लेपाक्षी मंदिर का रहस्य और यात्रा से जुड़ी जानकारी – Lepakshi Temple Andra Pradesh in Hindi

Lepakshi Temple in Hindi : “लेपाक्षी मंदिर” आंध्र प्रदेश के अनंतपुर जिले में स्थित है जिसे “वीरभद्र मंदिर” भी कहा जाता है। भारत के प्रसिद्ध और रहस्यमयी मंदिर में से एक लेपाक्षी मंदिर अपनी वास्तुकला और हेंगिंग पिल्लर के लिए प्रसिद्ध है जिसे देखकर आप एक पल के लिए आश्चर्यचकित हो जायेंगे। इसी वजह से लेपाक्षी मंदिर को “हेंगिंग टेम्पल” के नाम से भी जाना जाता है।

एक और चीज जो इस मंदिर को अद्वितीय बनाती है बो है मां सीता के पदचिन्ह है। जैसे ही आप मंदिर के अंदर कदम रखते हैं, आपको चित्रमय प्रतिनिधित्व के माध्यम से विजयनगर साम्राज्य के इतिहास की झलक देखने को मिलती है। संगीतकारों और संतों की आकृतियों से लेकर पार्वती और भगवान शिव तक, लेपाक्षी मंदिर में वह सब कुछ है जो इसे पुरातात्विक और कलात्मक वैभव का आकर्षण बनाता है। स्थापत्य महत्व के अलावा, स्कंद पुराण के अनुसार मंदिर एक दिव्यक्षेत्र है, दूसरे शब्दों में, भगवान शिव का एक महत्वपूर्ण तीर्थस्थल। लेपाक्षी मंदिर आंध्र प्रदेश का एक ऐसा पर्यटक स्थल है जो तीर्थयात्रियों के साथ साथ देश के बिभिन्न हिस्सों से इतिहास और कला प्रेमियों को आकर्षित करता है।

यदि आप भी इस रहस्य के बारे में जानने के लिए उत्सुक है तो हमारे इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़े जिसमे आप लेपाक्षी मंदिर का इतिहास, लेपाक्षी मंदिर का रहस्य और मंदिर से जुडी अन्य महत्वपूर्ण को जानने वाले है –

Table of Contents

लेपाक्षी मंदिर का रहस्य – Mystery of Lepakshi Temple in Hindi

लेपाक्षी मंदिर का रहस्य बड़ा ही आश्चर्यजनक है, जिस पर यकीन करना बेहद मुश्किल है, और इसी रहस्यमयी घटना ने बड़े वैज्ञानिक के पसीने छुड़ा दिए है। वास्तव में इस मंदिर में 70 स्तंभ है जिसमे में से एक “स्तंभ या पिल्लर” छत से तो लगा है लेकिन जमीन में नही लगा है बल्कि बिना किसी सहारे के हवा में लटका हुआ है और यही अजीबो गरीब घटना लेपाक्षी मंदिर का रहस्य बनी हुई है जो दुनिया भर से पर्यटकों को इस अविश्वसनीय घटना का गवाह बनने के लिए आकर्षित करती है। एक बार ब्रिटिश इंजीनियर द्वारा स्तंभ को अपनी मूल स्थिति से हटाने का प्रयास किया गया था लेकिन उसमे वह असफल हो गया था। उसके बाद इस चीज की पुष्टि की गयी थी की इस पिल्लर पर भी अन्य पिल्लरो जितना ही भार है।

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने यह साबित कर दिया है कि इस स्तंभ का निर्माण एक गलती नहीं थी, बल्कि एक जानबूझकर, सुनियोजित निष्पादन था जो आज तक बिल्डरों और वास्तुकारों की प्रतिभा को दर्शाता है।

लेपाक्षी मंदिर का इतिहास और किंवदंती – History of Lepakshi Temple in Hindi

लेपाक्षी मंदिर का इतिहास और किंवदंती – History of Lepakshi Temple in Hindi
Image Credit : Deepak Goyal

बता दे लेपाक्षी नाम की उत्त्पति से जुडी कोई सटीक जानकारी हमारे पास नही है। लेकिन लेपाक्षी मंदिर की उत्त्पति से दो किंवदंती जुडी हुई है –

पहली किंवदंती के अनुसार, लेपाक्षी ने पौराणिक रामायण में अपनी जड़ें पाईं जब रावण ने सीता का अपहरण किया था। जब वह उसे दूर ले जा रहा था, पक्षी जटायु ने उसे अपने हाथ से बचाने की कोशिश की। रावण से हारकर वह फर्श पर गिर गया। जब वह अपनी अंतिम सांसें गिन रहे थे, भगवान राम ने उन्हें मोक्ष प्राप्त करने में मदद की यह कहकर कि ‘ले पाक्षी’ जो तेलुगु में ‘ बर्ड’ है। ‘ इसलिए लेपाक्षी नाम की उत्पत्ति हुई।

एक अन्य कथा के अनुसार, लेपाक्षी मंदिर का निर्माण 1538 में विजयनगर साम्राज्य में विरुपन्ना और वीरन्ना नामक दो भाइयों ने किया था। विरुपन्ना का बेटा अंधा था, और ऐसा कहा जाता है कि उसने मंदिर में शिवलिंग के चारों ओर खेलते समय दृष्टिहीनता प्राप्त की थी। शाही खजाने का उपयोग करने के लिए दूसरों द्वारा दोषी ठहराया गया; कुछ लोग मंदिर को पूरा करने के लिए कहते हैं, जबकि कुछ अपने बेटे को ठीक करने के लिए कहते हैं, राजा ने अपनी आँखें बंद करने के आदेश दिए। झूठे इल्जाम से परेशान होकर उसने सजा काट ली और अपनी आँखें मंदिर की दीवारों पर फेंक दीं। इसलिए, इस जगह को अपना नाम Lape-Akshi मिला जिसका अर्थ है अंधों का गाँव। माना जाता है कि मंदिर की दीवार पर अभी भी आंखों के खून के निशान हैं।

लेपाक्षी मंदिर की वास्तुकला – Lepakshi Temple Architecture in Hindi

लेपाक्षी मंदिर विजयनगर वास्तुकला शैली का एक परिणाम है, जिसे तीन भागों में विभाजित किया गया है, अर्थात् मुख मण्डपा या असेम्बली हॉल, आर्दा मंडापा या एन्ते-चेम्बर, और अंत में, गर्भगृह।

गर्भगृह के प्रवेश द्वार पर देवी यमुना और गंगा की मूर्तियाँ हैं। हॉल के बाहरी स्तंभ सैनिकों और घोड़ों की नक्काशी के रूप में सजावट से भरे हुए हैं। कमरे के उत्तर-पूर्वी हिस्से में नटराज और ब्रह्मा के चित्र हैं और साथ में एक ढोलकिया भी है। कोई भी इसके चारों ओर नृत्य अप्सराओं की नक्काशी देख सकता है।

स्तंभों और दीवारों में दिव्य प्राणी, संगीतकार, नर्तक, संत, संरक्षक और शिव के 14 अवतार हैं जो भगवान शिव के 14 अवतारों का प्रतिनिधित्व करते है। मंदिर के भीतर, इसके पूर्वी पंखों पर भगवान शिव और उनकी पत्नी पार्वती का कक्ष है। दूसरे कक्ष में भगवान विष्णु की छवि है। जबकि मंदिर के ऊपर की छत में बिल्डर भाइयों, विरुपन्ना और विरन्ना की पेंटिंग है।

लेपाक्षी मंदिर के दर्शन का समय – Timings of Lepakshi Temple in Hindi

यदि आप अपनी फैमली या फ्रेंड्स के साथ लेपाक्षी मंदिर घूमने जाने का प्लान बना रहे है और अपनी ट्रिप पर जाने से पहले लेपाक्षी मंदिर के दर्शन और खुलने के समय को सर्च कर रहे है तो हम आपकी जानकारी के लिए बता दे लेपाक्षी मंदिर पर्यटकों और श्र्धालुयों के घूमने के लिए सुबह 6.00 बजे से शाम 6.00 बजे तक खुलता है आप इस दौरान कभी लेपाक्षी मंदिर के दर्शन के लिए आ सकते है।

लेपाक्षी मंदिर में पूजा और अनुष्ठान – Poojas and Rituals performed at the Lepakshi Temple in Hindi

भगवान भोलेनाथ को समर्पित लेपाक्षी मंदिर के पट सुबह 6.00 बजे खुलते है और पट खुलने के बाद ठीक सुबह 7:00 बजे – 7:30 तक शिवलिंग का अभिषेक और पूजा की जाती है। इसके बाद भगवान वीरभद्र की पूजा की जाती है। भक्त भगवान और माता को अभिषेक करते हैं और वस्त्र चढ़ाते हैं। मीठे हलवे के रूप में अर्पण – सरकारई पोंगल निवेधना भी किया जाता है। भगवान विष्णु के मंदिरों की तरह, यहाँ भी सदरी भगवान के चरण कमलों से आशीर्वाद लेकर भक्तों को चढ़ाया जाता है। बता दे मंदिर में प्रसाद के रूप में सुपारी दी जाती है।

लेपाक्षी मंदिर का प्रवेश शुल्क – Entrance Fee of Lepakshi Temple in Hindi

जो भी पर्यटक वीरभद्र मंदिर या लेपाक्षी मंदिर में लगने वाले प्रवेश शुल्क को सर्च कर रहे है हम उन्हें अवगत करा दें लेपाक्षी मंदिर में प्रवेश और भगवान् शिव के दर्शन के लिए कोई भी शुल्क नही है। जब भी आप यहाँ आयेंगे तो बिना किसी शुल्क का भुगतान किये भगवान के दर्शन और मंदिर की अविश्वसनीय रहस्यमयी घटना को देख सकते है।

और पढ़े : अनंतगिरी घूमने की पूरी जानकारी

लेपाक्षी मंदिर के आकर्षण – Lepakshi Temple Attractions in Hindi

लेपाक्षी मंदिर के आकर्षण – Lepakshi Temple Attractions in Hindi

लेपाक्षी मंदिर आंध्रप्रदेश का एक प्रसिद्ध मंदिर है जो अपनी अद्भुद वास्तुकला और अजीबो गरीब घटना के कारण आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। तो आइये जानते है आप जब भी लेपाक्षी मंदिर आएंगे तो क्या क्या देख सकते है ?

द हैंगिंग पिलर :

मंदिर की सबसे अजीबोगरीब चीजों में से एक लेपाक्षी मंदिर का हैंगिंग पिलर है जिसकी वजह से यह मंदिर पुरे देश में चर्चित है। यह मुख्य हॉल में अलग है जिसे शिव और पार्वती के विवाह के स्वागत का हॉल कहा जाता है। स्तंभ के बारे में चमत्कारी बात यह है कि लेपाक्षी मंदिर के 70 स्तंभों में से एक स्तंभ हवा में लटका हुआ है जो आज भी लेपाक्षी मंदिर का रहस्य बना हुआ है। अक्सर मंदिर की यात्रा पर आने वाले पर्यटक और तीर्थयात्री इस हैंगिंग पिलर की जाँच करने के लिए इसके नीचे से कपडा पास करते है।

 नागलिंगा :

लेपाक्षी मंदिर का नागलिंगा भारत में सबसे बड़ा अखंड नागलिंग है। इतिहास कहता है कि इस नाग लिंग को मूर्तिकारों द्वारा केवल एक घंटे में बनाया गया था, जबकि उनका दोपहर का भोजन तैयार किया जा रहा था।

दुर्गा पदम या मां सीता के पदचिह्न :

दुर्गा पदम या मां सीता के पदचिह्न लेपाक्षी मंदिर के प्रमुख आकर्षण में से एक है जो इस स्थान को अधिक पवित्र बनाती है। मान्यताओं में कहा गया है कि जब रावण माता सीता को जब लंका ले जा रहा था, उस समय यह पद चिन्ह तल पर अंकित हो गये थे।

लेपाक्षी साड़ी डिजाइन :

जब भी इस भव्य मंदिर की यात्रा पर आयेंगें तो आपको स्तंभों पर उकेरी गई सुंदर लेपाक्षी साड़ी डिजाइनों को देखने का मौका भी मिलता है। यह साड़ी डिजाइन शानदार नक्काशीदार बनावट भारतीय कार्वर के हाथों में रचनात्मकता का एक प्रतीक है।

लेपाक्षी मंदिर घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit Lepakshi Temple in Hindi

लेपाक्षी मंदिर घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit Lepakshi Temple in Hindi
Image Credit : Ramesh KN

लेपाक्षी का यह विचित्र और सुंदर गाँव अक्टूबर से मार्च तक शीत ऋतु के दौरान यात्रा करने के लिए आदर्श है। इस दौरान लेपाक्षी सुखद मौसम का अनुभव करता है जो लेपाक्षी मंदिर और आसपास के पर्यटक स्थलों की यात्रा के लिए आदर्श है; इस समय कोई भी प्राचीन मंदिरों की भव्यता और मूर्तियों पर सुंदर नक्काशी देख सकता है, जो इसकी संस्कृति और इतिहास का सार है। हलाकि मॉनसून भी लेपाक्षी की सुंदरता को एक हद तक बढ़ाता है लेकिन मौसम दर्शनीय स्थलों के लिए कम आदर्श है। इसीलिए बेहतर होगा आप अक्टूबर से मार्च के महीनो में ही लेपाक्षी मंदिर की यात्रा को प्लान करें।

और पढ़े : विंटर हनीमून डेस्टिनेशन इन इंडिया 

लेपाक्षी मंदिर की यात्रा में कहाँ रुके – Hotels to stay at Lepakshi in Hindi

लेपाक्षी मंदिर की यात्रा में कहाँ रुके – Hotels to stay at Lepakshi in Hindi

बता दे लेपाक्षी मंदिर आंध्र प्रदेश में अनंतपुर जिले के एक छोटे से कस्बे में स्थित है, जिस वजह से यहाँ रुकने के लिए लिमिटेड ऑप्शन है इसीलिए आप जब भी वीरभद्र मंदिर की यात्रा पर जायें तो रुकने के लिए बेहतर विकल्पों को जरूर सर्च कर लें।

लेपाक्षी मंदिर केसे पहुंचें – How to Reach Lepakshi Temple in Hindi

लेपाक्षी मंदिर की यात्रा पर जाने वाले पर्यटकों को बता दे आप फ्लाइट, ट्रेन या सड़क मार्ग में से किसी से भी ट्रेवल करके लेपाक्षी जा सकते है।

तो आइये हम नीचे डिटेल से जानते है की हम फ्लाइट, ट्रेन या सड़क मार्ग से लेपाक्षी केसे जायें।

फ्लाइट से लेपाक्षी मंदिर केसे जायें – How to Reach Lepakshi Temple by Flight in Hindi

फ्लाइट से लेपाक्षी मंदिर केसे जायें – How to Reach Lepakshi Temple by Flight in Hindi

यदि आपने लेपाक्षी मंदिर घूमने जाने के लिए फ्लाइट का सिलेक्शन किया है, तो जान लें लेपाक्षी के लिए कोई सीधी फ्लाइट कनेक्टविटी नही है। लेपाक्षी गाँव का निकटतम एयरबेस बैंगलोर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है जो लगभग 100 किमी की दूरी पर स्थित है। एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा होने के नाते, यह देश के कई प्रमुख शहरों के साथ-साथ मध्य पूर्व और दक्षिण पूर्व एशिया के देशों के साथ व्यापक रूप से और सक्रिय रूप से जुड़ा हुआ है। फ्लाइट से ट्रेवल करके एयरपोर्ट पर उतरने के बाद, लेपाक्षी पहुंचने के लिए आप बस, केब या एक टैक्सी किराए पर ले सकते हैं, जहाँ आप लगभग 2 घंटे का सफ़र करके लेपाक्षी पहुंच जायेंगे।

लेपाक्षी ट्रेन से केसे जायें – How to Reach Lepakshi Temple by Train in Hindi

लेपाक्षी ट्रेन से केसे जायें – How to Reach Lepakshi Temple by Train in Hindi

ट्रेन से ट्रेवल करके लेपाक्षी मंदिर की यात्रा पर जाने वाले पर्यटकों को बता दे लेपाक्षी के लिए कोई सीधी रेल कनेक्टविटी भी नही है। लेपाक्षी का निकटतम रेलवे स्टेशन हिंदूपुर रेलवे स्टेशन, है, जो लेपाक्षी से लगभग 12 किमी की दूरी पर है। हिंदूपुर रेलवे स्टेशन से लेपाक्षी पहुँचने के लिए यहाँ से टेक्सी किराए पर लेना बहुत आसान है।

 सड़क मार्ग से लेपाक्षी केसे पहुचें – How to Reach Lepakshi Temple by Raod in Hindi

सड़क मार्ग से लेपाक्षी केसे पहुचें – How to Reach Lepakshi Temple by Raod in Hindi

लेपाक्षी मंदिर हिंदूपुर के माध्यम से आंधप्रदेश और भारत के कई प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। कई निजी और साथ ही राज्य के स्वामित्व वाली बसें हैं जो हिंदूपुर को देश के कई प्रमुख शहरों से जोड़ती हैं। इसीलिए बस से सफ़र करके हिन्दुपुर पहुचना बेहद आसन है हिंदूपुर में उतरने के बाद, पर्यटक या तो टैक्सी या बसों के लिए विकल्प चुन सकते हैं जो अक्सर लेपाक्षी के लिए चलती हैं।

और पढ़े : आन्ध्र प्रदेश राज्य के इतिहास और अन्य जानकारी

इस आर्टिकल में आपने लेपाक्षी मंदिर का रहस्य, वीरभद्र मंदिर का इतिहास और लेपाक्षी की यात्रा से जुडी जानकारी को डिटेल जाना है, आपको हमारा ये आर्टिकल केसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

लेपाक्षी मंदिर का मेप – Map of Lepakshi Temple in Hindi

Leave a Comment