देवप्रयाग के प्रसिद्ध चंद्रबदनी मंदिर की कहानी और यात्रा से जुड़ी जानकारी – Chandrabadani temple in Hindi

Chandrabadani temple in Hindi : टिहरी गढ़वाल जिले में देवप्रयाग से 22 किमी की दूरी पर स्थित चंद्रबदनी मंदिर उत्तराखंड राज्य के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। यहाँ मंदिर समुद्र तल से 2277 मीटर ऊपर चंद्रबदनी पर्वत के ऊपर स्थित है जिस वजह से आध्यात्मिक अनुभव प्रदान करने के अलावा, हिमालय की चोटियों जैसे सुरकंडा, केदारनाथ, और बद्रीनाथ के साथ-साथ हरे-भरे गढ़वाल पहाड़ियों की मनोरम दृष्टि प्रदान करता है। चंद्रबदनी मंदिर देवी शक्ति को समर्पित है जो भारत में स्थापित 51 शक्तिपीठो में से एक है। आपको जानकर थोड़े अचम्भित हो सकते है अन्य मंदिरों की तरह चंद्रबदनी मंदिर में देवी सती या अन्य किसी देवता की मूर्ति नही है बल्कि यहाँ एक श्री यंत्र की पूजा की जाती है जिसे एक सपाट पत्थर की सतह पर उकेरा गया है जो एक कछुए की पीठ के आकार का है।

मंदिर में बर्ष में एक बार रहस्यमय तरीके से पूजा भी जाती है जिसका काफी महत्व माना जाता है। अप्रैल के महीने में, मंदिर में एक मेला लगता है जो बड़ी संख्या में भक्तों को आकर्षित करता है। तो इस लेख में हम आपको चंद्रबदनी मंदिर की यात्रा और इससे जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी को बताने वाले है इसीलिए इस लेख को आखिर तक जरूर पढ़े –

Table of Contents

चंद्रबदनी मंदिर की कहानी – Chandrabadni Temple Story in Hindi

हिंदू कथाओं के अनुसार चंद्रबदनी मंदिर की कहानी उस समय की है जब माता सती के पिता पिता राजा दक्ष ने विशाल यज्ञ किया। इस अवसर पर शिव को अपमानित करने के लिए उन्हें यज्ञ का हिस्सा बनने के लिए आमंत्रित नहीं किया गया था। और देवी सती शिव के पिता के हाथों हुए अपमान को सहन नही कर सकी और आग में कूद गई और अनुष्ठान के प्रदर्शन में बाधा डाल दी। बाद में, क्रोधित शिव ने सती के जले हुए शरीर को उठाया और उनके निवास स्थान की ओर चल पड़े। इस पल में पृथ्वी हिंसक रूप से हिल गई और शिव को ऐसा करने से रोकने के लिए देवताओं और देवताओं की एक पूरी संख्या एक साथ आई।

शिव को समझाने में असमर्थ, विष्णु जी ने आखिरकार अपना चक्र भेजा और सती के जले हुए शरीर को नष्ट कर दिया था। जिससे देवी सती के शरीर के टुकड़े अलग अलग स्थानों पर जा कर गिरे थे और बाद में उन गिरे हुए स्थानों पर शक्ति पीठो का निर्माण किया गया था। ठीक उसी प्रकार आज जिस स्थान पर चंद्रबदनी मंदिर स्थापित है उस स्थान पर देवी सती शरीर का धड़ गिरा था।

चंद्रबदनी मंदिर की मान्यतायें और महत्व – Values ​​And Importance Of Chandrabadni Temple in Hindi

चंद्रबदनी मंदिर की मान्यतायें और महत्व – Values ​​And Importance Of Chandrabadni Temple in Hindi
Image Credit : Sahitya Chamoli 72

चंद्रबदनी मंदिर उत्तराखंड के सबसे पवित्र मंदिरों में से एक है जिससे एक विशिष्ट पोराणिक कथा और कई मान्यतायें जुडी हुई है। कहा जाता है की जिस पहाड़ी पर ये मंदिर स्थापित है उसे पहले चंद्रकुट पर्वत के नाम से जाना जाता था लेकिन देवी सती के बदन (धड) गिरने के बाद यहाँ चंद्रबदनी मंदिर की स्थापना की गयी जिसके बाद इसे भी चंद्रबदनी पर्वत के नाम से जाना जाने लगा। स्थानीय लोगो और श्र्धालुयों का यह भी मानना है की देवी से जो भी सच्चे मन और श्रद्धा से माँगा जाता है देवी उनको जरूर पूरा करती है।

चंद्रबदनी मंदिर का इतिहास –  chandrabadni temple history in Hindi

चंद्रबदनी मंदिर भारत में स्थापित 51 शक्तिपीठो में से एक है। चंद्रबदनी मंदिर का इतिहास मुख्य उसी घटना से जुड़ा हुआ है जब राजा दक्ष ने भगवान शिव को अपमानित करने के लिए यज्ञ में आमंत्रित नही किया था। लेकिन उसके बाबजूद भी देवी सती यज्ञ में सम्मलित होने के लिए चली गयी थी। जहाँ शिव जी का अपमान किया गया जिसे वह सहन नही कर सकी और उसी अग्नि कुंड में कूदकर अपनी जान दे दी। उसके बाद जब भगवान शिव उनके जले हुए शरीर को ले जा रहे थे तो इस स्थान पर देवी सती का धड़ यहाँ गिर गया था जिसके बाद इस स्थान पर इस शक्ति पीठ का निर्माण किया गया था। आज भी इस मंदिर परिसर में सदियों पुरानी मूर्तियों के साथ विभिन्न धातुओं से बने त्रिशूल देखे जा सकते हैं।

 चंद्रबदनी मंदिर के त्योहार समारोह – Festivals and Celebrations of chandrabadni temple in Hindi

चंद्रबदनी मंदिर भारत के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक है जो साल भर किये जाने वाले वाले अपने उत्सवो, मेलो और पूजा अनुष्ठानो के लिए जाना जाता है जिसमे देश भर से श्रद्धालु और पर्यटक शामिल होते है। चंद्रबदनी मंदिर में आरती और पारंपरिक संगीत नियमित रूप से ढोल, दमन और भंकोरा की संगत के साथ किया जाता है। मंदिर में एक बार रहस्यमय तरीके से पूजा भी जाती है जिसमे पुजारी को आंखों पर पट्टी बांध दी जाती है। चैत्र नवरात्रि, अश्विन नवरात्रि, दशहरा, दीपावली जैसे त्यौहारों को बड़ी श्रद्धा के साथ मनाया जाता है। मंदिर में हर साल अप्रैल के महीने में एक मेले का आयोजन भी किया जाता है जिसमे हजारों श्रद्धालु और पर्यटक मेले का हिस्सा बनने के लिए आते हैं।

चंद्रबदनी मंदिर के दर्शन का समय – Chandrabadni Temple visit time in Hindi

चंद्रबदनी मंदिर के दर्शन का समय – Chandrabadni Temple visit time in Hindi  
Image Credit : Taniya Rawat

यदि आप अपने परिवार या दोस्तों के साथ चंद्रबदनी मंदिर की यात्रा पर जाने वाले है लेकिन अपनी यात्रा पर जाने से पहले चंद्रबदनी मंदिर के दर्शन के बारे जानना चाहते है तो हम आपको बता दे चंद्रबदनी मंदिर सुबह 6.00 बजे से शाम 7.00 बजे तक खुला रहता है इस दौरान आप कभी भी यहाँ घूमने आ सकते है।

और पढ़े : दक्षिणेश्वर काली की कथा और दक्षिणेश्वर काली मंदिर की यात्रा

चंद्रबदनी मंदिर का प्रवेश शुल्क – Entry fees of Chandrabadni Temple in Hindi

चंद्रबदनी मंदिर की यात्रा पर जाने वाले भक्तो और पर्यटकों को बता दे मंदिर में प्रवेश और माता के दर्शन के लिए यहाँ कोई भी शुल्क नही है।

चंद्रबदनी मंदिर के आसपास घूमने की जगहें – Places to visit around Chandrabadani temple in Hindi

यदि आप टिहरी गढ़वाल जिले के देवप्रयाग में स्थित चंद्रबदनी मंदिर के दर्शन के लिए जाने वाले हैं तो क्या आप जानते है ? देवप्रयाग चंद्रबदनी मंदिर के साथ साथ अन्य कई मंदिर और पर्यटक स्थलों के लिए भी फेमस है जिन्हें आप अपनी चंद्रबदनी मंदिर की यात्रा में घूमने जा सकते है –

  • रघुनाथ जी मंदिर
  • तीन धारा
  • टिहरी डेम
  • शीतला माता मंदिर
  • काली मंदिर

चंद्रबदनी मंदिर घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit Chandrabadni Temple in Hindi

चंद्रबदनी मंदिर घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit Chandrabadni Temple in Hindi
image Credit : R P Singh

वैसे तो चंद्रबदनी मंदिर पूरे साल खुला रहता है आप साल के किसी भी समय आ सकते है। जैसा कि मंदिर एक पहाड़ की चोटी पर स्थित है, इसीलिए मानसून के मौसम में यहाँ आने से बचना चाहिए। यदि आप विशेषतौर पर मंदिर में होने वाले समारोहों और मेलो में भाग लेना चाहते है तो आप नवरात्री, और अप्रैल में आयोजित होने वाले मेले के दौरान यहाँ आ सकते है।

और पढ़े : तिरुपति बालाजी का रहस्य और उनकी कहानी 

चंद्रबदनी मंदिर की यात्रा कहाँ ठहरें – Where to stay for a visit to Chandrabadni Temple in Hindi

चंद्रबदनी मंदिर की यात्रा कहाँ ठहरें – Where to stay for a visit to Chandrabadni Temple in Hindi

जो भी श्रद्धालु और पर्यटक चंद्रबदनी मंदिर की यात्रा में रुकने के लिए होटल्स को सर्च कर रहे है हम उन्हें बता दे चंद्रबदनी मंदिर निकटतम होटल्स या तो देवप्रयाग या नई टिहरी में मिल सकते हैं। दो पर्यटन स्थलों के बीच, नई टिहरी में ठहरने के अधिक विकल्प हैं। नई टिहरी में विभिन्न बजट में होटल्स उपलब्ध हैं, जबकि देवप्रयाग में कम लागत वाले आवास का लाभ उठाया जा सकता है। ठहरने के लिए बेहतर स्थानों के लिए, ऋषिकेश में होटल बुक करने का विकल्प चुन सकते हैं, जो कि आवास विकल्पों के ढेर से भरा हुआ है।

चंद्रबदनी मंदिर केसे पहुचें – How to Reach Chandrabadni Temple in Hindi

चंद्रबदनी मंदिर टिहरी गढ़वाल जिले में स्थित है और देवप्रयाग से 33 किमी दूर है, जो उत्तराखंड के सभी प्रमुख शहरों, दिल्ली और अन्य उत्तर भारतीय शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। चन्द्रबदनी मंदिर तक पहुँचने के लिए रोडवेज सबसे अच्छा तरीका है क्योंकि सड़कें अच्छी तरह से जुड़ी हुई हैं और परिवहन के काफी साधन उपलब्ध है। लेकिन यदि आप फ्लाइट ता ट्रेन से यात्रा करके चंद्रबदनी मंदिर की यात्रा पर जाने का मन बना चुके है तो आइये नीचे जानते है की हम फ्लाइट, ट्रेन और सड़क मार्ग से चंद्रबदनी मंदिर केसे पहुचें –

फ्लाइट से चंद्रबदनी मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Chandrabadni Temple By Flight In Hindi

फ्लाइट से चंद्रबदनी मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Chandrabadni Temple By Flight In Hindi

यदि आप चंद्रबदनी मंदिर जाने के लिए हवाई मार्ग का चुनाव करते तो हम आपको बता दें कि देवप्रयाग का सबसे नजदीकी हवाई जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जो चंद्रबदनी मंदिर से लगभग 122 कि.मी. की दूरी पर हैं।

 ट्रेन से चंद्रबदनी मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Chandrabadni Temple By Train In Hindi

ट्रेन से चंद्रबदनी मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Chandrabadni Temple By Train In Hindi

चंद्रबदनी मंदिर देवप्रयाग के लिए कोई सीधी रेल कनेक्टविटी भी नही है मंदिर का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन ऋषिकेश और हरिद्वार में है जो यहाँ से लगभग 110 और 130 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। आप इन दोनों स्टेशन में से किसी के लिए भी ट्रेन ले सकते है और स्टेशन पर उतरने के बाद आप बस या एक टेक्सी बुक करके चंद्रबदनी मंदिर आ सकते है।

सड़क मार्ग से चंद्रबदनी मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Chandrabadni Temple By Road In Hindi

सड़क मार्ग से चंद्रबदनी मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Chandrabadni Temple By Road In Hindi

चद्रबदनी मंदिर का निकटतम बस स्टैंड देवप्रयाग में है जो यहाँ से 33 किमी की दूरी पर है। आईएसबीटी कश्मीरी गेट, दिल्ली से देवप्रयाग के लिए बसें उपलब्ध हैं। देवप्रयाग पहुंचने के बाद आप टेक्सी या स्थानीय परिवहनो की मदद से चद्रबदनी मंदिर जा सकते है। बस के अलावा आप आसपास के शहरों से अपनी निजी कार से भी चद्रबदनी मंदिर आ सकते है।

और पढ़े : देवप्रयाग की यात्रा के बारे में पूरी जानकारी

इस लेख में आपने चंद्रबदनी मंदिर की कहानी, दर्शन का समय, और चंद्रबदनी मंदिर की यात्रा से जुड़ी अन्य जानकारी को जाना है आपको हमारा ये लेख केसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

चंद्रबदनी मंदिर का मेप – Chandrabadni Temple Map in Hindi

और पढ़े :

Featured Image Credit : Priyavrat Bhatt

Leave a Comment