उत्तर प्रदेश के प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान और पक्षी अभयारण्य – Major National Parks of Uttar Pradesh In Hindi

 Major National Parks of Uttar Pradesh In Hindi,उत्तर प्रदेश भारत का एक खूबसूरत राज्य हैं, जोकि उत्तर भारत में स्थित हैं। उत्तर प्रदेश चारो ओर भारत के 9 अन्य राज्यों से घिरा हुआ हैं। 18 मंडलों और 75 जिलों में विभाजित उत्तर प्रदेश राज्य अपने आकर्षित पर्यटन स्थलों के साथ साथ प्राकृतिक सुंदरता और बिभिन्न वन्य जीव प्रजातियों के लिए भी जाना जाता है। उत्तर प्रदेश समृद्ध वस्पतियों और भारत की कुछ महत्वपूर्ण वन्य जीव प्रजातियों के लिए आश्रय स्थल के रूप में कार्य करता है, और इसी उद्देश्य से प्रदेश के अलग अलग झेत्रो में बिभिन्न राष्ट्रीय उद्यानों की स्थापना की गयी है। और ये वन्यजीव भंडार उत्तर प्रदेश पर्यटन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।

यदि आप उत्तर भारत की समृद्ध वस्पतियों और वन्यजीवों से रूबरू होना चाहते हैं, तो उत्तर प्रदेश राज्य का दौरा करना बाकई दिलचस्प हो सकता हैं। तो आज हम यहाँ आपके लिए उत्तर प्रदेश के प्रमुख राष्ट्रीय उद्यानों और पक्षी अभयारण्यों की सूची पेश करने जा रहे है-

Table of Contents

उत्तर प्रदेश के प्रसिद्ध नेशनल पार्क – Famous National Parks of Uttar Pradesh In Hindi

दुधवा राष्ट्रीय उद्यान – Dudhwa National Park In Hindi

दुधवा राष्ट्रीय उद्यान – Dudhwa National Park In Hindi

उत्तर प्रदेश का फेमस दुधवा राष्ट्रीय उद्यान भारत-नेपाल सीमा पर उत्तर प्रदेश के लखीमपुर-खीरी जिले में स्थित एक ऐसा पार्क है, जो प्रकृति प्रेमियों और वन्यजीव प्रेमियों के लिए एक खास जगह है। भारत-गंगा के मैदानी क्षेत्र में 811 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैले दुधवा नेशनल पार्क को 1985 में स्थापित किया गया था। जो 1987 में एक  प्रोजेक्ट टाइगर का एक हिस्सा बन गया था। दुधवा नेशनल पार्क को बंगाल फ्लोरिकन, टाइगर, स्पीड हरे, दलदली हिरण और तेंदुए आदि दुर्लभ और लुप्तप्राय प्रजातियों का निवास स्थान माना जाता है। आपकी जानकारी के लिए बता दे दुधवा टाइगर रिजर्व सबसे अच्छा बाघ अभ्यारण्यों से एक माना जाता है, और यहां घास के मैदानों में अक्सर बारासिंघा के झुंड भी देखे जा सकते हैं।

दुधवा राष्ट्रीय उद्यान के प्रमुख आकर्षण :

  • एलिफेंट राइड ( हाथी की सफारी)
  • प्राकृतिक सोंदर्य
  • टाइगर
  • बारासिंघा
  • तेंदुए
  • घास के मैदान

और पढ़े : दुधवा नेशनल पार्क घूमने की पूरी जानकारी और खास बातें

चंद्रप्रभा वन्यजीव अभयारण्य – Chandraprabha Wildlife sanctuary In Hindi

चंद्रप्रभा वन्यजीव अभयारण्य – Chandraprabha Wildlife sanctuary In Hindi
Image Credit : Shudhanshu Yadav

वाराणसी के दक्षिण पूर्व में स्थित चंद्रप्रभा वन्यजीव अभयारण्य उत्तर प्रदेश के सबसे प्रमुख नैशनल पार्को में से एक है। चंद्रप्रभा वन्यजीव अभयारण्य में पाई जाने वाली जीवो की बिभिन्न प्रजातियों के साथ-साथ घने जंगलों और सुंदर झरने आकर्षण का केंद्र बने हुए है। जो प्रत्येक बर्ष हजारों पर्यटकों और वन्यजीव प्रेमियों की मेजबानी करता है। चंद्रप्रभा वन्यजीव अभयारण्य में बिभिन्न प्रकार के जंगली पौधों के साथ ब्लैकबक्स, चीतल, सांभर, नीलगाय, जंगली सूअर, साही और भारतीय गज़ले जैसे वन्य जीवों को देखा जा सकता है। और यह उत्तरप्रदेश में घूमने के लिए सबसे लोकप्रिय वन्य जीव अभयारण्यों में से एक है।

चंद्रप्रभा वन्यजीव अभयारण्य के प्रमुख आकर्षण :

  • राजदारी फाल्स
  • देवदारी फाल्स
  • चन्द्रा प्रभा जलप्रपात एंड डेम
  • औषधीय पौधे
  • तेंदुए
  • भालू

राष्ट्रीय चंबल वन्यजीव अभयारण्य – National Chambal Wildlife Sanctuary In Hindi

राष्ट्रीय चंबल वन्यजीव अभयारण्य – National Chambal Wildlife Sanctuary In Hindi

राष्ट्रीय चंबल अभयारण्य चंबल नदी के किनारे स्थित एक नदी अभयारण्य है। भयारण्य क्रोकोडिलियन प्रजाति गावियालिस गैंगेटिकस (घड़ियाल) से समृद्ध है और डॉल्फिन को देखने के लिए भारत के कुछ चुनिन्दा स्थानों में से एक है। जबकि राष्ट्रीय चंबल अभयारण्य भारत में पाये जाने वाली कछुए की 26 प्रजातियों में से 8 प्रजातियों का संरक्षण करता है। चंबल नदी देश की सबसे स्वच्छ नदियों में से एक है, जो 320 से अधिक निवासी और प्रवासी पक्षियों का घर है। अगर आप उत्तरप्रदेश घूमने जा रहे है तो आपको अपनी यात्रा के दौरान इस आकर्षक वन्यजीव अभयारण्य घूमने अवश्य जाना चाहिये। जहाँ आप वर्ड वाचिंग जैसी मनमोहक गतिविधियों का आनंद उठा सकते हैं।

राष्ट्रीय चंबल अभयारण्य के लोकप्रिय आकर्षण

  • चम्बल नदी
  • घड़ियाल
  • 320 से अधिक पक्षियों की प्रजाति
  • डॉल्फिनस

पीलीभीत टाइगर रिजर्व – Pilibhit Tiger Reserve In Hindi

पीलीभीत टाइगर रिजर्व - Pilibhit Tiger Reserve In Hindi

उत्तर प्रदेश राज्य के पीलीभीत जिले में स्थित पीलीभीत टाइगर रिजर्व  800 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। और भारत के प्रमुख 41 टाइगर रिज़र्व में से एक हैं। पीलीभीत टाइगर रिजर्व मुख्य रूप से भारत की कुछ दुर्लभ और लुप्तप्राय प्रजातियों जैसे बाघ, तेंदुआ, दलदल हिरण के संरक्षण के उद्देश्य से स्थापित किया गया था। इसके अलावा पीलीभीत वन्य जीव अभयारण्य में 127 से अधिक जानवरों, 556 पक्षीयों और 2,100 पौधों की प्रजातियाँ पाई जाती है। बता दें कि यह अभ्यारण पशु प्रेमियों के लिए किसी स्वर्ग से कम नही है और बाघों के उच्चतम घनत्व कि वजह से वर्ष 2008 में इस अभ्यारण को टाइगर रिजर्व घोषित किया गया था।

पीलीभीत वन्य जीव अभयारण्य के प्रमुख आकर्षण

  • टाइगर
  • तेंदुए
  • 556 पक्षीयों की प्रजाति
  • दलदल हिरण

हस्तिनापुर वन्यजीव अभयारण्य – Hastinapur Wildlife Sanctuary In Hindi

हस्तिनापुर वन्यजीव अभयारण्य - Hastinapur Wildlife Sanctuary In Hindi

हस्तिनापुर वन्यजीव अभयारण्य मेरठ से लगभग 40 किमी दूर और राष्ट्रीय राजमार्ग से 119 किलोमीटर की दूरी पर गंगा के तट पर स्थित है। यह अभयारण्य 2073 वर्ग किमी के क्षेत्र में मेरठ, गाजियाबाद, बिजनौर और ज्योतिबा फुले नगर सहित कई जिलों में फैला हुआ है। जो विभिन्न प्रकार के वनस्पतियों और जीवों का घर है। हस्तिनापुर वन्यजीव अभयारण्य को हस्तिनापुर राष्ट्रीय उद्यान के रूप में भी जाना जाता है। बता दे यह राष्ट्रीय उद्यान तेंदुआ, लकड़बग्घा, नीलगाय, चीतल, सांभर और विभिन्न प्रकार के स्तनधारियों, सरीसृपों, उभयचरों, अकशेरुकी, जड़ी बूटियों और झाड़ियों के घर होने के लिए जाना जाता है। इसके अलावा यहाँ मोर को बड़ी संख्या में देखा जा सकता है। जो वन्य जीव प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र बने हुए है, और प्रत्येक बर्ष हजारों पर्यटकों की मेजबानी करता है।

 उद्यान के आकर्षण

  • प्राकृतिक सुंदरता
  • मोर
  • घास में मैदान
  • लकड़बग्घा
  • तेंदुआ
  • सांभर

और पढ़े : रणथंभौर नेशनल पार्क घूमने की जानकारी 

कैमूर वन्यजीव अभयारण्य – Kaimur Wildlife Sanctuary In Hindi

कैमूर वन्यजीव अभयारण्य - Kaimur Wildlife Sanctuary In Hindi

उत्तर प्रदेश और बिहार के सीमावर्ती क्षेत्र में स्थित, कैमूर वन्यजीव अभयारण्य 500 वर्ग किमी में फैला हुआ है। जो उत्तरप्रदेश के सबसे प्रसिद्ध वन्य जीव अभयारण्यों में से एक है। यह अभयारण्य मोज़ेक चरागाह, पर्णपाती वन और दलदली दलदल और एविफ़ुना से समृद्ध है। कैमूर वन्यजीव अभयारण्य मुख्य रूप से मृग, नील गाय, ब्लैकबक चीतल, चिंकारा का आश्रय स्थल होने के लिए प्रसिद्ध है। और इनके अलावा अभयारण्य में ब्राह्मणी बतख, लाल शंकुधारी शिकारी, पिंटेल, मल्लार्ड, कूट, आम चैती, और पक्षियों की बिभिन्न प्रजातियों को देखा जा सकता है।

कैमूर वन्यजीव अभयारण्य के आकर्षण केंद्र

  • ब्लैकबक
  • मृग
  • नील गाय
  • पर्णपाती वन

कतर्निया घाट वन्यजीव अभयारण्य – Katarinaghat Wildlife Sanctuary In Hindi

कतर्निया घाट वन्यजीव अभयारण्य - Katarinaghat Wildlife Sanctuary In Hindi

कतर्निया घाट वन्यजीव अभयारण्य उत्तर प्रदेश के बहराइच जिला में स्थित है। लगभग 154.7 वर्ग मीटर के क्षेत्र को कवर करते हुए, इस अभयारण्य को प्राकृतिक सुंदरियों का आशीर्वाद प्राप्त है। अगर आप रोमांच का आनंद लेते हैं तो आपके लिए कतर्नियाघाट वन्यजीव अभयारण्य एक अच्छा विकल्प हो सकता है। अभयारण्य घड़ियाल, मगरमच्छ, बाघ, गैंडा,डॉल्फ़िन, गज़ेल, जंगली खरगोश, हाथी, जैकाल, हिरण जैसे जानवरों का घर है। जो पर्यटकों और वन्यजीव प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र बने हुए है, और उत्तरप्रदेश में घूमने के लिए सबसे रोमंचक जगहों में से एक मानी जाती है।

उत्तर प्रदेश के प्रसिद्ध कतर्निया घाट वन्यजीव अभयारण्य के आकर्षण केंद्र

  • घड़ियाल
  • बाघ
  • मगरमच्छ
  • हाथी
  • प्राकृतिक सुन्दरता

किशनपुर वन्यजीव अभयारण्य – Kishanpur Wildlife Sanctuary In Hindi

किशनपुर वन्यजीव अभयारण्य - Kishanpur Wildlife Sanctuary In Hindi

किशनपुर वन्यजीव अभयारण्य दुधवा टाइगर रिजर्व का हिस्सा है, जो खीमपुर खीरी जिले के भीरा शहर से 13 किमी दूरी पर स्थित है। 200 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैले इस अभयारण्य में तराई के जंगल और मैदानी इलाके हैं। और किशनपुर वन्यजीव अभयारण्य मुख्य रूप से बाघ, तेंदुए, अजगर, हिरण, घड़ियाल, जंगली सूअर और दलदली हिरण जैसी प्रजातियों के लिए प्रसिद्ध है। साथ ही इस पार्क में 450 निवासी और प्रवासी पक्षी प्रजातियां भी देखी जा सकती हैं। पर्यटकों को अक्सर इस अभयारण्य में चीतल, बारासिंघा के झुंड दिखाई देते हैं, और यहां तक ​​कि झाड़ी ताल के आसपास शारदा बीट में बाघों को भी देखा जा सकता है।

 अभयारण्य के आकर्षण केंद्र

  • बाघ
  • तेंदुए
  • अजगर
  • हिरण
  • घड़ियाल
  • जंगली सूअर

रानीपुर वन्यजीव अभयारण्य – Ranipur Wildlife Sanctuary  In Hindi

रानीपुर वन्यजीव अभयारण्य - Ranipur Wildlife Sanctuary  In Hindi

रानीपुर वन्यजीव अभयारण्य इलाहाबाद से लगभग 150 किलोमीटर दूर स्थित है। जिसे उत्तरप्रदेश के सबसे मशहूर अभयारण्यों में से एक माना जाता है। अभयारण्य प्रसिद्ध रूप से अपनी अच्छी तेंदुए की आबादी के लिए जाना जाता है। आसपास के क्षेत्र में झाड़ीदार झेत्र और नीलगायों के झुंड है, जो अपनी प्यास बुझाने के लिए अक्सर नदी के किनारे देखे जाते हैं। रानीपुर वन्यजीव अभयारण्य चित्रकूट के करीब है। और इस वन्यजीव अभयारण्य की यात्रा के दौरान आप वन्य जीवों के साथ साथ राघव झरना, अमरावती झरना, मारवाड़ी देवी मंदिर और धारकुंडी आश्रम जैसे आकर्षणों को भी देख सकते है।

 अभयारण्य के आकर्षण केंद्र

  • ओशन नदी
  • बाघ
  • बरदाहा नदी
  • तेंदुआ
  • मगरमच्छ
  • गिद्ध
  • नीलगाय

और पढ़े : राजस्थान के प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान के नाम

सुहेलदेव वन्यजीव अभयारण्य – Suhaildev Wildlife Sanctuary In Hindi

सुहेलदेव वन्यजीव अभयारण्य - Suhaildev Wildlife Sanctuary In Hindi

बलरामपुर और श्रावस्ती जिले में स्थित, सुहेलदेव वन्यजीव अभयारण्य उत्तर प्रदेश के सबसे प्रमुख वन्यजीव अभयारण्यों में से एक है। 452 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ सुहेलदेव वन्यजीव अभयारण्य शीशम और खैर के पेड़ों से भरा हुआ है। आपको बता दे सुहेलदेव वन्यजीव अभयारण्य प्रसिद्ध रूप से तेंदुआ, बीयर, भेड़िया और सियार के संरक्षण स्थल में रूप में कार्य करता है। इनके अलावा पक्षियों की एक समृद्ध आबादी भी पार्क का मुख्य हिस्सा है। जिन्हें आप अपनी सुहेलदेव वन्यजीव अभयारण्य की यात्रा के दौरान निकटता से देख सकते है।

सुहेलदेव वन्यजीव अभयारण्य के आकर्षण केंद्र

  • चित्तीदार हिरण
  • बाघ
  • तेंदुआ
  • प्रवासी पक्षी

उत्तर प्रदेश के प्रमुख पक्षी अभयारण्य – Major Bird Sanctuaries in Uttar Pradesh In Hindi

भारत के प्रमुख प्रदेश उत्तर प्रदेश ने राष्ट्रीय उद्यानों के साथ साथ अपने पक्षी अभयारण्यों के रूप में भी लोकप्रियता हाशिल की है। जो बर्ड वाचिंग प्रमियों के लिए स्वर्ग के समान माने जाते है। तो हम यहाँ आपके लिए उत्तर प्रदेश के सबसे अधिक देखे जाने वाले पक्षी अभयारण्यों की सूची पेश करने जा रहे है-

सोर सरोवर पक्षी अभयारण्य – Soor Sarovar Bird Sanctuary In Hindi

सोर सरोवर पक्षी अभयारण्य – Soor Sarovar Bird Sanctuary In Hindi
Image Credit : Vikas Singh

आगरा से लगभग 17 किमी दूरी पर स्थित “सोर सरोवर पक्षी अभयारण्य” उत्तरप्रदेश के सबसे अधिक जाने वाले पक्षी अभयारण्यों में से एक है। सोर सरोवर पक्षी अभयारण्य 7.97 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है और इसमें एक बड़ी झील है। जो प्रवासी और निवासी पक्षियों की 165 से अधिक प्रजातियों का घर है। प्रवासी और देशी पक्षियों के अलावा इस अभयारण्य में भालू की आबादी और लगभग 300 अजगर भी पाये जाते हैं, जो इस अभयारण्य के महत्वपूर्ण केंद्र बिंदु बने हुए है। और इस अभयारण्य को सबसे बड़े भालू बचाव केंद्र के रूप में भी दर्ज किया गया है। इसके अलावा माना जाता है यह अभयारण्य वही स्थान है, जिसने लोकप्रिय कवि सूरदास को ‘भक्ति काव्य’ (भक्ति काव्य) की रचना करने के लिए प्रेरित किया था।

सोर सरोवर पक्षी अभयारण्य के आकर्षण केंद्र 

  • प्रवासी पक्षी
  • अजगर
  • झील
  • भालू

शहीद चंद्र शेखर आजाद पक्षी अभयारण्य –  Chandra Shekhar Azad Bird Sanctuary In Hindi

शहीद चंद्र शेखर आजाद पक्षी अभयारण्य -  Chandra Shekhar Azad Bird Sanctuary In Hindi
Image Credit : Hrishikesh Terdalkar

2.25 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ शहीद चंद्र शेखर आजाद पक्षी अभयारण्य उन्नाव के पास स्थित है। जिसे नवाबगंज पक्षी अभयारण्य के रूप में भी जाना जाता है। उत्तर प्रदेश में पक्षी देखने वाले पर्यटकों के लिए शहीद चंद्र शेखर आजाद पक्षी अभयारण्य एक आदर्श स्थान है। बता दे प्रवासी और स्वदेशी पक्षियों की एक बड़ी आबादी के साथ, शहीद चंद्र शेखर आज़ाद को विश्व स्तर पर पक्षियों के संरक्षण के लिए एक महत्वपूर्ण निवास स्थान के रूप में मान्यता दी गई है। जहाँ आप अभयारण्य की यात्रा के दौरान पक्षीयों की बिभिन्न प्रजातियों को निकटता से देख सकते हैं।

शहीद चंद्र शेखर आजाद पक्षी अभयारण्य के आकर्षण

  • हिरण
  • चित्तीदार हिरण
  • बार्किंग हिरण
  • सरीसृप की बिभिन्न प्रजातियाँ

और पढ़े : उत्तर प्रदेश के 10 प्रमुख पर्यटन स्थल की जानकारी

नवाबगंज पक्षी अभयारण्य – Nawabganj Bird Sanctuary In Hindi

नवाबगंज पक्षी अभयारण्य - Nawabganj Bird Sanctuary In Hindi

लखनऊ-कानपुर राजमार्ग पर मध्य में स्थित नवाबगंज पक्षी अभयारण्य उत्तर प्रदेश के सबसे लोकप्रिय और प्रसिद्ध पक्षी अभयारण्यों में से एक है। अभयारण्य एक विशाल झील और हरियाली से घिरा हुआ है। नवाबगंज पक्षी अभयारण्य सर्दियों के महीनों के दौरान यहां आने वाले प्रवासी पक्षी प्रजातियों और साइबेरियन क्रेन की मेजबानी करने के लिए जाना जाता है। और इनके साथ यह अभयारण्य सैकड़ों भारतीय और प्रवासी पक्षियों का घर भी है। जो वन्य जीव प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र बने हुए है। और इसके अलावा नवाबगंज पक्षी अभयारण्य में एक हिरण पार्क, वॉचटॉवर और झील में चलने वाली नावें भी मौजूद हैं, जो पार्क में आने वाले पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बने हुए है।

नवाबगंज पक्षी अभयारण्य के आकर्षण –

  • विशाल झील और प्राकृतिक सुंदरता
  • हिरण पार्क
  • वाच टावर
  • भारतीय और प्रवासी पक्षियों की प्रजातियाँ

ओखला पक्षी अभयारण्य – Okhla Bird Sanctuary In Hindi

ओखला पक्षी अभयारण्य Okhla Bird Sanctuary In Hindi

3.5 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ ओखला पक्षी अभयारण्य उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर जिले (नोएडा) में स्थित है। यह अभयारण्य उस बिंदु पर स्थापित जहाँ से यमुना नदी उत्तर प्रदेश राज्य में प्रवेश करती है। अनूठी स्थिति, घास के मैदान, मनमोहक सुन्दरता और पक्षियों की बिभिन्न प्रजातियों से युक्त ओखला पक्षी अभयारण्य उत्तरप्रदेश में सबसे अधिक देखे जाने वाले पक्षी अभयारण्यों में से एक है। 1990 में स्थापित ओखला पक्षी अभयारण्य देशी पक्षियों की 400 से अधिक प्रजातियों और लगभग 1,00,000 प्रवासी पक्षियों का घर है। इसने अलावा अभयारण्य में कछुए, मछलियां और पानी के सांप जैसे जलीय जानवर भी देखे जा सकते हैं।

ओखला पक्षी अभयारण्य के आकर्षण केंद्र

  • युमना नदी
  • कछुए
  • हंस
  • मनमोहक सुन्दरता

जय प्रकाश नारायण पक्षी अभयारण्य – Jai Prakash Narayan Bird Sanctuary In Hindi

जय प्रकाश नारायण पक्षी अभयारण्य - Jai Prakash Narayan Bird Sanctuary In Hindi

जय प्रकाश नारायण पक्षी अभयारण्य उत्तर प्रदेश के बलिया और बांसडीह क्षेत्र में स्थित है। पक्षी अभयारण्य ‘सुरहाताल’ के आसपास बसा हुआ है, जिसमें एक समृद्ध ऐतिहासिक, पारंपरिक और धार्मिक पृष्ठभूमि है। सुरहा ताल के आसपास के क्षेत्र में लगभग 45 गाँव हैं, जो अपनी आजीविका के लिए झील के किनारे मछली पकड़ने के अलावा और क्षेत्र में कृषि गतिविधियों में संलग्न है। बारिश के मौसम में झील का एक हिस्सा प्राकृतिक आवास का एक प्राकृतिक विस्तार प्रदान करता है। एक अनुमान के अनुसार, साल के दौर में 15 प्रजातियों के लगभग 10,000 पक्षियों को सुरहा ताल ’में देखा जा सकता है। और सर्दियों के दौरान विदेशी और स्थानीय दोनों तरह के लगभग 200,000 पक्षी यहाँ देखे जा सकते हैं।

और पढ़े : मुकुंदरा हिल्स नेशनल पार्क घूमने की जानकारी

समन पक्षी अभयारण्य – Saman Bird Sanctuary In Hindi

समन पक्षी अभयारण्य - Saman Bird Sanctuary In Hindi

समन पक्षी अभयारण्य मैनपुरी जिले की करहल तहसील के समन गांव के पास स्थित है। अभयारण्य में एक प्राकृतिक वर्षा से भरपूर ऑक्सबो झील है जो 5 वर्ग किमी भूमि को कवर करती है। यहाँ विकसित अभयारण्य सर्दियों के मौसम में बड़ी संख्या में प्रवासी पक्षियों को आकर्षित करता है, जबकि निवासी पक्षियों को साल भर बड़ी संख्या में देखा जाता है। अभयारण्य के अंदर आठ गाँव हैं और इसकी परिधि में कई बस्तियाँ हैं। सॉरस क्रेन अभयारण्य के निवासी पक्षी हैं, जबकि कॉमन टील, उत्तरी पिंटेल, लेसर व्हिस्लिंग डक और ग्रेट व्हाइट पेलिकन सर्दियों के मौसम में इस अभयारण्य का दौरा करते हुए देखे जा सकते हैं।

और पढ़े :

Leave a Comment