Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Kyara Ke Balaji In Hindi, क्यारा के बालाजी का मंदिर राजस्थान के भीलबाड़ा शहर से 10 की. म  की दुरी पर स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर हैं। भीलबाड़ा के दर्शनीय स्थलों में सुमार क्यारा के बालाजी पवन पुत्र हनुमान जी महाराजा को समर्पित एक आकर्षित मंदिर है। क्यारा के बालाजी के दर्शन करने के लिए पर्यटक यहां के अन्य मंदिर बीदा के माताजी मंदिर, पटोला महादेव मंदिर, घाट रानी मंदिर और नीलकंठ महादेव मंदिर जैसे अन्य स्थानों पर भी जा सकते हैं और क्यारा के बालाजी का दर्शन कर सकते हैं। अगर आप क्यारा के बालाजी मंदिर जाने की योजना बना रहें हैं या मंदिर के बारे में अन्य जानकारी चाहते हैं तो इस लेख को जरुर पढ़ें, इस लेख में हम आपको क्यारा के बालाजी मंदिर के बारे में पूरी जानकारी देने जा रहें हैं।

1. क्यारा के बालाजी मंदिर का धार्मिक महत्व – Kyara Ke Balaji Religious Importance In Hindi

क्यारा के बालाजी मंदिर का धार्मिक महत्व

Image Credit: Arpit Tripathi

क्यारा के बालाजी मंदिर भगवान हनुमान को समर्पित है और माना जाता है कि पत्थर पर उनकी तस्वीर अपने आप दिखाई देती है। लोगों की इस धारणा से पर्यटकों के आकर्षण को काफी बढ़ा गया है। हर साल पर्यटक दूर दूर से हनुमान की प्राकृतिक रूप से बनाई हुई इस तस्वीर के दर्शन करने आते हैं। क्यारा के बालाजी मंदिर की स्थापना के चारों ओर उद्यान हैं, यहां गोल चक्कर पर बनी हनुमान गदा संरचना भी देखी जा सकती है। क्यारा के बालाजी मंदिर का एक भव्य प्रवेश द्वार है जिसमें एक भारी शिल्पकारी को देखा जा सकता है।

मंदिर का मुख्य आकर्षण, चट्टान पर भगवान हनुमान की तस्वीर एक तीर्थ कक्ष के केंद्र में रखी गई है जिसे फूलों और बिजली से सजाया गया है, हर किसी को नहीं बल्कि पुजारी को प्रवेश करने की अनुमति है। मंदिर अद्र शिला और पटोला महादेव के लिए भी प्रसिद्ध है, भगवान हनुमना के अलावा, घाट रानी और पटोला महादेव के चित्र चट्टानों में भी देखे जा सकते हैं। पत्थर के चित्र के चारों ओर एक हॉल है जहां दर्शन और प्रार्थना आयोजित की जाती है। यह स्थान पर्यटकों को काफी आकर्षित करता है। पूरे वर्ष यह भक्त दर्शन के लिए आते रहते हैं।

2. क्यारा के बालाजी टेम्पल खुलने और बंद होने का समय – Kyara Ke Balaji Temple Timing In Hindi

क्यारा के बालाजी टेम्पल खुलने और बंद होने का समय

Image Credit: Rishabh Tailor

क्यारा के बालाजी सुबहे के 7 बजे से रात के 10 बजे तक खुला रहता है

और पढ़े: भीलवाड़ा घूमने की जानकारी और प्रमुख पर्यटक स्थल 

3. क्यारा के बालाजी मंदिर के पास घूमने लायक प्रसिद्ध आकर्षण स्थल – Best Places To Visit Near Kyara Ke Balaji In Hindi

क्यारा के बालाजी मंदिर भीलबाड़ा के राजस्थान राज्य का एक प्रमुख पर्यटक स्थल है और यहां पर कई प्रमुख पर्यटक स्थल हैं, जहां आप घूमने जा सकते हैं। तो आइए हम आपको यहां के पर्यटक स्थलों की जानकारी नीचे देते हैं।

3.1 बदनोर फोर्ट – Badnore Fort In Hindi

बदनोर फोर्ट

Image Credit: Ujwal Patil

भीलबाड़ा में घूमने लायक जगहों में बदनोर फोर्ट एक छोटी पहाड़ी पर स्थित हैं। भीलवाड़ा का यह किला सात मंजिला हैं और बदनोर किले में मध्यकालीन भारतीय वास्तुकला का उत्कृष्ट उदाहरण देखने को मिलता है। बदनोर फोर्ट भीलवाड़ा के आसींद रोड पर भीलवाड़ा से लगभग 70 किलोमीटर की दूरी पर स्थित।

और पढ़े: बदनोर फोर्ट का इतिहास और घुमने की जानकारी

3.2 मंडल – Mandal In Hindi

मंडल

Image Credit: Rishabh Tailor

भीलवाड़ा की देखने लायक जगह शामिल मंडल भीलवाड़ा शहर से लगभग 16 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। यहां आप जग्गनाथ कच्छवाहा के किले को देख सकते हैं जोकि बत्तीस खंबन की छतरी के रूप में जाना जाता है। जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है कि यह एक आकर्षित छतरी है जिसमे बलुआ पत्थर के बने 32 स्तम्भ लगे हुए हैं। यह छत्री यहा बने एक विशाल शिवलिंग को घेरती हैं।

3.3 हरणी महादेव मंदिर – Harni Mahadev Temple In Hindi

हरणी महादेव मंदिर

Image Credit: Rahul Dhaker

भीलबाड़ा के दर्शनीय स्थलों में से एक हरनी महादेव मंदिर राजस्थान के डारक परिवार के पूर्वजों द्वारा स्थापित किया गया एक शिव मंदिर हैं। जोकि शहर से लगभग 8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। सुरम्य पहाड़ियों से घिरा हुआ यह दर्शनीय स्थल पर्यटकों के बीच प्रसिद्ध हैं।

और पढ़े: हरणी महादेव मंदिर के दर्शन और पर्यटन स्थल की जानकारी 

3.4 गायत्री शक्ति पीठ – Gayatri Shakti Peeth In Hindi

गायत्री शक्ति पीठ

Image Credit: Sandeep Kumar Dayma

भीलबाड़ा में गायत्री शक्ति पीठ देवी शक्ति या सती जोकि हिंदू धर्म की महिला प्रमुख और शक्ति संप्रदाय के मुख्य देवी के रूप में जानी जाती हैं की पूजा का स्थल हैं। गायत्री शक्ति पीठ भीलवाड़ा शहर में बस स्टैंड के पास ही स्थित है।

3.5 धनौप माता जी मंदिर – Dhanop Mataji Mandir In Hindi

धनौप माता जी मंदिर

Image Credit: Chhaganlal Kumawat

भीलबाड़ा का दर्शनीय स्थल धनौप माता जी मंदिर संगरिया से 3 किलोमीटर दूरी पर एक छोटे से गांव में स्थित है। धनौप माता जी मंदिर में आप शीतला माता के दर्शन का लाभ उठा सकते हैं। धनौप माता के मंदिर में रंगीन चमकदार लाल दीवारें और खंभे हैं। खूबसूरत संगमरमर का फर्श और काले पत्थर के रूप में देवी शीतला माता (देवी दुर्गा) की मूर्ति स्थापित है।

3.6 श्री चारभुजा नाथ मंदिर – Shri Charbhujanath Mandir In Hindi

श्री चारभुजा नाथ का मंदिर

भीलबाड़ा में कई मंदिर स्थापित हैं जो भक्तो और पर्यटकों के लिए एक पवित्र स्थान हैं। इन्ही में से एक श्री चारभुजा नाथ का मंदिर हैं। भीलबाड़ा के राजसमंद में कोटड़ी तहसील में स्थित है। यह मंदिर पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता हैं। श्री चारभुजा नाथ का मंदिर त्रिलोकीनाथ भगवान विष्णु को समर्पित हैं। श्रद्धालु दूर-दूर से भगवान विष्णु के दर्शन करने के लिए मंदिर में पहुंचते हैं।

3.7 बागोर साहिब गुरुद्वारा – Bagore Sahib Gurudwara In Hindi

बागोर साहिब गुरुद्वारा

भीलबाड़ा का पर्यटक स्थल बागोर साहिब गुरुद्वारा यहां का एक ऐतिहासिक गुरुद्वारा है। बागोर साहिब गुरुद्वारा मंडल तहसील के बागोर में स्थित हैं जोकि मंडल शहर से लगभग 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह स्थान सिखों के 10वें गुरु श्री गुरु गोविन्द सिंह जी की यात्रा का गवाह बना हैं।

3.8 चामुंडा माता का मंदिर – Chamunda Mata Mandir In Hindi

चामुंडा माता का मंदिर

Image Credit: Yashwant Kumar Basita

भीलबाड़ा के दर्शनीय स्थलों में शामिल चामुंडा माता का मंदिर हरनी महादेव की पहाड़ियों पर स्थित एक आकर्षित स्थान है । आप यहां से शहर का पूरा दृश्य देख सकते है। चामुंडा माता का मंदिर भीलवाड़ा शहर से मात्र 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं।

3.9 मिनाल वॉटरफॉल – Menal Waterfall In Hindi

मिनाल वॉटरफॉल

भीलबाड़ा में घूमने लायक जगहों में सुमार मिनाल वॉटरफॉल एक खूबसूरत झरना हैं जहां पर्यटक भारी संख्या में आना पसंद करते हैं। यह भीलवाड़ा-कोटा मार्ग पर स्थित हैं और भीलबाड़ा से लगभग 80 किलोमीटर दूरी पर स्थित हैं। इस खूबसूरत झरने का पानी 150 मीटर ऊंचाई से गिरता हैं और जिससे यहां का एक सुंदर दृश्य दिखाई देता है। मीनल वाटरफाल घूमने के लिए राज्य के सभी कोनों से लोग जुलाई से अक्टूबर के महीने में आते हैं।

3.10 गणेश मंदिर – Ganesh Temple In Hindi

गणेश मंदिर

Image Credit: Mahesh Chandak

भीलबाड़ा का दर्शनीय स्थल श्री गणेश मंदिर माता पार्वती और भगवान भोले नाथ के पुत्र श्री गणेश भगवान को समर्पित हैं। गणेश चतुर्थी या विनायक चतुर्थी को पूरे राजस्थान में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। इस दौरान यहां गणेश उत्सव गणेश मेला भी आयोजित किया जाता है।

और पढ़े: बिरला मंदिर जयपुर हिस्ट्री और घूमने की जानकारी

3.11 त्रिवेणी चौराहा – Triveni Chauraha Bhilwara In Hindi

भीलवाड़ा में घूमने लायक जगह में त्रिवेणी चौराहा शामिल हैं और यह स्थान पर्यटकों के बीच बहुत लौकप्रिय स्थान हैं। त्रिवेणी चौराहा से भीलवाड़ा शहर की दूरी लगभग 40 किलोमीटर है। इसके अलावा बडाला और बनास नदियों के साथ मेनाली नदी का संगम बिंदु भी यही पर हैं। नदी तट के किनारे पर भगवान शिव को समर्पित एक प्राचीन मंदिर स्थापित है। मंदिर की खास बात यह हैं कि यह मानसून के मौसम में पानी डूब जाता हैं।

3.12 बिजोलिया  – Bijoliya Tourism In Hindi

बिजोलिया

Image Credit: Sudhir Kumar

बिजोलिया शहर भीलवाड़ा में एक जनगणना शहर के रूप में जाना जाता हैं और यहां के श्री दिगंबर जैन पार्श्वनाथ अथिषा तीर्थक्षेत्र, बिजोलिया किला और मंदाकिनी मंदिर के लिए पूरे भारत वर्ष में प्रसिद्ध है। बूंदी और चित्तौड़गढ़ मार्ग पर स्थित किले में भगवान शिव का एक आकर्षित मंदिर भी है। भगवान शिव के इस मंदिर को हजारे सवारा महादेव मंदिर के रूप में जाना जाता है।

3.13 तिलस्वा महादेव मंदिर – Tilaswa Mahadev Temple In Hindi

तिलस्वा महादेव मंदिर

Image Credit: Vinod Dhaker

भीलवाड़ा के दर्शनीय स्थलों में से एक तिलस्वा महादेव मंदिर बिजोलिया शहर से लगभग 15 किमी की दूरी पर स्थित हैं। यहां स्थित चार मंदिरों में से सबसे प्रमुख मंदिर  सर्वेश्वर (भगवान शिव) को समर्पित है। इन मंदिरों का निर्माण लगभग 10वीं और 11वीं शताब्दी में किया गया था। मंदिर परिसर में एक मठ, एक कुंड और एक तोरण भी है।

और पढ़े: तिलस्वा महादेव जी के मंदिर के दर्शन की जानकारी 

3.14 शाहपुरा – Shahpura In Hindi

 शाहपुरा

Image Credit: Deepak Gurjar

भीलबाड़ा में घूमने लायक स्थानों में यहां का शाहपुरा शहर भी प्रसिद्ध हैं। शाहपुरा और भीलवाड़ा के बीच की दूरी लगभग 55 किलोमीटर हैं। शाहपुरा में एक पवित्र मंदिर हैं जोकि राम द्वार के नाम से प्रसिद्ध हैं। देश भर के तीर्थयात्री इस तीर्थस्थल पर साल भर आते हैं। फूल डोल के नाम से प्रसिद्ध यहां का वार्षिक मेला फाल्गुन शुक्ल (मार्च-अप्रैल) में पांच दिनों के लिए लगता हैं।

3.15 आसीन्द – Asind City In Hindi

 आसीन्द

Image Credit: Abhishek Soni

भीलबाड़ा का दर्शनीय स्थल आसीन्द शहर में अपने आकर्षित मंदिरों के लिए जाना जाता है। यह बाग राव के सबसे बड़े पुत्र सवाई भोज द्वारा निर्मित किया गया था जोकि खारी नदी के बाएं किनारे पर स्थित है।

और पढ़े: कैला देवी मंदिर करौली के दर्शन और इसके पर्यटन स्थल की जानकारी 

4. क्यारा के बालाजी मंदिर घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit In Kyara Ke Balaji In Hindi

क्यारा के बालाजी मंदिर घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

Image Credit: Ram Kumar Sundriya

क्यारा के बालाजी मंदिर की यात्रा करने का सबसे सही समय अक्टूबर से मार्च के महीने में माना जाता हैं। बालाजी के यह मंदिर राजस्थान में होने के कारण गर्मी के मौसम के यात्रा करने के लिए बिलकुल भी सही नही है, क्योंकि आपके लिए गर्मी का मौसम और धूप अधिक कष्टदायक हो सकती हैं।

5. भीलबाड़ा में कहा रुके – Where To Stay In Bhilwara In Hindi

भीलबाड़ा में कहा रुके

भीलबाड़ा आने वाले पर्यटक यदि यहां होटल की तलाश में हैं, तो हम आपको बता दें कि भीलबाड़ा में लो-बजट से लेकर हाई बजट तक होटल उपलब्ध हैं, तो आप अपनी सुविधानुसार होटल ले सकते हैं। तो आइयें हम आपको भीलबाड़ा की कुछ होटलो के नाम बताते हैं।

  • अशोक रेजीडेंसी
  • होटल हर्ष दीप
  • होटल ट्यूलिप कॉन्टिनेंटल
  • होटल रेडिएंस
  • होटल ज्योति

6. भीलबाड़ा में खाने के लिए स्थानीय भोजन – Bhilwara Famous Food In Hindi

भीलबाड़ा में खाने के लिए स्थानीय भोजन

भीलबाड़ा आने वाला प्रत्येक टूरिस्ट यहां की प्रसिद्ध भोजन सामग्री का लुत्फ उठाना चाहेगा तो आइये हम आपको भीलबाड़ा के कुछ प्रसिद्ध फूड की जानकारी देते हैं। भीलवाड़ा शहर अपने मीठे और मसालेदार भोजन के लिए बहुत अधिक प्रसिद्ध है जिसमें भीलवाड़ा का स्थानीय स्वाद के रूप में यहां की गुलाब जामुन अतिप्रिय लगती है। मिनरल रिच एडिटिव्स के साथ संतुलित और पौष्टिक आइसक्रीम के अलावा पके अमरुद का गूदा, दूध, चीनी और एक चुटकी नमक के साथ लाल मिर्च पाउडर से गार्निश किया हुआ कुरकुरी और कुरकुरे वफर एक लाजवाब मीठी और थोड़ी मसालेदार आइसक्रीम है। इसके अलावा दाल बाटी चूरमा, कचौरी, भेलपुरी आदि भी यह यहां की प्रसिद्ध भोजन सामग्री हैं।

और पढ़े: करौली के मदन मोहन जी मंदिर के दर्शन की जानकारी

7. क्यारा के बालाजी मंदिर भीलबाड़ा कैसे जाए – How To Reach Kyara Ke Balaji In Hindi

क्यारा के बालाजी मंदिर, भीलबाड़ा से 10 की.म. की दुरी पर स्थित हैं। भीलवाड़ा से क्यारा के बालाजी मंदिर के लिए बसें और टैक्सियाँ मिलती हैं। भीलवाड़ा रेलवे स्टेशन मंदिर का निकटतम रेलवे स्टेशन है।आप परिवहन के विभिन्न तरीकों जैसे सड़क, ट्रेन और हवाई द्वारा भीलबाड़ा जा सकते हैं। मंदिर के लिए आप अपने वाहन से भी यात्रा कर सकते हैं।

7.1 फ्लाइट से भीलबाड़ा कैसे पहुंचे – How To Reach Kyara Ke Balaji By Flight In Hindi

फ्लाइट से भीलबाड़ा कैसे पहुंचे

क्यारा के बालाजी मंदिर भीलवाड़ा जाने के लिए सबसे निकटतम हवाई अड्डा उदयपुर में स्थित है। जोकि भीलबाड़ा से लगभग 165 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। जोकि नई दिल्ली, मुंबई और अहमदाबाद से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ हैं। उदयपुर हवाई अड्डे से आप बस या टैक्सी के माध्यम से क्यारा के बालाजी मंदिर भीलबाड़ा बहुत ही आसानी से पहुंच जायेंगे।

7.2 ट्रेन से भीलबाड़ा कैसे पहुंचे – How To Reach Kyara Ke Balaji By Train In Hindi

ट्रेन से भीलबाड़ा कैसे पहुंचे

भीलबाड़ा जाने के लिए यदि आपने ट्रेन का चुनाव किया है तो हम आपको बता दें की भीलबाड़ा रेल्वे स्टेशन (BHL), शामपुरा (SMPA) देश के प्रमुख रेल्वे स्टेशनों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। तो आप ट्रेन के माध्यम से भी भीलबाड़ा बहुत आसानी से पहुंच जायेंगे।

7.3 बस से भीलबाड़ा कैसे पहुंचे – How To Reach Kyara Ke Balaji By Bus In Hindi

बस से भीलबाड़ा कैसे पहुंचे

भीलबाड़ा जाने के लिए यदि आपने बस का चुनाव किया हैं तो हम आपको बता दें कि भीलबाड़ा बसों के माध्यम से देश के अन्य प्रमुख शहरो से बहुत अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। तो बस के माध्यम से भी भीलबाड़ा की यात्रा पर जा सकते हैं।

और पढ़े: मेहंदीपुर बालाजी का इतिहास और दर्शन की पूरी जानकारी

8. क्यारा के बालाजी मंदिर भीलवाड़ा का नक्शा – Kyara Ke Balaji Bhilwara Map

9. क्यारा के बालाजी मंदिर की फोटो गैलरी – Kyara Ke Balaji Images

View this post on Instagram

#religiousplace

A post shared by Abhinandan Tripathi (@tripathiabhinandan) on

और पढ़े:

Featured Image Credit: Bishnoi

Write A Comment