झाँसी का इतिहास और प्रमुख पर्यटक स्थल  – Famous Tourist Places of Jhansi in Hindi

Famous Tourist Places of Jhansi in Hindi : झाँसी उत्तर प्रदेश राज्य के दक्षिण में बेतवा नदी के तट पर स्थित है। झाँसी आज उस स्थान के रूप में जाना जाता है, जहाँ रानी लक्ष्मी बाई, “झाँसी की रानी” रहती थीं और राज्य करती थीं, जिनकी वीरता की कहानीयां आज भी झाँसी की गलियों में गूंजती है। झाँसी इंडियन हिस्ट्री के सबसे समृद्ध और गोरवपूर्ण शहरों में से एक है, जो इसे इतिहास के शौकीन और पर्यटकों के घूमने के लिए भारत की सबसे अच्छी जगहें में से एक बनाती है।

बता दे झाँसी शहर को अपना नाम राजा बीर सिंह देव द्वारा निर्मित झाँसी किले से मिला है, जिसे पहले बलवंतनगर के नाम से जाना जाता था। झाँसी शहर मुख्य रूप से अपने झाँसी के किला के लिए फेमस है, लेकिन इस हिस्ट्रीकल शहर में झाँसी फोर्ट के साथ साथ अन्य कई टूरिस्ट अट्रेक्शन भी स्थित है जो टूरिस्टों और हिस्ट्री लवर्स के लिए अट्रेक्शन के केंद्र बने हुए है।

यदि आप झाँसी की ट्रिप का प्लान बना रहे है, या झाँसी के आकर्षक स्थल के बारे में जानने के लिए एक्साईटेड है, तो इसके लिए आप इस आर्टिकल को पूरा अवश्य पढ़े जिसमे आप झाँसी के फेमस टूरिस्ट प्लेसेस (Famous Tourist Places of Jhansi in Hindi)और ट्रिप से रिलेटेड पूरी इन्फोर्मेशन को डिटेल में जान सकेगें-

Table of Contents

झाँसी का इतिहास – History of Jhansi in Hindi

झांसी का इतिहास 18 वीं शताब्दी का है। बता दे इस स्थान का पूर्व नाम बलवंत नगर था, जिस पर पहले चंदेला राजवंशों की सत्ता थी। इस शहर का नाम “झाँसी”  राजा बीर सिंह देव द्वारा निर्मित “झाँसी किले” के बाद मिला था।
1842 में राजा गंगाधर राव ने मणिकर्णिका से शादी की जिसके बाद मणिकर्णिका को रानी लक्ष्मी बाई के नाम से जाना गया। रानी लक्ष्मी बाई ने राजा गंगाधर राव का देहांत हो जाने के बाद 1857 में अंग्रेजों के खिलाफ सेना का नेतृत्व किया और 1858 में भारतीय स्वतंत्रता के लिए लड़ते हुए अपने जीवन का बलिदान कर दिया। जिसके बाद 1861 में ब्रिटिश सरकार ने झांसी का किला और झांसी शहर को जियाजीराव सिंधिया को दे दिया था।

झाँसी में घूमने की 10 सबसे अच्छी जगहें – 10 Best places to visit in Jhansi in Hindi

झाँसी फोर्ट – Jhansi Fort in Hindi

झाँसी फोर्ट – Jhansi Fort in Hindi
Image Credit : Kasaraneni Srinivas

झाँसी का किला बागिरा की चोटी पर स्थित है, जिसका निर्माण 17 वीं शताब्दी में राजा बीर सिंह देव द्वारा करबाया गया था। झाँसी फोर्ट झाँसी के प्रमुख पर्यटक स्थल (Famous Tourist Places of Jhansi in Hindi) में से एक है, जो टूरिस्टों और हिस्ट्री लवर्स के घूमने के लिए झाँसी की सबसे अच्छी जगहें में से एक है।

बता दे स्वतंत्रता के पहले सन 1857 में ईस्ट इंडिया कंपनी से लड़ी गयी लड़ाई में इस किले एक महत्वपूर्ण हिस्सा नष्ट हो गया था। लेकिन उसके बाबजूद भी इस किले के अन्दर भगवान और गणेश को समर्पित मंदिर और एक म्यूजियम स्थित है, जो चंदेला वंश के अवशेषों को प्रदर्शित करता है। इनके अलावा शहीदों को श्रद्धांजलि देने वाला एक युद्ध स्मारक और स्वतंत्रता संग्राम में रानी लक्ष्मी बाई की मार्मिक भूमिका की स्मृति में निर्मित रानी लक्ष्मीबाई पार्क भी है। इस किले के उपर से झाँसी के मनोरम दृश्यों को भी देखा जा सकता है जो इस फोर्ट के अन्य आकर्षण के रूप में कार्य करता है।

झाँसी फोर्ट की टाइमिंग –  Jhansi Fort Timing in Hindi

  • सुबह 8.00 बजे से शाम 6.00 बजे तक

झाँसी फोर्ट की एंट्री फीस  – Entry fees of Jhansi Fort in Hindi

  • इंडियन टूरिस्टों के लिए : 5 रूपये प्रति व्यक्ति
  • फोरनेर्स टूरिस्टों के लिए : 200 रूपये प्रति व्यक्ति

और पढ़े : झाँसी का किला घूमने की जानकारी

रानी महल झाँसी – Rani Mahal Jhansi in Hindi

रानी महल झाँसी - Rani Mahal Jhansi in Hindi
Image Credit : Dhananjoy Misra

रानी महल झाँसी का शाही महल है, जिसका निर्माण नेवलकर परिवार के रघुनाथ दिवतीय द्वारा किया गया था। रानी महल महारानी लक्ष्मी बाई का निवास स्थान था, इसी कारण यह स्थान झाँसी के आकर्षण स्थल में से एक बना हुआ है। दुर्भाग्य से अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई के दौरान रानी पैलेस का भी एक बड़ा हिस्सा नष्ट हो गया था और शेष हिस्सों को अब एक संग्रहालय में बदल दिया गया है, जो लक्ष्मीबाई के जीवन और कलाकृतियों से समृद्ध है।

इस महल की वास्तुकला भी पूरी तरह से आकर्षक है, यह महल छह हॉल के साथ एक दो मंजिला इमारत है, जिसमें एक प्रसिद्ध दरबार हॉल भी शामिल है।

यदि आप अपने फ्रेंड्स या फैमली के साथ झाँसी की ट्रिप पर जाने वाले है, तो अपनी यात्रा में झाँसी के प्रमुख पर्यटक स्थल (Famous Tourist Places of Jhansi in Hindi) में शुमार रानी महल घूमने जाना ना भूलें।

रानी महल की टाइमिंग – Timing of Rani Mahal in Hindi

  • सुबह 7.00 बजे से शाम 5.30 बजे से तक

रानी महल की एंट्री फीस – Entry fees of Rani Mahal in Hindi

  • 25 रूपये प्रति व्यक्ति

झांसी म्यूजियम – Jhansi Museum in Hindi

झांसी म्यूजियम – Jhansi Museum in Hindi
Image Credit : Kunal Tayade

झांसी म्यूजियम भारत के सबसे प्रमुख म्यूजियमो में से एक है, जिसे राजकीय संग्रहालय भी कहा जाता है। रानी लक्ष्मी बाई को समर्पित यह संग्रहालय न केवल झाँसी के इतिहास को दर्शाता है, बल्कि उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र पर भी प्रकाश डालता है।

ऐतिहासिक शहर झाँसी की यात्रा शुरू करने के लिए रानी लक्ष्मी बाई को समर्पित झांसी म्यूजियम से अच्छी जगह और कोई हो नही सकती। यह म्यूजियम ऐतिहासिक रूप से कई महत्वपूर्ण कलाकृतियों को प्रदर्शित करता है, जिनमें से कुछ 4 वीं शताब्दी की भी हैं, यही अट्रेक्शन इसे पर्यटकों के घूमने के लिए झाँसी की सबसे अच्छी जगहें (Best places to visit in Jhansi in Hindi) में से एक बनाती है।

झांसी म्यूजियम की टाइमिंग – Timing of Jhansi Museum in Hindi

  • सुबह 10.00 बजे से शाम 5.00 बजे तक

झांसी म्यूजियम की एंट्री फीस – Entry fees of Jhansi Museum in Hindi

  • इंडियन टूरिस्टों के लिए : 5 रूपये प्रति व्यक्ति
  • फोरनेर्स टूरिस्टों के लिए : 25 रूपये प्रति व्यक्ति

राजा गंगाधर राव की छतरी झाँसी – Raja Gangadhar Rao ki Chatri Jhansi in Hindi

राजा गंगाधर राव की छतरी झाँसी – Raja Gangadhar Rao ki Chatri Jhansi in Hindi
Image Credit : Francisco Fuentes

राजा गंगाधर राव की छतरी झाँसी का एक महत्त्वपूर्ण ऐतिहासिक स्थल है, जो झाँसी में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहें में से एक है। राजा गंगाधर राव की छतरी का निर्माण महारानी लक्ष्मीबाई द्वारा अपने पति और झाँसी के राजा गंगाधर राव के निधन के बाद, उनकी याद और सम्मान में करबाया था, जो आज भी झाँसी की सांस्कृतिक विरासत रूप में खड़ा है।

सेनोटाफ एक हरे भरे बगीचे, एक आस-पास के तालाब और समृद्ध वास्तुशिल्प डिजाइनों से घिरा हुआ है। माना जाता है उस समय महारानी लक्ष्मीबाई प्रतिदिन यहाँ आती थी और समय व्यतीत करती थी। यदि आप घूमने के लिए झाँसी के प्रमुख पर्यटक स्थल (Famous Tourist Places of Jhansi in Hindi) सर्च कर रहे है, तो आपको राजा गंगाधर राव की छतरी की यात्रा जरूर करनी चाहिये और उनके सम्मान में कुछ समय यहाँ जरूर बिताएं।

राजा गंगाधर राव की छतरी की टाइमिंग – Timing of Raja Gangadhar Rao ki Chatri in Hindi

  • सुबह 9.00 बजे से शाम 6.00 बजे तक

राजा गंगाधर राव की छतरी की एंट्री फीस – Entry fees of Raja Gangadhar Rao ki Chatri in Hindi

  • 200 रूपये प्रति व्यक्ति

और पढ़े : उत्तर प्रदेश के प्रमुख धार्मिक स्थल और मंदिर

सेंट जूड चर्च झांसी – St. Jude’s Shrine Jhansi in Hindi

सेंट जूड चर्च झांसी – St. Jude’s Shrine Jhansi in Hindi
Image Credit : Kritica Bara

झांसी के छावनी क्षेत्र में सेंट जूड् चर्च झाँसी के आकर्षक स्थल (Best places to visit in Jhansi in Hindi) में से एक है। यह चर्च सेंट जूड थाडस के लिए समर्पित है, जिसे फ्रांसिस जेवियर फेनेच ने बनवाया था। सेंट जूड चर्च पर्यटकों और कैथोलिक समुदाय के बीच लोकप्रिय चर्चों में से एक है।

सेंट जूड चर्च की वास्तुकला भी देखने योग्य है, जो उत्कृष्ट वास्तुकला का प्रतीक मानी जाती है। वैसे तो प्रतिदिन इस चर्च में पर्यटको और ईसाईयों द्वारा दौरा किया जाता है, लेकिन हर साल 28 अक्टूबर को देश भर के ईसाई सेंट जूड का पर्व मनाने के लिए यहां एकत्रित होते हैं, जिस दौरान यह चर्च अपने सबसे अट्रैक्टिव रूप में होता है।

सेंट जूड चर्च की टाइमिंग – Timing of St. Jude’s Shrine in Hindi

  • सुबह 7.00 बजे से 10.00 बजे तक

करगुवां जैन मंदिर झाँसी – Karguvanji Jain temple in Hindi

करगुवां जैन मंदिर झाँसी - Karguvanji Jain temple in Hindi
Image Credit : Simmi Jain

करगुवां जैन मंदिर जैनों का प्रमुख तीर्थ स्थल और झाँसी के आकर्षक स्थल में से एक है। यह मंदिर लगभग 700 साल पुराना माना जाता ,है जो जैनों के धर्म प्रचारक और 23 वें तीर्थंकर पार्श्वनाथ को समर्पित है।

यह मंदिर दिगंबर जैनों के लिए उत्तर प्रदेश का एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है, जहाँ प्रदेश के बिभिन्न हिस्सों से जैन श्रद्धालु आते है।

करगुवां जैन मंदिर का वास्तविक नाम श्री दिगम्बर जैन अतीश्या क्षेत्र सांवलिया पारसनाथ करगुवांजी है जिसका अर्थ है एक ऐसी जगह जहाँ चमत्कार होते हैं। इस मंदिर में भगवान पार्श्वनाथ की एक विशाल मूर्ति स्थापित है जहाँ पर्यटक और जैन श्रद्धालु प्रार्थना और ध्यान करते है।

करगुवां जैन मंदिर की टाइमिंग – Timing of Karguvanji Jain temple in Hindi

  • सुबह 7.00 बजे से 6.00 बजे तक

बरुआ सागर झाँसी  – Barua Sagar Jhansi in Hindi

बरुआ सागर झाँसी  – Barua Sagar Jhansi in Hindi
Image Credit : Ashish Andrew Daud

बरुआ सागर झाँसी में घूमने के लिए एक और प्रमुख जगह (Best places to visit in Jhansi in Hindi) है, जो प्राकृतिक सुन्दरता और ऐतिहासिक आकर्षणों से परिपूर्ण है। झांसी जिले में स्थित बरुआ सागर, बुंदेलखंड क्षेत्र से संबंधित एक मामूली शहर है। यह जगह एक मनोरम झील के अलावा, किलों और मंदिरों के कई खंडहरों का घर है जो अतीत के अवशेषों को प्रदर्शित करते है।

यह पर्यटकों के घूमने के लिए एक ऐसी जगह है, जहाँ आप किलों और मंदिरों की यात्रा के साथ साथ झील के लुभावने दृश्यों के बीच टाइम स्पेंड कर सकते है और ट्रेकिंग जैसी रोमांचक एक्टिविटीज को भी एन्जॉय कर सकते है।

 महालक्ष्मी मंदिर झाँसी – Mahalakshmi Temple Jhansi in Hindi

महालक्ष्मी मंदिर झाँसी – Mahalakshmi Temple Jhansi in Hindi
Image Credit : Puneet Chhonker

झाँसी शहर की प्रसिद्ध ताल झील की किनारे पर स्थित महालक्ष्मी मंदिर झांसी के सबसे प्रतिष्ठित मंदिरों में से एक है। महालक्ष्मी मंदिर धन और सौभाग्य की देवी लक्ष्मी जी को समर्पित है, जो स्थानीय लोगो के साथ साथ देश के बिभिन्न हिस्सों से श्र्धालुयों को आकर्षित करता है। यह मंदिर सुंदर वास्तुकला के साथ हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियों और जटिल नक्काशी से सुशोभित है जो निश्चित ही झाँसी के आकर्षक स्थल में से एक है।

यदि आप अपने फ्रेंड्स या फैमली के साथ झाँसी के प्रमुख पर्यटक स्थल (Famous Tourist Places of Jhansi in Hindi) की यात्रा पर जाने वाले है, तो अपनी यात्रा में माता लक्ष्मी का आश्रीबाद प्राप्त करने महालक्ष्मी मंदिर अवश्य जायें।

 हर्बल गार्डन झाँसी – Herbal Garden Jhansi in Hindi

हर्बल गार्डन झाँसी - Herbal Garden Jhansi in Hindi
Image Credit : Sandeep Kushwaha

टाइगर प्रॉल के रूप में लोकप्रिय हर्बल गार्डन झाँसी में घूमने के लिए एक और बेस्ट जगह है। हर्बल गार्डन का नाम बुंदेलखंड में पाए जाने वाले सफेद बाघों के नाम पर है। प्राकृतिक सुन्दरता भरपूर यह गार्डन औषधीय पौधों की विभिन्न प्रजातियों का घर है, जो इसे बाकि अन्य गार्डनो से अलग बनाती है। बता दे यह गार्डन न केवल औषधीय जड़ी बूटियों और पौधों की 20,000 से अधिक प्रजातियों का घर है, बल्कि पुनर्नवीनीकरण सैन्य स्क्रैप से बनाई गई कलाकृति भी प्रदर्शित करता है। पर्यटकों के साथ साथ स्थानीय लोगो के लिए भी यह गार्डन आराम तथा ध्यान करने के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है।

यदि आप अपनी फैमली या फ्रेंड्स के साथ झाँसी के प्रमुख पर्यटक स्थल (Famous Tourist Places of Jhansi in Hindi) घूमने जा रहे है, तो हर्बल गार्डन एक ऐसा खूबसूरत स्थान है जहाँ आप अपनी फैमली के साथ आसपास के हरे वातावरण में टहल सकते है और आराम करते हुए टाइम स्पेंड कर सकते है।

हर्बल गार्डन की टाइमिंग – Timing of Herbal Garden in Hindi

  • सुबह 6.00 बजे से शाम 6.00 बजे तक

पंचतंत्र पार्क झाँसी – Panchatantra Park Jhansi in Hindi

पंचतंत्र पार्क झाँसी - Panchatantra Park Jhansi in Hindi
Image Credit : Ashok Kumar Verma

पंचतंत्र पार्क विष्णु शर्मा द्वारा लिखित पंचतंत्र ’पुस्तक पर आधारित एक एनिमल थीम पार्क है, जिसे मुखतः बच्चो के लिए डिज़ाइन किया गया है। लेकिन इस पार्क में बच्चो के लिए कई जानवरों-आधारित स्लाइडों के अलावा, वयस्कों के लिए जॉगिंग ट्रैक भी है।

यदि आप अपने बच्चो के साथ झाँसी ट्रिप पर जा रहे है, तो आपको अपना कुछ समय निकालकर पंचतंत्र पार्क अवश्य जाना चाहिये,। पंचतंत्र पार्क झाँसी में घूमने के लिए ऐसी जगह है, जहाँ आप अपने बच्चो के साथ मस्ती करते हुए रोमांचक टाइम स्पेंड कर सकते है।

पंचतंत्र पार्क की टाइमिंग – Timing of Panchatantra Park in Hindi

  • सुबह 6.00 बजे से रात 8.00 बजे तक

पंचतंत्र पार्क की एंट्री फीस –  Entry Fee of Panchatantra Park in Hindi

  • 20 रूपये प्रति व्यक्ति

झाँसी घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit Jhansi in Hindi

झाँसी घूमने जाने का सबसे अच्छा समय - Best time to visit Jhansi in Hindi
Image Credit : Divakaran Pk

यदि आप झाँसी घूमने जाने का प्लान बना रहे है, और झाँसी के आकर्षक स्थल (Famous Tourist Places of Jhansi in Hindi) की यात्रा के लिए बेस्ट टाइम टाइम सर्च कर रहे है, तो हम आपकी इन्फोर्मेशन के लिए बता दे झाँसी घूमने के लिए अक्टूबर से मार्च तक का टाइम बेस्ट टाइम माना जाता है। क्योंकि झाँसी शहर घूमने के लिए यह मौसम शीतल और अनुकूल होता है, जिसमे आप पूरा झाँसी शहर बिना किसी परेशानी के घूम कर आनंद उठा सकते है। जबकि मार्च के बाद गर्मी का मौसम शुरू हो जाता है और इस मौसम में यहा गर्म हवाए और धूल की वजह से आपको असुविधा का सामना करना पड़ सकता है।

और पढ़े : अमरकंटक धाम की यात्रा और इसके पर्यटक स्थल

झाँसी में रुकने के लिए होटल्स – Hotels in Jhansi in Hindi

झाँसी में रुकने के लिए होटल्स - Hotels in Jhansi in Hindi

अक्सर हम कही भी घूमने जाने पहले उस जगह रुकने के लिए होटल्स को सर्च करने लगते है, इसी प्रकार यदि आप भी झाँसी की ट्रिप पर जाने से पहले झाँसी में रुकने के लिए होटल्स को सर्च कर रहे है, तो हम आपकी इन्फोर्मेशन के लिए बता दे झाँसी में लो बजट से लेकर हाई बजट तक सभी टाइप के रूमस अवेलेवल है, जिनका आप अपने बजट और चॉइस के अनुसार सिलेक्शन कर सकते है।

  • फ़ागुन हवेली ओरछा (Faagun Haveli Orchha- A countryside home)
  • श्री राम होमस्टे (Deluxe ac room of shreeramhomestay)
  • होटल सनसेट (Hote Sunset)
  • पैराडाइस होमस्टे (Paradise Homestay Is Home)

झाँसी केसे पहुचें – How To Reach Jhansi In Hindi

यदि आप झाँसी के आकर्षक स्थल घूमने जाने का प्लान बना रहे है, और सर्च कर रहे है की हम झाँसी केसे पहुचें ? तो हम आपकी इन्फोर्मेशन के लिए बता दे झाँसी जाने के लिए आप फ्लाइट, ट्रेन या रोड वे में से किसी से भी ट्रेवेल कर सकते है, तो आइये नीचे जानते डिटेल से जानते है की हम फ्लाइट, ट्रेन या रोडवे से झाँसी केसे जा सकते है-

फ्लाइट से झाँसी केसे पहुंचे – How To Reach Jhansi By The Flight In Hindi

फ्लाइट से झाँसी केसे पहुंचे – How To Reach Jhansi By The Flight In Hindi

जो टूरिस्ट फ्लाइट से ट्रेवल करके झाँसी घूमने जाना का प्लान बना रहे है, हम उन टूरिस्ट की इन्फोर्मेशन के लिए बता दे,  झाँसी के लिए कोई सीधी फ्लाइट कनेक्टविटी नही है। झाँसी का निकटतम एयरपोर्ट ग्वालियर एयरपोर्ट है, जो झाँसी से लगभग 100 किलोमीटर की डिस्टेंस पर स्थित है। यह एयरपोर्ट भोपाल, आगरा, मुंबई और दिल्ली, जयपुर जैसे प्रमुख शहरों से नियमित उड़ानों के माध्यम से जुड़ा हुआ है। ग्वालियर एयरपोर्ट पहुचने के बाद झाँसी के लिए आप बस या टेक्सी से ट्रेवल कर सकते है।

झाँसी ट्रेन से कैसे पहुँचे – How To Reach Jhansi By The Train In Hindi

झाँसी ट्रेन से कैसे पहुँचे – How To Reach Jhansi By The Train In Hindi

ट्रेन से ट्रेवल करके झाँसी जाना काफी आसान और सुविधाजनक है, क्योंकि झाँसी में अपना खुद का रेलवे जंक्शन मौजूद है, जो रेग्युलर ट्रनो से भारत के प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है।

सडक मार्ग से झाँसी कैसे पहुँचे- How To Reach Jhansi By The Road In Hindi

सडक मार्ग से झाँसी कैसे पहुँचे- How To Reach Jhansi By The Road In Hindi

यदि आपने झांसी ट्रिप पर जाने के लिए रोडवे से ट्रेवल करने के ऑप्शन को सिलेक्ट किया है, तो हम आपकी इन्फोर्मेशन के लिए बता दें झाँसी शहर सड़क मार्ग के माध्यम से पहुंचना बहुत ही आसान है। झाँसी जाने के लिए कोई भी राज्य परिवहन की बसे या टैक्सी की सुविधा ले सकते हैं।

झाँसी से ग्वालियर की दूरी लगभग 102 किमी,  माधोगढ़ से 139 किमी और आगरा से 233 किमी है। आप झाँसी के इन तमाम बस स्टॉप- झांसी का किला टर्मिनल बस स्टॉप, बड़ा बाजार टर्मिनल बस स्टॉप, गंगा मार्केट मिनर्वा क्रॉसिंग बस स्टॉप और खंडेराव गेट बस स्टॉप पर उतर कर झाँसी के आकर्षक स्थल की यात्रा कर सकते है।

और पढ़े : उत्तर प्रदेश के प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान और पक्षी अभयारण्य

इस आर्टिकल में आपने झाँसी का इतिहास और झाँसी में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहें के बारे में जाना है आपको हमारा ये आर्टिकल केसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

झाँसी का मेप – Map of jhansi in Hindi 

और पढ़े :

featured Image Credit : Jitendra Rathor

Leave a Comment