही (Hotel Raahi)

6. नाशिक पंचवटी घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time For Panchavati Darshan In Hindi

नाशिक पंचवटी घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

पंचवटी की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय अक्टूबर से फरवरी के बीच का माना जाता हैं क्योंकि इस समय के दौरान आप पर्यटक पंचवटी और इसके आसपास के समस्त घूमने वाली जगहों का दौरा कर सकते हैं। हालाकि बारिश के दौरान भी पंचवटी का नजारा देखने लायक होता हैं क्योंकि बरसात के मौसम यहाँ की प्राकृतिक वादिया हरियाली से भरपूर होती हैं।

और पढ़े: अजंता की गुफा विशेषताएं और घूमने की जानकारी

7. पंचवटी कैसे पंहुचा जाये – How To Reach Panchavati Nashik In Hindi

अगर आप पंचवटी घूमने जा रहे हैं तो हम आपको बता दे कि पंचवटी नाशिक में स्थित है। नाशिक भारत के प्रमुख शहरों से हवाई मार्ग, रेलवे मार्ग और सड़क मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। इसलिए आप इनमे से किसी भी साधन का उपयोग कर सकते हैं।

7.1 फ्लाइट से पंचवटी कैसे पहुँचे – How To Reach Panchavati By Flight In Hindi

फ्लाइट से पंचवटी कैसे पहुँचे

अगर आपने पंचवटी जाने के लिए हवाई मार्ग का चुनाव किया है तो हम आपको बता दे कि पंचवटी से 20 किलोमीटर दूर नाशिक का ओजार (Ozar Airport Nashik) हवाई अड्डा है। जोकि भारत के विभिन्न शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ हैं। आप ओजार हवाई अड्डे से टैक्सी या यहाँ के स्थानीय साधन की मदद से पंचवटी पहुँच सकते है।

7.2 ट्रेन से पंचवटी कैसे पहुँचे – How To Reach Panchavati By Train In Hindi

ट्रेन से पंचवटी कैसे पहुँचे

पंचवटी जाने के लिए यदि आपने रेल के मार्ग का चुनाव किया हैं तो हम आपको बता दे कि नाशिक रेलवे स्टेशन पंचवटी का सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन है जोकि लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। आप इस रेलवे स्टेशन से किसी स्थानीय साधन के द्वारा पंचवटी आसानी से पहुँच सकते है।

7.3 सड़क मार्ग से पंचवटी कैसे पहुँचे – How To Reach Panchavati By Road In Hindi

सड़क मार्ग से पंचवटी कैसे पहुँचे

पंचवटी की यात्रा करने के लिए यदि आपने सड़क मार्ग का चुनाव किया है तो हम आपको बता दे की भारत के विभिन्न शहरों जैसे दिल्ली, बैंगलोर, नागपुर, मुंबई, आदि से नाशिक जाने के लिए बस आसानी से उपलब्ध है। लेकिन नाशिक से पंचवटी के बीच की दूरी (लगभग 2 किलोमीटर) तय करने के लिए आपको अन्य साधन की आवश्यकता पड़ेगी।

और पढ़े: नागपुर में घूमने की 12 सबसे खास जगह

8. पंचवटी का नक्शा – Panchavati Nashik Map

9. पंचवटी की फोटो गैलरी – Panchavati Images

और पढ़े:

Write A Comment