पंजाब के प्रमुख और सबसे अधिक देखे जाने वाले राष्ट्रीय उद्यान – Major And Most Visited National Parks Of Punjab In Hindi

Most Visited National Parks Of Punjab In Hindi, भारत के उत्तर पश्चिमी भाग में स्थित पंजाब भारत का एक प्रमुख राज्य है जिसे पांच नदियों की भूमि ’कहा जाता है। पंजाब अपने दर्शनीय स्थल, समृद्ध इतिहास और प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों के साथ साथ हरियाली और यहाँ पाई जाने वाली बिभिन्न वन्य जीव प्रजातियों के लिए भी जाना जाता है। जो प्रत्येक बर्ष कई हजारों पर्यटकों और वन्यजीव प्रेमियों को अपनी और आकर्षित करने में कामयाब होता है। पंजाब शिवालिक क्षेत्र और मैदानी इलाकों के कुछ हिस्सों में पैंगोलिन, ऊदबिलाव, हाथी, नदी डॉल्फ़िन, काला भालू और शाही बंगाल टाइगर जैसे प्रसिद्ध वन्यजीवो को देखा जा सकता है।

इनके अलावा पंजाब के राज्य पशु हिरण की भी एक बड़ी आबादी पंजाब के राष्ट्रीय उद्यानों में निवास कर रही है। पंजाब के राष्ट्रीय उद्यानों की यात्रा आपके लिए एक शानदार और रोमंचक अनुभव हो सकता है। इसीलिए अपना समय निकालकर पंजाब के लोकप्रिय नेशनल पार्को की यात्रा का प्लान अवश्य बनाये। पंजाब के सबसे प्रमुख नेशनल पार्को की जानकारी के लिए आप हमारे इस लेख को अवश्य पढ़े जहाँ हमने आपके लिए पंजाब के लोकप्रिय और सबसे अधिक देखे जाने वाले राष्ट्रीय उद्यानों की सूची तैयार की है-

 अबोहर वन्यजीव अभयारण्य – Abohar Wildlife Sanctuary In Hindi

अबोहर वन्यजीव अभयारण्य - Abohar Wildlife Sanctuary In Hindi

फिरोजपुर जिले में स्थित, अबोहर वन्यजीव अभयारण्य पंजाब के सबसे प्रमुख राष्ट्रीय उद्यानों में से एक है। जो वन्यजीव संरक्षण की विरासत के लिए प्रसिद्ध है। अबोहर वन्यजीव अभयारण्य में काले हिरन और नीले बैल के अलावा पोरपाइन, जंगली सूअर और काले बतख देखे जा सकते हैं। अबोहर नेशनल पार्क निजी भूमि पर फैला हुआ है। अक्टूबर से मार्च तक सर्दियों के मौसम के दौरान अबोहर वन्यजीव अभयारण्य की यात्रा का सबसे अच्छा मौसम माना जाता है। इस मौसम में पर्यटक अबोहर नेशनल पार्क और यहाँ के आसपास टहलने का आनंद ले सकते हैं। अबोहर वन्यजीव अभयारण्य अपने सबसे अच्छे रूप में प्रकृति की साक्षी के लिए एक सुंदर स्थान है! जो हर साल हजारों पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करता है।

हरिके वन्यजीव अभयारण्य – Harike Wildlife Sanctuary In Hindi

हरिके वन्यजीव अभयारण्य - Harike Wildlife Sanctuary In Hindi

हरिके वन्यजीव अभयारण्य ब्यास और सतलुज नदियों के पास स्थित है। आपको बता दे यह रामसर स्थल के लिए लोकप्रिय रूप से जाना जाता है जो कई झरनों का घर है। हरिके वन्यजीव अभयारण्य विभिन्न प्रकार के जीवों और वनस्पतियों का घर है। यहां की प्रमुख गतिविधियों में से एक पक्षी-विद्या है, जहाँ  सर्दियों के दौरान पूरी दुनिया पूरी दुनिया से सौ से भी अधिक पक्षीयों की प्रजातियाँ देखी जाती हैं। हरिके झील आवास ताजे पानी की डॉल्फ़िन के लिए प्रसिद्ध है जो पर्यटकों के बीच एक प्रमुख आकर्षण है। इनके अलावा आप अपनी हरिके वन्यजीव अभयारण्य की यात्रा के दौरान आम चैती, डार्टर, बैंगनी मौरेन, हंस और पोचर्ड जैसे अन्य जीवों को भी देख सकते हैं। हरिके वन्यजीव अभयारण्य पंजाब में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहों में से एक है।

और पढ़े : पंजाब पर्यटन में घूमने की सबसे प्रसिद्ध जगह की जानकारी

झज्जर बछौली राष्ट्रीय उद्यान – Jhajjar Bacholi National Park In Hindi

झज्जर बछौली राष्ट्रीय उद्यान - Jhajjar Bacholi National Park In Hindi

हिमाचल प्रदेश की सीमा से लगे आनंदपुर साहिब शहर के पास स्थित झज्जर बछौली राष्ट्रीय उद्यान पंजाब के सबसे अधिक देखे जाने वाले राष्ट्रीय उद्यानों में से एक है।  झज्जर बछौली राष्ट्रीय उद्यान को प्रमुख रूप से तेंदुए के घर होने के लिए प्रसिद्ध है। साथ ही यह क्षेत्र अपनी जैव-विविधता के लिए जाना जाता है। जहाँ आप अपनी झज्जर बछौली राष्ट्रीय उद्यान की यात्रा में तेंदुए के साथ साथ सांबर, बीयर, सियार और अजगर साप जैसी अन्य वन्य जीव प्रजातियों को देख सकते हैं। और वन्यजीव प्रजातियों के साथ साथ यह अभ्यारण बड़ी संख्या में आंवला, किकर, नींबू, पीपल, तिल, केला, बांस जैसी वनस्पतियों से ढका हुआ है। जहाँ झज्जर बछौली नेशनल पार्क में आने वाले पर्यटक उनके प्राकृतिक आवास में सरीसृप और जीवों की एक विस्तृत श्रृंखला देख सकते हैं।

महेंद्र जूलोजिकल पार्क – Mahendra Zoological Park In Hindi

महेंद्र जूलोजिकल पार्क - Mahendra Zoological Park In Hindi
Image credit : Rakesh Kumar

महेंद्र जूलोजिकल पार्क या महेंद्र प्राणी उद्यान पंजाब का सबसे प्रमुख जूलोजिकल पार्क माना जाता है। महेंद्र प्राणी उद्यान शेर और बाघ सहित अन्य वन्य जीव प्रजातियों के आश्रय स्थल के रूप में कार्य करता है। और आपको बता दे इस राष्ट्रीय उद्यान को चट्टबिर चिड़ियाघर के नाम से भी जाना जाता है। शेर और बाघ महेंद्र जूलोजिकल पार्क के प्रमुख आकर्षण केंद्र है जहाँ पर्यटक अपनी महेंद्र प्राणी उद्यान की यात्रा में शेर और बाघ को निकटता से देखने को अवसर प्राप्त के सकते हैं। इसके अलावा आपकी जानकारी के लिए बता दे महेंद्र जूलोजिकल पार्क अपनी वन्य जीव प्रजातियों के साथ साथ अपनी प्राकृतिक सुन्दरता और हरियाली के लिए भी लोकप्रिय बना हुआ है। जो प्रत्येक बर्ष कई हजारों पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करता है।

और पढ़े : हिमाचल प्रदेश के प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान

बीर भादसों राष्ट्रीय उद्यान  – Bir Bhadson National Park In Hindi

बीर भादसों राष्ट्रीय उद्यान  - Bir Bhadson National Park In Hindi

1023 हेक्टेयर के विशाल छेत्र में फैला हुआ बीर भादसों राष्ट्रीय उद्यान  पंजाब के सबसे बड़े राष्ट्रीय उद्यानों में से एक है। बीर भादसों राष्ट्रीय उद्यान कई जानवरों और पौधों के साथ एक बड़ा जंगल है। इस राष्ट्रीय उद्यान का वातावरण इतना सुंदर है कि बड़ी संख्यां में पर्यटक यहाँ आना पसंद करते हैं। और आपको बता दे बीर भादसों राष्ट्रीय उद्यान को पहले तत्कालीन शासकों के लिए शिकारगाह के रूप में भी जाना जाता था। जिसे बाद में एक वन्यजीव अभयारण्य के रूप में फिर से स्थापित किया गया। बीर भादसों राष्ट्रीय उद्यान  में सियार, बैल, तोते और रीसस, और बंदर सहित अन्य वन्य जीव प्रजातियाँ पाई जाती है। जो राष्ट्रीय उद्यान के प्रमुख आकर्षण केंद्र है। बीर भादसों राष्ट्रीय उद्यान अपने परिवार या दोस्तों के साथ छुटियाँ मनाने और वन्य जीवो को देखने के लिए एक आदर्श गंतव्य है।

बीर मोती बाग वन्यजीव अभयारण्य – Bir Moti Bagh Wildlife Sanctuary In Hindi

बीर मोती बाग वन्यजीव अभयारण्य - Bir Moti Bagh Wildlife Sanctuary In Hindi

पंजाब में स्थित राष्ट्रीय बीर मोती बाग वन्यजीव अभयारण्य एक महान पर्यटन स्थल है, जो क्षेत्रीय उद्देश्य सहित वनस्पतियों और जीवों की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करता है। बीर मोती बाग नेशनल पार्क का क्षेत्रफल 656 हेक्टेयर है। और इस अभ्यारण में पाई जाने वाली प्रमुख वन्यजीव प्रजातियों में हिरण, हिरन, मोर, दलिया, मैना, गौरैया, बाघ, शेर, बैल, सुअर, बंदर की कई जंगली प्रजातियाँ शामिल है। जो यहाँ आपने वाले पर्यटकों के लिए आकर्षण के रूप में कार्य करती हैं। आपके बता दे इस अभ्यारण को कुछ बर्षो पहले तत्कालीन पटियाला राज्य के राजघरानों के शिकार क्षेत्र के रूप में जाना जाता था। और यह अभ्यारण अभी भी किलों और स्मारकों का घर है जो उस युग से जुड़े हुए हैं।

और पढ़े :

Leave a Comment