Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Jagdish Mandir In Hindi, जगदीश मंदिर उदयपुर के सिटी पैलेस परिसर में स्थित एक भव्य और राजसी संरचना है जो भगवान विष्णु को समर्पित है। इस मंदिर को भगवान लक्ष्मी नारायण के नाम से भी जाना जाता है जो पूरे उदयपुर शहर में सबसे महत्वपूर्ण मंदिर के रूप प्रसिद्ध है। इस पवित्र मंदिर के प्रवेश द्वार को सिटी पैलेस के बारा पोल से देखा जा सकता है। जगदीश मंदिर अपनी सुंदर नक्काशी, कई आकर्षक मूर्तियों और शांति भरे वातावरण की वजह से पर्यटकों और तीर्थयात्रियों द्वारा सबसे ज्यादा पसंद की जाने वाली जगहों में से एक है। बता दें कि जो  भी पर्यटक यहां आता है वो इस मंदिर की सुन्दरता और भव्यता को देखकर मोहित हो जाता है।
अगर आप उदयपुर के जगदीश मंदिर के दर्शन के लिए जाने की योजना बना रहे हैं या इस मंदिर के बारे में और भी जानना चाहते हैं तो यह लेख आपके लिए खास साबित हो सकता है, क्योंकि इसमें हम आपको जगदीश मंदिर के इतिहास, वास्तुकला, और घूमने की जानकारी देने जा रहे हैं।

1. जगदीश मंदिर का इतिहास- History Of Jagdish Temple In Hindi

जगदीश मंदिर का इतिहास- History Of Jagdish Temple In Hindi

आपको बता दें कि श्री जगदीश मंदिर का निर्माण उदयपुर के शासक महाराजा जगत सिंह द्वारा करवाया गया है। जिन्होंने उदयपुर शहर पर 1628 से 1653 तक शासन किया था। इस भव्य मंदिर को छोटी छत पर बनाया गया था और इसका निर्माण वर्ष 1651 तक खत्म हो गया था। इस सुंदर और आकर्षक मंदिर का निर्माण वास्तुशास्त्र के हिंदू वास्तु विज्ञान द्वारा किया गया है। आपको जानकारी हैरानी होगी ही उस जमाने में इस विशाल मंदिर की इमारत को बनाने के निर्माण में करीब 1.5 मिलियन रूपये खर्च किये गए थे।

इस मंदिर के प्रवेश द्वार पर पत्थर से बने दो विशाल हाथी है और जब आप आगे बढेंगे तो आप एक पत्थर की पटिया देखेंगे जो शिलालेखों के साथ अंकित है और महाराजा जगत सिंह को संदर्भित करता है। एक संगमरमर की सीढ़ी आपको मुख्य मंदिर तक ले जाती है, जहाँ पर आपको गरुड़ की एक पीतल की मूर्ति देखने को मिलेगी, जो आधे आदमी और आधे-चील की आकृति है और भगवान विष्णु के द्वार की रखवाली करती है।

यहां मुख्य मंदिर के अंदर भगवान विष्णु की चार-सशस्त्र मूर्ति स्थित है जिसको काले पत्थर के एक टुकड़े से तराशा गया है। जगदीश भगवान का यह तीर्थस्थल चार छोटे मंदिर से घिरा हुआ है जो क्रमशः गणेश जी, सूर्य देवता, देवी शक्ति और शिव जी को समर्पित हैं। इस मंदिर के पास का और अंदर का वातावरण पूरी तरह से शांति से भरा हुआ है जो यहां आने पर्यटकों को एक खास अनुभव करवाता है।

और पढ़े: सिटी पैलेस उदयपुर राजस्थान के बारे में जानकारी

2. जगदीश मंदिर की वास्तुकला- Architecture Of Jagdish Temple In Hindi

जगदीश मंदिर की वास्तुकला- Architecture Of Jagdish Temple In Hindi

जगदीश मंदिर एक तीन मंजिला वास्तुशिल्प चमत्कार है जिसकी खूबसूरती से सजी छत, जटिल नक्काशीदार स्तंभ और बड़े हवादार हॉल इसको बेहद आकर्षक बनाते हैं। यह मंदिर श्री जगदीश मंदिर हिंदू आइकनोग्राफी के सबसे सुंदर उदाहरणों में से एक है जो भारत में देखा जा सकता है। मंदिर की संरचना में हाथ से नक्काशीदार पत्थर के तीन स्तर हैं। मुख्य मंदिर का शिखर लगभग 79 फीट की ऊंचाई पर है और यह घुड़सवारों, हाथियों और संगीतकारों की मूर्तियों सजा हुआ है।

जगदीश मंदिर के मुख्य मंदिर के अंदर भगवान विष्णु की अद्भुत चार भुजाओं वाली प्रतिमा विराजमान है जिसको काले पत्थर के एक टुकड़े से उकेरा गया है। यह मुख्य मंदिर केंद्र में स्थित है और इसको घेरे हुए चार छोटे मंदिर हैं। जगदीश मंदिर की संरचना एक पिरामिड आकर की है जिसमें एक प्रार्थना हॉल है जिसको मंडप और पोर्च के रूप में जाना जाता है। इस मंदिर की पहली और दूसरी मंजिलों पर दोनों में पचास-पचास जटिल नक्काशीदार खंभे हैं।

3. उदयपुर घूमने का सबसे अच्छा समय क्या है- What Is The Best Time To Visit Udaipur In Hindi

उदयपुर घूमने का सबसे अच्छा समय क्या है- What Is The Best Time To Visit Udaipur In Hindi

अगर आप जगदीश मंदिर की यात्रा करने की योजना बना रहे हैं तो बता दें कि उदयपुर घूमने के लिए सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च तक होता है। सर्दियों का मौसम इस शहर की यात्रा को आपके लिए यादगार बना सकता है। गर्मियों के मौसम में यहाँ जाने से बचे क्योंकि राजस्थान एक रेगिस्तानी राज्य है जिसकी वजह से गर्मियों में यहां का तापमान 40 डिग्री से ऊपर चला जाता है।

4. उदयपुर में प्रसिद्ध भोजन- Famous Food In Udaipur In Hindi

उदयपुर में प्रसिद्ध भोजन- Famous Food In Udaipur In Hindi

उदयपुर राजस्थान राज्य का एक ऐसा पर्यटन शहर है जहाँ आप आप कई तरह के स्वादिष्ट व्यंजनों का स्वाद ले सकते हैं। अगर आप उदयपुर जा रहे हैं तो आपकी यात्रा यहां के व्यंजनों को शामिल किये बिना पूरी नहीं होगी। यहां के प्रसिद्ध होटल नटराज में दाल बाट चूरमा और गट्टे की सब्जी का स्वाद हर किसी को पसंद आता है। इस होटल को राजस्थानी भोजन बनाने की कला में महारत हासिल है। इसके अलावा शिव शक्ति चाट पर आप विभिन्न प्रकार के कचौरी चाट का स्वाद चख सकते हैं, जो इस शहर की विशिष्टताओं में से एक है। नीलम रेस्तरां एक राजस्थानी थाली देता है जो मीठी, चटपटी और मसालेदार घर के खाने के भोजन से भरी हुई होती है।

और पढ़े: पिछोला झील का इतिहास और घूमने की पूरी जानकारी

5. कैसे पहुंचे जगदीश मंदिर – How To Reach Jagdish Temple In Hindi

जगदीश मंदिर उदयपुर के सिटी पैलेस परिसर के अंदर स्थित है जो उदयपुर शहर के केंद्र में स्थित है. इसलिए यहां आप हवाई अड्डे और रेलवे स्टेशन सहित शहर के सभी प्रमुख हिस्सों से बस, ऑटो या अन्य सड़क परिवहन की मदद से पहुंच सकते हैं।

5.1 हवाईजहाज से जगदीश मंदिर कैसे पहुंचे- How To Reach Jagdish Temple By Airplane In Hindi

हवाईजहाज से जगदीश मंदिर कैसे पहुंचे- How To Reach Jagdish Temple By Airplane In Hindi

अगर आप उदयपुर हवाई जहाज से जाना चाहते हैं तो आपको बता दें कि इसका निकटतम हवाई अड्डा महाराणा प्रताप हवाई अड्डा है जो शहर के केंद्र से लगभग 20 किलोमीटर दूर स्थित है। यह हवाई अड्डा दिल्ली, मुंबई, जयपुर और कोलकाता जिसे शहरों सहित भारत के सभी प्रमुख शहरों से हवाई मार्ग से जुड़ा हुआ है। इस हवाई अड्डे पर पहुंचने के बाद आप आप कैब किराए पर ले सकते हैं या प्री-पेड टैक्सी बुक कर सकते हैं और हवाई अड्डे से उदयपुर शहर आसानी से पहुंच सकते हैं।

5.2 बस से जगदीश मंदिर कैसे पहुंचे- How To Reach Jagdish Temple By Bus In Hindi

उदयपुर की यात्रा सड़क मार्ग से करना भी काफी अच्छा साबित हो सकता है क्योंकि यह शहर बहुत अच्छी तरह रोड नेटवर्क द्वारा भारत के कई प्रमुख शहरों जैसे दिल्ली, जयपुर, इंदौर, कोटा और अहमदाबाद से अच्छी तरह से जुड़ा है है। बस से यात्रा के लिए भी आपके सामने कई विकल्प होते हैं। आप डीलक्स बसें, वातानुकूलित कोच और राज्य द्वारा संचालित बसों के माध्यम से उदयपुर की यात्रा कर सकते हैं।

5.3 ट्रेन से जगदीश मंदिर कैसे पहुंचे- How To Reach Jagdish Temple By Train In Hindi

ट्रेन से जगदीश मंदिर कैसे पहुंचे- How To Reach Jagdish Temple By Train In Hindi

उदयपुर रेल के विशाल नेटवर्क पर स्थित है जो इसे भारत के प्रमुख शहरों जैसे जयपुर, दिल्ली, कोलकाता, इंदौर, मुंबई और कोटा से जोड़ता है। उदयपुर के लिए कई ट्रेन प्रतिदिन चलती हैं। जब एक आप स्टेशन पहुंच जाते है तो आप एक टैक्सी या एक ऑटो-रिक्शा किराए पर ले सकते हैं और शहर की यात्रा कर सकते हैं।

और पढ़े: कुलधरा गाँव की भूतिया कहानी और इतिहास

6. जगदीश मंदिर की लोकेशन का मैप – Jagdish Temple Location

7. जगदीश मंदिर की फोटो गैलरी – Jagdish Temple Images

और पढ़े:

Write A Comment