Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Tag

indian culture in hindi

Browsing

Culture Of Goa In Hindi, भारत का सबसे छोटा राज्य गोवा किसी परिचय का मोहताज नही हैं। खूबसूरत बीचों से भरा हुआ गोवा राज्य हर साल 63 लाख से अधिक पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करने में सफल हुआ है। इसे ‘रोम ऑफ द ईस्ट’ के नाम से भी जाना जाता हैं। यदि कोई भी गोवा राज्य का वर्णन करगा या आपको इसको बारे में बताएगा, तो वह यहां के खूबसूरत बीचों, कभी खत्म न होने वाली पार्टियों, रोमांचित कर देनी वाली नाईटलाइफ, वाटरस्पोर्ट, खान-पान, रहन-सहन, वेशभूषा आदि बातों को वर्णित करते हुए नजर आएगा। लगातार 450 वर्षो तक पुर्तगालियों के शासन के आधीन और उनकी संस्कृति को अपनी आँखों से देखना वाला यह भारत का एक मात्र राज्य हैं।

Holi Celebrations In Mathura Vrindavan In Hindi होली भारत का एक ऐसा त्यौहार है जिसको देश के हर हिस्से में मनाया जाता है लेकिन ब्रज भारत में ऐसी जगह है जहां पर की होली विशेष रूप से प्रसिद्ध है। मथुरा वृंदावन की होली इतनी प्रसिद्ध है कि लोग दूर विदेशों से भी खींचे चले आते हैं। आपको बता दें कि ब्रज एक ऐतिहासिक क्षेत्र है जो मथुरा, वृंदावन और कुछ आस-पास के क्षेत्रों को कवर करता है। इस जगह की होली अपने अलग रीति-रिवाजों और परंपराओं के कारण दुनिया भर के पर्यटकों और तीर्थयात्रियों को अपनी ओर आकर्षित करती है।

होली, रंगों का त्योहार भारत में हजारों वर्षों से मनाया जाता रहा है और अब इसे दक्षिण एशिया के विभिन्न समुदायों सहित गैर-हिंदू समुदायों द्वारा भी मनाया जाता है। होली गुरुवार, 21 मार्च, 2019 को पूरी दुनिया में मनाई जाएगी, जिसमें होलिका दहन 20 मार्च की रात को होगा।

Lathmar Holi In Barsana In Hindi, होली हिंदू धर्म का एक बहुत ही प्रमुख रंगों का त्यौहार है जो बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। वैसे तो यह त्यौहार पूरे भारत में बड़े जोश और उत्साह के साथ मनाया जाता है लेकिन उत्तर प्रदेश के मथुरा-जिले के नंदगाँव और बरसाना कस्बों में होली का यह त्यौहार बहुत ही अजीबोगरीब तरीके से मनाया जाता है। बता दें कि बरसाना मथुरा से लगभग 42 किलोमीटर और नंदगाँव 51 किलोमीटर दूर स्थित हैं और यह दोनों होली के दौरान उत्सव के लिए बेहद लोकप्रिय हैं। बरसाना में लट्ठमार होली फाल्गुन मास की नवमी को बड़ी धूमधाम से मनाई जाती है। इस ख़ास मौके पर कई मंदिरों की पूजा करने के बाद नंदगाँव के पुरुष बरसाना होली खेलने जाते हैं और बरसाना महिलाएं नदगांव होली खेलने आती हैं।