झालावाड़ का सूर्य मंदिर के दर्शन की जानकारी – Jhalrapatan Sun Temple In Hindi

Jhalrapatan Sun Temple In Hindi, झालावाड़ के सबसे बेहतरीन मंदिरों में से झालरापाटन सूर्य मंदिर भगवान शिव को समर्पित मंदिर है। जिसे पद्मनाभ या सूर्य मंदिर के नाम से जाना जाता है। 10 वीं शताब्दी में निर्मित सूर्य मंदिर 97 फुट ऊंचा है। जो झालावाड़ के लोकप्रिय धार्मिक व पर्यटक स्थलों में से एक है।  इस मंदिर की वास्तुकला कोणार्क सूर्य मंदिर और खजुराहो के मंदिर से मिलती जुलती है। मंदिर का निर्माण सूर्य के रथ की तरह है। जो इसे और आधिक आकर्षक प्रस्तुत करती है, और अपने आप में एक अद्वितीय सरंचना बनाती है। झालरापाटन सूर्य मंदिर का शिखर सात परतों में बना है जहाँ सात मंजिला पिलर प्रारूप का अनुसरण करते हुए स्तंभों का आकार ऊँचाई बढ़ने के साथ घटता जाता है। झालरापाटन सूर्य मंदिर तीर्थ यात्रियों के साथ-साथ पर्यटकों और इतिहास प्रेमियों के लिए भी आकर्षण का केंद्र बना हुआ है।

Table of Contents

झालरापाटन सूर्य मंदिर का इतिहास – Jhalrapatan Sun Temple History In  Hindi

Jhalrapatan Sun Temple History In  Hindi
Image Credit: Sarthak Jain

राजस्थान के प्राचीन मंदिरों में से एक झालरापाटन सूर्य मंदिर का निर्माण नाग भट्ट द्वितीय ने 10 वीं शताब्दी में करवाया था। 16 वीं शताब्दी में और बाद में 19 वीं शताब्दी में मंदिर के पुनर्निर्मित का कार्य किया गया।

झालावाड़ सूर्य मंदिर की वास्तुकला – Jhalrapatan Sun Temple Architecture In Hindi

झालावाड़ सूर्य मंदिर की वास्तुकला
Image Credit: Yogesh Sharma

झालरापाटन सूर्य मंदिर की वास्तुकला कोणार्क सूर्य मंदिर और खजुराहो के मंदिर से मिलती जुलती है। मंदिर का निर्माण सूर्य के रथ की तरह है, जिसमें सात घोड़े दौड़ रहे हैं, मंदिर के अन्दर भगवान विष्णु की मूर्ति स्थापित है। मंदिर में प्रवेश करने के लिए, तीन तरफ से तोरण द्वार बनाया गया है। बीच में एक मंडप है जो विशाल स्तंभों पर टिका है। मंदिर के गर्भ गृह के बाहर मंदिर के तीन किनारों पर उकेरी गई मुर्तिया मंदिर, वास्तुकला का एक अनूठा उदाहरण है। मंदिर का शीर्ष भूतल से लगभग 97 फीट ऊँचा है। सबसे अद्भुत बात यह है कि मंदिर के चारों तरफ विराजित साधु की मूर्ति, इतनी सुंदर है कि यह मूर्ति बिल्कुल सजीव है, ऐसा लगता है कि जैसे साधु वास्तव में घूम रहे है।

और पढ़े : कपिल मुनि मंदिर के दर्शन की जानकारी

झालरापाटन सूर्य मंदिर खुलने और बंद होने का समय – Jhalrapatan Sun Temple Timing In Hindi

अगर आप झालावाड़ में झालरापाटन सूर्य मंदिर घूमने जाने का प्लान बना रहे है तो हम आपको अवगत करा दे झालरापाटन सूर्य मंदिर पर्यटकों के लिए प्रतिदिन सुबह से लेकर सूर्यास्त तक खुला रहता है।

झालरापाटन सूर्य मंदिर की एंट्री फीस – Jhalrapatan Sun Temple Entry Fees In Hindi

झालरापाटन सूर्य मंदिर में पर्यटकों के प्रवेश और घूमने के लिए कोई एंट्री फीस नही है, यहाँ आप बिना किसी शुल्क का भुगतान किये मंदिर में घूम सकते हैं।

झालरापाटन सूर्य मंदिर झालावाड़ घूमने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Jhalrapatan Sun Temple In Hindi

Best Time To Visit Jhalrapatan Sun Temple In Hindi
Image Credit: Pradeep Khatri

अगर आप राजस्थान के झालावाड़ में झालरापाटन सूर्य मंदिर घूमने जाने के बारे में विचार बना रहें हैं तो हम आपको बता दें कि झालावाड़ जाने के लिए सर्दियों के महीनों के दौरान यानी अक्टूबर-फरवरी का समय सबसे अच्छा समय  होता है क्योंकि इस दौरान मौसम दिन में काफी अच्छा रहता है और रात सर्द होती हैं। झालावाड़ शुष्क जलवायु के साथ एक बहुत गर्म क्षेत्र में स्थित होने की वजह से गर्मियों के मौसम में यहां की यात्रा करना उचित नहीं है।

और पढ़े : राजस्थान के 20 सबसे प्रमुख मंदिर

झालरापाटन सूर्य मंदिर के आसपास के प्रमुख पर्यटक स्थल – Tourist Places Near Jhalrapatan Sun Temple In Hindi

अगर आप राजस्थान के प्रसिद्ध शहर झालावाड़ में झालरापाटन सूर्य मंदिर घूमने जाने की योजना बना रहे है तो हम आपकी जानकारी के लिए अवगत करा दें की झालावाड़ में झालरापाटन सूर्य मंदिर के अलावा भी अन्य प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है जिन्हें आप अपनी झालरापाटन सूर्य मंदिर झालावाड़ की यात्रा के दोरान अवश्य घूम सकते हैं

झालरापाटन सूर्य मंदिर झालावाड़ कैसे जाये – How To Reach Jhalrapatan Sun Temple Jhalawar In Hindi

अगर आप राजस्थान राज्य के प्रमुख शहर झालावाड़ में झालरापाटन सूर्य मंदिर घूमने जाने की योजना बना रहें हैं और यह जानना चाहते हैं कि आप झालावाड़ कैसे पहुँचें? तो हम आपको बता दें आप झालावाड़, परिवहन के विभिन्न साधनों या सड़क, ट्रेन और हवाई मार्ग के माध्यम से झालरापाटन सूर्य मंदिर पहुंच सकते है।

फ्लाइट से झालरापाटन सूर्य मंदिर झालावाड़ कैसे पहुंचे – How To Reach Jhalrapatan Sun Temple By Flight In Hindi

फ्लाइट से झालरापाटन सूर्य मंदिर झालावाड़ कैसे पहुंचे – How To Reach Jhalrapatan Sun Temple By Flight In Hindi

यदि आप फ्लाइट से यात्रा करके झालरापाटन सूर्य मंदिर झालावाड़ घूमने जाने का प्लान बना रहे है तो हम आपको बता दे झालावाड़ का निकटतम हवाई अड्डा कोटा में है जो झालावाड़ से सिर्फ 82 किमी दूर है। तो आप भारत के प्रमुख शहरो से यात्रा करके कोटा हवाई अड्डा पहुंच सकते है।और कोटा एयरपोर्ट से झालावाड़ के लिए आप कैब, टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या राजस्थान रोडवेज की बस से यात्रा करके झालावाड़ पहुंच सकते है।

सड़क मार्ग से झालरापाटन सूर्य मंदिर कैसे जाये – How To Reach Jhalrapatan Sun Temple Jhalawar By Road In Hindi

सड़क मार्ग से झालरापाटन सूर्य मंदिर कैसे जाये – How To Reach Jhalrapatan Sun Temple Jhalawar By Road In Hindi

अगर आप सड़क मार्ग से झालरापाटन सूर्य मंदिर झालावाड़ जाना चाहते हैं तो बता दें झालावाड़ राजस्थान के प्रमुख शहरों से रोडवेज के माध्यम से जुड़ा हुआ है, जहाँ NH 12 झालावाड़ को देश के प्रमुख शहरों से जोड़ता है। इस मार्ग पर कई सार्वजनिक और निजी बसें हैं जो झालावाड़ को आसपास के सभी प्रमुख शहरों से जोड़ती हैं। तो आप राजस्थान के प्रमुख शहरो से बस, टैक्सी या अपनी कार से यात्रा करके आसानी से झालरापाटन सूर्य मंदिर झालावाड़ पहुँच सकते हैं।

ट्रेन से झालरापाटन सूर्य मंदिर कैसे पहुँचे – How To Reach Jhalrapatan Sun Temple By Train In Hindi

ट्रेन से झालरापाटन सूर्य मंदिर कैसे पहुँचे – How To Reach Jhalrapatan Sun Temple By Train In Hindi

जो पर्यटक झालरापाटन सूर्य मंदिर झालावाड़ की यात्रा ट्रेन से करने की योजना बना रहें हैं उनके लिए बता दें कि झालावाड़ का निकटतम रेलवे स्टेशन रामगंज मंडी में है जो झालावाड़ से लगभग 26 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। रेलवे स्टेशन से झालरापाटन सूर्य मंदिर झालावाड़ पहुंचने के लिए आप टैक्सी, केब या यहाँ के स्थानीय वाहनों की मदद ले सकते हैं।

और पढ़े : झालावाड़ के दर्शनीय स्थल घुमने की जानकारी

झालरापाटन सूर्य मंदिर का नक्शा – Jhalrapatan Sun Temple Map

झालरापाटन सूर्य मंदिर की फोटो गैलरी – Jhalrapatan Sun Temple Images

और पढ़े :

Featured Image Credit: Manik Verma

Leave a Comment