Categories: Indian Destination

पन्हाला का किला घूमने की जानकारी – Panhala Fort in Hindi

3 / 5 ( 3 votes )

Panhala Fort in Hindi : पन्हाला का किला कोल्हापुर के पास सह्याद्री पर्वत श्रृंखला में एक मार्ग पर जमीन से 1312 फीट ऊपर स्थित एक प्रसिद्ध और ऐतिहासिक किला है। बता दे शिलाहारा राजवंश के शासन काल में निर्मित, पन्हाला किला को दक्कन क्षेत्र का सबसे बड़ा किला होने के गौरव प्राप्त है जबकि इसकी गिनती भारत के सबसे बड़े किलों में भी की जाती है। यह किला प्राचीन भारतीय विरासत और शिवाजी महाराज के भव्य शासन का गवाह है जो इसे इतिहास प्रेमियों के घूमने के लिए बेहद खास जगह बना देता है।

जमीन से लगभग 4000 फिट की ऊंचाई पर स्थिति होने की वजह से पन्हाला का किला आसपास की पर्वत शृंखलाओं के मनोरम दृश्य भी प्रस्तुत करता है। इन सबके अलावा यह जगह न केवल उन लोगों के लिए अच्छी है जो ऐतिहासिक स्थानों की खोज करना पसंद करते हैं बल्कि उन लोगों के लिए परफेक्ट है जो ट्रेक करना पसंद करते हैं। इस आर्टिकल में आगे हम पन्हाला किला का इतिहास, संरचना और इसकी यात्रा जुड़ी जनाकारी के बारे में बताने वाले है इसीलिए इस लेख को पूरा जरूर पढ़े –

Table of Contents

पन्हाला किला का इतिहास – History of Panhala Fort in Hindi

Image Credit : Swati Ingole

विशाल पन्हाला किले का निर्माण शिलाहारा के राजा भोज द्वितीय द्वारा 15 अन्य लोगों के साथ मिलकर 1178 ईसा पूर्व से 1209 ईसा पूर्व के बीच अपने साम्राज्य के उचित प्रशासन को बनाये रखने के लिए किया था। इस किले के निर्माण का एक और मुख्य उद्देश्य बीजापुर से अन्य तटीय क्षेत्रों के लिए शुरू होने वाले एक प्रमुख व्यापार मार्ग पर नजर रखना भी था। यह किला निर्माण की अवधि से लेकर स्वतंत्रता प्राप्ति तक राजायों के कब्जे में रहा था जिनमे महान मराठा योद्धा और शासक छत्रपति शिवाजी का नाम भी शामिल है जिन्होंने अपनी मृत्यु तक लगभग 20 वर्षों तक इस किले पर राज किया था।

पन्हाला किले के अंदर की संरचनाएं – Structures Inside Panhala Fort in Hindi

Image Credit : Siddharth Patil

यह किला बीजापुर स्थापत्य शैली का अनुसरण करता है जो कई स्मारकों पर मोर के रूपांकनों को प्रदर्शित करता है। किले के अन्दर नीचे बताई गई कई संरचनायें मौजूद है जिन्हें आप पन्हाला किले की यात्रा में देख सकते है –

अंधर भवड़ी

अंधार बावड़ी या हिडन वेल एक तीन मंजिला संरचना थी जो किले के मुख्य जल स्रोत को घेरने वाले दुश्मनों से छिपाकर रखती थी साथ ही आवासीय क्वार्टर, सैनिक पोस्टिंग अवकाश और किले के बाहर जाने वाले भागने के मार्गों के साथ। यह किले के मूल में दूसरे स्तर के फ़ायरवॉल के रूप में काम करता था।

अंबरखाना

अंबरखाना पन्हाला किला का प्रमुख आकर्षण है जिसमें शाही महल और अन्न भंडार है।

कलावंतीचा महल

कलावंतीचा महल मूल रूप से दरबारियों के लिए छत का कमरा था, जो अब अंग्रेजों के विघटन और समय के प्रभाव के कारण खंडहर हो चुका है।

सज्जा कोठी

यह एक मंजिला संरचना है जो नीचे की गहरी घाटी को देखती है जिसे कैद कक्ष के रूप में उपयोग की जाती थी।

महान द्वार

पन्हाला किले में अपने मेहमानों का भव्यता के साथ स्वागत करने के लिए और दुश्मनों से सुरक्षा के लिए तीन शानदार दरवाजे थे। दरवाजा फारसी शिलालेखों और मराठों के पसंदीदा देवता भगवान गणेश की नक्काशीदार रूपांकनों के साथ मुख्य प्रवेश द्वार था। दूसरा दरवाजा, ब्रिटिश घेराबंदी के दौरान ध्वस्त कर दिया गया था और आखिरी वाला, वाघ दरवाजा, इसके आगे एक छोटे से आंगन के साथ एक भ्रम हुआ करता था, जहां घुसपैठिए फंस जाते थे और हार जाते थे।

 राजदिंडी गढ़

भव्य किले से बाहर निकलने वाले रहस्यों में से एक, इसका इस्तेमाल शिवाजी ने पवन खिंडी की लड़ाई के दौरान बचने के लिए किया था।

ये सब पन्हाला किले की उन संरचनाओं में से एक है जो आज भी पर्यटकों के देखने के लिए बरकरार है इनके अलावा पर्यटक यहाँ अंबाबाई मंदिर और संभाजी जी के मंदिर भी देख सकते है। किले के बाहर शिवाजी महाराज की एक विशाल मूर्ति भी है जो अपने हाथ में भाला पकडे हुए है।

और पढ़े : महाराष्ट्र का प्रतापगढ़ किला घूमने की पूरी जानकारी

पन्हाला किला की यात्रा के लिए टिप्स – Tips For Visiting Panhala Fort in Hindi

आप जब भी पन्हाला किला की यात्रा पर जायें तो निचे दिए गयी महत्वपूर्ण टिप्स को जरूर फॉलो करें –

  • यदि आप पन्हाला किला के लिए ट्रेकिंग करने वाले हैं तो आरामदायक कपडे और जूते पहने है और ट्रेकिंग के लिए अपने आपको तैयार रखें।
  • ट्रेकिंग पर जाने से पहले पानी की बोटल और कुछ खाने के लिए जरूर साथ ले कर चलें क्योंकि इस ट्रेकिंग में लगभग 1 या उससे अधिक समय लगता है जिसके बीच में आपको पानी और खाने की आवश्यकता पड़ सकती है।
  • पन्हाला फोर्ट की ट्रिप में अपने साथ कैमरा अवश्य साथ ले कर चलें क्योंकि आपको रास्ते में और किले के उपर से कई ऐसे दृश्य देखने को मिलेगें जिन्हें आप अपने कैमरे में केप्चर करने से अपने आपको रोक नही पायेगें।
  • ध्यान दे आप जब भी आप जब भी पन्हाला किला की यात्रा पर जायें तो अँधेरा होने से पहले वापिस आ जाएँ।

 पन्हाला किला खुलने और बंद होने का समय –Timing of Panhala Fort in Hindi

बता दे पन्हाला का किला पर्यटकों के घूमने के लिए प्रतिदिन सुबह से लेकर शाम तक खुला रहता है आप इस दौरान कभी भी यहाँ घूमने के लिए आ सकते है।

एंट्री फीस ऑफ़ पन्हाला फोर्ट – Entry Fee of Panhala Fort in Hindi

  • नो एंट्री फीस

और पढ़े : महाराष्ट्र के पुरंदर किले का इतिहास क्यों है इतना खास ?

पन्हाला फोर्ट के आसपास घूमने की जगहें – Places To Visit Near Panhala Fort in Hindi

यदि आप अपने फ्रेंड्स या फैमली के साथ पन्हाला किला घूमने जाने का प्लान बना रहे है तो हम आपको बता दे पन्हाला किला के आसपास कोल्हापुर में घूमने कई प्रसिद्ध पर्यटक और ऐतिहासिक स्थल मौजूद है जिन्हें आप अपनी पन्हाला किला की यात्रा के दौरान घूमने जा सकते है –

  • दाजीपुर वन्यजीव अभयारण्य
  • श्री छत्रपति शाहू संग्रहालय
  • रामतीर्थ जलप्रपात
  • कोपेश्वर मंदिर
  • सागरेश्वर वन्यजीव अभयारण्य
  • महालक्ष्मी मंदिर
  • रंकाला झील
  • ज्योतिबा मंदिर
  • बिंखंबी गणेश मंदिर
  • ड्रीम वर्ल्ड वाटर पार्क
  • कलांबा झील
  • DYP सिटी मॉल

पन्हाला किला घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Panhala Fort in Hindi

Image Credit : Shreyas khemlapure

वैसे तो पन्हाला किला की यात्रा पर्यटक साल के किसी भी समय कर सकते है लेकिन अक्टूबर से मार्च के बीच के महीने ऐसा समय होता है जो पन्हाला किला की यात्रा के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। इस दौरान यहाँ का मौसम काफी सुखद होता है इसके अलावा किले के आसपास के हरे भरे परिदृश्य मन को मोहने वाले होते है।

और पढ़े : कोल्हापुर पर्यटन में घूमने की सबसे अच्छी जगहें

पन्हाला किला की यात्रा में कहाँ रुकें – Hotels in Panhala Fort in Hindi

यदि आप अपनी फैमली फ्रेंड्स या अपने कपल के साथ पन्हाला फोर्ट की ट्रिप को प्लान कर रहे हैं और अपनी ट्रिप में रुकने के लिए होटल्स के बारे में जानना चाहते हैं तो हम आपको बता दे पन्हाला फोर्ट और कोल्हापुर में सभी बजट की होटल्स, लोंज और होमस्टे फैसिलिटी अवेलेबल है जिनको आप ट्रिप में रुकने के लिए पिक कर सकते है।

  • सयाजी होटल कोल्हापुर (Sayaji Hotel Kolhapur)
  • ट्रीबो ट्रेंड बालाजी रेजीडेंसी (Treebo Trend Balaji Residency)
  • निसर्ग रिज़ॉर्ट (Nisarg Resort)
  • होटल रामकृष्ण इन (Hotel Ramkrishna Inn)

पन्हाला किला केसे पहुचें – How to reach Panhala Fort in Hindi

पन्हाला किला कोल्हापुर से लगभग 20 किमी की दूरी पर स्थित है जहाँ आप फ्लाइट, ट्रेन और सड़क मार्ग किसी से भी यात्रा करके जा सकते है। यदि अब आप यही सोच रहें की केसे ? तो इसके बारे में नीचे जानने वाले है –

फ्लाइट से पन्हाला किला केसे पहुचें – How to Reach Panhala Fort by flight in Hindi

जो भी पर्यटक फ्लाइट से ट्रेवल करके पन्हाला किला कोल्हापुर घूमने जाने को प्लान कर रहें हम उन्हें बता दे यहाँ के लिए कोई सीधी फ्लाइट कनेक्टविटी नही है। पुणे अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा और गोवा हवाई अड्डा दो सबसे निकटतम हवाई अड्डा है जो पन्हाला किला से लगभग 250 और 241 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यदि अप फ्लाइट से ट्रेवल करके मन बना ही चुके हैं तो आपको इन हवाई अड्डो में से किसी एक लिए फ्लाइट लेनी होगी। और फ्लाइट से ट्रेवल करके एयरपोर्ट पर उतरने के बाद पहले कोल्हापुर के लिए एक टेक्सी या फिर ट्रेन ले सकते है।

ट्रेन से पन्हाला किला केसे पहुचें – How to reach Panhala Fort by Train in Hindi

यदि आप ट्रेन से ट्रेवल करके पन्हाला किला घूमने जाने वाले है तो हम आपको बता दे पन्हाला किला का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन छत्रपति शाहू महाराज रेलवे स्टेशन है जो मध्य रेलवे के पुणे-मिराज-कोल्हापुर खंड पर स्थित है। कोल्हापुर रेलवे स्टेशन के लिए मुंबई, नागपुर, पुणे, तिरुपति, जैसे शहरों से दैनिक ट्रेनें उपलब्ध है जबकि अन्य शहरों से साप्ताहिक ट्रेनें मौजूद है जिनसे यात्रा करके कोई भी कोल्हापुर पहुंच सकता है। एक बार जब आप छत्रपति शाहू महाराज रेलवे स्टेशन पहुंच जायेगें तो यहाँ चलने वाले स्थानीय वाहनों की मदद से अपने गंतव्य तक पहुच सकते है।

सड़क मार्ग से पन्हाला किला केसे पहुचें – How To Reach Panhala Fort By Road in Hindi

सडक मार्ग से पन्हाला किला की यात्रा करना परिवहन के अन्य किसी साधन से काफी आसान और आरामदायक है क्योंकि पन्हाला किला कोल्हापुर के माध्यम से सड़कों के एक सुव्यवस्थित नेटवर्क से कई प्रमुख पड़ोसी शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। कोल्हापुर राष्ट्रीय राजमार्ग 4 पर स्थित है जो मुंबई और बैंगलोर को जोड़ता है। मुंबई से, कोल्हापुर लगभग 8 घंटे की ड्राइव है जबकि पुणे से यह लगभग 3 घंटे है। पुणे और मुंबई से राज्य द्वारा संचालित बसें हैं जो क्रमशः हर आधे घंटे और एक घंटे में कोल्हापुर के लिए रवाना होती हैं जिन्हें आप पहले कोल्हापुर और वहां से पन्हाला किला जा सकते है।

और पढ़े : भारत के 10 सबसे विशाल किले

इस लेख में अपने पन्हाला किला घूमने की जानकारी को जाना हैं आपको हमारा यह लेख केसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बताएं।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

पन्हाला किला का मेप – Map of Panhala Fort

और पढ़े :

Featured Image Credit By : Sukrut Kikale

Kailash Patel

Share
Published by
Kailash Patel

Recent Posts

उत्तर भारत के प्रमुख मंदिर – Famous Temples of North India in Hindi

Famous Temples of North India in Hindi : भारत एक ऐसा देश है जो अपने…

5 months ago

कर्नाटक राज्य की पूरी जानकरी – Complete information About Karnataka in Hindi

Karnataka in Hindi : कर्नाटक दक्षिण भारत का सबसे बड़ा राज्य और भारत का छठा…

5 months ago

गणपतिपुले पर्यटन में घूमने की जगहें – Famous Tourist Places of Ganpatipule in Hindi

Ganpatipule in Hindi : गणपतिपुले कोंकण क्षेत्र के रत्नागिरी जिले में स्थित एक छोटा सा…

5 months ago

उदयगिरि और खंडगिरि की गुफाएं घूमने की पूरी जानकारी – Complete information about Udayagiri and Khandagiri caves in Hindi

Udayagiri and Khandagiri caves in Hindi : उदयगिरि और खंडगिरि की गुफाएं ओडिशा में भुवनेश्वर…

5 months ago

भारत के विशाल किले – Largest Forts In India in Hindi

Largest Forts In India in Hindi : जैसा कि हम सभी जानते हैं कि भारत…

5 months ago

शिवनासमुद्र जलप्रपात घूमने की जानकारी – Information about visiting Shivanasamudra Falls in Hindi

Shivanasamudra Falls in Hindi : शिवनासमुद्र जलप्रपात भारत के कर्नाटक राज्य के चामराजनगर जिले में…

5 months ago